36 हफ्ते के बच्चे की देखभाल के लिए मुझे किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

36 हफ्ते के बच्चे का विकास कैसा होना चाहिए?

36 हफ्ते के बच्चे में काफी बदलाव देखने को मिल सकते हैं। इस उम्र के आस -पास परिचित और अजनबियों में फर्फ करना शुरू कर देते हैं। आप यह देखकर चौंक सकते हैं कि आपका तीन चार महीने के बच्चा जो सभी के साथ अच्छे से प्रतिक्रिया देता और सहज महसूस करता था वह अब अजनबियों के सामने डरा हुआ महसूस कर सकता है। इसके अलावा आपका 36 हफ्ते का बच्चा इस उम्र में कई नई चीजें करना शुरू कर सकता है। जैसें:

  • तालियां बजाना सीख सकता है, बाय-बाय कहने के लिए हाथ हिला सकता है|
  • 36 हफ्ते के बच्चे फर्नीचर के सहारे चलने की कोशिश कर सकते हैं
  • शिशु अब सहारे के बिना खड़ा होना सीख चूका है 
  • 36 हफ्ते के बच्चे “नहीं” का मतलब तो जान चूके होते हैं पर हमेशा आपकी न का पालन नहीं करते हैं 

अपने 36 हफ्ते के बच्चे को सहारा कैसे दें?

अब जबकि आप के बच्चे ने थोड़ा-बहुत चलना शुरू कर दिया है आप सोचने पर मजबूर हो जाते हैं कि कहीं उसे जूतों की जरूरत तो नहीं! कई बच्चों के डॉक्टर्स का मनना है कि अपने बच्चे को जूते तभी पहनाना शुरू करें जब वह घर के बाहर फुर्ती से दौड़ने लगे, उससे पहले जूतों की कोई खास जरूरत नहीं होती है।

नंगे पांव चलने से पितरों में मजबूती आती है और जमीन महसूस करके चलने से उनका संतुलन बना रहता है। आप अपने बच्चे को चलने में उंगली पकड़ा कर मदद कर सकते हैं। लड़खड़ा कर चलने वाले बच्चों को इससे काफी सहायता मिलती है।

शुरू में दरवाजे पर रुकावटें लगा दें, जिससे बच्चा बाहर न जा सके। इसके अलावा आप सफाई की सभी चीजें और जहरीली चीजें बच्चे की पहुंच से दूर ऊपर कहीं रख दें। बच्चे का क्रीब या पालना भी बहुत ऊंचा न हो, बच्चे के ऊंचाई से गिरने का खतरा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : Blood Smear Test: ब्लड स्मीयर टेस्ट क्या है?

Health and safety

मुझे डॉक्टर से अपने 36 हफ्ते के बच्चे के बारे में क्या बात करनी चाहिए?

ज्यादातर डॉक्टर 36 हफ्ते के बच्चे को किसी रुटिन चेक-अप के लिए नहीं बुलाते हैं। यह एक अच्छा आईडिया है क्योंकि इस उम्र में बच्चे डॉक्टर के पास जाना बिलकुल पसंद नहीं करते। अगर ऐसी कोई बात हो जिसमें अगले महीने के चेक-अप का इंतजार किए बिना फौरन डॉक्टर के पास जाना जरुरी हो तो जरूर जाएं|

इन बातों की जानकारी रखें:

बच्चों का टकराना

बच्चों की टक्कर होना आम बात है। अगर आपके बच्चे का सिर बहुत बुरी तरह टकरा गया हो, तो बहुत ज्यादा रिएक्ट करने के बजाय उससे तसल्ली देने की कोशिश करें। अक्सर यह चोट मामूली होती है, जो कुछ देर बर्फ से सिकाई के बाद नॉर्मल हो जाती है। बच्चे को खाने या पीने के लिए कुछ देने या खिलौना दे कर बहलाने की कोशिश करें ताकि वह बर्फ लगाने में परेशान न करे।

वहीं अगर चोट लगने पर आपका बच्चा बेहोश हो जाए या सांस न ले रहा हो, तो फौरन डॉक्टर से संपर्क करें। इसके अलावा अगर लंबे समय तक रो रहा हो, उलटी-चक्कर के लक्षण सामने आ रहे हों या बहुत ज्यादा सुस्त हो गया हो, इन स्तिथियों में भी फौरन डॉक्टर के पास जाना जरुरी होगा।

चोट लगने के कारण आप बच्चे के सिर, कान के पीछे या सिर के तालू पर कट देख सकते हो जिसमें से खून बह रहा हो। इसके अलावा काले-नीले धब्बे, आंखों की पुतलियों में खून या मुंह, नाक या कान से खून निकलता हुआ देख सकते हैं।

आप बच्चों को टक्कर या चोट लगने से बचाने के लिए यह सावधानियां बरत सकते हैं:

  • लाइट के लैम्प्स जो हिलते हैं और आसानी से गिर सकते हैं, बच्चों की पहुंच से दूर रखें।
  • बच्चे फर्नीचर पर हरकत कर रहे हों तो उनपर खास ध्यान रखें।
  • फर्नीचर के कोनों पर सेफ्टी पैड्स लगा लें।
  • अपने बच्चे पर हर समय कड़ी नजर रखें ताकि वह गिर कर अपने आप को चोट न पहुंचा दे।

36 हफ्ते के बच्चे के लिए क्रिब :

बच्चा जैसे-जैसे बड़ा होता है, कई नए खतरे सामने आने लगते हैं। क्रिब आपके नन्हें बच्चे को सुरक्षा प्रदान कर सकता है| कुछ बच्चे कभी क्रिब से बाहर निकलने की कोशिश ही नहीं करते जबकि कुछ हमेशा बाहर निकलने के बहाने खोजते रहते हैं। ऐसे में यह सावधानियां बरतें:

  • गद्दा जितना हो सके उतना नीचे रखें, आस-पास की सलाखों पर ध्यान दें कि वह कहीं ढीली तो नहीं हो गई हैं|
  • चोट लगने के सभी कारण हटा दें|
  • बड़े-बड़े खिलौने क्रिब में डालने से परहेज करें वरना उनकी मदद से बच्चा बाहर निकलने की कोशिश कर सकता है|
  • बच्चे के आस-पास से मोबाइल फोन हटा दें|
  • बच्चों के लिए तकिया इस्तेमाल न करें|
  • क्रिब के नीचे जमीन पर कम्बल रख दें जिससे बच्चा अगर कूदेगा तब भी उसे गंभीर चोट नहीं लगेगी|
  • बच्चे की हाइट 90 सेंटीमीटर होने के बाद बेड बदल लें|

यह भी पढ़ें : Chickenpox : चिकनपॉक्स क्या है? जाने इसके कारण लक्षण और उपाय

किन बातो का रखे ख़याल

36 हफ्ते के बच्चे दाएं या बाएं हाथ का इस्तेमाल करते हों तो:

अक्सर माता-पिता इस बात से चिंतित रहते हैं कि उनका बच्चा हर काम में बाएं हाथ का इस्तेमाल करता है जिस आदत को छुड़ाने के लिए वह बहुत कोशिश में लगे रहते हैं| एक्सपर्ट्स कहते हैं कि इस तरह का प्रेशर बच्चों के सीखने के विकास में बाधा डाल सकती है| बच्चों का किसी एक हाथ का ज्यादा इस्तेमाल करना प्रकृतिक होता है और यह दिमाग के दाएं या बाएं हेमिस्फीयर के विकास पर निर्भर करता है|

कुछ बच्चे शुरुआत में दोनों हाथों का बराबरी से इस्तेमाल करते हैं लेकिन कुछ महीने बाद किसी एक हाथ का ज्यादा इस्तेमाल करने लगते हैं| ध्यान रखने वाली बात यह है कि आप बच्चे को उस हाथ का इस्तेमाल करने दें जिसमें वह खुद ज्यादा सहज महसूस करे। 

36 हफ्ते के बच्चे में भावनात्मक बदलाव

36 हफ्ते के बच्चे या उसकी उम्र के आस-पास के बच्चों के व्यवहार में बदलाव आपके पालन-पोषण की शैली के कारण नहीं बल्कि इसलिए होते हैं क्योंकि वह इस उम्र में पहली बार परिचित और अपरिचित स्थितियों के बीच अंतर बताने में सक्षम हो पाते हैं। अजनबियों के आस-पास बच्चों को होने वाली चिंता आमतौर पर आपके बच्चे के लिए पहला भावनात्मक मील के पत्थरों में से एक हो सकता है। आपको लगता है कि इसमें कुछ गलत हो सकता है क्योंकि आपका बच्चा जो तीन महीने के उम्र में लोगों के साथ शांत रहता था और उनकी गतिविधियों पर प्रतिक्रिया देता था या उनके साथ खेलता था। वह अब अजनबियों के सामने घबराने लगा है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें :

बच्चों के लिए सिंपल बेबी फूड रेसिपी, जिन्हें सरपट खाते हैं टॉडलर्स

बच्चों को खड़े होना सीखाना है, तो कपड़ों का भी रखें ध्यान

बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

Amoxicillin and Clavulanate : अमोक्सिसिलिन और क्लैव्यूलनेट क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है? जानें लंबाई से जुड़े रोचक फैक्ट्स

महिला और पुरुषों की लंबाई में अंतर क्यों होता है, एक्स गुणसूत्र महिला और पुरुष की लंबाई को कैसे प्रभावित करता है, एक्स गुणसूत्र, X chromosome difference man woman height in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha

Malocclusion: मैलोक्लूजन क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए मैलोक्लूजन क्या है in hindi, मैलोक्लूजन के कारण, लक्षण और बचाव क्या है, malocclusion को ठीक करने के लिए क्या उपचार है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
ओरल हेल्थ, दांतों की समस्या April 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

बच्चे हो या बुजुर्ग करें मुंह की देखभाल, नहीं हो सकती हैं कई गंभीर बीमारियां

मुंह की देखभाल यदि नहीं की गई तो कई प्रकार की बीमारियां हो सकती है, इसलिए मुंह को अच्छे से साफ रखें। यदि इस आर्टिकल में बताए गए लक्षण दिखें तो डॉक्टरी सलाह लें। मुंह की देखभाल करना बहुत जरूरी है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
ओरल हेल्थ, अन्य ओरल समस्याएं April 21, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

जानिए मुंह के कैंसर के प्रकार और उनके होने का कारण

मुंह के कैंसर के प्रकार को जानने के साथ बीमारी के कारण, लक्षण और बचाव, कौन सा कैंसर किस व्यक्ति को हो सकता है, कैसे करें बचाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
ओरल हेल्थ, अन्य ओरल समस्याएं April 14, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बच्चों का स्वास्थ्य (1-3 साल)

जानिए टॉडलर्स और प्रीस्कूलर्स बच्चों के स्वास्थ्य और देखभाल के बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 20, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
Healthy Habits For Children

स्कूल के बच्चों के लिए हेल्दी हेबिट्स क्यों है जरूरी? जानें किन-किन आदतों को बच्चों को बताना है बेहतर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ February 16, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
How to Care for your Newborn during the First Month - नवजात की पहले महीने में देखभाल वीडियो

पहले महीने में नवजात को कैसी मिले देखभाल

के द्वारा लिखा गया Sanket Pevekar
प्रकाशित हुआ August 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज

दांत दर्द का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? जानें कौन सी जड़ी-बूटी है असरदार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ June 26, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें