home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

Croup: क्रुप क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय|कारण|लक्षण|कारण|निदान|उपचार|घरेलू उपाय
Croup: क्रुप क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

परिचय

क्रुप क्या है?

क्रुप ऊपरी एयरवे में होने वाला इंफेक्शन है, जिसके होने से सांस लेने में परेशानी होती है और जो खांसी का कारण बनता है। क्रुप छोटे बच्चों में होने वाला बहुत ही सामान्य रोग है। लेकिन, यह रोग जोखिम भरा हो सकता है। इस रोग की शुरुआत सर्दी-जुकाम से होती है और इसके साथ ही बच्चों में बुखार और नाक के भरे रहने की समस्या को भी देखा जा सकता है। हालांकि, यह रोग गंभीर नहीं होता और अधिकतर बच्चों का इलाज घर में ही किया जा सकता है।

और पढ़ेंः Nasal Dryness : सूखी नाक की समस्या क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

कारण

क्रुप में क्या होता है?

क्रुप रोग में स्वरबॉक्स यानी लैरिंक्स और विंडपाइप में सूजन आ जाती है। सूजन के कारण वोकल कॉर्ड (vocal cord) के नीचे का एयरवे तंग हो जाता है और इससे सांस लेते हुए आवाज़ आती है और सांस लेने में मुश्किल होती है। यह एक इंफेक्शन के कारण होता है। यह रोग तीन महीने से लेकर पांच साल के बच्चों में अधिक देखने को मिलता है। जैसे-जैसे बच्चे की उम्र बढ़ती है, उनमे यह समस्या कम होती जाती है। क्योंकि, उनकी विंडपाइप (wind pipe) उम्र के साथ-साथ बड़ी हो जाती है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है। हालांकि, यह रोग किसी भी समय हो सकता है लेकिन सर्दियों में यह समस्या अधिक होती है।

लक्षण

क्रुप के क्या लक्षण हैं?

क्रुप रोग के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

गंभीर लक्षण
अगर आपको बच्चों में नीचे दिए हुए गंभीर लक्षण दिखाई दें और यह तीन से पांच दिनों तक रहें। जिनमे घरेलू उपायों का भी कोई फायदा न हो रहा हो तो आपको तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। यह गंभीर लक्षण कुछ इस तरह हैं:

  • सांस लेते और छोड़ते हुए तेज आवाज आना,
  • जब बच्चा रोये या उत्तेजित हो तो सांस की बहुत अधिक आवाज आए,
  • अधिक लार निकले और कुछ भी निगलने में परेशानी हो,
  • सामान्य से अधिक तेजी से सांस लेना,
  • सांस लेने में परेशानी होना,
  • बच्चे का बैचैन, बेजान या थका हुआ लगना,
  • नाक, मुंह या नाखूनों (सियानोसिस) के चारों ओर नीली या भूरी त्वचा,
  • होंठों और जीभ का सूखना,
  • पेशाब न आना या ऐसा कुछ होना जिससे लगे कि बच्चे के शरीर में पानी की कमी है।
और पढ़ें: कान में फंगल इंफेक्शन के कारण, कैसे किया जाता है इसका इलाज ?

कारण

क्रुप का मुख्य कारण वायरल इंफेक्शन खासतौर पर पैराइन्फ्लुएंजा वायरस है। बच्चा सांस ले माध्यम से वायरस के संपर्क में आता है। क्रुप किसी इन्फेक्टेड व्यक्ति द्वारा छींकने से भी हो सकता है या हो सकता है कि उसके खिलौने या किसी अन्य प्रयोग में आने वाली कोई चीज इन्फेक्टेड हो। यदि आपका बच्चा किसी दूषित सतह को छूता है तो संक्रमण हो सकता है।

और पढ़ेंः Piles : बवासीर (Hemorrhoids) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

निदान

क्रूप का निदान क्या है?

आमतौर पर क्रुप का निदान डॉक्टर द्वारा किया जाता है:

  • डॉक्टर सबसे पहले इस रोग के लक्षणों के बारे में पूछेंगे और रोगी की सांस का जांच करेंगे।
  • स्टेथोस्कोप के साथ बच्चे की छाती की जांच करेंगे।
  • क्रुप के निदान के लिए बच्चे के गले की जांच की जाएगी।
  • कभी-कभी अन्य संभावित बीमारियों का पता लगाने के लिए एक्स-रे या अन्य परीक्षणों का उपयोग किया जाता है।
  • अगर क्रुप गंभीर हो तो डॉक्टर गले का X-रे भी करा सकते हैं।
और पढ़ें: Vaginal yeast infection: वजायनल यीस्ट इंफेक्शन क्या है? जानें इसके लक्षण और उपचार

उपचार

क्रुप का उपचार क्या है?

  • अधिकतर क्रुप के मामले गंभीर नहीं होते और उनका उपचार घर पर ही किया जा सकता है। सबसे पहले अपने बच्चे को शांत रखने की कोशिश करें क्योंकि उसका रोना इस रोग को बदतर बना सकता है।
  • बुखार में, रोगी को दवाई दी जा सकती है लेकिन डॉक्टर की सलाह के बाद ही उसे यह दें।
  • नम हवा में सांस लेने से बच्चों को बेहतर महसूस करने में मदद मिल सकती है। बच्चों को नम हवा में सांस लेने की कोशिश करें
  • इसके लिए कूल-मिस्ट ह्युमिडिफायर का प्रयोग करें।
  • ठन्डे मौसम में बच्चे को कुछ देर तक बाहर ठंडी हवा लेने दें।
  • बच्चे के शरीर में पानी की कमी न हो इसके लिए उसे अधिक से अधिक पानी और तरल पदार्थों का सेवन करने को दें। इसके साथ ही उसे पर्याप्त आराम करने दें।

अगर आपके बच्चे की स्थिति गंभीर है तो उन्हें इन दवाइयों की सलाह दी जा सकती है:

  • स्टेरॉयड(glucocorticoid): एयरवे में सूजन को कम करने के लिए यह दी जा सकती है। इसके फायदे कुछ ही देर में आपको देखने को मिल जाएंगे।
  • डेक्सामेथासोन की एक खुराक की सलाह आमतौर पर लंबे समय तक चलने वाले प्रभावों के लिए दी जाती है।
  • एपिनेफ्रीन एयरवे की सूजन को कम करने में भी प्रभावी है और अधिक गंभीर लक्षणों के लिए नेब्युलाइज़र का प्रयोग किया जा सकता है। यह तेजी से प्रभाव डालती है, लेकिन इसके प्रभाव जल्दी खत्म हो जाते हैं।
  • एंटीबायोटिक्स, जो बैक्टीरिया का इलाज के लिए उपयोगी है, क्रूप के इलाज के लिए सहायक नहीं हैं। क्योंकि, वे हमेशा वायरस या एलर्जी या रिफ्लक्स के कारण होते हैं। कफ सिरप भी उपयोगी नहीं हैं और नुकसान पहुंचा सकते हैं।

घरेलू उपाय

क्रूप का घरेलू इलाज क्या है?

शांत रहें

आपके बच्चे के साथ-साथ आपका शांत रहना बहुत आवश्यक है क्योंकि आपको अपने बच्चे को भी शांत करना है। इसलिए शांत रहें और अपने बच्चे के साथ समय बिताएं और उसका अधिक खेल रहें ताकि वो अधिक आरामदायक महसूस करें।

स्तनपान कराएं

अगर आपका बच्चा छोटा है तो उसे स्तनपान कराना न भूलें। अगर बच्चा बड़ा है तो उसे सूप आदि दें। बच्चे को पर्याप्त आराम करने दें।

दवाईयां न दें

बच्चों को सर्दी-जुकाम की कोई भी दवाई न दें अगर देनी पड़े तो डॉक्टर की सलाह के बाद ही उसे बच्चे को दें।

अपने बच्चों में इस रोग के लक्षणों का ध्यान दें, यह रोग आपको कितने दिनों से है। इसके साथ ही ध्यान रखें कि किन चीजों से इस रोग में आपके बच्चे को आराम मिलता है तो कौन सी चीज़ें इसे बदतर बनाती हैं।

इस रोग से अपने बच्चे को बचाने के लिए आपको सबसे पहले अपने बच्चे को सर्दी और फ्लू से बचाने के लिए यह उपाय करने चाहिए, इसके लिए यह उपाय करें:

  • नियमित रूप से हाथ धोएं।
  • अगर कोई बीमार या संक्रमित है तो उससे अपने बच्चे को दूर रखें।
  • अपने बच्चे को खांसी या उसकी कोहनी में छींकने के लिए प्रोत्साहित करें।
  • अपने बच्चे को गंभीर इंफेक्शन से बचाने के लिए अपने बच्चे को सारे टीके लगवाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr. Pranali Patil के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Anu sharma द्वारा लिखित
अपडेटेड 24/12/2019
x