जुकाम और फ्लू में अंतर पहचानने के लिए इन लक्षणों का रखें ध्यान

Medically reviewed by | By

Update Date जून 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

जुकाम और फ्लू में अंतर कर पाना थोड़ा सा मुश्किल होता है। वैसे तो जुकाम और फ्लू दोनों ही सांस से जुड़ी बीमारियां हैं और दोनों ही वायरस के कारण होती हैं। हालांकि, दोनों के होने के पीछे वायरस अलग-अलग होते हैं। लेकिन इन दोनों के लक्षण लगभग एक जैसे ही होते हैं। जानें कैसे करें जुकाम और फ्लू में अंतर।

यह भी पढ़ेंः सर्दी-जुकाम की दवा ने आपकी नींद तो नहीं उड़ा दी?

कैसे पहचाने जुकाम और फ्लू में अंतर

एक बात का ध्यान रखें कि जुकाम कोई बीमारी नहीं है, बल्कि जुकाम श्वसन तंत्र में संक्रमण होने का एक लक्षण होता है। इन संक्रमण के कारण निमोनिया और  अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इंफेक्शन यूआरआई जैसी दूसरी बीमारियों का भी खतरा बढ़ सकता है।

जुकाम क्या है?

ठंड लगने या लंबे समय तक ठंडे मौसम में रहने के कारण जुकाम होता है। आमतौर पर इसकी समस्या सर्दी या बरसात के मौसम में सबसे अधिक होती है, जिसकी वजह से जुकाम को सर्दी भी कहा जाता है। जुकाम हर किसी में अलग-अलग तरह से होता है। किसी को जुकाम की वजह से खांसी होती है किसी की जुकाम की वजह से नाक बहने लगती है।

यह भी पढ़ेंः सर्दी-जुकाम के लिए इस्तेमाल होने वाली विक्स वेपोरब कितनी असरदार

जुकाम के होने का क्या कारण है?

जुकाम कोरोना वायरस, रेस्पिरेटरी सिनसिशल वायरस, इंफ्लुएंजा जैसे कुछ वायरस के कारण होता है। जुकाम के शुरूआती लक्षणों में गले में खराश और हल्की खांसी होना, नाक बहने की समस्या होती है। कई बार हल्का बुखार भी हो सकता है। जुकाम के लक्षण सर्दी लगने पर 3 दिनों के बाद दिखाई देते हैं जो अगले 4 से 5 दिनों में ठीक भी हो जाते हैं। जुकाम और फ्लू के लिए कोई भी दवा लेने से पहले इसके अंतर को समझना जरूरी है।

इसके वायरस हवा में बूंदों के जरिए मुंह, आंख या नाक के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं।

जुकाम के शुरूआती संकेतः

जुकाम के शुरूआती संकेत में आमतौर पर गले में खराश की समस्या देखी जाती है। इसके बाद सिरदर्द, फिर ठंड लगना या थकान महसूस किया जा सकता है। इसके कुछ दिनों में ही नाक बहने की भी समस्या शुरू हो जाएगी। जैसे-जैसे जुकाम के लक्षण बढ़ने लगेंगे वैसे-वैसे नाक से बहने वाला पानी गाढ़ा होता जाएगा। इसका रंग सफेद से पीला या हरा हो जाएगा।

जुकाम के लक्षणः

यह भी पढ़ेंः सर्दियों में बच्चों की स्कीन केयर है जरूरी, शुष्क मौसम छीन लेता है त्वचा की नमी

जुकाम होने पर किस तरह की सावधानी बरतनी चाहिए?

  • एक ही तापमान में रहें, जैसे बार-बार गर्म से ठंडे या ठंडे ले गर्म वातारवरण में न जाएं
  • ठंडी चीजों का सेवन न करें, जैसे आईसक्रीम या कोल्डड्रिंक्स
  • एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल न करें
  • खांसी या छींक आने पर हाथ मुंह के ऊपर न रखें।
  • खांसी या छींक आने पर मुंह पर साफ कपड़े का इस्तेमाल करें।

फ्लू या मौसमी फ्लू (इंफ्लुएंजा) क्या है?

इन्फ्लुएंजा या फ्लू को मौसमी फ्लू भी कहा जाता है। क्योंकि, इसके वायरस साल के किसी भी समय आपको प्रभावित कर सकते हैं और यही जुकाम और फ्लू में अंतर का सबसे बड़ा कारण भी है। फ्लू पतझड़ के मौसम से शुरू होकर वसंत ऋतु तक चलता है। लेकिन, इसका जोखिम सर्दियों में सबसे ज्यादा बढ़ जाता है। जिसकी वजह से इसे मौसमी बीमारी भी कहा जाता है। देखा जाए तो, सर्दियों में इम्यून सिस्टम बहुत जल्दी कमजोर हो जाता है। जिसके कारण व्यक्ति किसी भी संक्रमण के चपेट में जल्दी आ सकते हैं।

फ्लू क्यों होता है?

मौसमी फ्लू इन्फ्लुएंजा ए, बी और सी वायरस के कारण होता है। इसमें इंफ्लुएंजा ए और बी सबसे आम प्रकार हैं। फ्लू के वायरस व्यक्ति में बहुत तेजी से विकसित होते हैं। इसके होने पर तेज बुखार, बहती नाक, सिर और जोड़ों में दर्द होना और बहुत ज्यादा थकान महसूस होने लगता है।

जुकाम और फ्लू में अंतर बुखार के तापमान से भी लगाया जा सकता है। फ्लू के कारण होने वाला बुखार लगभग 100 डिग्री से लेकर 104 डिग्री तक हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगंठन के आंकड़ों की माने, तो दुनिया भर में H1N1 सहित तमाम फ्लू के कारण लगभग 30 से 50 लाख लोग फ्लू की चपेट में आते हैं। जिसमें से हर साल 2.90 से 6.50 लाख लोगों की मौत भी हो जाती है।

यह भी पढ़ेंः डेंगू और स्वाइन फ्लू के लक्षणों को ऐसे समझें

फ्लू के शुरूआती संकेतः

जुकाम और फ्लू में अंतर कर पाना आसान नहीं हैं, क्योंकि फ्लू के भी लक्षण लगभग जुकाम के जैसे ही होते हैं। हालांकि, फ्लू के शुरुआती लक्षणों में अक्सर अचानक बुखार होना, बदन दर्द होना, कमजोरी महसूस करना या भूख न लगना शामिल है। अगर आपको अचानक से एक साथ खांसी और बुखार हो जाए, तो यह फ्लू होने का सीधा संकेत होता है।

फ्लू के लक्षणः

फ्लू होने पर किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए?

जुकाम और फ्लू में अंतर कैसे समझें?

जुकाम और फ्लू में अंतर_cough-and-cold

कैसे फैलता है जुकाम और फ्लू?

जुकाम और फ्लू के वायरस आमतौर पर सांसों के जरिए या हाथों के जरिए नाक या आंखों तक एक से दूसरे में फैलते हैं। इससे संक्रमित लोग जब खांसते हैं या छींकते हैं, तो उनके वायरस उनके मुंह से निकलने वाली सांस, बलगम या नाक के जरिए एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंच जाते हैं। इसके कारण संक्रमित व्यक्ति के आस-पास के दूसरे व्यक्तियों में भी इसके वायरस आसानी से फैल सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः घर पर मौजूद ये 7 चीजें बचाएंगी स्वाइन फ्लू के खतरे से

कैसे करें जुकाम और फ्लू से बचाव?

  • जुकाम या फ्लू होने पर संक्रमित व्यक्ति को पानी की अधिक मात्रा पीनी चाहिए।
  • तरल पदार्थों का अधिक सेवन करें, जैसे ताजे फलों का जूस, नारियल पानी।
  • दर्द निवारक दवाओं का इस्तेमाल कर सकते हैं, हालांकि डॉक्टर की सलाह भी जरूरी है।

जुकाम और फ्लू बहुत ही सामान्य परेशानी है। कई बार इसकी वजह से लोगों को दूसरी परेशानियां जैसे चेस्ट कंजेशन, एलर्जी आदि होती है। जुकाम और फ्लू के इलाज के लिए अपने डॉक्टर से मिलें।

और पढ़ेंः-

World COPD Day: स्मोकिंग को बाय-बाय बोल कर सीओपीडी से बचें

बच्चे को किस करने से हो सकती है यह बीमारी, रहें सतर्क

World Immunisation Day: बच्चों का कब कराएं टीकाकरण, इम्यून सिस्टम को करता है मजबूत

बच्चों में दिखाई देने वाले इन संकेतों को न करें इग्नोर, हो सकता है निमोनिया

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Grilinctus syrup: ग्रिलिंक्टस सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

जानिए ग्रिलिंक्टस सिरप की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Grilinctus syrup डोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by shalu
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

प्रेग्नेंसी के दौरान खांसी की समस्या से राहत पाने के घरेलू उपाय

जानिए प्रेग्नेंसी के दौरान खांसी in Hindi, प्रेग्नेंसी के दौरान खांसी के कारण, गर्भावस्था में खांसी के लक्षण, Pregnancy ke dauran khansi के उपचार, Cough During Pregnancy घरेलू उपाय।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
प्रेग्नेंसी स्टेजेस, प्रेग्नेंसी अप्रैल 13, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

सूखी खांसी को टिकने नहीं देंगे ये घरेलू उपाय

सूखी खांसी के घरेलू उपाय क्या हैं, home remedies for dry cough in hindi, सूखी खांसी को कैसे ठीक करें, sukhi khansi ko kaise thik karein, dry cough ka gharelu ilaaj, खांसी की होम रेमेडी क्या हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन फ़रवरी 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Sinarest Syrup: सिनारेस्ट सिरप क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए सिनारेस्ट सिरप की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, सिनारेस्ट सिरप के उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Sinarest Syrup डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

types of cough

Cough : खांसी क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
Published on जून 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
सूखी खांसी -dry cough

Dry Cough : सूखी खांसी (ड्राई कफ) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Ankita Mishra
Published on जून 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Cofsils, कोफसिल्स

Cofsils: कोफसिल्स क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 10, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कारवोल प्लस

Karvol Plus: कारवोल प्लस क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Written by Satish Singh
Published on जून 4, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें