backup og meta

ये हैं कुछ सामान्य लेकिन खतरनाक शिशु स्वास्थ्य के मुद्दे

के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड डॉ. अभिषेक कानडे · आयुर्वेदा · Hello Swasthya


Nikhil Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 18/03/2021

ये हैं कुछ सामान्य लेकिन खतरनाक शिशु स्वास्थ्य के मुद्दे

पेरेंट‌्स के लिए शिशु के स्वास्थ्य का ध्यान रखना बहुत ही चुनौतीपूर्ण होता है। आप सोचेंगे क्यों?  इसलिए क्योंकि वे व्यक्त करने और बताने में सक्षम नहीं होते हैं कि कौन सी समस्या उन्हें परेशान कर रही है। इसलिए उनकी परेशानी का मूल कारण समझना कठिन होता है। जिसके कारण इसका निदान भी मुश्किल हो जाता है। कभी-कभी, माएं भी इस समस्या को हल करने में असफल होती हैं और इस तरह से इलाज मुश्किल हो जाता है। इसलिए, सामान्य रूप से होने वाले शिशुओं की समस्याओं के परिस्थितियों को समझना और उनकी पहचान करना चिंता का कारण बन सकता है।

यदि आप पहली बार पेरेंट्स बने हैं, तो आपको अपने बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में घबराहट होगी। यहां पहले वर्ष शिशु स्वास्थ्य की आम, लेकिन चिंताजनक समस्याओं के लिए एक गाइड दिया गया है।

और पढ़ें : Tips: पेरेंट्स कैसे करें ऑटिस्टिक चाइल्ड की देखभाल

हैलो स्वास्थ्य के इस आर्टिकल में जानकारी साझा कर रही हैं डॉ शरयु, जो कि हेल्थ सेक्टर में कार्यरत हैं।

यहां सामान्य लेकिन खतरनाक शिशु स्वास्थ्य के मुद्दे निम्नलिखित हैं:

कान के संक्रमण

शिशुओं में कान की आंतरिक संरचना लगातार विकसित हो रही होती है। कान के अंदर तरल पदार्थ का कोई भी संचय संक्रमण का कारण बन सकता है। इन संक्रमणों के परिणामस्वरूप उनके कान में दर्द और सूजन होने लगती है। यदि इन समस्याओं की समय पर पहचान नहीं की जाए तो वे शिशुओं में और गंभीर जटिलताएं पैदा कर सकती हैं।

और पढ़ें : जानें बच्चे के सर्दी जुकाम का इलाज कैसे करें

कान के संक्रमण के लक्षण

और पढ़ें : इस तरह नवजात शिशु को बचा सकते हैं इंफेक्शन से, फॉलो करें ये टिप्स

इस तरह के संक्रमणों को रोकने और आगे के नुकसान के लिए उपचार के विकल्प उपलब्ध हैं। बाल रोग विशेषज्ञ द्वारा एंटीबायोटिक्स दवाएं दी जा सकती हैं।

थूकना और पेट की समस्याएं

एक बच्चे में पाचन तंत्र बहुत विकसित नहीं होता है। इसलिए खाने को मुंह से बार-बार गिरा देना और खाए गए भोजन को थूक देना आम बात है। जब बच्चा स्तन के दूध (स्तनपान) पर निर्भर होता है, तब भी उसका थूकना जारी रहता है। शिशु के स्वास्थ्य के लिए यहां यह जानना जरूरी है कि इसके कारण सामान्य थूकने और थूकने के बीच अंतर की पहचान की जाए। यदि भोजन को थूकना लंबे समय तक रहता है, तो इसके लिए ये कारण जिम्मेदार हो सकते हैं। जैसे :

  • पेट का भाटा
  • अल्सर
  • पेट का फ्लू
  • गैस्ट्राइटिस
  • इरिटेबल बाउल सिंड्रोम
  • लैक्टोज इंटॉलरेंस

ये सभी स्थितियां उल्टी और लगातार थूकने के समान संकेत दे सकती हैं; इसलिए एक उचित निदान चाहिए।

और पढ़ें : किसी के छींकने के बाद क्यों कहते है ‘गॉड ब्लेस्स यू ‘

अत्यधिक रोना और खांसना

रोना कोई बीमारी या विकार नहीं है न ही खांसी। बच्चे बहुत रोते हैं और यह बहुत सामान्य है। रोना और खांसना शिशु स्वास्थ्य संबंधी आम समस्या है। हालांकि यदि आपको लगता है कि बच्चे का रोना बहुत लंबे समय से चल रहा है, तो निश्चित रूप से कुछ गलत है। यदि बच्चा बहुत रो रहा है और अगर यह सामान्य नहीं है, तो कुछ बीमारी या विकार होने की संभावना है। जैसे :

और पढ़ें : पेट का इंफेक्शन दूर करने के घरेलू उपाय

शिशु अपनी समस्याओं या दर्द को बताने के लिए बस रोने लगेगा, इसलिए माता-पिता को अपने बच्चों की इस भाषा को समझने की कोशिश करनी चाहिए।

और पढ़ें : बच्चे को होने वाले फोड़े-फुंसियों का ऐसे करें इलाज

सांस लेने में परेशानी शिशु स्वास्थ्य के लिए खतरनाक

कई बार अनुचित नींद की स्थिति और खांसी की होने के कारण बच्चे को सांस लेने में कठिनाई हो सकता है। हालांकि यह कुछ समय में या खांसी के रूप में बंद हो जाता है। अगर शिशु ने बार-बार हांफना शुरू कर दिया है, और लंबी सांस लेता है तो श्वसन समस्या हो सकती है। यदि श्वसन के साथ ऐसी समस्या मौजूद है, तो यह बहुत गंभीर हो सकता है। इसलिए अनुचित श्वास पैटर्न के ऐसे संकेतों को सख्ती से देखा जाना चाहिए और उनका ध्यान रखा जाना चाहिए।

और पढ़ें : नवजात शिशु को बुखार होने पर करें ये 6 काम और ऐसा बिलकुल न करें

बुखार शिशु स्वास्थ्य के लिए बहुत आम है

छोटे बच्चे बुखार की खतरा को बढ़ाते हैं। यह सामान्य है और इसके कारण कुछ प्रकार के संक्रमण, टीकाकरण का उपयोग, इम्यून सिस्टम का अनुचित विकास आदि हो सकते हैं। यदि यह नहीं होता है, या यदि बुखार बहुत गंभीर और बहुत बार होता है, तो यह एक खतरनाक स्थिति है और इसका उचित इलाज किया जाना चाहिए।

और पढ़ें : मेटाबॉलिज्म क्या है और जानिए कौनसे फैक्टर्स उसे प्रभावित करते हैं

पोषण की जानकारी भी है शिशु स्वास्थ्य के लिए जरूरी

शिशुओं में पोषण की कमी बहुत आम है। अनुभव की कमी के कारण, नई माताएं छह महीने के बाद अपने बच्चों को संतुलित आहार की आपूर्ति का प्रबंधन करने में असमर्थ होती हैं। यह शिशु स्वास्थ्य के लिए पोषण की कमी नुकसानदायक है। जिसके परिणाम से कुछ पोषण संबंधी विकार जैसे रिकेट्स, पीईएम आदि उत्पन्न हो सकते हैं। यदि इन अवस्थाओं को शुरुआत में नियंत्रित न किया जाए, तो यह एक बुरा परिणाम हो सकता है जो लाइलाज हो सकता है। डॉक्टरों और बड़ों के मार्गदर्शन में आप आसानी से छह महीने के बाद शिशुओं के आहार में पोषक तत्वों को शामिल कर सकते हैं।

स्किन इंफेक्शन

शिशु स्वास्थ्य को समझने की कोशिश कर रहे हैं, तो जान लें कि बच्चों में स्किन इंफेक्शन एक आम समस्या है। बच्चों की स्किन बहुत ही सेंसटिव होती है। ऐसे में उन्हें त्वचा संबंधी संक्रमण बड़ी ही जल्दी हो जाते हैं। साथ ही इनसे अपने बच्चे को बचाने के लिए जरूरी है कि आप उनको साफ और स्वच्छ रखें।

कब्ज

शिशु स्वास्थ्य की कब्ज भी एक आम समस्या है। बड़े लोगों की तरह बच्चों को भी कब्ज हो जाती है। कब्ज शरीर में फाइबर की कमी हो जाने के कारण होती है।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा एक्स्पर्टली रिव्यूड

डॉ. अभिषेक कानडे

आयुर्वेदा · Hello Swasthya


Nikhil Kumar द्वारा लिखित · अपडेटेड 18/03/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement