home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

बच्चे के शरीर में प्रोटीन की कमी पर सकती है भारी, ना करें इन संकेतों को अनदेखा...

बच्चे के शरीर में प्रोटीन की कमी पर सकती है भारी, ना करें इन संकेतों को अनदेखा...

हमारे शरीर में सभी पोषक तत्वों की अलग-अलग भूमिका होती है और यह शारीरिक विकास के लिए बहुत जरूरी होते हैं। खासतौर पर बढ़ती उम्र के बच्चों के लिए। इसमें होने वाला असंतुलन कई बार शरीर को भारी पड़ सकता है। बच्चों के अच्छे फिजिकल और मेंटल हेल्थ (Mental Health) के लिए विकास के लिए उन्हें सभी नोटेशंस का मिलना पोषक तत्वों का मिलना जरूरी है। नहीं तो इसका बुरा प्रभाव उनके होने वाले शारीरिक विकास पर भी पड़ सकता है। आज हम यहां बात कर रहे हैं बच्चों में प्रोटीन की कमी (Protein Deficiency) की। बच्चों के शरीर में प्रोटीन की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है, इससे उनका शारीरिक और मानसिक विकास भी अच्छा होता है। आइए जानें की बच्चों में प्रोटीन की कमी ( Protein Deficiency) के क्या-क्या संकेत हो सकते हैं। इन कमियों को कैसे दूर किया जा सकता है, जाने यहां:

और पढ़ें: बच्चों के लिए प्रोटीन पाउडर: बच्चों को प्रोटीन पाउडर देने से पहले जानिए ये बातें

बच्चों में प्रोटीन की कमी (Protein Deficiency) का संकेत

protien

बच्चों में प्रोटीन की कमी कई बड़ी समस्याओं का कारण बन सकते हैं। यदि आपके बच्चे को बढ़ती उम्र के अनुसार प्रोटीन की सही मात्रा नहीं मिल रही है, तो इसका बुरा प्रभाव उसके डेवलेप्मेंट को रोक सकता है। जानें बच्चों में प्रोटीन की कीमी ( Protein Deficiency) के होने वाले संकेतों के बारे में:

बालों का रूखा होना (Hair Dry)

कई बार बच्चों के बालों में होने वाला रूखापन, प्रोटीन की कमी का संकेत हो सकता है। इसकी कमी से बच्चों के बालों की वैसी ग्रोथ (Hair Growth ) नहीं हो पाती है, जैसी कि होनी चाहिए। स्वस्थ्य बालों के लिए भी शरीर को सभी पोषक तत्वों का मिलना जरूरी है। इसके अलावा, आजकल बच्चों में बाल झड़ने (Hair Fall) की भी समस्या देखी जा रही है, जो उनमें होने वाली प्रोटीन की कमी का संकेत है। जिसे अनदेखा नहीं करना चाहिए ।

और पढ़ें: अच्छे बॉडी की है चाहत, तो इन टॉप 10 व्हे प्रोटीन के बारे में जानना ना भूलें

मजबूत हड्डियों के लिए (Bone Health)

मजबूत हड्डियों के लिए प्रोटीन शरीर में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। कई बार बच्चों में यह भी देखा गया है कि वह थोड़ी दूर चलते ही थक जाते हैं, जिसे हम उनके शरीर में प्रोटीन के अभाव (Protein Deficiency) के रूप में भी देख सकते हैं। मजबूत हड्डियों के लिए, उन्हें बढ़ती उम्र के साथ सही प्रोटीन मिलना बहुत जरूरी है। यह डेली डायट के माध्यम से बच्चों को आसानी से दिया जा सकता है।

मजबूत मांसपेशियों के लिए (Strong muscles)

कई बार बच्चों में मांसपेशियों का दर्द देखने को मिलता है, जिससे अक्सर पेरेंट्स (Parents) यह समझकर अनदेखा कर देते हैं कि ज्यादा खेलकूद के कारण ऐसा हुआ होगा। लेकिन ऐसा तब ही होता है जब उनकी हड्डियों में वो ताकत नहीं होती है। अगर मांसपेशियां हेल्दी हों तो शरीर फिट (Fitness) और मजबूत होता है। यदि मांसपेशियां कमजोर हो, तो बच्चे के शरीर की बनावट और विकास ज्यादा अच्छी नहीं होती है। प्रोटीन उनके जॉइंट को भी मजबूत बनाता है।

और पढ़ें: मूंगफली और मसूर की दाल हैं वेजीटेरियन प्रोटीन फूड, जानें कितनी मात्रा में इनसे मिलता है प्रोटीन

कमजोर नाखून के लिए (Weak Nails)

बच्चों की कमजोर नाखून भी कई बार उनमें प्रोटीन की कमी को इशारा कर रहे होते हैं। जब शरीर में उस मात्रा में प्रोटीन नहीं मिल पाता है। जिसकी वजह से नाखून कमजोर होने लगते हैं। कई बार डैमेज नाखून की वजह भी यही होती है। अगर बच्चों को सही प्रोटीन (Protien For Child) नहीं मिल रहा है, तो उसका संकेत शरीर के कई हिस्सों में अलग-अलग लक्षणों के रूप में नजर आ सकता है।

थकान महसूस होना (Fatigue)

जब बच्चों के शरीर में प्रोटीन की कमी होती है, तो वह थकान महसूस करने के साथ बहुत जल्दी-जल्दी बीमार पड़ने लगते हैं। प्रोटीन की कमी से उनके शरीर में वह ऊर्जा का निर्माण नहीं हो पाता है, जिसकी उन्हें जरूरत होती है। तो कई बार उन में होने वाली थकान का संकेत प्रोटीन की कमी है। थकान को अक्सर पेरेंट्स कमजोरी की नजर से देखते हैं। इसलिए वो बच्चे को आयरन (Iron) और विटामिन (Vitamin) वाले फूड देने पर ज्यादा जोर देते हैं। पर ऐसा नहीं होना चाहिए। आपको उनकी डायट में प्रोटीन भी शामिल करना चाहिए।

और पढ़ें: प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेना सही या गलत? आप भी हैं कंफ्यूज्ड तो पढ़ें ये आर्टिकल

हाइट (Height) बढ़ने में रूकावट

कई बार बच्चों में हाइट न बढ़ने का कारण भी प्रोटीन की कमी (Protein Deficiency) देखी गई है। यदि बच्चों के शरीर में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन और अन्य जरूरी मिनरल्स की कमी है, तो इससे उनकी बढ़ती हुई हाइट भी प्रभावित होगी। इसलिए उनकी डायट में इसे शामिल करना बहुत जरूरी है।

घाव भरने में देरी

बच्चों में प्रोटीन की कमी (Protein Deficiency) का एक संकेत यह भी है कि जब उनमें बहुत ज्यादा इसकी कमी देखी जाती है, तो कई बार उनको लगी चोट, जल्दी ठीक नहीं हो पाती है, क्योंकि र ऊर्जा की कमी के कारण रक्त का प्रभाव बाधित होता है और नए कोशिकाओं का निर्माण (Cells Development) तेजी से नहीं हो पाता है। ऐसे में घाव को भरने में समय लगता है।

और पढ़ें: जानिए टॉडलर्स और प्रीस्कूलर्स बच्चों के स्वास्थ्य और देखभाल के बारे में

बच्चों में प्रोटीन की कमी (Protein Deficiency) को कैसे दूर करें?

Foods to lower cholesterol

जैसा कि हमने जाना कि बच्चों में होने वाला प्रोटीन का अभाव, उनमें कई बीमारियों का कारण बन सकता है। इसलिए बढ़ती उम्र के साथ सही प्रोटीन की मात्रा मिलना बहुत जरूरी है। नहीं तो इससे उनका विकास भी प्रभावित हो सकता है। आइए जानें कुछ ऐसे ही फूड्स (Foods) के बारे में, जो बच्चों में प्रोटीन की कमी को दूर कर सकते हैं जैसे कि:

अंडा (Egg)

रोजाना 1 अंडा खाने से प्रोटीन की कमी बच्चों में दूर होती है। इसका सेवन करने उनकी मांसपेशियां व हड्डियां मजबूती बनती है। अंडे में प्रोटीन के अलावा ओमेगा-3 भी पाया जाता है। एक उबले हुए अंडे में 5 ग्राम के लगभग प्रोटीन (Proteins), 4.2 ग्राम , कैल्शियम (Calcium) 24.6 मिलीग्राम, आयरन 0.8 मिलीग्राम और मैग्नीशियम 5 मिलीग्राम उपलब्ध होता है। रेाज सुबह नाश्ते में एक अंडा खाना फायदेमंद माना जाता है।

ड्रायफ्रूट्स (Dry Fruits)

बच्चों में प्रोटीन की कमी के लिए ड्रायफ्रूट का सेवन एक अच्छा विकल्प है। इसमें प्रोटीन के अलावा विटामिन (Vitamin) , कैल्शियम (Calcium), आयरन (Iron), एंटी-ऑक्सिडेंट्स जैसे होते हैं। यह शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ने में भी मद्दगार हैं। वैसे तो ड्रायफ्रूट (Dry Fruit) बच्चे खाना पसंद नहीं करते हैं। लेकिन आप इसे शेक या स्मूदी के रूप में दे सकते हैं।

और पढ़ें: प्रोटीन सप्लिमेंट्स लेना सही या गलत? आप भी हैं कंफ्यूज्ड तो पढ़ें ये आर्टिकल

चिया सीड्स (Chia Seeds)

चिया सीड्स में भी उच्च मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। तो आप इसे भी उनकी डायट में शामिल करें। इसके अलावा, इसमें फाइबर (Fiber), विटामिन (Vitamin), कैल्शियम, आयरन (Iron), ओमेगा -3 फैटी एसिड (Omega Fatty-3 Acid) आदि तत्व होते हैं। जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को अच्छा बनाने के साथ कई गंभीर बीमारियों से भी बचाने में मददगार है।‌

टोफू (Tofu)

टोफू का सेवन से शरीर में प्रोटीन (Proteins) की कमी पूरा करता है और यर बच्चों को काफी पसंद भी आता है। टोफू सोयाबीन के दूध से तैयार पनीर होता है। यह खाने में टेस्टी होने के साथ कई हेल्थ बेनेफिट से भी जुड़ा हुआ होता है। इसके सेवन से मांसपेशियों व हड्डियों में प्रोटीन और विटामिन की कमियां भी दूर की जा सकती है। टोफू से तैयार स्नैक्स बच्चे काफी पसंद करते हैं।

तो इस तरह से आप बच्चों में प्रोटीन की कमी को दूर कर सकते हैं। लेकिन यह भी ध्यान रखें कि हर बच्चे के शरीर में इसकी जरूरत अलग-अलग होती है। बच्चों में इसकी अधिक मात्रा नुकसानदेह हो सकती है। इसके अलावा यदि बच्चा आबेसिटी या डायबिटीज का शिकार है, तो आप ऊपर दिए गए फूड्स डॉक्टर की सलाह पर ही दें। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित
अपडेटेड 2 weeks ago
x