Antisocial behavior in children: बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को कैसे करें दूर?

    Antisocial behavior in children: बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को कैसे करें दूर?

    बच्चों में उम्र बढ़ने के साथ-साथ कई तरह के बदलाव देखे जाते हैं। यहां हम खासकर बढ़ते बच्चों के एंटी सोशल बिहेवियर एवं सोशल बिहेवियर की बात कर रहें हैं। कुछ बच्चे हमउम्र या बड़े लोगों के बीच आसानी से घुलमिल जाते हैं, लेकिन कुछ बच्चे ऐसे भी होते हैं जो एंटी सोशल यानी लोगों से घुलना-मिलना पसंद नहीं करते हैं। बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर (Antisocial behavior in children) के कई कारण हो सकते हैं। आज इस आर्टिकल में बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारियां शेयर करने जा रहें हैं।

    • बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर क्या है?
    • बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर के रिस्क फेक्टर क्या हैं?
    • पेरेंट्स बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को कैसे समझें?
    • बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव से कैसे बचाव करें?
    • बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव का इलाज क्या क्या है?

    बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर (Antisocial behavior in children) से जुड़े इन सवालों का जवाब क्या है, यह आगे समझते हैं।

    और पढ़ें : बच्चों के लिए ट्रस्ट बिल्डिंग एक्सरसाइज से हो सकती है उनकी अच्छी ग्रोथ!

    बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर (Antisocial behavior in children) क्या है?

    Antisocial behavior in children- बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर

    यूनिवर्सिटी ऑफ वॉटरलो, ओंटारयो, कैनेडा एंड रिसर्च डायरेक्टर ऑफ दि मेलिसा इंस्टिट्यूट ऑफ वायोलेंस प्रिवेंशन एंड ट्रीटमेंट मिआमि, फ्लोरिडा (University of Waterloo, Ontario, Canada and Research Director of The Melissa Institute for Violence Prevention and Treatment Miami, Florida) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार अगर बच्चे ज्यादा अग्रेशन में रहते हों या परिवार के सदस्यों का अनादर करते हों या फिर किसी से बातचीत करना नहीं चाहते हों तो ऐसी स्थिति बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव की ओर इशारा करते हैं। ऐसे कम उम्र या यंग एज के बच्चों में देखी जा सकती है। बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर होने से रिस्क फेक्टर को समझना जरूरी है, जिससे बच्चों के एंटी सोशल बिहेवियर को सोशल बिहेवियर के लिए मददगार हो सकती है।

    और पढ़ें : Cooperative Play: बच्चों के लिए कोऑपरेटिव प्ले क्यों आवश्यक है?

    बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर के रिस्क फेक्टर क्या हैं? (Risk factor of Antisocial behavior in children)

    Antisocial behavior in children- बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर

    बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर के रिस्क फेक्टर निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    • स्कूल या आसपास का वातावरण
    • जेनेटिक एवं फेमली हिस्ट्री
    • नेगेटिव पेरेंटिंग
    • हिंसक, अस्थिर या अशांत जीवनशैली

    ऊपर बताये कारण बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को बढ़ाने का काम कर सकती है। इसके अलावा हायपरएक्टिविटी एवं न्यूरोलॉजिकल प्रॉब्लम भी बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर का कारण बन सकती है। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेककनोलॉजी इन्फॉर्मेशन में पब्लिश्ड (National Center for Biotechnology Informeshan) रिपोर्ट के अनुसार युवाओं में अटेंशन डिफिसिट हायपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (ADHD) का कारण सोशल बिहेवियर को माना गया है।

    और पढ़ें : रसल सिल्वर सिंड्रोम : इस कंडिशन में हो सकती है बच्चे के विकास में देरी, समय रहते इसे पहचानना है जरूरी

    पेरेंट्स बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को कैसे समझें? (Symptoms of Antisocial behavior in children)

    बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को बच्चे के 3 या 4 साल के उम्र तक आसानी से पहचाना जा सकता है, जिसके लक्षण निम्नलिखित हो सकते हैं। जैसे:

    • जानवरों और लोगों के प्रति अपमानजनक और हानिकारक स्वभाव
    • झूठ बोलना और चोरी करना
    • विद्रोह और नियमों का उल्लंघन करना
    • चीजों को नुकसान करना
    • अपराधजनक स्वभाव रखना

    इन लक्षणों के अलावा बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव के निम्नलिखित लक्षण भी हो सकते हैं। जैसे;

    • कॉन्फिडेंस ना होना।
    • किसी से सहानुभूति नहीं होना।
    • अत्यधिक अभिमान होना।
    • मेनूपुलेट करना।
    • पछतावा ना होना।

    ऐसे लक्षण बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को दर्शाते हैं। इसलिए पेरेंट्स अगर बच्चों में ऐसे लक्षण देखते हैं, तो उन्हें इग्नोर नहीं करना चाहिए। वहीं अगर बच्चों में ऐसे लक्षणों को 9 वर्ष की आयु तक इग्नोर किया जाए तो समस्या बढ़ सकती है। क्योंकि इस बात की कई रिसर्च रिपोर्ट्स में चर्चा की गई है कि बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर उम्र बढ़ने के साथ एल्कोहॉल (Alcohol) एवं ड्रग्स (Drugs) जैसे अन्य हानिकारक लातों की ओर आकर्षित करते हैं। वैसे इसके पीछे जेनेटिक या आसपास के वातावरण के कारण भी हो सकते हैं।

    और पढ़ें : बच्चों में स्पैंकिंग या पिटाई का बुरा प्रभाव विकास पर पड़ सकता है भारी, पेरेंट्स इन बातों का रखें ध्यान!

    बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव का इलाज क्या क्या है? (Treatment for Antisocial behavior in children)

    अगर बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव कम उम्र से ही नजर आने लगे, तो ऐसे में डॉक्टर निम्नलिखित तरह से बच्चों के एंटी सोशल स्वभाव को दूर करने के लिए इलाज शुरू कर सकते हैं। जैसे:

    • प्रॉब्लेम सॉल्विंग स्किल ट्रेनिंग (Problem solving skills training)
    • कॉग्नेटिव थेरिपी बिहेवियरल (Cognitive behavioral therapy)
    • बिहेवियरल फेमली इंटरवेंशन (Behavioral Family Intervention)
    • फेमिली थेरिपी (Family therapy)
    • एडोलेसेंट थेरिपी (Adolescent therapy)

    इन ऊपर बताये तरीकों के अलावा पेरेंट्स को भी पेरेंट मैनेजमेंट ट्रेनिंग (Parent management training) लेने की सलाह दी जाती है। पेरेंट मैनेजमेंट ट्रेनिंग की सलाह इसलिए दी जाती है कि कहें अनजाने में माता-पिता नेगेटिव पेरेंटिंग तो नहीं कर रहें हैं। दरअसल नेगेटिव पेरेंटिंग या बैड पेरेंटिंग के कारण भी बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर नजर आ सकते हैं। ऐसी स्थिति बच्चों में सहानिभूति की कमी आने लगती है।

    नोट: बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव होना सामान्य भी हो सकता है, लेकिन अगर बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव ज्यादा हो तो ऐसे में डॉक्टर से कंसल्टेशन आवश्यक हो जाता है।

    ये तो हुई डॉक्टरी सलाह से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी, लेकिन पेरेंट्स को भी कम उम्र से ही बच्चों को लोगों से घुलना-मिलना और मैनर्स को बताना या मैनर्स के बारे में जानकारी देनी चाहिए।

    और पढ़ें : पेरेंटिंग के बारे में क्या जानते हैं आप? जानिए अपने बच्चों की परवरिश का सही तरीका

    बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव से कैसे बचाव करें? (Preventing antisocial behavior in kids)

    बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव ना हो या ऐसे लक्षण नजर आने पर पेरेंट्स निम्नलिखित तरह से बचाव कर सकते हैं। जैसे:

    स्टेप 1. प्राइमरी प्रिवेंशन (Primary prevention)
    स्टेप 2. सेकेंडरी प्रिवेंशन (Secondary prevention)
    स्टेप 3. टर्शियरी प्रिवेंशन (Tertiary prevention)

    स्टेप 1. प्राइमरी प्रिवेंशन (Primary prevention): बच्चों में एंटी सोशल स्वभाव को दूर करने के लिए सबसे पहले स्टेप प्राइमरी प्रिवेंशन से शुरुआत करना चाहिए। जैसे:

    • बच्चों को किसी के झगड़ा नहीं करने के लिए समझाना।
    • गुस्सा नहीं करने के लिए समझाना।
    • भावनात्मक स्वभाव रखने के लिए समझाना।

    स्टेप 2. सेकेंडरी प्रिवेंशन (Secondary prevention): बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को दूर करने के लिए दूसरे स्टेप जैसे सेकेंडरी प्रिवेंशन को दिया गया है। इसमें बच्चों को निम्नलिखित तरह से समझाया जाता है। जैसे:

    • स्पेशल क्लास (Special class)।
    • छोटे ग्रुप में सोशल स्किल ट्रेनिंग (Social skills lessons) की शिक्षा।
    • काउंसलिंग (Counseling) करवाना।

    स्टेप 3. टर्शियरी प्रिवेंशन (Tertiary prevention): बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को दूर करने के लिए डॉक्टर, फेमली और टीचर्स की मदद से एंटी सोशल बिहेवियर को दूर करने के लिए शिक्षा दी जाती है।

    इन अलग-अलग स्टेप को फॉलो कर और डॉक्टर द्वारा दिए गए सलाह का पालन कर बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर को दूर किया जा सकता है। अगर आपके या किसी भी करीबी के बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर (Antisocial behavior in children) होने पर इस स्थिति को संभालना चाहिए और पैनिक नहीं करना चाहिए। वहीं अगर आप बच्चों में एंटी सोशल बिहेवियर (Antisocial behavior in children) से जुड़े किसी भिओ सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हैलो स्वास्थ्य के हेल्थ एक्सपर्ट जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब देनी की कोशिश करेंगे।

    बच्चों के विकास के साथ-साथ मां को अपना ख्याल रखना भी जरूरी है। नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक कर एक्सपर्ट से जानें न्यू मॉम अपना ध्यान कैसे रख सकती हैं और यह उनके लिए क्यों जरूरी है।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Antisocial behavior in children/https://psycnet.apa.org/record/1993-06599-001/Accessed on 03/01/2022

    Predictors of antisocial behaviour in children with attention deficit hyperactivity disorder/https://pubmed.ncbi.nlm.nih.gov/16523253/Accessed on 03/01/2022

    COMPARISON OF AGGRESSION IN BOYS AND GIRLS: A CASE FOR GENDER-SPECIFIC INTERVENTIONS/https://www.melissainstitute.org/documents/2006/Meich_06_genderdifferences.PDF/Accessed on 03/01/2022

    Antisocial Behavior in Children and Adolescents:/https://files.eric.ed.gov/fulltext/EJ1081200.pdf/Accessed on 03/01/2022

    From Prison to Home: The Effect of Incarceration and Reentry on Children, Families, and Communities/https://aspe.hhs.gov/reports/antisocial-behavior-adolescent-children-incarcerated-parents-developmental-perspective-0/Accessed on 03/01/2022

    Antisocial Behavior: Passing From Parent to Child to Grandchild/https://clinicaltrials.gov/ct2/show/NCT00060788/Accessed on 03/01/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 04/01/2022 को
    Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड