home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

रेडशर्टिंग : बच्चों के विकास से जुड़ी एक खास तकनीक, जिसके बारे में आपको जानना चाहिए

रेडशर्टिंग : बच्चों के विकास से जुड़ी एक खास तकनीक, जिसके बारे में आपको जानना चाहिए

बच्चों के संपूर्ण विकास के लिए माता पिता अलग-अलग तकनीक का प्रयोग करते हैं। बच्चे के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली यह तकनीक कई बार बच्चों के लिए काफी कारगर साबित होती है। इन तकनीकों में अलग-अलग तरह की बिहेवियरल थेरेपी (Behavioral therapy) का समावेश होता है। आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसी ही तकनीक के बारे में, जो बच्चे के विकास के शुरुआती सालों में अपनाई जा सकती है। इस तकनीक का नाम है रेडशर्टिंग। रेडशर्टिंग (Redshirting) एक ऐसी तकनीक है, जो बच्चे के मानसिक विकास में बेहद कारगर साबित होती है। बच्चे के शुरुआती सालों में रेडशर्टिंग का इस्तेमाल पेरेंट्स द्वारा किया जा सकता है। लेकिन रेडशर्टिंग तकनीक क्या है, यह जानना भी आपके लिए बेहद जरूरी है। आइए जानते हैं बच्चों के विकास में महत्वपूर्ण मानी जाने वाली रेडशर्टिंग तकनीक क्या है।

यह भी पढ़ें : बच्चे की दूसरों से तुलना न करें, नहीं तो हो सकते हैं ये नकारात्मक प्रभाव

क्या है रेडशर्टिंग (Redshirting)?

रेडशर्टिंग आमतौर पर उस स्थिति को कहा जाता है, जब कोई कॉलेज एथलीट पूरी तरह से मैच्योर और स्ट्रॉन्ग (Mature and strong) होने के लिए 1 साल का समय लेता है। इस समय में वह अपने शारीरिक और मानसिक विकास के साथ-साथ अपने स्किल्स पर भी काम करता है। वर्तमान में रेडशर्टिंग उन बच्चों के लिए इस्तेमाल की जाती है, जिनका इनरोलमेंट पहली बार स्कूल में कराया जा रहा है। रेडशर्टिंग (Redshirting) तकनीक के अंतर्गत बच्चे को किंडरगार्डन जैसे शुरुआती स्कूल में उम्र के अनुसार लेट दाखिल कराया जाता है, जिससे उसे स्कूली पढ़ाई शुरू करने के पहले विकसित होने का पूरा मौका मिल सके।

यह भी पढ़ें : बच्चे के अच्छे मानसिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी है परिवार

किंडरगार्डन में लेट दाख़िला आम बात है। कई पेरेंट्स बच्चों का स्कूल में लेट दाखिला कराते हैं और इसी स्थिति को रेडशर्टिंग का नाम दिया गया है। यदि आप बच्चे के लिए रेडशर्टिंग का चुनाव करते हैं, तो आपको इसके पॉजिटिव और नेगेटिव पॉइंट्स के बारे में पता होना चाहिए। आइए जानते हैं बच्चों के लिए इस्तेमाल की जाने वाली रेडशर्टिंग के क्या लाभ हैं।

यह भी पढ़ें: खाने में आनाकानी करना हो सकता है बच्चों में ईटिंग डिसऑर्डर का लक्षण

रेडशर्टिंग के क्या लाभ हैं? (Benefits of Redshirting)

एज्यूकेशन नेक्स्ट नामक वेबसाइट में छपी रिपोर्ट के मुताबिक बच्चों के लिए रेडशर्टिंग के कई लाभ हो सकते हैं, लेकिन प्रैक्टिकली यह बच्चे के लिए कितनी मददगार साबित होती है, इस पर अब तक एनालिसिस करना बाकी है। बच्चों के लिए रेडशर्टिंग (Redshirting) के इस्तेमाल पर अब तक किसी भी प्रकार की साइंटिफिक रिसर्च नहीं कर गई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक यह बात सामने आई है कि जिन बच्चों में रेडशर्टिंग आज़माई जाती है, उन बच्चों में हायपरएक्टिविटी (Hyperactivity) कम पाई जाती है। रिसर्चर्स का मानना है कि रेडशर्टिंग की मदद से बच्चे की मेंटल हेल्थ (Mental health) बेहतर बनती है। हालांकि इस पर अधिक रिसर्च की जरूरत है, जिसके मुताबिक यह पता लगाया जा सके कि बच्चों के लिए रेडशर्टिंग के अंतर्गत किन तैयारियों की जरूरत पड़ सकती है।

यह भी पढ़ें: बच्चों के डिसऑर्डर पेरेंट्स को भी करते हैं परेशान, जानें इनके लक्षण

बच्चों के लिए रेडशर्टिंग के लाभ कई तरह के हो सकते हैं, जिनमें रेडशर्टिंग (Redshirting) की मदद से बच्चे को मैच्योर होने और बेहतर स्किल्स सीखने के लिए ज्यादा टाइम मिलता है। साथ ही बच्चे मोटर स्किल्स (Motor skills) को डिवेलप करने के लिए और खेल के जरिए चीजें सीखने के लिए ज्यादा समय मिलता है। जिससे उसका फिजिकल, सोशल और कॉग्निटिव डेवलपमेंट होता है। रेडशर्टिंग की वजह से वह ज्यादा बेहतर रूप से परफॉर्म कर पाता है। लेकिन बच्चों के लिए रेडशर्टिंग के अंतर्गत कई तरह के रिस्क भी होते हैं, जिन पर बात करना बेहद जरूरी माना जाता है। आइए जानते हैं रेडशर्टिंग से जुड़े रिस्क्स के बारे में।

और पढ़ें : बच्चों के अंदर किताबें पढ़ने की आदत कैसे विकसित करें ?

रेडशर्टिंग (Redshirting)

क्या हैं रेडशर्टिंग से जुड़े रिस्क? (Risks of Redshirting)

जैसा कि आपने जाना रेडशर्टिंग एक ऐसी तकनीक है, जिससे बच्चों को कई तरह के फायदे हो सकते हैं। लेकिन इसके साथ-साथ इसके कुछ नेगेटिव पॉइंट्स भी हैं, जिस पर ध्यान देना माता-पिता के लिए जरूरी है। बच्चे के लिए रेडशर्टिंग (Redshirting) तकनीक के इस्तेमाल की वजह से यह रिस्क नजर आ सकते हैं –

  • बच्चे को शुरुआती सालों का एकेडमिक एडवांटेज नहीं मिलता
  • अक्सर बच्चा अपने से छोटे उम्र के बच्चों के साथ परेशान हो सकता है
  • आपको बच्चे को अन्य बच्चों के साथ घुलने मिलने के लिए एक्स्ट्रा ट्यूशन और चाइल्ड केयर के इस्तेमाल की जरूरत पड़ सकती हैं

एजुकेशन नेक्स्ट की रिपोर्ट के मुताबिक बच्चे के लिए रेडशर्टिंग (Redshirting) तब कारगर साबित होती है, जब बच्चे को कुछ खास तरह के डेवलपमेंटल इशू हों या बच्चे के शुरुआती सालों में वह बीमार हो। ऐसी स्थिति में ही बच्चे के लिए रेडशर्टिंग तकनीक का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। यह तो थी बच्चों के लिए रेडशर्टिंग से जुड़ी कुछ जरूरी बातें। लेकिन रेडशर्टिंग किस तरह अपनाई जाती है, यह जानना भी आपके लिए जरूरी है। आइए जानते हैं बच्चों के लिए रेडशर्टिंग तकनीक का इस्तेमाल किस तरह किया जा सकता है।

और पढ़ें : बच्चे की मिट्टी खाने की आदत छुड़ाने के उपाय

कैसे अपनाएं रेडशर्टिंग (Redshirting) तकनीक?

सबसे पहले माता पिता को बच्चे की रेडशर्टिंग को लेकर फैसला लेना चाहिए। यह फैसला लेने से पहले माता-पिता को इसके पॉजिटिव और नेगेटिव पॉइंट्स सोच लेने चाहिए। इसके बाद एकमत होकर रेडशर्टिंग का चयन करना चाहिए। रेडशर्टिंग (Redshirting) के इस्तेमाल से पहले भविष्य में इसकी वजह से पड़ने वाले असर के बारे में सोच लेना चाहिए। साथ ही आपको यह पता होना चाहिए कि आप कब तक बच्चे को किंडरगार्डन में दाखिला नहीं दिलाएंगे। आप जिस एरिया में और शहर में रहते हैं, वहां मौजूद डिस्ट्रिक्ट स्कूल और स्टेट स्कूल के नियमों के बारे में भी आपको पहले जान लेना चाहिए। उनके नियमों के अनुसार आपको रेडशर्टिंग का चयन करना चाहिए।

और पढ़ें : बच्चों को स्विमिंग क्लासेस भेजने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

बच्चों के लिए रेडशर्टिंग (Redshirting) के चयन से पहले आपको बच्चे को मिलने वाले एक्स्ट्रा साल के बारे में भी सोचना चाहिए। इस साल बच्चे के लिए आपको अलग-अलग तरह की डेवलपमेंटल थेरिपीज (Developmental therapy) का इस्तेमाल करना चाहिए। साथ ही साथ बच्चे को नई स्किल्स सिखाने की भी कोशिश करनी चाहिए। इस दौरान आप बच्चे को अलग अलग तरह की चीजें सिखा सकते हैं –

  • बच्चे को पत्र लिखना सिखाएं
  • बच्चे को नंबर्स, कलर्स और शेप से रूबरू करवाएं
  • बच्चे को बुक पढ़ कर सुनाएं, जिससे बच्चे का पढ़ने में इंटरेस्ट जागे
  • बच्चे के सामने राइमिंग गाने गाएं
  • बच्चे की सोशल स्किल्स को डेवेलप करने के लिए प्ले डेट स्केड्यूल करें
  • बच्चे को अलग-अलग तरह की जगह दिखाएं, जिसमें चाइल्ड म्यूजियम, जू, इत्यादि का समावेश हो
  • बच्चे का दाखिला आर्ट, म्यूजिक और साइंस क्लास में करवाएं

रेडशर्टिंग के अंतर्गत बच्चे को मिलने वाले एक्स्ट्रा समय में बच्चों की स्किल्स को डेवलप करना आपकी जिम्मेदारी मानी जाती है, जो बच्चे के लिए बेहतर साबित होती हैं।

और पढ़ेंः सिंगल पेरेंट्स बच्चे की परवरिश के दौरान रखें इन बातों का ध्यान

बच्चों में रेडशर्टिंग (Redshirting) एक आम तकनीक मानी जाती है, लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले आपको बच्चे के बारे में ठीक ढंग से सोचना चाहिए। बच्चे की जरूरत के अनुसार कि आपको उसके लिए रेडशर्टिंग का चुनाव करना करना चाहिए। रेडशर्टिंग के इस्तेमाल से पहले आपको टीचर्स और पीडियाट्रिशियन से बात करना चाहिए, जो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के बारे में आपको सही जानकारी दे सकते हैं। बच्चे के लिए रेडशर्टिंग एक अच्छी तकनीक मानी जा सकती है, लेकिन इसका इस्तेमाल ठीक ढंग से करना बेहद जरूरी है।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Toshini Rathod द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ हफ्ते पहले को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड