26 महीने के बच्चे की देखभाल के लिए आपको किन जानकारियों की आवश्यकता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट October 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

विकास और व्यवहार

मेरे 26 महीने के बच्चे को अभी क्या-क्या गतिविधियां करनी चाहिए?

26 महीने के बच्चे या इस इस उम्र के आस-पास बच्चों के दांत निकलने शुरू होते हैं। नए दांत निकलने के कारण बच्चे अक्सर काटने की कोशिश करते हैं, जो माता-पिता के लिए परेशानी का कारण बन सकता है। बच्चे ऐसा इसलिए करते हैं, क्योंकि उन्हें अपनी भावनाएं व्यक्त करने में परेशानी होती हैं। 

बच्चे के जन्म के बाद से आपने महसूस किया होगा कि वह खाने व अन्य सामान को उठाने के लिए किस हाथ का प्रयोग करता है या फिर जब आप उसका हाथ थामकर चलते हैं, तो वह कौन-सा हाथ पहले उठाता है? अब इस अवस्था में आप शायद यह जान जाएंगे कि आपका बच्चा बाएं हाथ का उपयोग करता है या दाएं हाथ का। बच्चा किसी भी हाथ का प्रयोग करें इससे उसके रोजमर्रा के जीवन पर कोई फर्क नहीं पड़ता और साथ ही बच्चा किस हाथ का उपयोग ज्यादा चीजों के लिए करेगा यह स्वाभिक होता है। इसके बारे में पेरेंट्स को चिंता करने की जरूरत नहीं होती और साथ ही बच्चे को भी स्वतंत्र छोड़ देना चाहिए कि वह किस हाथ का इस्तेमाल करता है। 

यह भी पढ़ें : बच्चों की मजबूत हड्डियों के लिए बचपन से ही दें उनकी डायट पर ध्यान

26 महीने के बच्चे को अब किन चीजों के लिए तैयार करना चाहिए ?

इस उम्र में बच्चे अक्सर दांत काटते हैं। अगर आपका बच्चा भी ऐसा ही करता है, तो उसे डांटने की बजाए समझाने की कोशिश कीजिए कि दांत काटने से किसी को दर्द हो सकता है। अगर 26 महीने के बच्चे के बच्चे दांत काटते हैं और आप उसे समझाने की कोशिश नहीं करते हैं, तो वह अगली बार यही करने की कोशिश करेंगे, जिससे आपको और अन्य लोगों को चोट पहुंच सकती है।

कई बाल विशेषज्ञों का मानना है कि किसी भी बच्चे को दो साल की उम्र से शिक्षित करने की शुरुआत कर देनी चाहिए क्योंकि इस उम्र में बच्चों को इस बात की पर्याप्त जानकारी हो जाती है कि वह जो कर रहा है सही है या गलत। बच्चों को किस बात के लिए कैसे शिक्षित करेंः

  • चेतावनीः अगर आपका बच्चा शरारती है, तो उसे रोकने के लिए थोड़ा-सा समय दें। इतना ही नहीं शरारती बच्चों को शांत होने में थोड़ा-सा समय लगता है, इसलिए आपको भी प्यार से समझाने की आवश्यकता है। 
  • जगहः बच्चे और खुद के बैठने के लिए एक स्थान निर्धारित करें।
  • निंदाः बच्चों के सामने शांत रहें और तथ्य की बात करें, इसके अलावा हमेशा ही उन्हें ये बताएं कि जो शरारत वे कर रहे हैं वह गलत हैं लेकिन और उसे उनकी शरारत के नुकसान समझाने की कोशिश करें। लेकिन, साथ ही इस बात का भी ख्याल रखें कि हमोशा ही उनकी निन्दा न करें, जब वह आपकी बात मानें, तो उसे शाबाशी भी दें। 
  • सही स्थान पर फोकसः बच्चों को लेकर यह स्पष्ट करें कि जो व्यवहार आपको नापसंद है, शायद वो आपके बच्चे को पंसद हो। ऐसे में उसे क्लियर समझाएं कि उन्हें क्या नहीं करना है। 
  • टाइमरः बच्चे जब शरारत करते हैं, तो उन्हें डांटना जरूरी होता है। अमूमन लोग बच्चों को सजा देते वक्त ज्यादा सख्त हो जाते हैं लेकिन, दो साल के मासूम को एक से दो मिनट की सजा भी काफी होती है।

अगर आपका बच्चा गलत करता है, तो एक बार उसे सुधारने की आवश्यता है। अगर 26 महीने के बच्चे समझाने से भी नहीं मानते, तो उसे नई एक्टिविटी में शामिल करें, ताकि वह उसे दोहराएं नहीं। 

यह भी पढ़ें : बच्चों के साथ ट्रैवल करते हुए भूल कर भी न करें ये गलतियां

26 महीने के बच्चे के लिए डॉक्टर के पास कब जाएं?

26 महीने के बच्चे से जुड़े किन विषयों पर डॉक्टर से बात करनी चाहिए?

विशेषज्ञों के मुताबिक, दो से तीन साल की उम्र में बच्चे लगभग 300 से ज्यादा शब्द बोलने में सक्षम हो जाते हैं, जबकि वे लगभग 900 से ज्यादा शब्दों को समझ सकते हैं। हालांकि, सभी बच्चे दो साल की उम्र में स्पष्ट, पूर्ण वाक्यों में बातचीत शुरू नहीं करते हैं। अगर आपका बच्चा नीचे बताई गई चीजें नहीं कर पाता है तो यह चिंता का विषय है।

  • शब्दों और छोटे वाक्यों को बोलने में कठिनाई होना
  • दूसरों की बातों को न समझना और न ही कुछ बताने पर उसे फॉलो करना 
  • पूरे शब्द ना बोल पाना (जैसे डॉग की बजाय सिर्फ डॉ बोलना)
  • तीन साल की उम्र होने तक दो से चार शब्दों वालें वाक्यों को न बोल पाना
  • किसी सवाल का जवाब ठीक से न दे पाना 

26 महीने के बच्चे के बारे में डॉक्टर को क्या बताएं?

दो साल की उम्र में बच्चे चीजों को समझने लगते हैं और नई चीजों को सीखने की कोशिश करते हैं, इसलिए उन्हें डॉक्टर के पास ले जाने से पहले कुछ चीजों को सुनिश्ति कर लें।

26 महीने के बच्चे क्या करने में सक्षम होने चाहिएः

  • घर में रखे सामान, जिसका नाम आप बच्चे को बताते हैं, बच्चे अब उन्हें याद रख पाने में सक्षम होते हैं।
  • परिचित लोगों, वस्तुओं और शरीर के अंगों के नामों को पहचान करना।
  • छोटे वाक्यांशों और दो से चार-शब्द के वाक्यों का उपयोग करना।
  • सरल निर्देशों का पालन करना
  • दोहराए गए शब्द बच्चा सुनने में सक्षम है या नहीं।
  • किसी सामान को ढूढकर निकलाने की कोशिश करना। 

अगर आपको ऐसा महसूस होता है कि आपका बच्चा अन्य के मुकाबले पीछे चल रहा है, तो इसके लिए डॉक्टर से बातचीत करें। जब आप डॉक्टर से बच्चों की समस्या के बारे में बातचीत करते हैं, तो वह सभी चीजों का आंकलन करते हैं और समस्याओं की जड़ तक पहुंचते हैं।

यह भी पढ़ें : क्यों है बेबी ऑयल बच्चों के लिए जरूरी?

26 महीने के बच्चे से क्या उम्मीद करें?

26 महीने के बच्चे के स्वास्थ्य से संबंधित और किन चीजों का ध्यान रखना चाहिए ?

कार में सफर करते समय आप बच्चे की सेफ्टी सीट की आवश्यकता के बारे में चिंतित हो सकते हैं। बच्चे को अपनी गोद में रखना ज्यादा सुरक्षित होगा और सेफ्टी सीट की परेशानियों से निपटने में मदद मिलेगी। आपको इस पर सावधानी से पुनर्विचार करना चाहिए।

सेफ्टी सीट्स टक्कर के दौरान मृत्यु या गंभीर चोटों के जोखिम की आंशका को कम करती हैं। पेरेंट्स एक ऐसी सेफ्टी सीट चुननी चाहिए, जो उपयोग करने के लिए सुविधाजनक हो और अपने बच्चे को बकलिंग करके रखना एक अच्छी आदत है जबकि अधिकांश लोग इसके बारे में सोचते भी नहीं हैं। यह आपके बच्चे के जीवन को बचा सकता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।
हैलो हेल्थ ग्रुप किसी तरह की चिकित्सीय सलाह या इलाज नहीं उपलब्ध कराता है। 
और पढ़ें :-क्या बच्चे को हमेशा होता है सिरदर्द? जानें कारण और उपायबच्चे का रूट कैनाल ट्रीटमेंट हो तो ऐसे करें डीलअपने बच्चे के लिए एक स्कूल का चयन करने के लिए 4 कदमभावुक बच्चे को हैंडल करना हो सकता है मुश्किल, जान लें ये टिप्स

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

डाउन सिंड्रोम की समस्या से जूझ रहे लोगों के सामने जानिए क्या होते हैं चैलेंजेस

डाउन सिंड्रोम की समस्या के कारण जहां बच्चों का शारिरिक और मानसिक विकास धीमा हो जाता है, वहीं उन्हें कई तरह के चैलेंजेस का सामना भी करना पड़ता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

बच्चों में फूड एलर्जी का कारण कहीं उनका पसंदीदा पीनट बटर तो नहीं

बच्चों में फूड एलर्जी के कारण, बच्चों में फूड एलर्जी क्यों होता है, फूड एलर्जी के लिए क्या करें, कैसे पहचाने फूड एलर्जी kids Food Allergy, जानें और

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh

अपनी प्लेट उठाना और धन्यवाद कहना भी हैं टेबल मैनर्स

बच्चों को टेबल मैनर्स कैसे सिखाएं, Table Manners in kids, टेबल मैनर्स क्यों जरुरी है, बच्चों को बाहर खाना सिखाएं, क्यों सिखाएं बच्चों को बाहर खाना

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh

बच्चों को खड़े होना सीखाना है, तो कपड़ों का भी रखें ध्यान

बच्चों को खड़े होना सीखाना टिप्स क्यों जरूरी है, बच्चों को खड़े होना सीखाना कैसे आसान बनाएं, बच्चों को खड़े होने के लिए जरूरी टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Lucky Singh

Recommended for you

बच्चों को क्या खिलाएं/Winter Food For Kids

सर्दी के मौसम में गर्म रखने के लिए बच्चों को क्या खिलाना अच्छा होता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu
प्रकाशित हुआ August 5, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बच्चों-के-हेल्थ-ड्रिंक

घर में आसानी से बनने वाले बच्चों के लिए हेल्थ ड्रिंक

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ April 24, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
शिशु को घमौरी-Baby Heat rash

जानें शिशु को घमौरी होने पर क्या करनी चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ April 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Roseola- रास्योला

Roseola: रोग रास्योला?

के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ April 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें