डायरिया होने पर क्या खाएं और क्या नहीं?

    डायरिया होने पर क्या खाएं और क्या नहीं?

    डायरिया (Diarrhea) एक ऐसी समस्या है जो किसी की भी हालत खराब कर सकती है। ऐसे में सबसे पहले मन में यह सवाल आता है कि डायरिया होने पर क्या खाएं। क्योंकि ऐसे में समझ नहीं आता कि कौन सा फूड स्थिति को बिगाड़ देगा और कौन सा उसे ठीक रखेगा। इस मुश्किल का हल करने के लिए हम ये आर्टिकल लेकर आए हैं जिसमें डायरिया होने पर क्या खाएं के साथ ही क्या नहीं खाना चाहिए जैसी जानकारियां दी जा रही हैं।

    बता दें कि जब डायरिया का कारण एलर्जी (Allergy), फूड पॉइजनिंग (Food poisoning) या कोई क्रोनिक कंडिशन (Chronic condition) जैसे इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम होती है तो डायट और डायरिया आपस में कनेक्टेड रहते हैं। यहां तक कि यदि लॉन्ग टर्म कंडिशन्स जो डायजेस्टिव सिस्टम को प्रभावित करती है ऐसे में डायट महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यदि बार-बार डायरिया की शिकायत हो रही है तो कुछ ऐसे फूड्स हैं जो डायजेस्टिव सिस्टम को ट्रैक पर लाने में मदद कर सकते हैं। चलिए अब बिना देर किए जान लेते हैं कि डायरिया होने पर क्या खाएं और क्या नहीं?

    डायरिया होने पर क्या खाएं (What to eat when you have diarrhea)

    डायरिया होने पर ऐसा फूड्स का सेवन करना चाहिए जो रिकवर होने में मदद करें। ऐसे में व्यक्ति को ब्लैंड और सिंपल फूड्स खाना चाहिए जो कि आसानी से डायजेस्ट हो जाते हैं और स्टूल से कुछ पानी को एब्जॉर्ब करने में मदद करते हैं। इसमें निम्न प्रकार के फूड्स शामिल हो सकते हैं।

    और पढ़ें: Digestive Health Basics: कैसे काम करता है हमारा डायजेस्टिव सिस्टम?

    ब्लैंड फूड्स (Bland foods)

    डायरिया का सामना कर रहे लोगों को ब्लैंड फूड्स खाना चाहिए क्योंकि मसालेदार और कॉम्प्लैक्स फूड्स बॉवेल को इर्रिटेट कर सकते हैं। डॉक्टर्स इसके लिए बीआरएटी डायट को रिकमंड करते हैं। जिसमें निम्न शामिल होते हैं।

    • केला
    • सादा सफेद चावल
    • ब्रेड या टोस्ट
    • उबला हुआ आलू
    • ओट्स
    • दलिया

    दस्त के पहले दिन ये खाद्य पदार्थ विशेष रूप से सहायक हो सकते हैं। कुछ लार्ज मील्स खाने के बजाय पूरे दिन में कई छोटे मील लेने से पाचन तंत्र को अधिक काम करने से बचाने में मदद मिल सकती है।

    डायरिया होने पर क्या खाएं? प्रोबायोटिक्स (Probiotics)

    प्रोबायोटिक्स फूड्स जैसे कि दही इस मामले में मदद कर सकते हैं। ये डायजेशन में मदद करने के साथ ही पेट में अच्छे और बुरे बैक्टीरिया के बीच बैलेंस बनाने में मदद करते हैं। हालांकि डेयरी प्रोडक्ट्स डायजेस्टिव सिस्टम को इर्रिटेट कर सकते हैं क्योंकि इनका पचना मुश्किल होता है। इसलिए व्यक्ति को प्रोबायोटिक्स के नॉन डेयरी सोर्सेज को ट्राय करना चाहिए जैसे कि फर्मेंटेड सॉय मिल्क, फल और सब्जियां। प्रोबायोटिक्स का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेना चाहिए।

    डायरिया में इन चीजों को खाकर रिकवरी में मदद मिल सकती है। डायरिया होने पर क्या खाएं ये जानने के बाद ये भी जान लीजिए क्या पिएं?

    और पढ़ें: इजी डायजेस्टिव फूड के बारे में जाने यहां और अपने पाचन को दे आराम…

    डायरिया होने पर क्या पिएं? (What to drink when you have diarrhea?)

    रिकवरी के लिए लिक्विड्स का होना बहुत जरूरी है। डायरिया का सामना कर रहे लोगों को पूरे दिन अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए। साथ ही हर एक लूज बॉवेल मूवमेंट के बाद एक कप एडिशनल पानी पीना चाहिए। अधिक मात्रा में पानी पीना डीहायड्रेशन से बचाने में मदद करता है और बॉडी से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद करता है।

    डायरिया के कारण पानी के साथ-साथ शरीर मिनरल्स और इलेक्ट्रोलाइट्स भी खो देता है। खोए हुए इलेकट्रोलाइट्स को फिर से भरने के लिए लोगों को खनिज और इलेक्ट्रोलाइट युक्त तरल पदार्थ पीने की कोशिश करनी चाहिए। इलेक्ट्रोलाइट्स और खनिजों के स्रोतों में शामिल हैं:

    • सूप
    • नारियल पानी
    • इलेक्ट्रोल पाउडर
    • स्पोर्ट्स ड्रिंक्स

    डायरिया में क्या नहीं खाना चाहिए? (What should not be eaten in diarrhea?)

    जब डायरिया हो तो कुछ चीजों को खाना अवॉइड करना चाहिए। कई प्रकार के फूड्स को अवॉइड करना चाहिए। ये फूड्स डायजेस्टिव सिस्टम को ट्रिगर कर सकते हैं और डायरिया को लंबे समय तक रहने का कारण बन सकते हैं। डायरिया होने पर निम्न प्रकार के फूड्स को अवॉइड करना चाहिए।

    मसालेदार फूड्स (Spicy foods)

    मसालेदार फूड्स डायजेस्टिव सिस्टम को इर्रिटेट करने का काम करते हैं। डायरिया का सामना कर रहे लोगों को ब्लैंड फूड पर ही रहना चाहिए। डायजेस्टिव को नुकसान पहुंचाने का इनका रिस्क बहुत कम होता है।

    तला हुआ भोजन (Fried foods)

    दस्त से रिकवरी के समय उच्च वसा और तेल वाले खाद्य पदार्थ खाने की सलाह नहीं दी जाती है। अतिरिक्त वसा और तेल को प्रॉसेस करना संवेदनशील पाचन तंत्र के लिए मुश्किल हो सकता है और इससे लक्षण बदतर हो सकते हैं। एक व्यक्ति इसके बजाय उबली या उबली हुई सब्जियां और लीन प्रोटीन खाने की कोशिश कर सकता है।

    और पढ़ें: Leaky Gut: जानिए लीकी गट डायट प्लान में किन 13 चीजों को शामिल करना चाहिए और किन 9 चीजों से दूरी बनानी चाहिए!

    मीठे खाद्य पदार्थ और कृत्रिम मिठास (Sweetened foods and artificial sweeteners)

    कोलन में जाने वाली शर्करा वहां पहले से ही संवेदनशील बैक्टीरिया को बाधित कर सकती है, जिससे दस्त और भी बदतर हो जाते हैं। ये शर्करा फलों के रस और उच्च चीनी वाले फलों के साथ-साथ कैंडी और मीठे और बेक्ड फूड्स में मौजूद होती है। दस्त से पीड़ित लोगों को कृत्रिम मिठास से भी बचना चाहिए, जिनमें से कुछ का लेक्सेटिव इफेक्ट हो सकता है।

    उच्च फायबर खाद्य पदार्थ (High fiber foods)

    यह बहुत अधिक फायबर से बचने में भी मदद कर सकता है। फायबर पाचन तंत्र को सक्रिय रखने में मदद करता है। आमतौर पर यह अच्छी बात है, लेकिन जब शरीर डायरिया से उबरने की कोशिश कर रहा होता है, तो फायबर लक्षणों को और खराब कर सकता है।

    डायरिया होने पर इन चीजों से भी बचें ( These foods not to eat when you have diarrhea?)

    • मिल्क और डेयरी प्रोडक्ट्स
    • मिल्क बेस्ड प्रोटीन ड्रिंक्स
    • तले हुए, फैटी और चिकनाई युक्त फूड्स
    • प्रोसेस्ड फूड्स जिनमें एडिटेटिव्स हों
    • मछली
    • अधिक प्याज
    • भुट्टे
    • फल जैसे कि अन्नानास, चेरीज, अंजीर और अंगूर
    • शराब
    • कॉफी, सोड़ा और कैफीनेटेड और कार्बोनेड ड्रिंक्स
    • आर्टिफिशियल स्वीटनर्स जिसमें सॉर्बिटॉल (Sorbitol) शामिल है

    डायरिया के कारण

    दवाई (Medication)

    कुछ दवाओं के प्रति संवेदनशीलता भी डायरिया को ट्रिगर कर सकती है। ऐसा एंटीबायोटिक्स, दर्द निवारक, या कैंसर से लड़ने वाली दवाएं लेने के बाद हो सकता है। किसी भी प्रकार की दवा का उपयोग डॉक्टर की सलाह पर ही करें।

    स्टमक वायरस (Stomach Virus)

    वायरल गैस्ट्रोएंटेराइटिस (पेट फ्लू) दस्त का एक कारण है। वॉटरी स्टूल्स के साथ ही पेट में दर्द, जी मिचलाना, उल्टी, लो ग्रेड फीवर जैसे लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं। इन वायरसों में नोरोवायरस और रोटावायरस शामिल हैं, जो दूषित भोजन खाने या पीने या किसी संक्रमित व्यक्ति के साथ व्यक्तिगत सामान साझा करने के बाद विकसित हो सकते हैं।

    और पढ़ें: Stomach flu recovery: जानिए स्टमक फ्लू रिकवरी के लिए घरेलू उपाय!

    भोजन से पैदा होने वाली बीमारी (Foodborne illness)

    इसे फूड पॉइजनिंग भी कहा जाता है, यदि आप बैक्टीरिया, परजीवी या विषाक्त पदार्थों से दूषित भोजन खाते हैं, तो दस्त हो सकते हैं। खाद्य जनित बीमारियों में निम्नलिखित बैक्टीरिया के कारण होने वाली बीमारियां शामिल हो सकती हैं:

    • लिस्टेरिया मोनोसाइटोजेनेस (Listeria monocytogenes)
    • क्लोस्ट्रीडियम बोटुलिनम (बोटुलिज्म)

    उम्मीद करते हैं कि आपको डायरिया होने पर क्या खाएं से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Diarrhea/niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/diarrhea/Accessed on 27/04/2022

    Bland diet/ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK538142/Accessed on 27/04/2022

    Diarrhea management and treatment/my.clevelandclinic.org/health/diseases/4108-diarrhea/management-and-treatment/ Accessed on 27/04/2022

    Diarrhea/mayoclinic.org/diseases-conditions/diarrhea/symptoms-causes/syc-20352241/Accessed on 27/04/2022

    Diarrhea/https://medlineplus.gov/diarrhea.html/Accessed on 27/04/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड