आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

डिस्बायोसिस (Dysbiosis) यानि बॉडी में रहने वाले अच्छे बैक्टीरिया का डिसबैलेंस, जानिए कैसे कर सकते हैं इसको ठीक

    डिस्बायोसिस (Dysbiosis) यानि बॉडी में रहने वाले अच्छे बैक्टीरिया का डिसबैलेंस, जानिए कैसे कर सकते हैं इसको ठीक

    हमारी बॉडी में कई प्रकार के अहानिकारक बैक्टीरिया पाए जाते हैं जिन्हें माइक्रोबायोटा कहते हैं। ज्यादातर इन बैक्टीरिया का स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव होता है और ये बॉडी की नैचुरल प्रॉसेस में योगदान देते हैं, लेकिन जब इन बैक्टीरियल कोलोनीज में बैलेंस बिगड़ जाता है तो यह डिस्बायोसिस का कारण बनता है। डिस्बायोसिस (Dysbiosis) तब होता है जब जीआई ट्रैक्ट में होने वाले बैक्टीरिया असंतुलित हो जाते हैं।

    डिस्बायोसिस के कुछ प्रभाव जैसे कि पेट का खराब होना अस्थाई और गंभीर नहीं होते। कई मामलों में हमारी बॉडी ट्रीटमेंट के बिना ही बिगड़े हुए बैलेंस को ठीक कर लेती है, लेकिन अगर लक्षण गंभीर हो जाते हैं तो डॉक्टर के पास जाने की जरूरत होती है। इस आर्टिकल में डिसबायोसिस के कारण, इसके लक्षण और इलाज के बारे में जानकारी दी जा रही है।

    डिस्बायोसिस के क्या कारण हैं (Dysbiosis causes) और किन लोगों को इसका खतरा अधिक होता है?

    माइक्रोबायोटा के संतुलन में कोई भी रुकावट डिस्बायोसिस का कारण बन सकती है। जब जीआई ट्रैक्ट में डिस्बायोसिस होता है, तो इसके कारण निम्न हो सकते हैं

    • डायट में परिवर्तन जिसमें प्रोटीन, शुगर या फूड एडिटेटिव्स के सेवन को बढ़ता है
    • एक्सिडेंटल कैमिकल कंजप्शन, जैसे कि बिना धुले फलों के जरिए कीटनाशकों का सेवन
    • प्रति दिन दो या अधिक एल्कोहॉलिक ड्रिंक्स पीना
    • नई दवाएं, जैसे कि एंटीबायोटिक्स, जो गट फ्लोरा (Gut Flora) को प्रभावित करती हैं
    • खराब डेंटल हायजीन, जो बैक्टीरिया को आपके मुंह में असंतुलित रूप से बढ़ने का कारण बनती है
    • तनाव या चिंता का उच्च स्तर, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है
    • असुरक्षित यौन संबंध, जो व्यक्ति को हानिकारक जीवाणुओं के संपर्क में ला सकता है।

    त्वचा पर डिस्बायोसिस होना भी आम है। यह हानिकारक बैक्टीरिया के संपर्क में आने या एक ही प्रकार के बैक्टीरिया के अतिवृद्धि के कारण हो सकता है। उदाहरण के लिए, स्टैफिलोकोकस ऑरियस बैक्टीरिया (Staphylococcus aureus bacteria) नियंत्रण से बाहर हो सकता है और स्टैफ संक्रमण (Staph infection) का कारण बन सकता है।

    और पढ़ें: गट बैक्टीरिया को नुकसान पहुंचाने वाली चीजें कौन सी हैं?

    डिस्बायोसिस के लक्षण क्या हैं? (Dysbiosis symptoms)

    लक्षण इस बात पर निर्भर करेंगे कि जीवाणु असंतुलन कहां विकसित होता है। लक्षण संतुलन से बाहर होने वाले बैक्टीरिया के प्रकारों के आधार पर भी भिन्न हो सकते हैं। सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

    • सांसों की दुर्गंध
    • पेट की खराबी
    • जी मिचलाना
    • कब्ज
    • दस्त
    • पेशाब करने में कठिनाई
    • योनि या मलाशय में खुजली
    • सूजन
    • छाती में दर्द
    • दाने या लाली
    • थकान
    • सोचने या ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होना
    • चिंता
    • डिप्रेशन

    डिस्बायोसिस को डायग्नोस कैसे किया जाता है? (Dysbiosis diagnosis)

    आपकी मेडिकल हिस्ट्री को देखने और आपके लक्षणों का आकलन करने के बाद, डॉक्टर निम्नलिखित में से एक या कई परीक्षणों का आदेश दे सकता है:

    कार्बनिक अम्ल परीक्षण (Organic Acids test)

    डॉक्टर यूरिन सैम्पल एकत्र करेगा और उसे एक प्रयोगशाला में भेजेगा। लैब टेक्नीशियन कुछ ऐसे एसिड की जांच करेगा जो बैक्टीरिया पैदा कर सकते हैं। यदि ये एसिड का स्तर असामान्य है, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि कुछ बैक्टीरिया संतुलन से बाहर हैं।

    कॉम्प्रेहेनसिव डायजेस्टिव स्टूल एनालिसिस (Comprehensive digestive stool analysis)

    इस टेस्ट के जरिए स्टूल की जांच की जाती है। डॉक्टर एक स्पेशल इक्विपमेंट देता है जिसमें स्टूल को कलेक्ट किया जाता है। इसके बाद इसे लैब में टेस्टिंग के लिए दिया जाता है। लैब टेक्नीशियन स्टूल का परीक्षण करके देखेंगे कि कौन से बैक्टीरिया, यीस्ट या कवक मौजूद हैं। टेस्ट के रिजल्ट के जरिए डॉक्टर असंतुलन या अतिवृद्धि होने के बारे में पता कर सकते हैं।

    और पढ़ें: क्या गट बैक्टीरिया से बढ़ सकती है हायपरटेंशन की परेशानी?

    हायड्रोजन ब्रीथ टेस्ट (Hydrogen breath test)

    आपका डॉक्टर शुगर सॉल्यूशन पीने और एक विशेष गुब्बारे में सांस लेने के लिए कहेगा। फिर गुब्बारे में व्यक्ति द्वारा छोड़ी गई हवा का बैक्टीरिया द्वारा उत्पादित गैसों के लिए परीक्षण किया जा सकता है। बहुत अधिक या बहुत कम कुछ गैसें जीवाणु असंतुलन का संकेत दे सकती हैं। यह परीक्षण अक्सर छोटी आंत में जीवाणु अतिवृद्धि (small intestinal bacterial overgrowth) के परीक्षण के लिए किया जाता है।

    डिस्बायोसिस का इलाज कैसे किया जाता है? (Dysbiosis treatment)

    अगर कोई दवा डिस्बायोसिस का कारण बन रही है तो डॉक्टर उस दवा को बंद करने की सलाह देंगे। बैक्टीरिया के बैलेंस को ठीक करने के लिए डॉक्टर कुछ दवाएं लिख सकते हैं। जिसमें निम्न शामिल हैं।

    • सिप्रोफ्लोक्सासिन (Ciprofloxacin) एक एंटीबायोटिक जो डिस्बायोसिस के कारण होने वाले आंत के संक्रमण का इलाज करती है।
    • रिफक्सिमिन (Rifaximin) एक एंटीबायोटिक है जो इर्रिटेबल बॉवेल सिंड्रोम (IBS) के लक्षणों का इलाज करती है जो डिस्बायोसिस से जुड़ी एक सामान्य स्थिति है। ध्यान रखें किसी भी दवा का उपयोग डॉक्टर की सलाह के बिना ना करें।

    क्या डिस्बायोसिस कुछ बीमारियों के लिए रिस्क फैक्टर बन सकता है?

    डिस्बायोसिस को कुछ बीमारियों और हेल्थ कंडिशन के साथ जोड़ा गया है, जिनमें शामिल हैं:

    • आईबीएस IBS
    • आंत के रोग, जैसे कोलाइटिस
    • कैंडिडा, एक प्रकार का यीस्ट इंफेक्शन
    • सीलिएक रोग
    • लीकी गट सिंड्रोम
    • डायबिटीज (Diabetes)
    • मोटापा (Obesity)
    • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS)
    • त्वचा की स्थिति, जैसे एक्जिमा
    • लिवर डिजीज (Liver disease)
    • हार्ट डिजीज या हार्ट फेलियर (Heart disease or Heart failure)
    • देर से शुरू होने वाला मनोभ्रंश (Late-onset dementia)

    और पढ़ें: गट का हमारे शरीर में क्या होता है अहम रोल, जानिए इस बारे में विस्तार से!

    क्या आहार परिवर्तन आवश्यक है?

    यदि डायट आपके बैक्टीरियल इंबैलेंस की जड़ में है, तो डॉक्टर न्यूट्रिशन प्लान बनाने में मदद करेगा। वह ये सुनिश्चित करने में मदद कर सकता है कि मरीज को बैक्टीरिया को संतुलन में रखने के लिए पर्याप्त पोषक तत्व मिल रहे हैं या नहीं जिनमें शामिल हैं:

    • बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन, जैसे बी -6 और बी -12
    • कैल्शियम
    • मैग्नीशियम
    • बीटा कैरोटीन
    • जस्ता

    डॉक्टर आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ खाने से रोकने के लिए भी कह सकता है जिनमें हानिकारक रसायन होते हैं या कुछ पोषक तत्व बहुत अधिक होते हैं। जिन खाद्य पदार्थों को आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं उनमें शामिल हैं:

    जिन खाद्य पदार्थों को आपको खाना बंद करने की आवश्यकता हो सकती है उनमें शामिल हैं:

    • प्रोसेस्ड मीट
    • मकई, जई, या ब्रेड में होने वाले कार्बोहाइड्रेट से
    • कुछ फल, जैसे केला, सेब और अंगूर
    • डेयरी, दही, दूध और पनीर
    • चीनी में उच्च खाद्य पदार्थ, जैसे कि कॉर्न सिरप और पार्किंसंस डिजीज (Parkinson’s disease)

    प्री- और प्रोबायोटिक्स लेने से पेट के बैक्टीरिया को संतुलन में रखने में मदद मिल सकती है। इन सप्लिमेंट्स में विशिष्ट बैक्टीरिया की प्रजातियां होती हैं जिन्हें आप खा सकते हैं, पी सकते हैं या दवाओं के रूप में ले सकते हैं। अपने माइक्रोबायोटा को संतुलित रखने के लिए आपको किस प्रकार के प्री या प्रोबायोटिक्स की आवश्यकता होगी, इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

    कुछ शोध से पता चलता है कि योग और ध्यान आपके शरीर को पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद कर सकते हैं। वे आपके मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह को भी बढ़ा सकते हैं और आपकी आंत में वापस जा सकते हैं। यह डिस्बायोसिस के कुछ लक्षणों को कम कर सकता है।

    डिस्बायोसिस से बचने के टिप्स (Tips for preventing Dysbiosis)

    जीवनशैली में कुछ बदलाव आपके जीवाणु संतुलन को बनाए रखने में मदद कर सकते हैं और अतिवृद्धि को होने से रोक सकते हैं।

    • केवल अपने डॉक्टर की देखरेख में एंटीबायोटिक्स लें।
    • अपने गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल बैक्टीरिया को नियंत्रित करने में मदद करने के लिए अपने दैनिक दिनचर्या में प्री- या प्रोबायोटिक सप्लिमेंट के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।
    • कम शराब पिएं या पूरी तरह से इससे बचें, क्योंकि यह आपके पेट में बैक्टीरिया के संतुलन को बाधित कर सकता है।
    • अपने मुंह में बैक्टीरिया को नियंत्रण से बाहर होने से रोकने के लिए हर दिन ब्रश और फ्लॉस करें।
    • हर बार जब आप यौन संबंध बनाते हैं तो कंडोम का प्रयोग करें ताकि यौन संचारित बैक्टीरिया और संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।

    और पढ़ें: गट से जुड़ी हैं ऐसी-ऐसी बीमारियां, जो आपके दरवाजे पर कभी भी दस्तक दे सकती है!

    उम्मीद करते हैं कि आपको डिस्बायोसिस (Dysbiosis) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    health-tool-icon

    बीएमआर कैलक्युलेटर

    अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

    पुरुष

    महिला

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Dysbiosis of the gut microbiota in disease/
    https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4315779/ Accessed on 11/05/2022

    What Your Gut Bacteria Say About You/
    https://www.webmd.com/digestive-disorders/what-your-gut-bacteria-say-your-health/Accessed on 11/05/2022

    The Microbiome/
    https://www.hsph.harvard.edu/nutritionsource/microbiome/Accessed on 11/05/2022

    Probiotics/ https://my.clevelandclinic.org/health/articles/14598-probiotics/Accessed on 11/05/2022

    The Gut: Where Bacteria and Immune System Meet/
    https://www.hopkinsmedicine.org/research/advancements-in-research/fundamentals/in-depth/the-gut-where-bacteria-and-immune-system-meet

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 13/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: