प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग क्या है?

    प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग क्या है?

    प्रेग्नेंसी के दौरान क्या सबकोरियोनिक ब्लीडिंग (Subchorionic bleeding during pregnancy) के बारे में आपको पता है क्या? अधिकतर लोगाें को इसके बारे में नहीं पता होता है, सबकोरियोनिक ब्लीडिंग वह है, जब गर्भावस्था के दौरान रक्त गर्भाशय और गर्भकालीन झिल्ली के बीच एकत्र हो जाता है। ऐसा प्रेग्नेंसी के पहले और दूसरे तिमाही के दौरान रक्तस्राव का लगातार कारण है। लगभग 64,000 गर्भवती महिलाओं के एक अध्ययन में पाया गया कि 1.7 प्रतिशत ने एक सबकोरियोनिक रक्तस्राव का अनुभव किया। जबकि अधिकांश SCH खतरनाक नहीं हैं, कुछ अध्ययनों में कुछ जटिलताओं के संबंध पाए गए हैं। मार्च ऑफ डाइम्स के अनुसार, कई महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान योनि से हल्का रक्तस्राव या स्पॉटिंग का अनुभव होता है। स्पॉटिंग के लिए पैड या टैम्पोन की आवश्यकता नहीं होती है, और यह गर्भधारण और डिलिवरी के बीच किसी भी समय हो सकता है। तो आइए जानते हैं कि प्रेग्नेंसी के दौरान क्या सबकोरियोनिक ब्लीडिंग (what is subchorionic bleeding during pregnancy) क्या है?

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान ओवेरियन सिस्ट्स नहीं बनती परेशानी का कारण, इस ट्राइमेस्टर तक अपने आप हो सकती हैं ठीक

    प्रेग्नेंसी के दौरान क्या सबकोरियोनिक ब्लीडिंग (Subchorionic bleeding during pregnancy) क्या है‌?

    सबकोरियोनिक हेमेटोमा, जिसे एक सबकोरियोनिक हेमेटोमा या बस SCH के रूप में भी जाना जाता है, जब रक्त प्लेसेंटा और गर्भाशय के बीच इकट्ठा हो जाता है। डॉक्टर बस इसे रक्त का थक्का कहेंगे। ये थक्के गंभीर हो सकते हैं क्योंकि वे बड़े हो सकते हैं, और इस तरह नाल को गर्भाशय की दीवार से अलग करने का कारण बन सकता है। यदि थक्का या रक्तस्राव बहुत बड़ा हो जाता है, तो शरीर द्वारा पुन: अवशोषित नहीं किया जा सकता है, या एक ऐसे स्थान में विकसित होता है, जो आगे जाकर क्लॉटेज का गंभीर रूप बन सकता है। SCH प्रारंभिक गर्भावस्था के दौरान योनि से रक्तस्राव का एक कारण भी हाे सकता है। प्रारंभिक गर्भावस्था में ब्लीडिंग या स्पॉटिंग के कुछ अन्य कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:

    प्रारंभिक गर्भावस्था में रक्तस्राव के अन्य गंभीर कारण हैं:

    • एप्टॉमिक प्रेग्नेंसी, जो तब होती है जब एक निषेचित अंडा गर्भ के अलावा कहीं और प्रत्यारोपित होता है

    गर्भ और गर्भकालीन झिल्लियों के बीच रक्त के एकत्रित होने के परिणामस्वरूप रक्त के थक्के बन जाते हैं, जिन्हें सबकोरियोनिक हेमटॉमस कहा जाता है, जो छोटे या बड़े, दोनों प्रकार के हो सकते हैं और योनि से रक्तस्राव हो सकता है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में भ्रूण के लिए जगह बनाने के लिए शरीर के अंगों में होते हैं ये बदलाव

    यह अन्य प्रकार के रक्तस्राव से कैसे भिन्न है (How is it different from other types of bleeding?) ?

    सबकोरियोनिक हेमेटोमास प्रेग्नेंसी में रक्तस्राव का सिर्फ एक कारण है। इसके सटीक कारणों के बारे में पता नहीं है, जो स्पॉटिंग के समान नहीं हैं। अमेरिकन कॉलेज ऑफ ओब्स्टेट्रिशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट्स के अनुसार, पहली तिमाही के दौरान लगभग 15 से 25 प्रतिशत महिलाओं में स्पॉटिंग होती है। वैसे तो प्रेग्नेंसी के किसी भी स्टेज में स्पॉटिंग हो सकती है, लेकिन यह पहली तिमाही में होना सबसे आम है। स्पॉटिंग के कारणों में शामिल हैं:

    • गर्भाशय का फैलने का
    • संभोग के दौरान
    • हाॅर्मोनल के स्तर में वृद्धि
    • सर्वाइकल पॉलीप्स सहित सर्वाइकल में बदलाव
    • वजायनल टेस्ट के दौरान

    इसकी स्पॉटिंग बिल्कुल वैसी ही है, जैसा कि खून के कुछ धब्बे। हालांकि किसी भी प्रकार के स्पॉटिंग होने पर आपको अपने डॉक्टर को बताना जरूरी है, लेकिन लक्षण योनि से रक्तस्रावसे बहुत अलग हैं। डॉक्टर आपको इसकी जांच के लिए अल्ट्रासाउंड की सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा, हैवी ब्लीडिंग भी इसका संकेत हो सकता है:

    प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग के लक्षण (Symptoms of subchorionic bleeding during pregnancy)

    योनि से रक्तस्राव के साथ-साथ SCH के अन्य लक्षणों में पैल्विक में दर्द और ऐंठन शामिल हो सकते हैं। कुछ महिलाओं को किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं होगा, और केवल यह पता चलेगा कि उन्हें नियमित अल्ट्रासाउंड परीक्षा के दौरान एससीएच है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में क्रैम्पिंग: इन स्थितियों में तुरंत मेडिकल हेल्प लेना है आवश्यक!

    प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग के जोखिम (Risks of subchorionic bleeding during pregnancy)

    उन गर्भवती महिलाओं की जांच बहुत जरूरी है, जो कि योनि से रक्तस्राव का अनुभव करती हैं। ब्लीडिंग आमतौर पर किसी भी समस्या का कारण नहीं बनता है। हालांकि, SCH गर्भावस्था की जटिलताओं का कारण बन सकता है। उदाहरण के लिए, 2012 की समीक्षा में SCH और समय से पहले जन्म देने और गर्भावस्था के नुकसान के उच्च जोखिम के बीच संभावित संबंध पाए गए। हालांकि, 2013 के एक अध्ययन में पाया गया कि SCH ने गर्भावस्था के नुकसान के जोखिम बढ़ा हुआ नहीं पाया गया। एक और संभावित जटिलता प्लेसेंटल एब्डॉमिनल है। यह एक गंभीर जटिलता है जो तब होती है जब प्लेसेंटा गर्भ के अस्तर से अलग हो जाता है। प्लेसेंटल एब्डॉमिनल का मुख्य लक्षण वजायनल ब्लीडिंग है, लेकिन एक गर्भवती महिला को भी असुविधा और कोमलता महसूस हो सकती है, और पेट या पीठ में दर्द जो अचानक आता है और दूर नहीं होता है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में एंटीरियर प्‍लेसेंटा से क्या बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है?

    प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग का निदान (Diagnosis of subchorionic bleeding during pregnancy)

    गर्भावस्था के दौरान जो महिलाएं वजायनल ब्लीडिंग का अनुभव करती है, उन्हें डॉक्टर से बात करनी चाहिए। ब्लीडिंग के कारण का निदान करने के लिए, एक डॉक्टर आमतौर पर एक शारीरिक परीक्षण करेगें और रक्त परीक्षण की सलाह देंगे। इसके लिए डॉक्टर अल्ट्रासाउंड परीक्षा का सुझाव भी दे सकते हैं। ए

    र पढ़ें: प्रेग्नेंसी में गैस और ब्लोटिंग की समस्या में ये मेडिसिंस आ सकती हैं काम?

    प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग का इलाज (Treatment of subchorionic bleeding during pregnancy)

    ज्यादातर मामलों में, SCH को उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। अधिकांश डॉक्टर सलाह देंगे कि महिला कुछ गतिविधियों को प्रतिबंधित करे, जैसे कि संभोग, और भरपूर आराम करें। इसके अलावा, डॉक्टर SCH वाली महिलाओं की निगरानी तब तक करेंगे जब तक रक्तस्राव बंद नहीं हो जाता, या SCH ठीक नहीं हो जाता।हालांकि पहली तिमाही में सबकोरियोनिक ब्लीडिंग आम है, फिर भी गर्भावस्था में ब्लीडिंग होने पर सही निदान पाने के लिए डॉक्टर से बात करना सबसे अच्छा है।

    और पढ़ें: प्रेग्नेंसी में आयोडीन का सेवन है फायदेमंद, लेकिन इसे सही मात्रा में लेना है आवश्यक!

    प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग के बारे में आपने जाना यहां। प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली किसी भी प्रकार की ब्लीडिंग को अनदेखा नहीं करना चाहिए। नहीं तो इससे कई तरह की जटिलताएं बढ़ सकती हैं। प्रेग्नेंसी में डाॅक्टर की निगरानी में रहना और उनके बताए गए नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है। अपनी डायट और एक्सरसाइज का भी ध्यान रखें। लेकिन ध्यान रखें कि कोई भी एक्सरसाइज डॉक्टर के सलाह के बिना न करें। इससे मां और शिशु दोनों को ही खतरा हाे सकता है। इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान सबकोरियोनिक ब्लीडिंग के बारे में अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/01/2022 को
    और Hello Swasthya Medical Panel द्वारा फैक्ट चेक्ड