आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Hernia After C-Section: जानिए सी-सेक्शन के बाद हर्निया की समस्या क्यों हो सकती है!

    Hernia After C-Section: जानिए सी-सेक्शन के बाद हर्निया की समस्या क्यों हो सकती है!

    सी-सेक्शन (C-Section) यानी शिशु का जन्म सिजेरियन किया गया हो और सी-सेक्शन के बाद हर्निया (Hernia After C-Section) की समस्या होना क्या सामान्य है? आज इस आर्टिकल में सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया के बारे में समझने की कोशिश करेंगे, लेकिन सबसे पहले सी-सेक्शन के आंकड़ों पर गौर कर करलेते हैं। नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार भारत में साल 2005 में सी-सेक्शन से 8 प्रतिशत शिशुओं का जन्म हुआ, लेकिन साल 2016 में सी-सेक्शन के केसेस 17 प्रतिशत हो गयें। वहीं वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (World Health Organisation) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार साल 2021 में 21.5 प्रतिशत बच्चों का जन्म सिजेरियन हुआ। ये हैं भारत के सिजेरियन डिलिवरी (Cesarean delivery) के आंकड़ें। चलिए अब सी-सेक्शन के बाद हर्निया के कारण और इससे जुड़े कई सवाल।

    • सी-सेक्शन और हर्निया क्या है?
    • सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद हर्निया होने की संभावना कितनी होती है?
    • महिलाओं में हर्निया के कारण क्या हो सकते हैं?
    • सी-सेक्शन के बाद हर्निया के लक्षण क्या हैं?
    • सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया का निदान कैसे किया जाता है?
    • सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया का इलाज कैसे किया जाता है?
    • सी-सेक्शन के बाद हर्निया की वजह से होने वाले कॉम्प्लिकेशन क्या हैं?

    चलिए अब सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया (Hernia After C-Section) से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    और पढ़ें : Urine Tests During Pregnancy: प्रेग्नेंसी में यूरिन टेस्ट से घबराएं नहीं, क्योंकि यह गर्भवती महिला एवं गर्भ में पल रहे शिशु दोनों के लिए है जरूरी!

    सी-सेक्शन और हर्निया क्या है? (About C-section and Hernia)

    सी-सेक्शन (C-section)- सिजेरियन डिलीवरी (Cesarean delivery) को शार्ट टर्म में सी-सेक्शन (C-section) कहा जाता है। सी-सेक्शन के दौरान गर्भवती महिला के पेट और गर्भाशय को काट कर बच्चे गर्भ से बाहर निकाला जाता है।

    हर्निया (Hernia)- शारीरिक हिस्से जब जरूरत से ज्यादा विकसित होने लगते हैं, तो हर्निया की समस्या दस्तक दे सकती है। हर्निया की समस्या शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकती है, लेकिन इसकी संभावना सबसे ज्यादा पेट पर होती है। दरअसल जब पेट की मांसपेशियां कमजोर पड़ने लगती हैं, तो धीरे-धीरे हर्निया की समस्या दस्तक देने लगती है।

    और पढ़ें : Prenatal Massage: जानिए प्रीनेटल मसाज प्रेग्नेंसी के किस ट्राइमेस्टर के बाद करना चाहिए!

    सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद हर्निया होने की संभावना कितनी होती है? (Hernias common after a C-section)

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया (Hernia After C-Section)

    सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद हर्निया की समस्या रेयर होती है, लेकिन इससे नाकारा भी नहीं जा सकता कि सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया की समस्या हो ही ना, क्योंकि नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार 0.2 प्रतिशत महिलाओं में सी-सेक्शन डिलिवरी के बाद हर्निया (Hernia due to C-section) की समस्या देखी जाती है।

    और पढ़ें : Breast changes after Breastfeeding: ब्रेस्टफीडिंग के बाद ब्रेस्ट में बदलाव के कारण और क्या है इससे बचने के उपाय?

    महिलाओं में हर्निया के कारण क्या हो सकते हैं? (Cause of Hernia in women)

    हर्निया की समस्या महिलाओं में कई कारणों से शुरू हो सकती है। जैसे:

    चलिए अब सी-सेक्शन के बाद हर्निया को कैसे समझें, जिससे इस परेशानी से बचने में मदद मिल सके।

    और पढ़ें : hCG Levels and Twins: जानिए hCG लेवल और ट्विंस प्रेग्नेंसी से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया के लक्षण क्या हैं? (Symptoms of Hernia After C-Section)

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया (Hernia After C-Section)

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया के लक्षण इस प्रकार हैं-

    • पेट दर्द महसूस होना। अगर हर्निया का आकार बड़ा है, तो ऐसे में पेट दर्द की समस्या अत्यधिक तेज हो सकती है।
    • सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया की समस्या होने पर अगर आप नोटिस करें, तो पेट पर उभार नजर आता है।
    • फिजिकल एक्टिविटी (Physical activity) करने में परेशानी महसूस होना।
    • खांसने के वक्त दर्द (Pain) महसूस होना।
    • जी मिचलाना (Nausea) या उल्टी (Vomiting) होना।
    • कब्ज (Constipation) की समस्या होना।

    ऐसे लक्षण सी-सेक्शन के बाद हर्निया (Hernia due to C-Section) की ओर इशारा करते हैं। इसलिए अगर ऊपर बताये लक्षणों को महसूस करने पर डॉक्टर से कंसल्ट करना जरूरी है।

    और पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान एमनियॉटिक फ्लूइड का रिसाव: समझें कारण, लक्षण और इलाज

    सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया का निदान कैसे किया जाता है? (Diagnosis of Hernia After C-Section)

    सिजेरियन डिलिवरी के कारण हुई सर्जरी को ठीक होने में वक्त लगता है। दरअसल डिलिवरी के बाद घाव को भरने या गर्भाशय को ठीक होने में समय ज्यादा लगने की वजह से एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) और हेमेटोमा (Hematoma) जैसे बीमारियों का इलाज करना कठिन होता है। इसलिए ऐसी स्थिति में डॉक्टर पेशेंट को फिजिकल मॉनिटर करने के बाद सीटी स्कैन (CT Scan) एवं अल्ट्रासाउंड (Ultrasound) करवाने की सलाह देते हैं। इन टेस्ट रिपोर्ट्स से हर्निया के मुख्य कारणों की जानकारी मिल जाती है, जिससे इलाज करने में मदद मिलती है।

    और पढ़ें : Shoulder Dystocia: प्रेग्नेंसी के दौरान शोल्डर डिस्टोशिया क्यों बन जाती है परेशानी का कारण?

    सिजेरियन डिलिवरी के बाद हर्निया का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment of Hernia After C-Section)

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया के इलाज का बेहतर तरीका है सर्जरी, लेकिन सर्जरी सी-सेक्शन के कारण सर्जरी करना कठिन होता है। इसलिए ऐसी स्थिति में डॉक्टर पेशेंट को एक बेल्ट बांधने की सलाह देते हैं, जिससे दर्द कम महसूस हो। वहीं अगर हर्निया का साइज ज्यादा बड़ा हो चूका है, तो ऐसे में पेशेंट की हेल्थ कंडिशन (Health condition) को ध्यान में रखते हुए सर्जरी (Surgery) या फिर लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy) का विकल्प चुना जा सकता है।

    नोट: अगर हर्निया का आकार छोटा है, तो ऐसी स्थिति में सर्जरी की जरूरत नहीं पड़ती है, लेकिन सिजेरियन डिलिवरी (Cesarean delivery) के बाद हर्निया की समस्या या इसके लक्षण महसूस हो रहें हैं और अगर इसका इलाज ना करवाया जाए तो परेशानी बढ़ सकती है और बीमारी भी गंभीर रूप ले सकती है।

    और पढ़ें : Stretch Marks Cream After Delivery : डिलिवरी के बाद है स्ट्रेच मार्क्स की समस्या, तो अपनाएं ये क्रीम!

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया की वजह से होने वाले कॉम्प्लिकेशन क्या हैं? (Complication due to Hernia and C-Section)

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया की वजह से निम्नलिखित शारीरिक परेशानियों का खतरा बढ़ सकता है। जैसे:

    • एब्डोमिनल कैविटी (Abdominal cavity) में फ्लूइड भरना।
    • बॉडी में इंटरनल ब्लीडिंग (Internal bleeding) की समस्या होना।
    • स्टूल (Stool) पास करने में तकलीफ होना।
    • आंतों (Intestine) के ऊपरी लेयर में छिद्र होना।

    सी-सेक्शन के बाद हर्निया की समस्या ऐसी परेशानियों को दावत दे सकती हैं। इसलिए हर्निया के लक्षण नजर आने पर ही डॉक्टर से कंसल्ट करें।

    और पढ़ें : Postpartum Fitness: नई मां के लिए पोस्टपार्टम फिटनेस टिप्स फोलो करना है जरूरी!

    सर्जरी के बाद किन-किन बातों का ध्यान रखें? (Tips to follow after surgery)

    हर्निया की सर्जरी के बाद निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें। जैसे:

    • तेजी से नहीं खांसें।
    • झटके या तेजी से कोई भी काम ना करें।
    • दवाएं समय पर लेते रहें और अपनी इच्छा के अनुसार दवाओं का सेवन बंद ना करें।
    • दवाओं का सेवन समय पर करें।
    • स्मोकिंग या एल्कोहॉल का सेवन ना करें।
    • समय -समय पर डॉक्टर से मिलकर जांच करवाते रहें।

    हर्निया का इलाज अगर सर्जरी के माध्यम से किया जाए, तो इससे सर्जरी के दिन या उसके एक से दो दिनों के बाद ही अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है। अस्पताल से डिस्चार्ज के दौरान पेशेंट के हेल्थ कंडिशन को ध्यान में रखकर ही छुट्टी दी जाती है। डॉक्टर इस दौरान पेशेंट को मेडिकेशन एवं अन्य टिप्स फॉलो करने की सलाह देते हैं। इसलिए जो भी सलाह डॉक्टर द्वारा दिया जाए उसे फॉलो करें।

    अगर आप प्रेग्नेंसी (Pregnancy), सी-सेक्शन (C-section) या सी-सेक्शन के बाद हर्निया (Hernia After C-Section) से जुड़े किसी तरह के सवाल का जवाब जानना चाहते हैं, तो आप हमें फेसबुक पेज पर कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। हमारे हेल्थ एक्सपर्ट आपके सवालों का जवाब जल्द से जल्द देने की पूरी कोशिश करेंगे।

    प्रेग्नेंसी के दौरान गर्भवती महिला अपना ख्याल तो रखती हैं, लेकिन प्रेग्नेंसी के बाद भी गर्भवती महिला को अपने विशेष ख्याल रखना चाहिए। इसलिए नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक करें और एक्पर्ट से जानें न्यू मदर के लिए खास टिप्स यहां।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

    ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

    सायकल की लेंथ

    (दिन)

    28

    ऑब्जेक्टिव्स

    (दिन)

    7

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Incidence of incisional hernia after cesarean delivery/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4182598/Accessed on 29/04/2022

    ACOG releases new guidance aimed at making VBAC available to more women/https://www.acog.org/About-ACOG/News-Room/News-Releases/2017/ACOG-Releases-New-Guidance-Aimed-at-Making-VBAC-Available-to-More-Women/Accessed on 29/04/2022

    Assessment of Variation in Cesarean Delivery Rates Between Public and Private Health Facilities in India From 2005 to 2016/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7455857/#:~:text=The%20rates%20of%20cesarean%20deliveries,all%20deliveries%20in%20any%20country/Accessed on 29/04/2022

    Hernia Surgical Mesh Implants/https://www.fda.gov/medical-devices/implants-and-prosthetics/hernia-surgical-mesh-implants/Accessed on 29/04/2022

    Ventral hernia/https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/16531-ventral-hernia/Accessed on 29/04/2022

     

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 29/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: