home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

मां के साथ कैसे बनाएं एक मजबूत रिश्ता, जानिए एक्सपर्ट टिप्स

मां के साथ कैसे बनाएं एक मजबूत रिश्ता, जानिए एक्सपर्ट टिप्स

मां के रिश्ते से बड़ा या मजबूत कोई दूसरा रिश्ता नहीं है। मां का रिश्ता क्या है? इसकी परिभाषा देने के लिए कोई भी जुबान इस काबिल नहीं मानी जा सकती है। न ही मां का रिश्ता (Mother’s relation) किसी दूसरे रिश्ते से आंका जा सकता है। हालांकि, घर में हर सदस्यों के साथ रिश्ते बनते-बिगड़े भी रहते हैं। इसी बीच मां का रिश्ता भी प्रभावित होता है।

टीनएज के बच्चों में इसकी समस्या सबसे ज्यादा देखी जाती है। उनका कहना होता है कि वो अपनी मां के उतना करीब नहीं है, जितना घर के अन्य सदस्यों के करीब हैं। वो कैसे अपनी मां का रिश्ता (Mother’s relation) खुद के साथ मजबूत बना सकते हैं, इसके कई तरीके हो सकते हैं। वो चाहें तो घर के किसी बड़े सदस्य से इसके बारे में बात कर सकते हैं। फिर किसी एक्पर्ट की भी मदद ले सकते हैं।

साथ ही हैलो स्वास्थ्य के बताए गए बिंदुओं को फॉलों करके भी बच्चे और मां का रिश्ता मजबूत (Mother’s bonding) बन सकता है।

और पढ़ें : ‘पा’ में अमिताभ वाली प्रोजेरिया बीमारी से पीड़ित हैं ये भाई-बहन

मां के साथ ऐसे बनाएं अच्छी बॉन्डिंग

1.मां ही होती है पहली दोस्त

जब हम छोटे थे, तो हर बात मां के साथ सबसे पहले शेयर किया करते थे। लेकिन, जैसे-जैसे बड़े होते हैं हमारी प्राइवेसी बढ़ने लगती है। हम मां से छोटी-छोटी बातें भी छिपाने लगते हैं। अपनी परेशानियां मां को बताने की जगह दोस्तों (Friends) के साथ शेयर करना शुरू कर देते हैं, जिससे आपकी मां को भी तकलीफ होती है। इसलिए, अपनी मां से पहले की ही तरह अपनी परेशानियां शेयर करें। हालांकि, हर परेशानी को बताने का सही समय क्या हो सकता है, इसका ख्याल रखें।

2.मां के साथ अपनी जरूरतों का रखें ख्याल

आपको किस तरह के कपड़े पहनना पसंद है या फेवरेट फूड (Food) क्या है इसके बारे में अपनी मां तो बताएं, ताकि वो जबरन आप पर अपनी पंसद की जरूरते न थोपें। अगर पहले ही से ही आप उन्हें अपनी पसंद और नापंसद (Choice) बता देंगे, तो वो भी इसका ख्याल रखना शुरू कर सकती हैं।

और पढ़ें : अपने सीनियर के साथ में कैसा रिलेशन रखें?

3.मां को बदलें नहीं

आपकी मां घर में सादगी के साथ रहती हैं। हो सकता है वो बाहर मिलने वाली दूसरी महिलाओं की तरह सजती-संवरती नहीं होंगी। इसके लिए आपको शर्मिंदा नहीं होना चाहिए, क्योंकि मां के ऊपर बहुत जिम्मेदारियां रहती हैं, जिसे पूरा करने के लिए वो खुद का ख्याल रखना भूल जाती हैं। तो जब भी आप अपनी मां के साथ कहीं बाहर घूमने या दोस्तों से मिलने जाएं, तो उन्हें सजाने में मदद कर सकते हैं। आपकी यह पहल उन्हें भी अच्छी लगेगी और आपको भी मां का नया लुक जरूर पसंद आएगा।

4.स्पेशल डे का रखें ध्यान

जिस तरह आपको अपना जन्मदिन मनाना पसंद हो सकता है। वैसे ही मां को भी अच्छा लगेगा जब आप उनके जीवन के स्पेशल दिनों को याद रख कर उन्हें सेलिब्रेट करेंगे। मां को खुश करने के लिए एक फूल भी बहुत हो सकता है। इसके लिए किसी महंगे तोहफे के बारे में आपको सोचना भी नहीं होगा।

और पढ़ें : ब्रेकअप: जानें कब किस रिश्ते को कह देना चाहिए अलविदा!

5.दोस्त की तरह मां से बात करें

मां का रिश्ता (Mother’s relation) भी दोस्त जैसा है। जैसे आप अपने दोस्तों के पसंद-नापसंद के बारे में उनसे पूछती हैं। उसी तरह अपनी मां से भी इस बारे में बात करें। हो सकता है पहली या दूसरी बार वो आपके इन सवालों को टाल दें लेकिन, बहुत जल्द ही वो आपके सारे सवालों का जवाब देना शुरू कर सकती हैं। ऐसा करने से बच्चे और मां का रिश्ता मजबूत होता है।

6.मां को समय दें

अगर आप पूर हफ्ते बहुत ज्यादा व्यस्त रहते हैं, तो किसी छुट्टी वाले दिन उनके साथ समय बिताएं। मां का रिश्ता (Mother’s relation) मजबूत बन सके, इसके लिए उनके साथ बाहर घूमने जाएं। डिनर (Dinner), लंच (Lunch) या मूवी की योजना भी बना सकते हैं।

7.मां की गलतियों को नजरअंदाज करें

आपकी ही तरह आपकी मां भी गलतियां कर सकती हैं, जो बहुत ही सामान्य है। अब उनकी गलती को बहस बनाने से आपको बचना चाहिए। बार-बार उन्हें उनकी गलती का एहसास न कराएं, क्योंकि वो आपसे रिश्ते में बड़ी हैं। साथ ही, अपनी गलतियों का एहसास भी उन्हें सबसे पहले हो जाता है।

और पढ़ें : इरिटेबल मेल सिंड्रोम- कहीं आपके रिश्ते बिगड़ने की वजह तो नहीं

8.कुछ मां की पसंद का करें

मां का रिश्ता मजबूत बनाना है, तो कुछ उनकी पसंद का ट्राई कर सकते हैं। जैसे अगर वो किचन में खाना बना रहीं है, तो उनसे खाना बनाना सीखना शुरू कर सकते हैं। अगर उन्हें आपके छोटे-छोटे कपड़े या स्टाइलिश कपड़े पसंद नहीं आते, तो जिस दिन घर पर रहें उनकी पसंद के कपड़े भी पहन सकते हैं।

9.गप्पेबाजी करें

जिस तरह दिन भर आप थक जाते हैं, उसकी तरह मां भी दिनभर घर के कामों से थक जाती हैं। लेकिन, फिर भी जब आप घर आते हैं, तो वह आपकी जरूरतों का ख्याल रखती हैं। इस दौरान, आप उनके साथ कुछ गप्पेबाजी भी कर सकते हैं। दिन भर में आपने या किसी और ने क्या मजाकिया किया है, उन्हें इसके बारे में बता सकते हैं। इससे दोनों का स्ट्रेस (Stress) थोड़ा कम हो सकता है।

और पढ़ें : No Contact rule : उबरना है ब्रेकअप से तो ये नियम आ सकता है आपके काम

दिल्ली की प्रीतो से जानिए उनकी मां का रिश्ता

दिल्ली की प्रीतो दो बहने हैं। वो छोटी बहन है। वो कभी भी अपनी मां के बहुत करीब नहीं थी। लेकिन, बड़ी बहन की शादी (Marriage) के बाद अब वो अपनी मां का रिश्ता (Mother’s relation) बहुत ही करीब से महसूस कर सकती है। उनका कहना है कि अब वो अपनी मां के सबसे ज्यादा करीब हैं। वो छोटी-छोटी बातों पर अपनी मां से बहस भी करती हैं क्योंकि, उन्हें बहुत अच्छा लगता है अपनी मां से बहस करना। लेकिन, इस दौरान वो पूरा ख्याल रखती हैं कि उनकी कोई बात उनकी मां हर्ट न करें।

इसके अलावा, अगर घर में आप सबसे बड़े बच्चे हैं, तो मां के साथ आपके व्यवहार का प्रभाव आपके छोटे भाई-बहनों पर भी पड़ सकता है। इसलिए, कभी भी छोटे भाई-बहन के सामने मां से किसी भी तरह की बहस न करें। अगर कभी छोटे भाई-बहन बहस करते हैं, तो उन्हें बताएं कि वो ऐसा करके अपनी मां (Mother) का अपमान कर रहें हैं।

उम्मीद है आपको हमारा मां का रिश्ता वाला ये आर्टिकल पसंद आया होगा और आप ज्यादा से ज्यादा लोगों के साथ इस आर्टिकल को शेयर करेंगे। इसके अलावा, इससे संबंधित आपको कुछ और जानना है, तो हमसे जरूर पूछें।

पॉली रिलेशन के बारे में आप कितनी रखते हैं जानकारी? नीचे दिए इस क्विज को खेलिए और पॉली रिलेशन से जुड़ी जानकारी जानिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Bonding With Your Baby/https://kidshealth.org/en/parents/bonding.html/Accessed on 21/07/2021

Tensions in the Parent and Adult Child Relationship: Links to Solidarity and Ambivalence/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC2690709/Accessed on 21/07/2021

Building a Secure Attachment Bond with Your Baby/https://www.helpguide.org/articles/parenting-family/building-a-secure-attachment-bond-with-your-baby.htm/Accessed on 21/07/2021

How Mother-Child Separation Causes Neurobiological Vulnerability Into Adulthood/https://www.psychologicalscience.org/publications/observer/obsonline/how-mother-child-separation-causes-neurobiological-vulnerability-into-adulthood.html/Accessed on 21/07/2021

Mother-baby emotional attachment: Essential for a good start in life/https://www.chrichmond.org/blog/mother-baby-emotional-attachment-essential-for-a-good-start-in-life/Accessed on 21/07/2021

The Bond Between Mother and Daughter: Kathy’s Story/https://www.nfcr.org/blog/the-bond-between-mother-and-daughter-kathys-story/Accessed on 21/07/2021

लेखक की तस्वीर badge
Ankita mishra द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 2 weeks ago को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x