आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) क्या है?

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) क्या है?

    मल्टीपल स्क्लेरोसिस (Multiple sclerosis) एक कंडिशन है जो सेंट्रल नर्वस सिस्टम को प्रभावित करती है। इसके लक्षण नर्व्स को प्रभावित करते हैं और डिससथेसिया (Dysesthesia) या असामान्य सेंसेशन जैसे कि जलन, सुन्नता या खुजली का कारण बन सकते हैं। कुछ लोगों में मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग का कारण बन सकता है। मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) थोड़ी असहजता से लेकर तेज चुभन या पिन चुभने का एहसास दे सकती है। ऐसा थोड़ी देर के लिए महसूस होता है। नॉर्मल खुजली की तरह यह खुजलाने से ठीक नहीं होती। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मल्टीपल स्क्लेरोसिस उन नर्व्स को प्रभावित करता है जो त्वचा के बजाय उस क्षेत्र को नियंत्रित करती हैं जहां खुजली होती है।

    कुछ लोग खुजली करने या कोल्ड कंप्रेस का उपयोग करने पर राहत महसूस करते हैं। मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) पर ओवर द काउंटर रेमेडीज असर नहीं करती हैं क्योंकि इस खुजली का कारण कोई बाहरी एलर्जेन नहीं होता है। कुछ प्रिस्क्रिप्शन मेडिकेशन और लाइफस्टाइल में बदलाव करके एमएस ईचिंग (MS itching) यानी मल्टीपल स्क्लेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) को कंट्रोल किया जा सकता है।

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग के कारण क्या हैं? (What are the causes of multiple sclerosis etching?)

    मल्टीपल स्केलेरोसिस के कारण होने वाली खुजली और सेंसेशन आता और जाता रहता है। यह बॉडी में कहीं भी हो सकती है। इसके बारे में प्रिडिक्ट नहीं किया जा सकता है। यह आमतौर पर लॉन्ग टर्म कॉम्प्लिकेशन का कारण नहीं बनती, लेकिन व्यक्ति को डेली रूटीन को प्रभावित कर सकती है।

    मल्टीपल स्केलेरोसिस के कारण होने वाली खुजली न्यूरोलॉजिकल रिस्पॉन्स की वजह से होती है, इसका मतलब यह है कि यह स्किन पर होने वाले किसी प्रकार के रिस्पॉन्स से नहीं होती। खुजली के साथ एक व्यक्ति निम्न एहसास भी अनुभव कर सकता है।

    • जलन और गर्मी
    • ठंडापन
    • घमौरी
    • सुन्नता
    • झुनझुनी
    • दर्द

    खुजलाने से यह ठीक नहीं होती है ब्लकि इससे सेंसेशन बढ़ सकता है।

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग कब होती है? (When does multiple sclerosis etching happen?)

    एमएस ईचिंग कभी भी और बॉडी में कहीं भी हो सकती है। कई बार ये सिमेट्रिकल होती है। यानी व्यक्ति की बॉडी के दोनों तरफ एक ही एरिया में महसूस कर सकते हैं। कई बार यह एक हिस्से में ही महसूस होती है। इस प्रकार की खुजली के ट्रिगर्स अलग होते हैं जैसे कि हीट। मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) बहुत तेज होती है लेकिन कम समय के लिए होती है। यह कुछ सेकेंड से मिनटों के लिए हो सकती है। यह कितनी देर में वापस आ सकती है यह लोगों पर निर्भर करता है। मल्टीपल स्केलेरोसिस का सामना कर रहे कई लोग इसे रोज अनुभव करते हैं वहीं कई लोगों को इसका अनुभव कभी नहीं होता।

    और पढ़ें: Itching: ईचिंग से छुटकारा पाने के लिए क्या करने चाहिए उपाय?

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग से निजात कैसे पाई जा सकती है? (How to get rid of Multiple Sclerosis Etching?)

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग के हल्के मामलों में डायरेक्ट ट्रीटमेंट की जरूरत नहीं पड़ती है। ये लक्षण परेशान कर सकते हैं, लेकिन जल्दी ठीक हो जाते हैं। लेकिन अगर खुजली बार-बार होती है और लंबे समय तक बनी रहती है तो कुछ उपाए अपनाए जा सकते हैं, जिनके बारे में यहां जानकारी दी जा रही है।

    कोल्ड कंप्रेस (Cold compress) का उपयोग करें

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) से राहत दिलाने में कोल्ड कंप्रेस मदद कर सकता है। कुछ मामलों में दस से पंद्रह मिनट कोल्ड कंप्रेस का उपयोग करने से स्किन अस्थाई रूप से थोड़ी देर के लिए सुन्न पड़ जाती है। जिससे खुजली में राहत मिलती है। आइस पैक्स को लगाने से पहले उसे कपड़े में लपेटना बहुत जरूरी होता है। ऐसा न करने पर व्यक्ति को आइस बर्न या किसी अन्य प्रकार का स्किन इर्रिटेशन हो सकता है।

    दूसरे लक्षणों की जांच करें (Check for other symptoms)

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग के साथ दूसरे लक्षणों की जांच भी करना चाहिए। जिसमें बम्प्स, सूजन और लालिमा शामिल है। अगर ये लक्षण दिखाई देते हैं, तो डॉक्टर से इसके बारे में बात करें ये टॉपिकल एलर्जिक रिएक्शन का कारण बन सकता है। जिसे अलग तरह के इलाज की जरूरत हो सकती है। कोई भी दवा लेने वाले व्यक्ति को यह भी जांच करनी चाहिए कि क्या दवा के दुष्प्रभाव के रूप में खुजली हो सकती है। यदि हां, तो वे अपने डॉक्टर के साथ अन्य विकल्पों पर चर्चा कर सकते हैं।

    और पढ़ें: Eczema On Black Skin: गहरी रंग की स्किन में एक्जिमा की समस्या का क्या होता है असर, जानिए यहां

    स्किन को हेल्दी रखें (Keeps your skin healthy)

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) को कम करने का एक तरीका स्किन को हेल्दी रखना है जो खुजली को बिगाड़ सकता है। कुछ कॉस्मेटिक्स का अधिक मात्रा में उपयोग भी स्किन के रूखेपन और कुछ लोगों में स्किन सेंस्टिविटी का कारण बन सकता है। स्किन को हेल्दी रखने के लिए बहुत गर्म पानी से नहाना, हार्श कैमिकल युक्त सोप या अन्य प्रोडक्ट्स के उपयोग से बचें।

    खूब पानी पिएं और त्वचा को हायड्रेट रखने के लिए मॉश्चराइजर लगाएं। एक फार्मासिस्ट मॉश्चराइजर रिकमंड कर सकता है जिससे त्वचा के सूखने या जलन होने की संभावना कम होती है। एक्जिमा या एलर्जी खुजली के जोखिम को बढ़ाने वाली समस्याओं का इलाज करने से भी मदद मिल सकती है।

    स्ट्रेस मैनेजमेंट (Stress management)

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग

    मल्टीपल स्केलेरोसिस से पीड़ित कुछ लोग स्ट्रेस मैंनेजमेंट के जरिए इस परेशानी से राहत प्राप्त कर सकते हैं। जिसमें योगा, ब्रीदिंग टेक्निक, मेडिटेशन शामिल है। ये लक्षणों को कम करने में मददगार हो सकते हैं।

    और पढ़ें: सोरायसिस से बचाव के लिए इन लक्षणोंं को न करें अनदेखा…

    रेफलेक्सोलॉजी (Reflexology)

    रिफ्लेक्सोलॉजी में पैरों, हाथों और कानों पर विशिष्ट क्षेत्रों पर दबाव डालना शामिल है। कुछ का दावा है कि इन बिंदुओं पर दबाव डालने से शरीर के विभिन्न तंत्र प्रभावित हो सकते हैं। कुछ स्टडीज में ऐसा दावा किया गया है कि रिफ्लेक्सोलॉजी अनियमित नर्व पेन को कम करने में मददगार हो सकता है। मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग को कम करने में भी ये मदद कर सकता है। बता दें कि रिफ्लेक्सोलॉजी एक गैर-पारंपरिक उपचार है जिसे डॉक्टर निर्धारित नहीं करते हैं।

    ट्रिगर से बचना (Avoid the triggers)

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) से बचना चाहते हैं तो ट्रिगर से बचना भी जरूरी है। यदि कुछ विशिष्ट ट्रिगर खुजली और अन्य न्यूरोलॉजिकल संवेदनाओं को बदतर बनाते हुए दिखाई देते हैं, तो उन ट्रिगर से बचने कोशिश करें। जैसे कि एयर कंडीशनिंग का उपयोग या ठंड में गर्म कपड़ों का उपयोग करना।

    मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) के लिए मेडिकल ट्रीटमेंट क्या हो सकते हैं?

    जब घरेलू उपचार काम नहीं करते हैं, तो एक व्यक्ति एमएस खुजली के लिए चिकित्सा उपचार की कोशिश कर सकता है, जैसे:

    दवाएं (Medication)

    नियमित खुजली उपचार, जैसे कोर्टिसोन क्रीम (Cortisone creams) या स्प्रे, का आमतौर पर एमएस खुजली पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। हालांकि, कुछ दवाएं हैं जो मदद कर सकती हैं। कुछ एंटीडिप्रेसेंट, जैसे मोनोअमाइन ऑक्सीडेज इनहिबिटर (Monoamine oxidase inhibitors) और एमिट्रिप्टिलाइन (Elavil)
    एंटीकॉन्वेलेंट्स (Anticonvulsants), जैसे फिनाइटोइन (Dilantin), कार्बामाजेपिन (टेग्रेटोल), और गैबापेंटिन (Neurotonin)
    हाइड्रोक्साइजिन (Hydroxyzine) जो एक एंटीहिस्टामाइन (Antihistamine) है।

    ट्रांसक्यूटेनस इलेक्ट्रिकल नर्व स्टिम्यूलेशन (Transcutaneous electrical nerve stimulation)

    एक ट्रांसक्यूटेनियस इलेक्ट्रिकल नर्व स्टिमुलेशन (TENS) यूनिट को शरीर के कुछ हिस्सों से जोड़कर, एक व्यक्ति उन हिस्सों में इलेक्ट्रिसिटी भेज सकता है। इलेक्ट्रिकल इंप्लस क्षेत्र में नसों को भ्रमित करता है, जिससे राहत मिलती है। एक TENS यूनिट एमएस से न्यूरोपैथिक दर्द को दूर करने में मदद कर सकती है। यह खुजली से राहत दिलाने में भी मदद कर सकता है।

    और पढ़ें: एक्जिमा के लिए ओटीसी क्रीम लेने से पहले 4 बातों को ध्यान रखना क्यों है जरूरी?

    उम्मीद करते हैं कि आपको मल्टीपल स्केलेरोसिस ईचिंग (Multiple sclerosis itching) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 10/06/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: