त्वचा के लिए शहद क्यों फायदेमंद है?

    त्वचा के लिए शहद क्यों फायदेमंद है?

    अक्सर लोग शहद का उपयोग किसी चीज को मीठा करने या शुगर के ऑल्टरनेटिव के तौर पर करते हैं, लेकिन सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाने में ही नहीं त्वचा के लिए शहद बेहद फायदेमंद है। ओवर द काउंटर मिलने वाले कई प्रकार के प्रोडक्ट्स जैसे कि लिप ऑइंटमेंट, सनस्क्रीन और लोशन में शहद की मात्रा पाई जाती है। कई प्रकार एविडेंस इस बात की पुष्टि करते हैं कि कई स्किन कंडिशन्स में शहद उपयोगी है। इस आर्टिकल में त्वचा के लिए शहद (Honey for skin) के फायदे क्या-क्या हैं? इसके बारे में जानकारी दी जा रही है।

    त्वचा के लिए शहद (Honey For Skin)

    त्वचा के लिए शहद (Honey for skin) का उपयोग कोई नया कंसेप्ट नहीं है। लंबे समय से स्किन केयर के घरेलू नुस्खों में शहद का उपयोग किया जा रहा है। यह त्वचा को नमी प्रदान करने में मदद करती है। हालांकि, एनसीबीआई (NCBI) में छपी स्टडी के अनुसार शोधकर्ताओं ने त्वचा के लिए शहद का उपयोग करने के फायदे बताए हैं। इन फायदों में निम्न शामिल हैं।

    माइक्रोबियल और वाउंड हीलिंग प्रॉपर्टीज (Microbial and wound healing properties) के चलते त्वचा के लिए शहद है फायदेमंद

    शहद का एक जो सबसे अच्छा गुण है वह है स्किन इंफेक्शन से लड़ने की क्षमता। एनसीबीआई (NCBI) में छपी एक स्टडी में इस बात का समर्थन किया गया है कि शहद में एंटीमाइक्रोबियल प्रॉपर्टीज पाई जाती हैं। इसके साथ ही इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज भी होती हैं जो घाव को भरने में मदद करती हैं।

    त्वचा के लिए शहद (Honey for skin) इसलिए है अच्छी क्योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं जो त्वचा की स्थिति जैसे सोरायसिस में सहायता कर सकते हैं। रॉ हनी में स्ट्रॉन्ग एंटी इंफ्लामेटरी गुण होते हैं। इसलिए इसे स्किन के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।

    और पढ़ें: Black Skin Care: कैसे की जाती है ब्लैक स्किन की केयर, किन बातों का रखा जाता है ध्यान?

    एंटी एजिंग इफेक्ट्स (Anti aging effects)

    त्वचा के लिए शहद का उपयोग करना इसलिए भी फायदेमंद है क्योंकि यह स्किन के अपीरिएंस को सुधारने में मदद करता है। यह झुर्रियों को कम करने और स्किन को यंग दिखाने में मदद करता है। साथ ही स्किन पर होने वाले इंफेक्शन को कम करने में मदद करती है। इसलिए कई प्रकार की एंटी एजिंग होम रेमेडीज में शहद का यूज किया जाता है।

    स्किन कैंसर (Skin cancer) के इलाज में प्रभावी

    कुछ एविडेंस बताते हैं कि शहद स्किन कैंसर और अन्य कैंसर के इलाज में प्रभावी हो सकती है। एनसीबीआई में छपी कई स्टडी में शहद का कैंसर कोशिकाओं पर पॉजिटिव असर दिखाई दिया है। अध्ययन ज्यादातर शरीर में कैंसर कोशिकाओं के विकास और रिप्रोडक्शन को कम करने पर केंद्रित थे।

    शहद की कैंसर के इलाज में मदद करने की क्षमता पर अन्य स्टडीज आधारित हैं। अध्ययन से संकेत मिलते हैं कि शहद में एंटीप्रोलिफेरेटिव (Antiproliferative), एंटीकैंसर और एंटीमैटास्टेटिक (Antimetastatic) प्रभाव होते हैं। एक व्यक्ति को अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए अगर उन्हें त्वचा कैंसर है, या उन्हें संदेह है कि उन्हें त्वचा का कैंसर है। केवल डॉक्टर ही स्थिति का निदान कर सकता है। वे व्यक्ति के लिए एक प्रभावी उपचार योजना बनाने में भी मदद कर सकते हैं।

    लोगों को केवल शहद से त्वचा कैंसर का इलाज करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, क्योंकि यह एक विश्वसनीय उपचार नहीं है। हालांकि, वे चिकित्सा उपचार के साथ इस उपाय का उपयोग करने के बारे में अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

    त्वचा के लिए शहद का उपयोग कैसे करें? (How to use honey for skin?)

    त्वचा पर शहद का इस्तेमाल करने से पहले सबसे पहले पैच टेस्ट करना जरूरी है। एक व्यक्ति को त्वचा के एक छोटे से क्षेत्र में थोड़ी मात्रा में शहद लगाना चाहिए और कम से कम 20 मिनट तक प्रतीक्षा करनी चाहिए। अगर त्वचा में जलन हो रही हो तो उन्हें शहद का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। त्वचा पर शहद का उपयोग करते समय, एक व्यक्ति क्रीम या मलहम बनाने के लिए इसे अन्य अवयवों के साथ मिला सकता है। या, वे शहद को सीधे त्वचा के उस क्षेत्र पर लगा सकते हैं जिसका वे इलाज करना चाहते हैं।

    साबुन और पानी से त्वचा को साफ करने के बाद व्यक्ति शहद को चेहरे या त्वचा के अन्य क्षेत्रों पर लगा सकता है। शहद को कुछ मिनटों के लिए त्वचा पर लगाने के बाद, वे इसे धो सकते हैं। कुछ लोगों का तर्क है कि कच्चा शहद त्वचा के लिए सबसे अच्छा होता है, जिसका समर्थन कुछ छोटे अध्ययन करते हैं। कच्चे शहद में पराग और मधुमक्खी प्रोपोलिस होते हैं।

    2015 की समीक्षा के अनुसार, मधुमक्खी पराग में कई उपयोगी गुण हैं। उदाहरण के लिए, इसमें दर्द निवारक, एंटी इंफ्लामेटरी और एंटीबैक्टीरियल प्रभाव हो सकते हैं। 2017 की समीक्षा में, शोधकर्ताओं ने पाया कि मधुमक्खी प्रोपोलिस में एंटीकैंसर और एंटीफंगल प्रभाव हो सकते हैं।

    और पढ़ें: Non Cancerous Skin Tags: जानिए नॉन कैंसरस स्किन टैग से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी!

    त्वचा के लिए शहद के रिस्क और साइड इफेक्ट्स (Honey’s risk and side effects)

    जिन लोगों को शहद से एलर्जी है उन्हें अपनी त्वचा पर शहद का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। पराग या मधुमक्खियों से एलर्जी वाले लोगों को भी शहद को ऊपर लगाने से बचना चाहिए।

    एलर्जी वाले लोगों के लिए, शरीर के बड़े हिस्सों में शहद लगाने से पहले त्वचा के एक छोटे से हिस्से का परीक्षण करना अभी भी महत्वपूर्ण है। एक व्यक्ति को सोने से पहले अपनी त्वचा से किसी भी हिस्से पर शहद या शहद आधारित उत्पादों को निकालना सुनिश्चित करना चाहिए। अगर शहद त्वचा पर रहती है, तो यह गंदगी को अपने पास समेट सकती है। शहद युक्त गंदगी त्वचा की स्थिति को खराब कर सकती है।

    शहद त्वचा के लिए कई प्रकार से फायदेमंद हो सकती है। इसमें नैचुरल एंटीमाइक्रोबियल, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इंफ्लामेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं जो कई स्किन कंडिशन के इलाज में लाभदायक हैं। किसी स्किन कंडिशन का इलाज करने के लिए शहद का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

    शहद के उपयोग से जुड़ी जानकारी

    त्वचा के लिए शहद (Honey For Skin)

    अधिकांश वयस्कों के लिए शहद संभवतः सुरक्षित है, लेकिन जब रोडोडेंड्रोन से शहद का उत्पादन होता है, तो यह संभवतः असुरक्षित होता है। इस प्रकार के शहद में एक विष होता है जो हृदय की समस्याओं, निम्न रक्तचाप और सीने में दर्द का कारण बन सकता है। जब त्वचा पर या मुंह के अंदर लगाया जाता है तो अधिकांश वयस्कों के लिए शहद संभवतः सुरक्षित है।

    आंख में लगाने पर मनुका शहद युक्त विशिष्ट आई ड्रॉप का उपयोग करना संभवतः सुरक्षित है। ये आई ड्रॉप आमतौर पर 4 सप्ताह तक दिन में 2-3 बार आंखों में लगाए जाते हैं। जब नाक में लगाया जाता है: 2 सप्ताह तक नाक में छिड़काव करने पर अधिकांश वयस्कों के लिए पतला मनुका शहद समाधान संभवतः सुरक्षित होता है।

    और पढ़ें: मुंह के आसपास रूखी त्वचा को कैसे ठीक करें?

    गर्भावस्था और स्तनपान

    भोजन की मात्रा में लेने पर शहद सुरक्षित होने की संभावना है, लेकिन यह जानने के लिए पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है कि गर्भवती या स्तनपान के दौरान औषधीय मात्रा में शहद का उपयोग करना सुरक्षित है या नहीं।

    और पढ़ें: त्वचा पर ब्लीच (Bleach On Skin) कब हो सकता है खतरनाक?

    बच्चे

    कम से कम एक वर्ष के बच्चों में मुंह से लेने पर शहद सुरक्षित होने की संभावना है। 12 महीने से कम उम्र के बच्चों द्वारा मुंह से लेने पर शहद संभवतः असुरक्षित होता है। 12 महीने से कम उम्र के शिशुओं में शहद का प्रयोग न करें।

    मधुमेह और पराग एलर्जी

    बड़ी मात्रा में शहद का उपयोग करने से टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों में रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है। शहद में चीनी होती है और इसे कम मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए। आपको पराग से एलर्जी है तो शहद से बचें। पराग से बने शहद से एलर्जी हो सकती है।

    उम्मीद करते हैं कि आपको त्वचा के लिए शहद (Honey for skin) के उपयोग से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    Honey in dermatology and skin care: A review/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/24305429/ Accessed on 15/03/2022

    Bee pollen: Chemical composition and therapeutic application/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC4377380/Accessed on 15/03/2022

    Honey: A therapeutic agent for disorders of the skin/https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC5661189/Accessed on 15/03/2022

    Honey/ https://medlineplus.gov/druginfo/natural/738.html/ Accessed on 15/03/2022

    impetigo/https://www.cdc.gov/groupastrep/diseases-public/impetigo.html/Accessed on 15/03/2022

    Honey/https://www.webmd.com/vitamins/ai/ingredientmono-738/honey/Accessed on 15/03/2022

    Skin care: 5 tips for healthy skin/
    https://www.mayoclinic.org/healthy-lifestyle/adult-health/in-depth/skin-care/art-20048237/Accessed on 15/03/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Manjari Khare द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 15/03/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड