गर्मी में बढ़ सकती है, मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम : एक्सपर्ट से जानें बचाव के टिप्स

    गर्मी में बढ़ सकती है, मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम : एक्सपर्ट से जानें बचाव के टिप्स

    सभी को पता है कि कोराेना की दूसरी लहर अपनी दस्तक दे चुकी है और अब मास्क पहनना पहले से भी कहीं ज्यादा जरूरी हो चुका है। खासतौर पर उनके लिए मास्क के नियमों के पालन करना ज्यादा जरुरी है, जो लंबे समय तक बाहार रहते हैं। हालांकि लगातार मास्क पहनने से कई तरह की स्किन प्रॉबल्म के खतरे भी बढ़ जाते हैं। फेस मास्क और सेनेटाइजर का इस्तेमाल लोगों की आदत में शामिल हो चुका है। जितना जरूरी मास्क पहनना है, उतना ही जरूरी है, सेनेटाइजर का इस्तेमाल भी। अगर हम स्किन प्रॉब्लम की बात करें, तो लंबे समय तक मास्क पहनने से कई इंफेक्शन, एक्ने और रेशैज के खतरे सबसे ज्यादा होते हैं। आज यहां एक्सपर्ट बता रही हैं गर्मी में मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम (Wearing a mask and skin problems) के बारें में। इसी के साथ गर्मी में मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम (Wearing a mask and skin problems) से कैसे बचें और उपाय भी।

    गर्मी में मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम (Wearing masks & skin infection)

    लगातार और लंबे समय तक फेस पर मास्क के इस्तेमाल से कई त्वचा संबंधी परेशानी होने का खतरा बढ़ जाता है, जिसके कारण कई लोगों में त्वचा पर रैशेज, जलन और खुजली आदि कि समस्या देखी गई है। गर्मी के मौसम में उनकी यह समस्या और भी बढ़ जाती है। कोविड-19 से बचने के लिए मास्क पहनना बहुत जरूरी है। क्योंकि यह मास्क हमें और हमारे परिवार को इस संक्रमण से बचाने में बहुत अधिक मददगार साबित हो रहा है। लेकिन गर्मी के इस मौसम में मास्क पहने रहना किसी सजा से कम नहीं है। इसके कारण घबराहट से लेकर स्किन रैशेज और एक्ने जैसी समस्याएं हो रही हैं। आइए जानते हैं गर्मी में मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम के बारें में :

    फ्रिक्शन से रैशेज होना (Rashes)

    आपका स्किन टाइप चाहें कोई भी हो, लेकिन आप दिनभर , बहुत अधिक समय के लिए मास्क पहनेंगे, तो आपको कोई ना कोई स्किन से संबंधित दिक्कत जरूर होगी। पूरे दिन मास्क पहनने व उसे बार-बार एडजेस्ट करने से फेस पर फ्रिक्शन से रेशेज की समस्या उत्पन्न होने लगती है। जिस कारण त्वचा में जलन महसूस होती है। कई बार रैशेज भी बहुत ज्यादा पड़ जाते हैं

    गर्मी में मास्क पहनने से स्किन प्रॉब्लम के बारें में : मास्कने की समस्या (Maskne)

    गर्मियों में मास्क काफी सावधानी से पहने क्योंकि अधिक समय तक मास्क पहनने व पसीने के आने से, मास्क द्वारा कवर किए गए भाग में फ्रिक्शन और पसीने के कारण बैक्टीरियल इंफेक्शन हो सकता है, जिससे मुहांसों की समस्या हो सकती है या बड़ सकती है।

    सांस लेने में दिक्कत (Breathing problem)

    लगातार मास्क के उपयोग, सीडियां चढ़ते या दौड़ते वक्त सांस लेने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। जिसके कारण घबराहट, उल्टी या चक्कर आना भी स्वाभाविक है।

    सेनेटाइजर (Sanitizer) बन सकता है रूखी और बेजान त्वचा का कारण

    बार बार सेनेटाइजर का उपयोग हाथों की त्वचा को रूखा और बेजान कर सकता है, क्योंकि सेनेटाइजर में 70 प्रतिशत अल्कोहल का प्रयोग होता है जो त्वचा के मॉइश्चर कम या ख़त्म कर देता है जिससे इस प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता है।
    और पढ़ें: आपके शरीर में दिखने वाले स्किन टैग, हो सकते हैं डायबिटीज का संकेत…

    अपनाएं स्किन केयर के उपायों को (Skin Care Tips)

    आप कौन सा और कैसा मास्क पहन रहे हैं, यह भी बहुत महत्वपूर्ण है। सबसे पहले सही मास्क का चुनाव बहुत जरूरी है। जिसके लिए आपके रोजाना का दिनचार्या अच्छा होना बेहद जरूरी है। अगर आप फ्रंटलाइन वर्कर हैं तो तभी N95 मास्क का ही उपयोग करें, अन्यथा उसकी कोई जरूरत नहीं है। जहां तक हो सके कम से कम दो लेयर वाले कॉटन के मास्क का ही प्रयोग करें। क्योंकि कॉटन मास्क आपके पसीने को अच्छे से सोखने व अपको सही प्रकार से सांस लेने में काफी मदद करता है। रेशेज से बचने के लिए मास्क ठीक प्रकार से अपने फेस पर एडजेस्ट करें। तैलीय स्किन वालें लोग किसी भी प्रकार के मॉइश्चराइजर से बचें व जैल युक्त क्लींजर का ही प्रयोग करें। अगर आपको मास्कने की समस्या है तो फेस पर किसी भी प्रकार के मेकअप का प्रयोग न करे व जैल युक्त मॉइश्चराइजर सेलिसिलिक एसिड बेस्ड क्लिंजर का उपयोग करें। इसके अलावा, जहां तक हो सके मास्क के उपयोग को अवॉइड करें। हाथों की त्वचा को बेजान होने व सेनेटाइजर के साइड इफेक्ट से बचने के लिए लगातार उपयोग से बचें। हो सके तो माइल्ड हैंड वॉश का प्रयोग करें व सेनेटाइजर के प्रयोग के बाद हाथों पर मॉइश्चराइजर का प्रयोग कर सकते हैं।

    बाजार में कई तरह के हैंड सैनिटाइजर उपलब्ध है। जिनमें अल्कोहल की मात्रा काफी कम होती है और वो सुरक्षित भी हैं। अल्कोहल के कारण हाथों में त्वचा संबंधी समस्या हो रही है। इससे बचने के लिए हाथों में ग्लव्स पहनकर हैंड सैनिटाइज कर इस्तेमाल करें।ऐसा करने से सैनिटाइजर सीधे त्वचा के संपर्क में नहीं आएगा और हाथ भी सुरक्षित रहेंगे।
    गर्मी में पसीना आना आम बात है, लेकिन मास्क में सांस लेने की वजह से पसीना फेस की त्वचा में ही एब्जॉर्ब हो जाता है। ऐसे में बैक्टीरियल इंफेक्शन होने का खतरा और भी बढ़ जाता है। जिस कारण दाने और फुंसी जैसे दाने भी दिखने लगते हैं। शरीर के जिस हिस्से में लगातार पसीना और उससे नमी बनी रहती है, वहां इंफेक्शन होने का खतरा ज्यादा रहता है। जो लोग लगातार मास्क पहने रहते हैं, उनके फेस पर भी दाने की समस्या अधिक देखी जाती है। इससे बचाव के लिए सूती कपड़े का मास्क उपयोग करना ज्यादा प्रभावी और अच्छा माना जाता है। इसके अलावा, घर में रहने पर आप हाथों को सैनिटाइजर की जगह माइल्ड सोप और निर्मल पानी से धोएं। हाथों का रूखापन दूर करने के लिए रात में पेट्रोलियम जेली, नारियल का तेल या गुलाब जल जरूर लगाए। इसके अलावा, समय-समय पर मास्क के कवर होने वाले एरिया पर नारियल का तेल लगाएं। इससे इंफेक्शन का खतरा कम होगा। आप चेहरे की त्वचा को जैल युक्त फेस वॉश से रोजाना साफ करते रहें व एलोवेरा जैल का भी प्रयोग कर सकते हैं।
    तो इस तरह से एक्सपर्ट टिप्स अपनाकर आप मास्क के कारण त्वचा में होने वाले इंफेक्शन से बच सकते हैं। इसके अलावा त्वचा की हायजीन का नियमित रूप से ध्यान रखें।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    डॉक्टर विदुषी जैन द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/05/2021 को