मास्क पहनने से हो सकती हैं, कई तरह की स्किन प्रॉब्लम्स, जानें स्किन केयर टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट February 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना महामारी ने लोगाें को कई तरह से परेशान कर रखा है। जब से यह वायरस आया है लोगों का मास्क पहनना बहुत जरूरी हो गया है और इससे बचने के लिए मास्क पहनने में ही भलाई है, लेकिन मास्क पहनने से लोगों को कई तरह की स्किन प्रॉब्लम भी हो रही हैं, जैसे कि जिन लोगों को मुहांसे की समस्या थी। उनकी यह समस्या और भी बढ़ गई है। जिन्हें नहीं थी, उन्हें भी यह समस्या हो गई है। इस नई हेल्थ कंडिशन को मास्कने (Maskne) कहा जा रहा है। डर्मोटोलॉजिस्ट का मानना है कि मास्क पहनने से इसके अलावा भी विभिन्न तरह की त्चचा संबंधी समस्याएं हो सकती हैं, जैसे चेहरे में जलन। आइए इस बारे में विस्तार से जानते हैं।

मास्क पहनने से होने वाली स्किन प्रॉब्लम (Maskne)

मास्क को लगातार पहनने से कई तरह की स्किन प्रॉब्लम हो सकती है, जैसे कि:

मुहांसे (Acne):  मुंहासे तब होते हैं जब आपके छिद्र  में तेल, मृत त्वचा कोशिकाओं और गंदगी से भर जाते हैं। यह पिंपल्स, वाइटहेड्स या ब्लैकहेड्स का कारण बन सकते हैं।


 रोजेशिया (Rosacea): रोजा यदि आपके पास रोजेशिया है, तो मास्क के इस्तेमाल से यह समस्या और भी बढ़ सकती है। इससे पिंपल्स और लालिमा हो सकती है।

फॉलिकुलाइटिस (Folliculitis) : आप खुजली या दर्द का अनुभव भी कर सकते हैं। फॉलिकुलिटिस में आपके बालों के रोम में संक्रमण हो जाता है।

 और पढ़ें: रखें इन जरूरी बातों का ध्यान तो कम हो जाएंगी स्किन प्रॉब्लम्स

मास्कने इंफेक्शन होने के कारण? (causes of Maskne)

फेस मास्क और स्किन प्रॉब्लम, face mask and Skin Problems

मास्क पहनने के कारण त्वचा में मौजूद नमी, पसीना, तेल और गंदगी को सोख लेता है। जिसके कारण मुंहासे (Acne) और पाेर्स बंद होने की समस्या होने लगती है। छोटे धक्कों, रोम छिद्रों में सूजन, जलन, दबाव के घाव, टूटी हुई रक्त वाहिका की समस्या सामने आ रही है। ज्यादातर मामलों में, मास्क के कारण बंद छिद्रों का परिणाम है। यदि आपकी त्वचा पर पहले से ही ऑयली है, इंफेक्शन और डेड स्किन है। इसके बाद जब आप मास्क पहनते हैं, तो ये समस्याएं और भी ज्यादा बढ़ जाती हैं। मास्क के अंदर सांस लेने और पसीने के कारण नमी से इंफेक्शन होने का खतरा और भी अधिक बढ़ जाता है। त्चचा में रैशेज (Skin rashes), झनझनाहट और जलन (burning sensation) हो सकती है।

और पढ़ें: ड्राई स्किन से हैं परेशान, तो आजमाएं कुछ आसान घरेलू उपाय

अपने चेहरे को नियमित रूप से धोएं (Wash your face regularly)

किसी भी प्रकार के इंफेक्शन से बचने के लिए अपने चेहरे को दिन भर में तीन से चार बार क्लीन करना बहुत जरूरी है। खासतौर मास्क उतारने के बाद, हर बार। इसके त्चचा का इंफेक्शन दूर होता है। इसके बाद चेहरे को खुला रहने दें और थोड़ी देर कोई क्रीम और कुछ भी न लगाएं। अपनी त्वचा को साफ और हाइड्रेट भी रखें। इसके लिए गुलाब जल भी उपयोग भी अच्छा माना जाता है। यह त्वचा की जलन को शांत करने के साथ लालिमा को कम करने में मदद करता है। गुलाबजल का उपयोग आमतौर पर मेकअप हटाने के लिए  किया जाता है। मास्क के उपयोग के बाद अपने चेहरे की त्वचा को ठंडक प्रदान करने के लिए गुलाबजल का इस्तेमाल कर सकते हैं। अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी की सलाह है कि आप “दिन में दो बार या जब भी पसीना आए, उसके बाद मास्क हटाकर चेहरे को धोएं और फस सखने के बाद मास्क का उपयोग करें।” खासकर तब जब आप लगातार मास्क पहन रहे हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

रात को सोने से पहले त्वचा को रोज क्लीन करें

केवल दिन में ही नहीं रात को भी त्वचा की अच्छे से देखभाल बहुत जरूरी है। यदि आपकी त्वचा दिनभर मास्क में ढ़की रहती है, तो रात में इसका खास देखभाल बहुत जरूरी है। रात के समय में फेस वॉश के बाद त्वचा काे  क्लीनजिंग और मॉइश्चराइजिंग करें। नाइट में स्किन रिपेयर के लिए अगल प्रकार की क्रीम होती है, उसका इस्तेमाल करें। इसके अलावा आप डैमेज स्किन को रिपेयर के लिए आप रात में साेने से पहले विभिन्न प्रकार का होम मेड फेस पैक भी इस्तेमाल कर सकती हैं, जैसे कि शहद और केले का पैक फेस के लिए बहुत अच्छा माना जाता है।  इसके लिए आप केले, शहद और कच्चा दूध और ओटमील मिलकार फेस पैक बना लें। इसमें कुछ बूंद गुलाब जल की भी मिल लें।

माइल्ड क्लींजर का इस्तेमाल करें (should use soft cleanser)

माइल्ड क्लीन्जर स्किन को एलर्जी से बचाने के साथ त्वचा में मौजूद अतिरिक्त तेल, पसीना और बैक्टीरिया को हटाने में मदद कर सकता है। अपनी स्किन को अच्छा बनाए रखने के लिए ऐसे क्लीन्जर के इस्तेमाल से बचें, जिनमें अल्कोहल या परफ्यूम हो। ये तत्व त्वचा में जलन पैदा कर सकते हैं। यदि आपको पहले से ही कोई स्किन प्रॉब्लम हो, तो इसका इस्तेमाल बिल्कुल भी न करें। यदि आप दिनभर हैवी मास्क पहने हैं, तो आप पेरोक्साइड या सैलिसिलिक एसिड के साथ मेडिकेटिड क्लीन्जर का प्रयोग करें। यदि आपके पास संवेदनशील त्वचा है, तो अपनी त्वचा के लिए अपने डॉक्टर या त्वचा विशेषज्ञ से सबसे अच्छे प्रकार के मेडिकेटेड क्लींजर के बारे में पूछें।

और पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

मेकअप से ब्रेक लें

मास्कने क्या है

जब आप मास्कने का इलाज कर रहे हों तो मेकअप छोड़ दें। फाउंडेशन, कंसीलर और ब्लश जैसे ब्यूटी प्रोडक्ट्स आपके छिद्रों को बंद कर लंबे समय तक ठीक कर सकते हैं। इन सबके इस्तेमाल से आपके चेहरे की समस्याएं और भी ज्यादा बढ़ सकती है। कई बार मेकअप प्रोडक्ट का इस्तेमाल आपके चेहरे पर एलर्जी को और भी बढ़ा सकता है। अपनी स्किन काे जितना फ्री रखेंगे, उतना अच्छा है।

हर इस्तेमाल के बाद फैब्रिक मास्क धोएं (Wash fabric mask after use)

चेहरे को किसी भी प्रकार की स्किन प्रॉब्लम बचाने के लिए जरूरी है कि रोजाना इस्तेमाल के बाद आप अपने मास्क को जरूर धोएं। यह हेल्थ और स्किन दोनों के लिए अच्छा है। अमेरिका के सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (CDC) की सलाह के अनुसार मास्क को रोज धोना आवश्यक है। बाहर से आने के बाद आप मास्क तो यूं ही बिना धोए न रखें। इससे स्किन में प्रॉब्लम (skin problems) नहीं होगी। मास्क में पसीना काफी एब्जॉर्ब हो चुका होता है, जोकि कई बार स्किन इंफेक्शन (skin infection) का कारण हो सकता है। एक मास्क को दोबारा इस्तेमाल के बाद आपको रैशेज या गंभीर एलर्जी हो सकती है।

और पढ़ें : नाक में पिंपल बन सकता है कई बीमारियों का कारण, कैसे पाएं इससे निजात?

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हर 4 घंटे में अपना मास्क निकालें

मास्कने

अमेरिकन एकेडमी ऑफ डर्मेटोलॉजी एसोसिएशन हर 4 घंटे में 15 मिनट के लिए अपने मास्क को हटाने की सलाह दी है। यह आपकी त्वचा को आराम देने में मदद करेगा। बाहर तभी आप अपना मास्क उतारें, जब आप सोशल दूरी बनाकर रखें।

मास्क पहनने से पहले मॉश्चराइजर लगाएं

यदि आपकी त्वचा शुष्क हो जाती है, तो मास्क आपकी स्किन में जलन पैदा कर सकता है। एक नॉनपोजेनिक मॉश्चराइजर (Moisturizer) लगाने से आपकी त्वचा को हायड्रेट करने में मदद मिल सकती है। एक मॉश्चराइजर आपकी त्वचा और मास्क के बीच एक बाधा के रूप में भी काम कर सकता है।

सही मास्क चुनें

त्वचा की समस्याओं से बचने के लिए, आपके द्वारा पहने जाने वाले मास्क के प्रकार से भी सावधान रहें। ऐसा फेस मास्क पहनने की कोशिश करें ,जो कि चुस्त भी न हो ज्यादा और पहनने में फिट भी हो। सिंथेटिक कपड़े, नायलॉन या रेयान से बने मास्क से बचें। इस तरह के मास्क से पसीना भी अधिक आता है और स्किन प्रॉब्ल भी और बढ़ सकती है।

बार-बार फेस टच न करें

बाहर जाने के बाद हाथों में भी कितने तरह के इंफेक्शन होता है। यदि आपकी त्वचा सेंसेटिव है और पहले से मास्क पहनने के साथ वह पेरशान है, तो ऐसे में फेस पर हाथ लगाने की गलती न करें। बार-बार चेरहे को न छुए। इससे भी आपकाे कई तरह की स्किन प्रॉब्ल्म हो सकती है। स्किन प्रॉब्लम से बचने के लिए आप अपने हाथों को भी थोड़ी-थोड़ी देर में धोते रहें, नहीं तो आपको एलर्जी की समस्या भी हाे सकती है।

और पढ़ें : दालचीनी के फायदे : पिंपल्स होंगे छू-मंतर और बढ़ेगी याददाश्त

अपने स्किनकेयर (skincare) रूटीन को न छोड़ें

मौसम चाहें काेई भी हो, अपनी स्किन केयर का न छोड़ें। मास्क्ने की समस्या (Maskne problems) से बचने के लिए जरूरी है कि आप त्चचा की रोज अच्छे से केयर करें। क्लींजिंग, टोनिंग और मॉइश्चराइजिंग रोग करें। इससे त्वचा हाइड्रेड रहती है। हेल्दी स्किन के लिए आप सुबह से रात तक में इस प्रॉसेज को तीन बार करें। इसके अलावा पसीना आने पर वेट टिशू से चेहरे को पोछते भी रहें, क्योंकि लगातार फेस ने नमी बने रहने पर भी रेशैज और एलर्जी को हो सकती है। इसके अलावा डर्मा स्किन प्रोडक्ट का इस्तेमाल करें, तो ज्यादा अच्छा होगा।

स्किन एलर्जी के लिए बेस्ट ऑयल:

मास्कने के लिए स्किन ऑयल

पेपरमिंट ऑयल (Peppermint Oil)

पेपरमिंट ऑयल त्चचा काे ठंडक पहुंचाता है। पित्ती के कारण होने वाली खुजली को कम करने में मदद कर सकते हैं। यह मधुमेह (Diabetes), यकृत रोग (liver disease) और गुर्दे की बीमारी (kidney disease) से संबंधित खुजली को शांत करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैमोमाइल ऑयल (Chamomile oil)

त्वचा के लिए विशेष रूप से, एलर्जी (Allergy), एक्जिमा, बवासीर (Piles) और दाने के कारण होने वाली खुजली को कम करने के लिए कैमोमाइल तेल को प्रभावकारी माना जाता है। यह रूसी की समस्या को दूर करने के लिए भी सुरक्षित है।

लैवेंडर ऑयल (Lavender oil)

लैवेंडर आवश्यक तेल के एंटिफंगल गुण इसे जॉक खुजली, एथलीट फुट और दाद जैसे स्थितियों के लिए प्रभावी बनाते हैं। यह बग काटने के डंक और खुजली को कम करने में भी मदद कर सकता है। लैवेंडर का तेल नरम, सुखदायक खुशबू इसे ऑल-ओवर ड्राय स्किन मॉइस्चराइजिंग के लिए अच्छा विकल्प बनाता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy