मास्क पहनना ही नहीं साफ रखना भी है बेहद जरूरी, इन बातों का रखें खास ख्याल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट June 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन के मुताबिक कोरोना वायरस से बचाव के लिए एहतियातन मास्क पहनना जरूरी है। लेकिन बाजार में हालत यह है कि मास्क का मिलना ही मुश्किल हो रहा है। लोगों को इसके लिए एक दुकान से दूसरी दुकान के चक्कर काटने पड़ रहे हैं। इसके साथ ही मास्क पहनने से कोरोना वायरस से बचाव तभी संभव है जब मास्क को एक समय के बाद बदल दिया जाए। बाजार में मास्क की कमी को देखते हुए आज हम आपको मास्क को साफ करने का तरीका और इसे दोबारा इस्तेमाल करने के तरीके के बारे में बताएंगे…

मास्क को साफ करने का तरीका

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (Ministry of Information and Broadcasting) की ओर से एक वीडियो जारी किया गया है जिसमें घर पर बनाए गए मास्क को साफ करने का तरीका बताया है। इसमें बताया है कि मास्क को उतारने के बाद इसे गर्म पानी और साबुन से अच्छी तरह से साफ करें। इसके बाद मास्क को 4 से 5 घंटे के लिए धूप में सूखने के लिए डाल दें। इससे मास्क में किसी तरह के इंफेक्शन के रहने की संभावना नहीं रहती।

यह भी पढ़ें: कोरोना की वजह से अपनों को छूने से डर रहे लोग, जानें स्किन को एक टच की कितनी है जरूरत

धूप न हो तो मास्क को साफ करने का तरीका

जिन लोगों के घर में धूप नहीं आती उन लोगों के लिए मास्क को साफ करने का तरीका यह है कि वे गर्म पानी में नमक डालकर इस्तेमाल करें। ये चाहें तो गर्म पानी और नमक को डालकर इसमें मास्क डालें और 15 मिनट तक उबलने दें। इसके बाद मास्क को किसी खुली जगह पर सूखने के लिए रख दें। जिन लोगों के पास गर्म पानी उपलब्ध नहीं है वो लोग मास्क को साबुन और पानी से अच्छी तरह से साफ करें और फिर इसे गर्माहट देने के लिए इस्त्री का इस्तेमाल कर सकते हैं।

आपको ऊपर बताए टिप्स को घर पर बनाए गए मास्क के लिए फॉलो करना है। डिस्पोजेबल मास्क को साफ करने के लिए ऐसा बिल्कुल नहीं करना। डिस्पोजेबल मास्क को उबालने से उसके अंदर के तत्व खराब हो जाते हैं। इन मास्क को इस्तेमाल करने के बाद दोबारा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इन्हें डिस्पोज ऑफ करना ही बेहतर होता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप का है कनेक्शन, रिसर्च में हुआ खुलासा

मास्क को साफ करने का तरीका : कोरोना और एन 95 मास्क

कोरोना वायरस से बचने के लिए एन 95 मास्क (N95 Mask) काफी हद तक कारगर माना जा रहा है। यही कारण है कि बाजार में इसकी कमी पड़ गई है। यहां तक कि डॉक्टरों और फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स के लिए भी यह कम पड़ रहे हैं। डॉक्टर एक ही मास्क को पहनकर काम करने को मजबूर हैं। ड्यूक हेल्थ हॉस्पिटल के शोधकर्ता ने एन 95 मास्क को साफ करके दोबारा इस्तेमाल करने का तरीका ढूंढ़ निकाला है। शोधकर्ताओं के अनुसार, एक ही मास्क को पहनकर इलाज करना डॉक्टरों और मरीजों दोनों के लिए खतरनाक है। इससे संक्रमण फैलने का खतरा अधिक होता है। उन्होंने बताया कि मास्क को लैब में हाइड्रोजन पेरोक्साइड का उपयोग कर साफ किया जा सकता है। इससे एक बार में लगभग 500 मास्क को साफ किया जा सकता है।

मास्क को साफ करने का तरीका : एन 95 मास्क की सफाई

शोधकर्ताओं ने बताया कि मास्क को साफ करने के लिए हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल करें। इससे उस पर मौजूद सुक्ष्म जीव खत्म हो जाते हैं। इस प्रक्रियो को करने में लगभग चार घंटे का समय लगता है। मास्क को साफ करते वक्त काफी सावधानी बरतने की जरूरत होती है। उन्होंने बताया, शोध से मालूम होता है कि मास्क को साफ करने के बाद 30 से 50 बार इस्तेमाल किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: गांजे से कोरोना वायरस: गांजा/बीड़ी/सिगरेट पीने वालों को कोरोना से ज्यादा खतरा

एन 95 मास्क की किल्लत को देखते हुए भारत सरकार ने उठाया यह कदम

मास्क की कमी को देखते हुए भारत सरकार ने निर्देश दिया है कि डॉक्टर, नर्स औऱ दूसरे फ्रंटलाइन स्वास्थ्यकर्मी को 5 मास्क का सेट दिया जाएगा। हर किसी को एक मास्क इस्तेमाल करने के बाद चार दिन उसे सुखाना है। इसके लिए उन्हें 5 मास्क के सेट के साथ चार छोटे और एक बड़ा लिफाफा दिया जाएगा। पहले दिन मास्क का इस्तेमाल करने के बाद उसे वापस लिफाफे में रखना होगा। दूसरे दिन दूसरा मास्क इस्तेमाल करें और उसे भी लिफाफे में रखें। ठीक ऐसा ही तीसरे और चौथे दिन करें। पांचवे दिन आपको पहले मास्क का इस्तेमाल फिर से करना है। ठीक इसी तरह छठे दिन दूसरा, सातवें दिन तीसरा और आठवें दिन चौथा। यह क्रम 20 दिन तक दोहराना होगा। 20 दिन बाद इन चारों मास्क को बड़े वाले लिफाफे में डालकर अस्पताल में रखे कचरे के डिब्बे में डिस्पॉज करना है। इसके बाद इन्हें निस्तारण के लिए भेज दिया जाएगा। आपको पांचवा मास्क आपात स्थिति के लिए रखने के लिए दिया गया है।

घर पर इस तरह बनाएं मास्क

घर पर मास्क को बनाने के लिए आपको सिर्फ ए4 साइज कपड़े, सुई धागे और रबर बैंड की जरूरत होगी। सबसे पहले कपड़े को चौकोर आकार (करीब 7 से 8 इंच) काट लें। इसके बाद कपड़े का निचला सिरा और ऊपरी सिरा मोड़ लें। एक रबर बैंड कपड़े के बाएं सिरे और दूसरा रबर बैंड कपड़े के दाहिने सिरे पर लगाकर सिलाई कर लें। मास्क बनाते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि रबर बैंड के बीच का हिस्सा आपके मुंह और नाक को ढंकने के लिए पर्याप्त हो। रबर बैंड को लगाकर चारों किनारों से अच्छी तरह से सिलाइ कर लें। आपका मास्क तैयार है।

फेस मास्क यूज करते समय  इन बातों का रखें ध्यान

  • फेस मास्क लगाने से पहले, अपने हाथों को एल्कोहॉल युक्त हैंड सैनिटाइजर या हैंड वॉश से साफ करें।
  • अब फेस मास्क से मुंह और नाक को कवर करें। ध्यान रखें कि मुंह और फेस मास्क के बीच कोई गैप न हो।
  • फेस मास्क लगाने के बाद बार-बार उसे छूने से बचें।
  • फेस मास्क खराब होने पर तुरंत एक नया मास्क पहनें।
  • एक फेस मास्क का इस्तेमाल सिर्फ एक ही व्यक्ति को करना चाहिए। घर के अन्य सदस्यों का किसी और के साथ इसे शेयर न करें।
  • चेहरे से फेस मास्क हटाने के लिए कानों के पीछे फंसे फंदे को पकड़ कर इसे हटाएं।
  • फेस मास्क को मुंह से सामने से न छुएं।
  • डिस्पोजल मास्क को दोबारा यूज न करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हम आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा। हैलो हेल्थ के इस आर्टिकल में मास्क को साफ करने का तरीका बताया है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य कोई जानकारी चाहते हैं तो आप अपना सवाल कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं।

और पढ़ें :-

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या फिश खाने के बाद आपको होती है पेट से जुड़ी परेशानी? तो फिश एलर्जी हो सकता है कारण

अन्य फूड एलर्जी के मुकाबले फिश एलर्जी (fish allergy) के मामले कम ही देखने को मिलते है, लेकिन ऐसी समस्या होने पर मछली से परहेज जरूरी है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
फूड एलर्जी, एलर्जी March 4, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें

हेल्दी लाइफस्टाइल कैसे मददगार है ग्रैन्युलोमस की समस्या को दूर करने में, जानें!

ग्रैन्युलोमस (Granulomas) क्या है, ग्रैन्युलोमस के कारण, लक्षण और प्रकारों के बारे में जानें, कैसे देखभाल कैसे करें और डायट कैसी होनी चाहिए

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma

कहीं ये आपका छींकना, खांसना या गले में खराश का कारण बिल्ली से एलर्जी तो नहीं!

बिल्ली से एलर्जी के कारण क्या हैं? बिल्ली से एलर्जी के लक्षण क्या हो सकते हैं? क्या इलाज है इस परेशानी को दूर करने के लिए? Cause of Cat Allergies and treatment in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

इन्फ्लुएंजा को सामान्य बीमारी समझने की गलती न करें, इससे बचाव के बारे में जानें!

इन्फ्लुएंजा (Influenza) क्या है, इन्फ्लुएंजा के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में जानें, इसकी वैक्सीनेशन के बारे में भी जानें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma

Recommended for you

महिलाओं में यूटीआई और यूआई

जानें महिलाओं में होने वाली यूटीआई, यूटीएस और यूआई प्रॉब्लम के बारे में

के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 4 मिनट में पढ़ें
महिलाओं में होने वाली बीमारी (Women illnesses)

Women illnesses: इन 10 बीमारियों को इग्नोर ना करें महिलाएं

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
पीरियड्स, Periods

जब सिर दर्द, सर्दी, बुखार कह सकते हैं, तो पीरियड्स को पीरियड्स क्यों नहीं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
क्रॉनिक ब्रॉन्कायटिस, chronic bronchitis

क्रॉनिक ब्रॉन्कायटिस के कारण हो सकती है सांस लेने में समस्या, अपनाएं ये सावधानियां

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ March 4, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें