home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप का है कनेक्शन, रिसर्च में हुआ खुलासा

कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप का है कनेक्शन, रिसर्च में हुआ खुलासा

कोरोना वायरस दुनियाभर में तेजी से पैर पसार रहा है। इसे लेकर कई शोध हो रहे हैं। इस बीच कोरोना को लेकर एक हैरान करने वाली रिपोर्ट सामने आई है। इस शोध में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा खतरा दो कैटगरी के ब्लड ग्रुप को है। यही नहीं इन लोगों को इस खतरनाक वायरस से सतर्क रहने के लिए कहा गया है।

कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप का कनेक्शन

कोरोना वायरस सबसे पहले चीन के वुहान शहर से फैला है। वुहान के अस्पताल में भर्ती मरीजों को लेकर कई स्टडी हो रही हैं। इस वायरस के कारण होने वाली मौतों को लेकर भी शोधकर्ताओं ने रिसर्च की है, जिसमें कई महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आई हैं। इस शोध को चीन के हुबेई प्रांत जिनइंतान अस्पताल के शोधकर्ताओं ने किया है। इसमें उन्होंने ब्लड ग्रुप के अनुसार संक्रमित लोगों पर अध्ययन किया गया है। इस शोध के सामने आए निष्कर्षों के अनुसार, कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप ए जल्दी संक्रमित हो सकता है। इसके अलावा ब्लड ग्रुप ओ को संक्रमित होने में थोड़ा ज्यादा समय लगता है।

कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप-ए को क्यों खतरा?

इस रिपोर्ट के अनुसार, जो लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं उनमें ब्लड ग्रुप-ए की संख्या सबसे ज्यादा है। रिसर्च के अनुसार, 2173 कोरोना पेशेंट्स में से 206 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें 85 लोग ब्लड ग्रुप-ए के थे। वहीं 52 लोगों का ब्लड ग्रुप ओ था। यानी कोरोना से मरने वाले लोगों में 41 फीसदी लोग ब्लड ग्रुप-ए और 25 फीसदी लोग ब्लड ग्रुप-ओ के थे।

यह भी पढ़ें: कोरोना की जांच को लेकर न हों कंफ्यूज, सरकार ने जारी की 52 लैब की लिस्ट

कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप-ए के लोग रहें सतर्क

इस रिपोर्ट को जारी करने के साथ शोधकर्ताओं ने इन दोनों ब्लड ग्रुप वाले लोगों को सतर्क रहने के लिए कहा है। साथ ही यह भी कहा है कि उन्हें किसी तरह से घबराने की जरूरत नहीं है।

लेबोरटरी ऑफ एक्सपेरिमेंटल हीमैटोलॉजी के वैज्ञानिक गाओ यिंगदाई का कहना है कि इस रिसर्च से उन्हें इसका इलाज ढूंढने में मदद होगी। इसके साथ उन्होंने ब्लड ग्रुप ए के लोगों को ज्यादा पेनिक होने से मना किया है। उनका कहना है कि इस रिपोर्ट का मतलब यह नहीं है कि यदि आपका ब्लड ग्रुप ए है तो आपको कोरोना हो ही जाएगा। सभी बल्ड ग्रुप के लोगों को कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को लेकर सावधानियां रखना जरूरी है

यह रिपोर्ट डेली मेल में प्रकाशित हुई है। इस शोध का परिणाम बताता है कि कोरोना वायरस से ब्लड ग्रुप ओ के लोगों के मौत की आंशंका दूसरे ब्लड ग्रुप की तुलना में कम है। यहीं नहीं ये लोग संक्रमित भी देर से होते हैं। शोधकर्ताओं ने यह भी बताया है कि जब सार्स-सीओवी-2 का हमला हुआ था तब भी यह देखा गया था कि ब्लड ग्रुप ओ के लोग इससे कम प्रभावित हुए थे। यहीं नहीं आपको जानकर हैरानी होगी इस वायरस से भी ब्लड ग्रुप एक के लोगों पर सबसे अधिक असर देखा गया था। कोरोना वायरस पर किए गए इस रिसर्च पर अभी फाइनल रिव्यू होना बाकी है।

यह भी पढ़ें: क्या आप कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर हैं अवेयर ?

कोरोना वायरस को लेकर भारत सरकार ने गाइडलाइन जारी की हैं:

  • हाइजीन का खास ख्याल रखें। हाथों को साबुन और पानी से अच्छे से साफ करें
  • जरूरी पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें। बाहर जाकर कहीं भी भीड़ न लगाएं।
  • आंखों, नाक और मुंह को छूने से भी कोरोना वायरस का संक्रमण फैलता है। इसलिए चेहरे को टच करना एवॉइड करें।
  • आपके आस-पास कोई व्यक्ति बीमार हो तो उससे डिस्टेंस बनाकर रखें।
  • घर से बाहर बिना मास्क के बिना न निकलें।
  • इस्तेमाल के बाद मास्क को तुरंत एक बंद डस्टबिन में फेंक दें।
  • एक बार इस्तेमाल किए गए मास्क को दोबारा इस्तेमाल न करें।
  • मास्क को पीछे से हटाएं और उसे इस्तेमाल करने के बाद आगे से न छूएं।
  • कोरोना वायरस लेटेस्ट अपडेट में बताया गया कि, छींकते या खांसते समय अपने मुंह और नाक को किसी टिश्यू पेपर या फिर कोहनी को मोड़कर ढकें।
  • अगर आपको बुखार, खांसी या सांस लेने में दिक्कत हो रही है, तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें।
  • अपने हेल्थ केयर प्रोवाइडर की हर सलाह मानें और पूरी जानकारी प्राप्त करते रहें।
  • भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि, अगर आप मास्क लगा रहे हैं तो उससे पहले अपने हाथों को
  • एल्कोहॉल बेस्ड हैंड रब या फिर साबुन और पानी से अच्छी तरह धोएं।

यह भी पढ़ें- सबसे खतरनाक वायरस ने ली थी 5 करोड़ लोगों की जान, जानें 21वीं सदी के 5 जानलेवा वायरस

कोरोना वायरस से निपटने के लिए डब्ल्यूएचओ ने नीचे बताए सुझाव दिए हैं:

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए हेल्दी लाइफस्टाइल का पालन करें। डायट में फलों और सब्जियों को शामिल करें। तली हुई और ऑयली चीजों का सेवन न करें। हर दिन व्यायाम करें। साथ ही पर्याप्त नींद लेना भी बहुत जरूरी है। यदि आपको या आपके घर पर किसी को खांसी या जुकाम की शिकायत है तो उससे दूरी मेंटेन करें। बीमार शख्स को मास्क पहनाकर रखें। जिससे छींकते या खांसते वक्त वायरस स्प्रेड न हो। मास्क को पहनने से पहले हमेशा हाथों को अच्छे से साफ करें। मास्क को हमेशा चेहरे पर पूरा सटाकर पहनें। जो लोग चीन से यात्रा करके लौटे हैं वो अपने स्वास्थ्य पर बारीकी से नजर रखें। यदि शरीर में किसी तरह का जरा भी बदलाव नजर आए तो बिना देरी करे डॉक्टर से कंसल्ट करें। अगर चीन या उसके आसपास के देशों की यात्रा करने के दौरान या उसके बाद आपको छींक, खांसी, बुखार या शारीरिक थकान महसूस हो तो इस स्थिति में भी आपको स्थानीय स्वास्थ्य टीम से संपर्क करना होगा।

किसी से मिलते जुलते समय हाथ मिलाना एवॉइड करें। लंबे समय के लिए घर से बाहर जा रहे हैं तो अपने साथ घर का खाना बनवाकर लेकर जाएं। जिन लोगों को खांसी या जुकाम की शिकायत हो उनसे एहतियात के साथ मिलें।

जिन लोगों को कोरोना से संक्रमित होने का शक है वो लोग निम्न बातों का पालन करें:

  • जिस बात का आपको सबसे पहले ध्यान रखना है वो यह कि आप खुद से बाहर न निकलें। घर में भी अकेले एक कमरे में रहें। आप खुद से डॉक्टर, फार्मेसी या अस्पताल जाना एवॉइड करें। इससे दूसरों को वायरस होने का खतरा होता है।
  • डॉक्टर से चैकअप के लिए अपने इलाके में मौजूद स्वास्थ्य कर्मी को फोन लगाएं। यदि फोन नहीं लगता तो ऑनलाइन जानकारी जुटाएं।
  • आपकी जानकारी स्थानीय स्वास्थ्य टीम के पास पहुंचते ही वो आपसे खुद संपर्क करेंगे। वो लोग खुद आकर आपको लेकर जाएंगे। आपका कोरोना वायरस का टेस्ट किया जाएगा।

कोरोना वायरस की जानकारी और कोरोना वायरस के उपाय जानने के लिए यहां क्लिक करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता।

और पढ़ें-

कोरोना वायरस (Corono Virus, वुहान ) आखिर क्या है? जानें क्या हैं इसके लक्षण और खतरे

इलाज के बाद भी कोरोना वायरस रिइंफेक्शन का खतरा!

कोरोना वायरस से बचाव संबंधित सवाल और उनपर डॉक्टर्स के जवाब

वर्क फ्रॉम होम : कोरोना वायरस की वजह से घर से कर रहे हैं काम, लेकिन आ रही होंगी ये मुश्किलें

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/06/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x