किन बीमारियों के कारण झड़ते हैं पुरुषों के बाल

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

पुरुषों में गंजेपन की शिकायत बहुत आम है। आमतौर पर गंजापन महिलाओं और पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन नाम के हॉर्मोन के उतार-चढ़ाव के कारण होता है। यहां कुछ मेडिकल स्तिथियां बताई जा रही हैं जिनके कारण मर्दों में गंजेपन बढ़ जाता है।

निचे दिए गए कारणों के अलावा, और भी कई मेडिकल कंडीशंस हैं, जिनसे बालों को बहुत नुकसान पहुंचता है, जैसे गर्म दवाओं के साइड इफेक्ट्स और कीमोथेरेपी इत्यादि।

इन बीमारियों के कारण झड़ते हैं पुरुषों के बाल:      

थायरॉइड

आमतौर पर थायरॉइड लक्षणों में चक्कर आना, कब्ज, वजन बढ़ना, ध्यान लगाने में दिक्कत महसूस होना और डिप्रेशन के साथ-साथ बालों का झड़ना भी शामिल हैं। थाइरोइड जब नियंत्रण में नहीं होता तो त्वचा, बाल और नाखुन बहुत कमजोर हो जाते हैं और टूटने लगते हैं। आपको अपने बाल पतले होते नजर आ सकते हैं। गंजेपन की शिकायत थाइरोइड बढ़ने या घटने दोनों ही स्तिथियों में हो सकती है।

यह भी पढ़ें : क्या आप जानते हैं एक दिन में कितने बाल झड़ते हैं ?

प्रोटीन की कमी

एक बाल पूरी तरह से प्रोटीन और विटामिन, मिनरल्स से बना होता है, जिसके कारण बालों की बढ़ोतरी में प्रोटीन की अच्छी मात्रा चाहिए होती है। अगर आप जरुरत के मुताबिक प्रोटीन नहीं लेंगे तो आपका शरीर आपके बालों तक प्रोटीन की सही मात्रा नहीं पहुंचा पाएगा। प्रोटीन की कमी के कारण आपके बाल रूखें-सुखें नजर आएंगे और उलझ कर टूटने लगेंगे।

दाद (रिंगवॉर्म)

स्कैल्प पर होने वाला रिंगवॉर्म (टिनिअ कपिटिस) फंगल इंफेक्शन की ऐसी स्तिथि है, जिसमें खोपड़ी और बालों की सेहत को नुकसान पहुंचता  है। इसके लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन आमतौर पर टिनिया संक्रमण के कारण गोल पैच होते हैं, जो सर के उतने हिस्से पर गंजेपन का कारण बनाते हैं। इसका इलाज एंटी-फंगल दवाओं और शैंपू से किया जाता है। कभी-कभी स्कैल्प का रिंगवॉर्म गंभीर शकल अपना लेता है, जो मरीज को पूरी तरह गंजेपन का शिकार बना देता है।

यह भी पढ़ें : हेयर ग्रोथ फूड्स अपनाकर पाएं काले घने लंबे बाल

आनुवंशिकता:

बालों के झड़ने का सबसे आम कारण पुरुष-पैटर्न गंजापन नामक एक आनुवंशिकता की स्थिति है। यह आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ धीरे-धीरे पुरुषों के बालों में पीछे जाने वाला हेयरलाइन और गंजा स्पॉट निर्माण होता है।

बांबू हेयर:

यह एक बीमारी है जिसमे, बाल एक तरह की असामान्यता होती है, जिसके कारण बांबू के डंठल में गांठ के समान बाल दिखते हैं। बांबू हेयर में पिंड (गांठ) या समान रूप से उभरी हुई लकीरें दिखाई देती हैं। इन बालों को ट्राइकोरहेक्सिस इनवागिनैटा के रूप में भी जाना जाता है। यह विरासत में मिलाने के वजह से उनमे रूपांतरित जीन्स होते हैं, जिसे स्पिंक5 बांबू हेयर कहा जाता है। बांबू बाल, सिर के ऊपर, भौंहों और पलकों पर बालों को प्रभावित कर सकते हैं।

याद रखें, आपके घर में अगर इन बीमारियों से आपके भाई या पिता को बालों की समस्या अगर हद से ज्यादा हो रही है, तो डॉक्टर्स से परामर्श लें।

और पढ़ें : भूल जाएं हेयर डाई, घर पर नैचुरल तरीके से करें हेयर कलर

अभी शेयर करें

रिव्यू की तारीख जुलाई 4, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया अक्टूबर 16, 2019

शायद आपको यह भी अच्छा लगे