रेकी क्या है? जानिए इसके फायदे और प्रॉसेस

Medically reviewed by | By

Update Date जून 1, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

रेकी एक जैपनीज टेक्नीक है जिसका उपयोग तनाव को कम करने और रिलैक्सेशन के लिए किया जाता है। 1800 में जापान में इस थेरिपी की शुरुआती हुई थी। रेकी वैकल्पिक चिकित्सा का एक रूप है जिसे आमतौर पर ऊर्जा उपचार के रूप में जाना जाता है। इसमें प्रेक्टिशनर हथेली के द्वारा यूनिवर्सल एनर्जी को मरीज में ट्रांसफर करते हैं। एनर्जी हीलिंग का उपयोग कई देशों में अलग-अलग रूपों में किया जाता है। रेकी शब्द दो जापानी शब्दों से बना है – ‘रेई’ जिसका अर्थ है “ईश्वर की बुद्धि या उच्च शक्ति” और ‘की’ जो “जीवन शक्ति ऊर्जा” है। तो रेकी वास्तव में “आध्यात्मिक रूप से निर्देशित जीवन शक्ति ऊर्जा है।”

रेकी थेरिपी को लेकर कई विवाद भी हुए हैं क्योंकि साइंस के हिसाब से यह कितनी असरकारक है साबित करना मुश्किल है। हालांकि, कई लोग जिन्होंने रेकी थेरिपी ली है उनका कहना है कि ये टेक्नीक काम करती है और इसकी पॉपुलैरिटी बढ़ रही है। अमेरिका में लगभग 12 लाख युवा हर साल रेकी या इसी तरह की कोई थेरिपी लेते हैं। 60 हॉस्पिटल्स अपने मरीजों को रेकी थेरिपी ऑफर करते हैं।

कई प्रकार की प्राकृतिक चिकित्सा इस विश्वास पर आधारित है कि प्रत्येक व्यक्ति के पास “बायोफिल्ड” है। आपके शरीर के ठीक बाहर एक ऊर्जा क्षेत्र है। जब इसके साथ कुछ गड़बड़ होता है, तो आप बीमार हो जाते हैं या ठीक महसूस नहीं करते हैं। रेकी, एक्यूपंक्चर, ताई ची, और योग सभी बायोफील्ड के विचार के आसपास केंद्रित हैं। वे दबाव, गति, या श्वास के माध्यम से इसके संतुलन को बहाल करने के लिए काम करते हैं।

और पढ़ें: कपिंग थेरिपी क्या है? जान लीजिए इसके फायदे

कैसे काम करती है ये थेरिपी?

कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि जब एक रेकी प्रोफेशनल आपके शरीर के ऊपर हाथ रखता है तो यह कमजोर बायोफील्ड को मजबूत बनाने में मदद कर सकता है। दूसरों का मानना है कि यह आपके शरीर को तनाव से मुक्त कराकर बेहतर महसूस कराता है। रेकी दर्द, नींद से जुड़ी समस्याएं, चिंता, डिप्रेशन, टेंशन, जी मिचलाना इसके अलावा कुछ लोग इसकी मदद से धीमी हार्ट रेट, लो ब्लड प्रेशर और स्ट्रेस हॉर्मोन में कमी का भी अनुभव करते हैं। इसके अलावा उनका इम्यून सिस्टम अच्छी तरह काम करने लगता है।

कई बार रेकी निम्न कंडिशन में भी मददगार साबित हो सकती है।

रेकी करवाने वाले लोग अक्सर निम्न अनुभव शेयर करते हैं।

  • रिफ्रेश फील करना है
  • सोच का स्पष्ट हो जाना
  • सिर दर्द का ठीक होना
  • कैंसर के मरीज जो इस थेरिपी का उपयोग करते हैं वे इसके बाद बेहतर महसूस करते हैं क्योंकि यह रिलैक्स होने में मदद करती है। इससे उनका डर और तनाव दूर होता है।

और पढ़ें: सॉल्ट थेरिपी (हेलो थेरिपी) है बड़े काम की चीज, जानें इसके फायदे

रेकी से जुड़ी रिसर्च में इस थेरिपी के पाए गए ये फायदे

2010 में की गई एक स्टडी के मुताबिक रेकी ट्रीटमेंट्स को डिप्रेशन से राहत के लिए प्लान किया गया था। रिचर्स में पाया गया एडल्ट्स पर रेकी थेरिपी दर्द, डिप्रेशन और एंजायटी से राहत दिलाने में इफेक्टिव है। इसमें शामिल हुए लोगों ने अपने शारीरिक लक्षणों और मूड में सुधार होने की बात कही थी। साथ ही उन्हें रिलैक्सेशन का अहसास हुआ और खुद की केयर करने की भावना भी पैदा हुई। हालांकि इस पर अभी और रिसर्च किए जाने की संभावना है।

 जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाता है

रेकी के सकारात्मक लाभ आपकी जीवन की गुणवत्ता को बढ़ा सकते हैं। 2016 के एक छोटे से अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि रेकी कैंसर से पीड़ित महिलाओं के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में सहायक थी। जिन महिलाओं ने रेकी की थी, उनके नींद के पैटर्न, आत्मविश्वास और अवसाद के स्तर में सुधार दिखा। उन्होंने शांत, आंतरिक शांति और विश्राम की भावना का उल्लेख किया। हालांकि, इन निष्कर्षों पर विस्तार करने के लिए बड़े अध्ययन की आवश्यकता है।

और पढ़ें: ईयर टिकल थेरिपी क्या है? जानें कैसे बढ़ती उम्र की टेंशन दूर करने में करती है मदद

रेकी थेरिपी कैसे दी जाती है?

सामान्य तौर पर नीचे बताई जा रही प्रॉसेस को रेकी थेरिपी के दौरान फॉलो किया जाता है। एक पूरे रेकी सेशन को कंप्लीट होने में 20-90 मिनिट लगते हैं।

  • जब आप किसी रेकी प्रोफेशनल के पास पहुंचते हैं तो वह आपको सबसे पहले पूरी प्रॉसेस के बारे में जानकारी देता है।
  • रेकी एक्सपर्ट आपसे यह भी पूछेगा कि आपके शरीर में ऐसी कोई जगह है जिस पर आप ज्यादा फोकस करना चाहते हैं।
  • साथ ही इस बात की भी जानकारी ली जाएगी कि बॉडी का कोई पार्ट छूने के लिए सेंसटिव तो नहीं साथ ही आपकी कोई इंजुरी तो नहीं हुई है।
  • इसके बाद आपको रेकी टेबल या मेट पर लेटने या चेअर पर बैठने के लिए कहा जाता है।
  • आपको एक कंबल से ढका जाता है (हर बार ऐसा जरूरी नहीं)।
  • रेकी प्रोफेशन आपकी बॉडी पर अलग-अलग पॉजिशन और सीक्वेंस में हाथ रखते या घुमाते हैं।
  • मसाज की तरह रेकी में फिजिकल एक्टिविटीज ज्यादा नहीं होती हैं। साथ ही कपड़े उतारने की जरूरत नहीं होती।
  • बॉडी के प्राइवेट पार्ट्स को टच नहीं किया जाता।
  • सेशन के दौरान आपको ठंडा या गर्म का अहसास हो सकता है। आपको गुदगुदी या पेट में कुलबुलाहट महसूस हो सकती है।

और पढ़ें: साउंड थेरिपी (Sound Therapy) क्या है?

रेकी करवाने से पहले इन बातों का ध्यान रखें

  1. रेकी चिकित्सा का एक प्राकृतिक रूप है, जो अच्छी भावनाओं और अच्छी एनर्जी को बढ़ावा देने के लिए किया जाता है। इसमें कोमल स्पर्श का उपयोग होता है, तीव्र या आक्रामक स्पर्श का नहीं।
  2. रेकी थेरिपी का लाभ लेने से पहले प्रोफेशनल की विश्वसनीयता, प्रशिक्षण और पेशेवर एसोसिएशन की सदस्यता के बारे में सवाल जरूर करें।
  3. किसी भी ऐसे रेकी थेरिपिस्ट पर भरोसा न करें जो कहते हैं कि वे गंभीर बीमारी का इलाज कर सकते हैं या आपको अन्य उपचारों को छोड़ने के लिए कहते हैं।

रेकी प्रोफेशनल से अपॉइंटमेंट लेते वक्त रखें इन बातों का ध्यान

अगर आप रेकी का फायदा लेने के लिए इस ट्रीटमेंट को लेने के बारे में सोच रहे हैं तो रेकी प्रोफेशनल का चुनाव करते वक्त निम्न बातों का ध्यान रखें।

  • एक रेकी प्रोफेशनल वह होता है जिसने कम से कम सेकेंड लेवल का रेकी कोर्स कंप्लीट किया हो।
  • एक रेकी प्रोफेशनल के पास प्राथमिक चिकित्सा कौशल और प्रोफेशनल ऑर्गनाइजेशन की सदस्यता होनी चाहिए।
  • अधिकांश देशों में रेकी प्रोफेशनल्स के लिए प्रोफेशनल रेकी एसोसिएशन है। इनके रेकी प्रेक्टिस और ट्रीटमेंट को लेकर नियम होते हैं जिनका पालन प्रेक्टिशनर्स को करना होता है।

रेकी प्रेक्टिशनर के बारे में पता करने का बेहतर तरीका इसके बारे में दोस्तों या परिचितों से पूछना है। इसके अलावा आप रेकी एसोसिएशन से भी संपर्क कर सकते हैं। इनके पास प्रमुख प्रेक्टिशनर्स की जानकारी होती जो रेकी प्रोफेशनल्स के मापदंडों को पूरा करते हैं।

क्या रेकी के कुछ साइड-इफेक्ट्स भी हैं?

रेकी के कोई भी गंभीर साइड-इफेक्ट्स नहीं है। जो लोग पहले कभी किसी ट्रॉमा के शिकार रहे हैं ( जैसे अंधेरे कमरे में लेटना और किसी का एकदम नजदीक होना) तो वे लोग इससे थोड़ा अनकंफर्टेबल हो सकते हैं। रेकी में किसी डॉक्टर द्वारा अनुमोदित उपचार योजना को प्रतिस्थापित नहीं किया जाता है।

हमें उम्मीद है कि रेकी इसके फायदे और इससे जुड़ी प्रॉसेस को अब आप समझ गए होंगे। आपको बता दें कि रेकी थेरिपी का उपयोग खुद के लिए भी किया जा सकता है। इसमें किसी प्रेक्टिशनर की जरूरत नहीं होती है। घर पर इस थेरिपी को लिया जा सकता है। इसकी जानकारी आप किसी रेकी प्रोफेशनल से ले सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी प्रकार की चिकित्सा सलाह, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

टीवी देखते हुए भी कर सकते हैं बेस्ट एक्सरसाइज, जानिए कौन-कौन सी वर्कआउट है बेस्ट

बेस्ट एक्सरसाइज करने के लिए जिम जाने की जरूरी नहीं, टीवी देखते हुए समय निकाल करें कुछ एक्सरसाइज, जानें एक्सरसाइज टिप्स और उससे जुड़ी खास बातें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 20, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें

ईयर टिकल थेरिपी क्या है? जानें कैसे बढ़ती उम्र की टेंशन दूर करने में करती है मदद

कई रिसर्च में इस बात का दावा किया जा चुका है कि ईयर टिकल थेरिपी बढ़ती उम्र के निशान को आसानी से रोक सकती है। ईयर टिकल थेरिपी की मदद से एजिंग की प्रक्रिया को धीमा किया जा सकता है।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
ब्यूटी/ ग्रूमिंग, स्वस्थ जीवन मई 19, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

डांस बीट्स पर थिरकने के एक नहीं ब्लकि अनेक हैं फायदे

डांस बीट्स के फायदे क्या हैं, डांस बीट्स के फायदे इन हिंदी, नाचने के फायदे क्या है, डांस करना कैसे हो सकता है फायदेमंद, dance beats ke fayde in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Suniti Tripathy
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

वजन घटाने के साथ ही बॉडी को टोन्ड करती है फ्रॉग जंप एक्सरसाइज

फ्रॉग जंप एक्सरसाइज से बस कुछ ही हफ्तों में एक्स्ट्रा फैट कम हो जा सकता और पतली कमर का आपका सपना पूरा हो सकता है। तो देर किस बात की आइए जान लेते हैं इस एक्सरसाइज को करने का तरीका।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Kanchan Singh
फिटनेस, स्वस्थ जीवन मई 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें