पानी से जुड़े फैक्टस, जो शायद नहीं जानते होंगे आप

By Medically reviewed by Dr. Pooja Bhardwaj

हम कहते तो हैं कि जल ही जीवन है पर शायद इसके महत्व को समझते नहीं इसलिए इसके प्रति कोई गंभीरता नहीं दिखाते। पानी हमारे लिए कितना जरूरी है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हम खाने के बिना थोड़ा समय गुजरा कर सकते हैं पर पानी के बिना नहीं। खैर पानी का महत्त्व अपनी जगह है पर आज हम बात करेंगे पानी से जुड़े फैक्ट्स के बारे में जिनके बारे में शायद आपने पहले नहीं सुना होगा।

पानी से जुड़े फैक्ट्स यहां जानें

पानी से जुड़े फैक्ट्स में सबसे सामान्य फैक्ट यह है कि पानी मनुष्य के शरीर के वजन का लगभग 70% होता है। लेकिन, इसका यह मतलब नहीं है कि वजन कम करने के लिए पानी पीना बंद कर दें। आपके मस्तिष्क के टोटल टिश्यू का लगभग 80% पानी से बना है। वहीं साइटिस्ट कहते हैं कि प्रतिदिन शरीर के लिए आवश्यक पानी की औसत मात्रा पुरुषों के लिए लगभग 3 लीटर (13 गिलास ) और महिलाओं के लिए 2.2 लीटर (9 गिलास ) है। जितनी देर तक आप प्यास को महसूस करते हैं उतनी देर में आपका शरीर अपने कुल पानी का 1 प्रतिशत से अधिक खो चुका होता है। इसलिए ज्यादा देर तक प्यासे बिल्कुल भी न रहे यह डिहाइड्रेशन को न्योता है।

यह भी जान लें

  • पानी पीने से मेटाबॉलिज्म बेहतर होता है जो वजन कम करने में भी सहायक है। यह कैलोरी बर्न करने में भी मदद करता है।
  • औसत व्यक्ति लगभग एक महीने तक भोजन के बिना रह सकता था, लेकिन पानी के बिना हम केवल एक सप्ताह ही जीवित रह सकते हैं उसमें भी स्थिति बहुत बिगड़ जाती है। सोचिए पानी हमारे लिए कितना जरूरी है।
  • अच्छा हाइड्रेशन गठिया को रोक सकता है। शरीर में पानी की भरपूर मात्रा होने से जोड़ों में प्रेक्शन कम होता है, जिससे गठिया होने की संभावना कम होती है।
  • प्रतिदिन भरपूर मात्रा में पानी पीने से हृदय रोग और कैंसर को कम करने में मदद मिल सकती है। पानी आपके शरीर से वेस्ट प्रोडक्ट को बाहर निकालने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें : पानी में सेक्स करने का बना रहे हैं प्लान, तो पहले पढ़ें यह वॉटर सेक्स गाइड

  • पानी पीना ओरल कैविटी को भी कंट्रोल करता है क्योंकि पानी से लार का उत्पादन ज्यादा होता है जो आपके मुंह और दांतों को साफ रखता है।

पाने से जुड़े फैक्ट्स और हमारी पृथ्वी

पृथ्वी पर पानी की उतनी ही मात्रा है जितनी उसके के बनने पर थी। आप जो पानी पीते हैं उनमें वही मॉलेक्यूल होते हैं जिसे डायनासोर पिया करते थे। यह तो हम सभी जानते हैं कि पृथ्वी का 70 प्रतिशत भाग पानी से ढका हुआ है, जिसमें से मात्र 2 प्रतिशत ही फ्रेश वॉटर यानी पीने योग्य है। लेकिन इस 2 प्रतिशत में से 1.6 प्रतिशत पानी पोलर आइस कैप्स और ग्लेशियर के रूप में है। यानी हमारे पास पीने लायक मात्र 0.4 प्रतिशत पानी है जिसपर पूरी पृथ्वी की खरबों जनता निर्भर है।

यह भी पढ़ें : जानिए हमें एक दिन में कितना पानी पीना चाहिए

यह भी जान लें

  • वर्ल्ड बैंक के मुताबिक 2025 तक दुनिया की दो तिहाई जनसंख्या के पास पीने के पर्याप्त पीने का पानी नहीं होगा।
  • हर साल गंदा पानी पीने से या पानी संबंधित बीमारियों से 36 लाख लोगों की मौत हो जाती है।
  • वहीं पानी संबंधित बीमारियों से हर 15 सेकेंड में एक बच्चे की मौत होती है।

पानी से जुड़े और रोचक तथ्य

  • पानी से जुड़े रोचक तथ्य में से एक यह है कि दुनिया की सबसे बड़ी नदी नाइल है, जिसके कुल लंबाई 6649.809 किलोमीटर, यानी लगभग भारत से ऑस्ट्रेलिया के बराबर की दूर यह तय करती है।
  • आज भी दुनिया में लाखों लोगों के पास शौचालय नहीं है पर सबके पास मोबाइल है।
  • पर्याप्त पानी की सप्लाई करके दुनिया की 10 प्रतिशत बीमारियों को कम किया जा सकता है।
  • पानी से जुड़े फैक्ट्स में से यह फैक्ट आपको हैरान कर देगा। दुनिया की जितनी जनसंख्या पैक बॉटल खरीदकर पानी पीने में जितना खर्च करती है, उतने में 78 करोड़ लोगों के लिए पानी साफ किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : नींबू पानी से दिन की शुरुआत करती हैं मलाइका अरोड़ा, जानिए उनके फिटनेस सीक्रेट

पानी से जुड़े फैक्ट्स को ऐसे समझें

पानी से जुड़े फैक्ट्स आप ठीक से समझना चाहते हैं तो इस उदाहरण पर ध्यान दें। मान लें कि अगर पृथ्वी 28 इंच के डायमीटर वाले ग्लोब की तरह है, तो इसमें पानी एक कप बराबर है। वहीं पीने लायक पानी कप में मौजूद पानी का 0.03 प्रतिशत, जोकि नदी और तालाबों में मौजूद है। शायद अब आप पानी से जुड़े फैक्ट्स की मदद से पानी की महत्वता समझ रहे होंगे।

यह भी पढ़ें : वजन कम करना चाहते हैं तो ट्राई करें जीरे का पानी

पानी के फ्रेश सोर्स

  • ग्राउंडवॉटर – अब जब आपने पाने से जुड़े फैक्ट्स जान लिए हैं, तो पानी के फ्रेश सोर्स के बारे में भी जान लें। गहराईयों में मौजूद ये पानी कई तरह के मिनरल्स से युक्त होता है।
  • सतह का पानी – जो भी पानी बारिश के दौरान गहराईयों में न जाकर सतह पर ही बना रहता है, जैसे- नदी, तालाब आदि।
  • बर्फ – सतह से 4 इंच नीचे मौजूद बर्फ में उतनी ही मात्रा में बारिश का पानी होता है, जितनी वो मोटी होती है।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा, उपचार और निदान प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें :-

आखिर क्यों लगता है ऊंचाई, पानी और अंधेरे से डर?

Cocoa: कोकोआ क्या है?

Coconut Water: नारियल पानी क्या है?

जानिए क्या है जापानी वॉटर थेरिपी, कैसे करती है शरीर को फायदा?

Share now :

रिव्यू की तारीख जुलाई 11, 2019 | आखिरी बार संशोधित किया गया दिसम्बर 24, 2019

सूत्र
शायद आपको यह भी अच्छा लगे