Carpal Tunnel Syndrome: कार्पल टनल सिंड्रोम क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

परिभाषा

कार्पल टनल सिंड्रोम (Carpal Tunnel Syndrome) क्या है?

कार्पल टनल सिंड्रोम (सीटीएस) हाथ और कलाई को प्रभावित करने वाली एक बीमारी है। कार्पल टनल (कलाई से बांह तक जाने वाली एक नलिका) में किसी नस के दबने से कार्पल टनल सिंड्रोम होता है। जिसकी वजह से आपके हाथ और कलाई में झुनझुनी, सुन्नता हो सकती है या कलाई के मध्य भाग से लेकर आपकी बांह तक में तेज दर्द भी हो सकता है।

और पढ़ें : Benign lipoma: बिनाइन लिपोमा क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

क्या कार्पल टनल सिंड्रोम (Carpal Tunnel Syndrome) एक आम बीमारी है?

यह सिंड्रोम आम है, खासतौर पर जो लोग ट्रांसक्रिप्शन, कैशियर, कसाई और चौकीदारी का काम करते हैं, उनके लिए ये विकार सामान्य है। इसके कारणों को नियंत्रित कर के विकार से निपटा जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने डॉक्टर से सलाह लें।

और पढ़ें : Klinefelter syndrome: क्लाइनेफेल्टर सिंड्रोम क्या है?

लक्षण

कार्पल टनल सिंड्रोम (कलाई में झनझनाहट) के क्या लक्षण हैं?

दर्द, झुनझुनी, सुन्नता और हाथों में कमजोरी महसूस कार्पल टनल सिंड्रोम के संकेत और लक्षण हैं। कुछ लोगों को ऊपरी बांह और कंधे में असुविधा महसूस होती है। हालत अक्सर रात में ज्यादा खराब हो जाती है और आपकी नींद भी प्रभावित होती है।

और पढ़ें : Head Injury : हेड इंजरी या सिर की चोट क्या है?

कलाई में झनझनाहट:   मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

प्रारंभिक निदान और उपचार इस स्थिति को बिगड़ने से रोक सकते हैं, इसलिए जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आपको निम्न में से कोई भी संकेत हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। हर किसी का शरीर अलग तरीके से कार्य करता है। अपनी स्थिति के बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श करना सबसे अच्छा होता है।

और पढ़ें :Caffeine Overdose: कैफीन का ओवरडोज क्या है?

कारण

कलाई में झनझनाहट के क्या कारण हैं ?

  • कार्पल टनल सिंड्रोम में, कलाई में सूजन के कारण कार्पल टनल पतली हो जाने की वजह से मध्य नाड़ी पर दबाव पड़ता है, जिससे दर्द और अन्य लक्षण दिखाई देते हैं।
  • हाथ और कलाई को एक ही तरीके से बार-बार हिलाना, जैसे कि टाइप करना, लिखना और कंप्यूटर के माउस का उपयोग करना, सीटीएस का कारण बन सकता है।
    गर्भवती महिलाओं को अक्सर कार्पल टनल सिंड्रोम होता है, क्योंकि उनके हार्मोन बदलते हैं। कई बीमारियां जैसे कि मांसपेशियों और हड्डियों के विकार, अंडरएक्टिव थायरॉइड (हायपोथायराइडिज्म) और मधुमेह आदि सीटीएस का खतरा बढ़ा सकते हैं।

और पढ़ें : Nephrotic syndrome: नेफ्रोटिक सिंड्रोम क्या है?

रिस्क फैक्टर

कार्पल टनल सिंड्रोम (Carpal Tunnel Syndrome) का खतरा किन लोगों को ज्यादा होता है?

कलाई में झनझनाहट के लिए कई जोखिम कारक हैं, जैसे:

  • कार्पल टनल सिंड्रोम आमतौर पर महिलाओं में अधिक आम है।
  • डायबिटीज जैसी पुरानी बीमारियां  मध्य नाड़ी के साथ-साथ अन्य नसों को भी क्षति पहुंचा सकती हैं।
  • सूजन – रूमेटॉइड आर्थराइटिस जैसी सूजन से जुड़ी बीमारियां कलाई के टेंडॉन (हड्डी को मांसपेशियों से जोड़ने वाले टिश्यू ) के आस-पास की परतों को प्रभावित कर सकती हैं और मध्य नाड़ी पर दबाव डाल सकती हैं।
  • शरीर के तरल पदार्थ के संतुलन और बदलाव।
  • रजोनिवृत्ति, मोटापा, थायरॉइड की बीमारी और गुर्दे की विफलता जैसी कुछ स्थितियां, कार्पल टनल सिंड्रोम की संभावना को बढ़ा सकती हैं।
  • यदि आप वाइब्रेटिंग टूल्स (Vibrating Tools) या असेंबली लाइन में काम करते हैं, जहां कलाइयों को बार-बार मोड़ना पड़ता है।

यहां ही गई जानकारी किसी भी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें : Turner syndrome: टर्नर सिंड्रोम क्या है?

निदान और उपचार

कार्पल टनल सिंड्रोम (Carpal Tunnel Syndrome) का इलाज कैसे किया जाता है?

इसके कारणों को जानने के लिए डॉक्टर आपकी कलाई की जांच कर सकते हैं। कलाई की नसों और मांसपेशियों की जांच के लिए विशेष परीक्षण (ईएमजी) भी किया जा सकता है।

  • जीवन शैली में बदलाव है: सीटीएस के जो भी कारण हैं उनको करना तुरंत बंद करें। यह परिवर्तन थोड़ा कठिन हो सकता है। इसके लिए काम के बीच-बीच में थोड़ा-सा रेस्ट लें, कलाई पैड का उपयोग करें ताकि आपकी कलाई बेहतर स्थिति में हो सके।
  • उपचार के तौर पर कलाई पर सख्त पट्टी बाँधी जा सकती है, दवाएं ली जा सकती हैं या ऑपरेशन किया जा सकता है। रात में कलाई पर पट्टी बांधना ज्यादा फायदेमंद होता है लेकिन कुछ लोग दिन के दौरान भी पट्टी पहनते हैं। दवाएं सूजन को कम करके थोड़े समय के लिए राहत देती हैं। कलाई में दवा इंजेक्ट भी की जा सकती है।

कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी तंत्रिका पर दबाव को कम करने का सबसे अच्छा तरीका है। आमतौर पर सर्जरी के द्वारा आप जल्दी ठीक हो जाते हैं, लेकिन नए लक्षणों से बचने के लिए अपनी कलाई को कम से कम 6 सप्ताह तक आराम देना चाहिए। कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी को करने में लगभग 15 से 30 मिनट लगते हैं। जैसा की पहले ही बताया जा चुका है कि कार्पल टनल सिंड्रोम सर्जरी दो प्रकार की है- ओपन कार्पल टनल सर्जरी और एंडोस्कोपी कार्पल टनल सर्जरी। दोनों सर्जरी में सबसे पहले एनेसेथेटिस्ट आपकी कलाई को सुन्न करते हैं। ओपन सर्जरी में सर्जन कलाई पर एक लंबा चीरा या कट लगाते हैं। इसके बाद कलाई के अंदर से फ्लेक्सर रेटिनाक्यूलम को काट कर निकाल देते हैं।

वहीं, एंडोस्कोपी कार्पल टनल सर्जरी में सर्जन कलाई में एक छोटा सा चीरा लगाते हैं। इसमें एंडोस्कोप (Endoscope) डालते हैं। एंडोस्कोप में एक छोटा कैमरा लगा होता है जो मॉनिटर में तस्वीरों को भेजता है। इसके जरिए ही सर्जन फ्लेक्सर रेटिनाक्यूलम  को काट कर निकाल देते हैं। फिर एंडोस्कोप को बाहर निकाल कर चीरे पर टांका लगा देते हैं। इसके बाद टांके पर ड्रेसिंग कर देते हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें :Chlamydia: क्लैमाइडिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

कार्पल टनल सिंड्रोम से निपटने के लिए जीवनशैली में क्या बदलाव या घरेलू उपचार करने चाहिए?

  • डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाओं को समय से लें,
  • उपचार में किसी प्रकार की देरी न करें,
  • कलाई और हाथ की एक्सरसाइज के लिए दिन के दौरान कलाई की पट्टी (splints) को हटा दें।
  • अपनी कलाई को बर्फ से लगभग 10 से 15 मिनट तक एक घंटे में दो बार सिंकाई करें।
  • रात में होने वाले दर्द से बचने के लिए अपने हाथ को बेड के बगल में लटका कर सोएं।
  • कलाइ पर स्पलिंट बांधें। ये आपको रात में होने वाले दर्द से राहत देता है। इसके साथ ही कलाई में लचक आने से भी बचता है। 
  • नॉन स्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लमेटरी ड्रग (NSAID) लें, जैसे- आईब्यूप्रोफेन या नैप्रॉक्सेन दवाएं कार्पल टनल सिंड्रोम से दर्द में राहत देती है। 

उपरोक्त जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Toxic Shock Syndrome : टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम क्या है? जानिए इसके कारण और उपचार

जानिए टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम क्या है in hindi, टॉक्सिक शॉक सिंड्रोम के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Toxic shock syndrome को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 24, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Chronic Fatigue Syndrome (CFS): क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और उपचार

जानिए क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम in Hindi, क्रॉनिक फटीग सिंड्रोम के कारण, लक्षण और उपचार, Chronic Fatigue Syndrome (CFS) के घरेलू उपचार, Chronic Fatigue Syndrome के लिए टेस्ट।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Poonam
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोउवाडे सिंड्रोम क्या है, पिता पर क्या पड़ता है असर?

कोउवाडे सिंड्रोम की जानकारी in hindi. सिंपथेटिक प्रेग्नेंसी या कोउवाडे सिंड्रोम ऐसी अवस्था है जिसमें पुरुष बच्चा होने के लक्षणों को महसूस करता है। इस आर्टिकल में जानिए इस सिंड्रोम के लक्षण और यह फॉल्स प्रेग्नेंसी से कितना अलग है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी जनवरी 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Cri Du Chat Syndrome : क्री दू शात सिंड्रोम क्या है? जानिए इसके कारण, लक्षण और इलाज

जानिए क्री दू शात सिंड्रोम की जानकारी in hindi, निदान और उपचार, क्री दू शात सिंड्रोम के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फ़ेक्टर, Cri du chat syndrome का खतरा, जानिए जरूरी बातें |

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z नवम्बर 29, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

ease Carpal Tunnel Syndrome pain - प्रेग्नेंसी में कार्पल टर्नल सिंड्रोम

प्रेग्नेंसी में कार्पल टर्नल सिंड्रोम क्यों होता है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में रोने के कारण

क्या-क्या हो सकते हैं प्रेग्नेंसी में रोने के कारण?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 17, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
impingement syndrome-इम्पिन्गेमेंट सिंड्रोम

Impingement syndrome: इम्पिन्गेमेंट सिंड्रोम क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Siddharth Srivastav
प्रकाशित हुआ अप्रैल 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
मेटाबोलिक सिंड्रोम-Metabolic syndrome

Metabolic syndrome: मेटाबोलिक सिंड्रोम क्या है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Poonam
प्रकाशित हुआ अप्रैल 9, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें