Nephrostomy: नेफ्रोस्टॉमी क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 28, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

नेफ्रोस्टॉमी (Nephrostomy) क्या है?

सामान्य तौर पर हम पेशाब मूत्रनली नाम की छोटी मजबूत नलियों के माध्यम से करते हैं, जो हमारी किडनी से होते हुए मूत्राशय में जाता है। कभी-कभी इसकी एक या दोनों नलियां ब्लॉक हो जाती हैं। ऐसी स्थिति में नेफ्रोस्टॉमी की प्रक्रिया से कैथेटर (ट्यूब) का इस्तेमाल करके किडनी से मूत्र को निकालने की प्रक्रिया की जाती है। इसकी प्रक्रिया रेडियोलॉजिस्ट (एक्स-रे और स्कैन के एक्सपर्ट) की देखरेख में की जाती है।

आमतौर पर शरीर के बाहर से गुर्दे की श्रोणि (गुर्दे का वह भाग जो मूत्र एकत्र करता है) को खोलने के लिए सर्जरी की जाती है। जिसे ही नेफ्रोस्टॉमी की प्रक्रिया कहा जाता है। यह एक अवरुद्ध यानी ब्लॉक हुए गुर्दे से मूत्र को बाहर निकालने या शरीर के बाहर एक थैली में अवरुद्ध मूत्रवाहिनी के लिए भी किया जा सकता है। नेफ्रोस्टॉमी की प्रक्रिया के लिए एंडोस्कोप (एक कैमरे से जुड़ी पतली, हल्की ट्यूब) का उपयोग किया जाता है। इसकी मदद से गुर्दे को सर्जरी के दौरान देखा जा सकता है। इसकी मदज से एंटीकैंसर दवाओं को सीधे गुर्दे में डाला जा सकता है या गुर्दे की पथरी यानी किडनी स्टोन का उपचार भी किया जा सकता है।

नेफ्रोस्टॉमी की जरूरत कब होती है?

ऐसे लोग जिन्हें कैंसर है और कैंसर की वजह से उनकी एक या दोनों मूत्रनली ब्लॉक हो गई है, तो उन्हें इस सर्जरी की जरूरत हो सकती है। इसके अलावा नेफ्रोस्टॉमी की जरूरत कई स्वास्थ्य स्थितियों में की जा सकती हैं। हालांकि, मूत्रवाहिनी के बाधित होने और मूत्रत्याग से जुड़ी समस्याओं के उपचार और निदान के लिए इसका इस्तेमाल करना सबसे सुरक्षित और आसान विधि मानी जाती है। नेफ्रोस्टॉमी का उपयोग विभिन्न एन्ट्रोग्रेड एंडोरोग्लिक प्रक्रियाओं के लिए ऊपरी मूत्र पथ तक पहुंच प्राप्त करने के लिए भी किया जा सकता है, जैसे कि इंट्राकोर्पोरियल लिथोट्रिप्सी, किडनी स्टोन की स्थिति, मूत्रवाहिनी के एन्टोग्रोग रेडियोलॉजिक अध्ययन और डबल-जे स्टेंट प्लेसमेंट।

यह भी पढ़ें: Anal Fistula Surgery : एनल फिस्टुलेक्टोमी सर्जरी क्या है?

जोखिम

नेफ्रोस्टॉमी के क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

कभी-कभी इसकी समस्या के उपचार के लिए सर्जरी की जा सकती है। हालांकि, इसमें समय लग सकता है और नेफ्रोस्टोमी आपकी किडनी को सही से काम करने में मदद करेगा। कुछ लोगों को केवल थोड़े समय के लिए नेफ्रोस्टोमी की जरूरत हो सकती है, जबकि कुछ लोगों को यह ट्यूब स्थायी रूप से लगाई जा सकती है। आपके लिए किस तरह की प्रक्रिया सबसे उचित होगी, सर्जरी से पहले आपका डॉक्टर आपको इसके बारे में अधिक जानकारी देंगे।

इसलिए यह सर्जरी करवाने से पहले इससे होने वाले लाभ और संभावित जोखिमों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर या सर्जन से इसके बारे में अधिक जानकारी लें।

यह भी पढ़ें: De Quervain Surgery : डीक्वेवेंस सर्जरी क्या है?

प्रक्रिया

नेफ्रोस्टॉमी के लिए मुझे खुद को कैसे तैयार करना चाहिए?

आपको अपनी स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए। मौजूदा समय में आप किन दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं, इसकी पूरी जानकारी अपने डॉक्टर को देनी चाहिए। साथ ही, अगर आपको किसी तरह की एलर्जी है तो उसकी जानकारी भी अपने डॉक्टर को दें।

सर्जरी से पहले आपको किस तरह की तैयारी करनी चाहिए, इसके बारे में आपका डॉक्टर आपको जरूरी दिशा-निर्देश देंगे। इस दौरान आपको यह भी बताया जाएगा कि सर्जरी से कितने घंटे पहले आपको खाना-पीना बंद करना चाहिए।

नेफ्रोस्टॉमी में होने वाली प्रक्रिया क्या है?

इसकी प्रक्रिया के दौरान रेडियोलॉजिस्ट आपके बैक के जरिए कैथेटर अंदर डालेंगे और आपकी किडनी में सुई और गाईडवायर (पतली लचीली तार) डालेंगे। जब रेडियोलॉजिस्ट को लगेगा कि सुई अपने सही स्थान पर है, तब वे उसे कैथेटर की जगह पर लगा देंगे। कैथेटर में प्लास्टिक का एक बैग लगा हुआ होगा जिसमें आपके पेशाब को इक्ठ्ठा किया जाएगा।

नेफ्रोस्टॉमी की प्रक्रिया के लिए आपको अपने पेट के बल लेटना होगा। इस दौरान आपको आमतौर पर एक तरफ थोड़ा तकिया पर उठाया जाता है। सर्जरी की प्रक्रिया के दौरान आपको दर्द का अनुभव न हो इसके लिए सर्जन आपको इंजेक्शन के माध्ययम से ऐनेस्ठीशिया की खुराक देंगे। इसके अलावा शरीर के जिस हिस्से में भी कैथेटर प्रवेश करने की जरूरत होगी, उसके आस-पास की त्वचा के क्षेत्र को सुन्न करने के लिए भी सर्जरी की प्रक्रिया से पहले ऐनेस्थेशिया का इस्तेमाल किया जाएगा।

नेफ्रोस्टॉमी की प्रक्रिया पूरी करने के लिए अल्ट्रासाउंड, एक्स-रे या सीटी के जरिए सर्जन इसकी प्रक्रिया पर निगरानी रखेंगे। इसकी देखरेख में ही सर्जन इंटरवेंशनल रेडियोलॉजिस्ट त्वचा के माध्यम से और गुर्दे में एक सुई डालेंगे और फिर सुई के माध्यम से एक तार डालेंगे और तार के ऊपर गुर्दे में नेफ्रोस्टोमी ट्यूब डाल देंगे।

नेफ्रोस्टॉमी के बाद मुझे खुद का ख्याल कैसे रखना चाहिए?

  • इसकी प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपको कुछ घंटों के लिए बिस्तर पर लेटे रहना होगा और आराम करना होगा।
  • जब तक ब्लॉक हुई पेशाब की नलियों के कारण का इलाज नहीं किया जाता है तब तक आपको कैथेटर की जरूरत होती है।
  • प्रक्रिया पूरी होने के कुछ ही घंटो बाद आप घर जा सकेंगे।
  • अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया अपने डॉक्टर या सर्जन से इसके बारे में बात करें।

यह भी पढ़ें: Cholesteatoma surgery : कोलेस्टेटोमा सर्जरी क्या है?

रिकवरी

नेफ्रोस्टॉमी के बाद क्या होता है?

नेफ्रॉस्टोमी की प्रक्रिया से समस्याओं का जोखिम कम रहता है। हालांकि, कुछ जोखिम देखे जा सकते हैंः

  • ब्लीडिंग होना
  • इंफेक्शन होना
  • पेशाब का लीक होना
  • एलर्जी होना
  • जहां पर सुई लगाई गई हो, उस स्थान के आस-पास की त्वचा में छेद होना
  • नेफ्रोस्टॉमी की प्रक्रिया असफल होना
  • रेडीएशन इक्स्पोशर

इसकी प्रक्रिया के बाद आपके डॉक्टर बहुत ही सावधानी और बारीकियों से आपके स्वास्थ्य की निगरानी करेंगे। किसी भी तरह से लक्षण होने पर तुरंत उसका उपचार कर सकते हैं।

और पढ़ेंः Lumbar Discectomy Surgery: लम्बर डिस्केक्टॉमी सर्जरी क्या है?

नेफ्रोस्टॉमी के जोखिम क्या हैं?

नेफ्रोस्टॉमी सर्जरी के बाद कुछ रोगी गुर्दे से मामूली रक्तस्राव की शिकायत महसूस कर सकते हैं। हालांकि, आमतौर पर किडनी से खून के बहाव की समस्या बहुत ही कम हो सकती है, इसकी संभावना 5 फिसदी से भी कम रोगियों में देखी जाती है। वहीं, लगभग 500 में से कम से कम एक रोगी नेफ्रोस्टोमी की सर्जरी के दौरान बट के घायल होने की भी समस्या हो सकती है। हालांकि इस सर्जरी की प्रक्रिया के बाद अस्थायी समय के लिए निम्न तापमान का बुखार होना आम स्थिति होती है, लगभग 1 से 3 फीसदी रोगियों में उच्च तापमान का बुखार हो सकता है।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो रही है, तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

साल ट्री के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Sal Tree

जानिए साल ट्री (Sal Tree) की जानकारी in hindi, फायदे, साल ट्री उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कितना लें, Sal Tree डोज, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

गोखरू के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Gokhru (Gokshura)

जानिए गोखरू की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, गोखरू उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कितना लें, Gokshura डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां, गोखरू का पौधा कैसा होता है।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जून 1, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

ऑस्टॉमी सर्जरी के बाद सेक्स कर सकते हैं या नहीं?

ऑस्टॉमी सर्जरी के बाद सेक्स कर सकते हैं? सर्जरी के बाद सेक्स करते वक्त किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? इस सभी बातों का जबाव जानने के लिए पढ़ें ये आर्टिकल।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Manjari Khare

सेक्स वर्कर्स के लिए भी जरूरी है हाइजीन, अपनाएं ये टिप्स

सेक्स हाइजीन सिर्फ कपल्स के लिए ही नहीं, बल्कि सेक्स वर्कर्स के लिए भी काफी जरूरी है। बेहतर स्वास्थ्य हर इंसान की बुनियादी जरूरत है, इसलिए इन टिप्स के बारे में जानते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal

Recommended for you

What is Oral sex - ओरल सेक्स क्या है

ओरल सेक्स क्या है? युवाओं को क्यों है पसंद?

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Standing sex- स्टैंडिंग सेक्स

स्टैंडिंग सेक्स एंजॉय करना चाहते हैं तो इन बातों का रखें ध्यान

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Kanchan Singh
Published on जून 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Sex after marriage- शादी के बाद सेक्स

शादी के बाद सेक्स में कैसे लगाएं तड़का, जानें

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Surender Aggarwal
Published on जून 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Cifran CTH सिफ्रान सीटीएच

Cifran CTH : सिफ्रान सीटीएच क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
Published on जून 15, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें