गणेश चतुर्थी 2020 : गणेश चतुर्थी को लेकर सरकार ने जारी किए ये गाइडलाइन, जानें क्या नहीं करना होगा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अगस्त 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

महाराष्ट्र सहित पूरे देश में हर साल धूमधाम से मनाए जाने वाले गणेश चतुर्थी के त्योहार की रौनक इस बार कुछ फीकी पड़ गई है। साल 2020 में हर बड़ा त्योहार लोग घरों के अंदर ही मनाने पर मजबूर है। वहीं, भारत में गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकारों ने इस साल गणेश चतुर्थी के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। दस दिनों तक चलने वाले गणेश चतुर्थी उत्सव में सड़क के पंडालों में सर्वजन मंडल की मूर्तियां 22 अगस्त को स्थापित होंगी। जानते हैं, गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए विभिन्न राज्यों ने क्या गाइडलाइन्स जारी की हैं?

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : महाराष्ट्र

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

महाराष्ट्र सरकार ने सभी ‘मंडलों’ के लिए गणेशोत्सव मनाने के लिए संबंधित नगर पालिका या लोकल अथॉरिटी से परमिशन लेना अनिवार्य कर दिया है।

  • गणेश मूर्ति की ऊंचाई को भी निर्धारित किया है। सरकार की गाइडलाइन के अनुसार मूर्ति की ऊंचाई 4 फीट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए है। यहां तक कि घर पर स्थापित की जाने वाली मूर्ति भी दो फीट से ज्यादा ऊंची नहीं हो सकती है।
  • गणेश मंडलों को मूर्ति विसर्जन की अनुमति नहीं होगी। पूजा साधारण ढंग से और कम से कम सजावट के साथ की जाएगी।
  • सरकार ने कहा है कि मूर्तियों के आगमन और विसर्जन के लिए जुलूसों की अनुमति नहीं होगी क्योंकि इससे भीड़ ज्यादा जमा होती है।
  • श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखते हुए मास्क लगाना जरूरी होगा। इसके अलावा मंडपों में सैनिटाइजर की भी व्यवस्था होनी चाहिए।
  • पंडालों पर सजे गणपति मंडप को बीच-बीच में सैनिटाइज करते रहना जरूरी होगा। इसके साथ ही थर्मल स्क्रीनिंग का भी इंतजाम होना चाहिए।

और पढ़ें : गणेश चतुर्थी और आने वाले त्योहारों को बनाएं यादगार, घर पर बनाएं शुगर फ्री मिठाइयां

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : दिल्ली/ एनसीआर

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

आपको बता दें कि दिल्ली में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या बढ़कर लगभग 1.56 लाख हो गई है। दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को मद्देनजर रखते हुए दिल्ली गवर्नमेंट ने भी अपनी गाइडलाइन्स जारी की हैं। गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस के लिए जारी दिशानिर्देश-

  • दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (Delhi Pollution Control Committee) ने कहा कि इस साल राजधानी में गणेश चतुर्थी पर सार्वजनिक स्थानों पर कोई बड़ी सभा, कम्युनिटी सेलिब्रेशन या मूर्ति विसर्जन नहीं होगा।
  • डीडीएमए ने कहा कि गणेश चतुर्थी के दौरान सार्वजनिक स्थानों पर भगवान गणेश की कोई मूर्ति स्थापित नहीं की जाएगी।
  • यमुना नदी में मूर्ति स्थापित करने वालों पर 50,000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।
  • दिल्ली पुलिस और नागरिक निकायों (civic bodies) को निर्देश दिए गए हैं कि वे शहर में मूर्तियों को ले जाने वाले वाहनों की एंट्री की जांच करेंगे।
  • सारे कार्यक्रम ऑनलाइन आयोजित किए जाएंगे। बप्पा के दर्शन भी लाइव होंगे।

और पढ़ें : नेचुरल रूप से घटाना है वजन तो फॉलो करें इंटरमिटेंट फास्टिंग डायट, जानिए एक्सपर्ट से

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : पुणे

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए पुणे पुलिस ने भी कुछ गाइडलाइन्स जारी की हैं। जैसे-

  • मूर्तियों को ऑनलाइन खरीदा जाना चाहिए।
  • मूर्तियों को केवल निर्धारित खुली जगहों पर बेचा जाना चाहिए, सड़क के किनारे नहीं।
  • मूर्ति के आगमन, स्थापना या विसर्जन के दौरान किसी भी जुलूस की परमिशन नहीं होगी।
  • पंडालों में किसी भी तरह की भीड़ की अनुमति नहीं है।
  • पुणे पुलिस की गाइडलाइन के अनुसार किसी भी समय पूजा में भाग लेने वाले भक्तों की संख्या पांच से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • त्योहारों के दौरान अनुष्ठान करने के लिए मंदिरों से जुड़े गणेश मंडल से आग्रह किया गया है कि वे अपनी मूर्तियों को अपने परिसर में रखें।
  • मंडल पदाधिकारियों के लिए आरोग्य सेतु ऐप रखना अनिवार्य होगा।
  • सभी लोगों को कोविड-19 सेफ्टी नॉर्म्स का पालन करना जरूरी है जैसे कि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और हैंड सैनिटाइटर का उपयोग।
  • अनुष्ठान केवल मंडल के अधिकारियों द्वारा किया जाना चाहिए। भक्त उन्हें ऑनलाइन देख सकते हैं।
  • पंडालों में भक्तों की संख्या एक ऑनलाइन टोकन सिस्टम के माध्यम से रिस्ट्रिक्ट की जाएगी।
  • पंडालों को परिसर में फूड या किसी अन्य स्टॉल को लगाने की अनुमति नहीं होगी।

और पढ़ें : इन पारसी क्यूजीन के बिना अधूरा है नवरोज फेस्टिवल, आप भी करें ट्राई स्वादिष्ट पारसी रेसिपीज

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस : कर्नाटक

कर्नाटक सरकार ने गणेश चतुर्थी के लिए पंडालों की अनुमति देते हुए कुछ दिशानिर्देश जारी किए हैं।

  • एक वार्ड या गांव में एक गणेश पंडाल की अनुमति है और आयोजकों को एक समय में पंडालों में 20 से अधिक लोगों को अनुमति नहीं देनी चाहिए।
  • सांस्कृतिक कार्यक्रमों की अनुमति नहीं है।
  • किसी भी कल्चरल प्रोग्राम को आयोजित करने की अनुमति नहीं है।
  • गणेश भगवान की मूर्तियों को घर में विसर्जित करना होगा। वहीं, पब्लिक गणेश उत्सव ऑर्गेनाइजर्स को मूर्तियों को लोकैलिटी में ही विसर्जित करना होगा।
  • भक्तों को फेस मास्क पहनना अनिवार्य है और सोशल डिस्टेंसिंग के सभी मानदंडों का सख्ती से पालन करना होगा।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

क्या करें?

गणेश चतुर्थी और कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए सभी पंडालों को कुछ नीचे बताई गई कुछ बातों पर गौर करना चाहिए जैसे-

  • हर साल गणेश चतुर्थी पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों की बजाय हेल्थ से जुड़ी एक्टिविटीज की जा सकती है। जैसे कि ब्लड डोनेशन, मलेरिया, कोरोना, डेंगू जैसी बीमारियों से बचाव के उपाय को लेकर जागरूकता फैलाने के लिए कैंप लगाए जा सकते हैं।
  • गणेश उत्सव पर मूर्तियां एनवायरनमेंट फ्रेंडली होनी चाहिए। मूर्तियों को घर में ही विसर्जित करें। अगर ऐसा करना पॉसिबल न हो तो घर या सोसाइटी के पास ही किसी उचित जगह पर इन्हें विसर्जित करें।
  • गणेश मंडलों को विसर्जन के लिए परिसर में ही वॉटर टैंक्स को स्थापित करें।
  • प्रवेश द्वार पर हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था सुनिश्चित करें।
  • रोजाना होने वाली आरती के दौरान कोई भीड़ नहीं होनी चाहिए और ध्वनि प्रदूषण (noise pollution) के मानदंडों को फॉलो किया जाना चाहिए।

और पढ़ें : वायु प्रदूषण बन सकता है डिप्रेशन का कारण!

क्या न करें?

  • आरती या कीर्तन के समय भीड़ जमा न करें।
  • सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लंघन न करें।
  • भगवान गणेश की मूर्ति और पंडालों के दर्शन के लिए ऑनलाइन सुविधा भी उपलब्ध होगी। इसलिए, दर्शन के लिए बेवजह कहीं भीड़ न लगाएं।

आज पूरा देश हेल्थ क्राइसिस से जूझ रहा है। कोरोनोवायरस दुनिया भर में फैल रहा है। हर कोई लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंसिंग और पर्सनल हाइजीन के उपायों से तेजी से फैलने वाले इस वायरस से लड़ने की कोशिश में लगा हुआ है। इसकी वजह से हमारे सभी त्योहार और कल्चरल प्रोग्राम्स की चमक भी फीकी पड़ गई है। लेकिन, यही एक तरीका है जिससे वायरस को फैलने से रोकने में मदद मिल सकती है। इसलिए, ‘हैलो हेल्थ ग्रुप’ का आप सभी से विनम्र निवदेन है कि सभी कोरोना सेफ्टी नॉर्म्स का पालन करते हुए ही गणेश चतुर्थी को मनाएं।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

जानिए विश्व मरीज सुरक्षा दिवस में कोविड-19 के समय कैसे मरीज और स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा एक दूसरे से संबंधित है? पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी ।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सीरो सर्वे को लेकर क्यों हो रही है चर्चा, जानें एक्सपर्ट से इसके बारे में सबकुछ

सीरो सर्वे क्या है, एंटीबॉडी टेस्ट क्यों किया जाता है, एंटीबॉडी टेस्ट कैसे करते हैं, कोरोना में सीरो सर्वे, आईसीएमआर की गाइडलाइन, Sero survey antibody test Covid-19, ICMR.

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोविड 19 व्यवस्थापन, कोरोना वायरस अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

गणेश चतुर्थी और आने वाले त्योहारों को बनाएं यादगार, घर पर बनाएं शुगर फ्री मिठाइयां

शुगर फ्री मिठाइयां रेसिपीज, शुगर फ्री मिठाइयां कैसे बनाएं आसानी से घर पर , खजूर मोदक,ड्राईफ्रूट बर्फी, बादाम की बर्फी, गुजिया, Sugar Free sweets in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
हेल्दी रेसिपी, स्वस्थ जीवन अगस्त 12, 2020 . 7 मिनट में पढ़ें

कोरोना वायरस (कोविड 19) का टीका: क्या वैक्सीन के साइड इफेक्ट की होगी चिंता? 

कोरोना वायरस का टीका जल्द ही लॉन्च होनेवाली है। इस वैक्सीन के क्या होंगे साइड इफेक्ट्स? covid 19 vaccine, covid 19 side effects

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोविड 19 उपचार, कोरोना वायरस अगस्त 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

हाथों की सफाई, hand wash

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 के बाद ट्रैवल

वर्ल्ड टूरिज्म डे: कोविड-19 के बाद कितना बदल जाएगा यात्रा करना?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें