home

What are your concerns?

close
Inaccurate
Hard to understand
Other

लिंक कॉपी करें

Mastitis (infectious) : मैस्टाइटिस क्या है?

परिचय |लक्षण |कारण |जोखिम |उपचार |घरेलू उपचार
Mastitis (infectious) : मैस्टाइटिस क्या है?

परिचय

मैस्टाइटिस क्या है?

मैस्टाइटिस एक ऐसी समस्या है जिसमें महिलाओं के स्तन के ऊतक में असामान्य सूजन आ जाती है। यह आमतौर पर ब्रेस्ट डक्ट में इंफेक्शन के कारण होता है और ज्यादातर स्तनपान कराने वाली महिलाएं ही इस बीमारी से ग्रसित होती हैं। ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाएं शुरूआती 6 से 12 हफ्तों के बीच इस बीमारी से प्रभावित होती है, हालांकि कुछ महिलाओं में बाद में इस बीमारी के लक्षण दिखायी देते हैं।

मैस्टाइटिस होने में स्तन में दर्द और सूजन रहता है जिसके कारण बच्चे को स्तनपान कराने में परेशानी होती है। अगर समस्या ज्यादा बढ़ जाता है तो आपके लिए गंभीर स्थिति बन सकती है । इसलिए इसका समय रहते इलाज जरूरी है। इसके भी कुछ लक्षण होते हैं ,जिसे ध्यान देने पर आप इसकी शुरूआती स्थिति को समझ सकते हैं।

कितना सामान्य है मैस्टाइटिस होना?

स्वस्थ महिलाओं में मैस्टाइटिस रेयर होता है। लेकिन डायबिटीज, पुरानी बीमारी, एड्स और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाली महिलाओं में यह बीमारी होने की संभावना अधिक होती है। ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली 1 से 3 प्रतिशत महिलाओं में यह बीमारी पायी जाती है। क्रोनिक मैस्टाइटिस उन महिलाओं में होता है जो स्तनपान नहीं कराती हैं। यह बीमारी महिलाओं के अलावा पुरुषों में भी हो सकती है। ज्यादा जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

ये भी पढ़ें : Breast Cancer: स्तन कैंसर क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

लक्षण

मैस्टाइटिस के क्या लक्षण है?

मैस्टाइटिस होने पर स्तन में गर्माहट महसूस होती है और निप्पल से पस निकलता है। इस बीमारी के कई लक्षण बहुत सामान्य होते हैं जो आमतौर पर पहली बार ब्रेस्टफीडिंग कराते समय दिखायी देते हैं। लेकिन समय के साथ मैस्टाइटिस के ये लक्षण सामने आने लगते हैं :

कभी-कभी कुछ महिलाओं में इनमें से कोई भी लक्षण सामने नहीं आते हैं।

इसके अलावा कुछ अन्य लक्षण भी सामने आते हैं :

  • स्तन के ऊतकों का मोटा होना
  • शरीर में दर्द होना
  • निप्पल पर छोटा कट या घाव होना

ये भी पढ़ें : स्तन से जुड़ी हर परेशानी कैंसर नहीं होती

मुझे डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

ऊपर बताएं गए लक्षणों में किसी भी लक्षण के सामने आने के बाद आप डॉक्टर से मिलें। हर महिला के शरीर में मैस्टाइटिस के लक्षण अलग-अलग दिखाई दे सकते हैं। इसलिए किसी भी परिस्थिति के लिए आप डॉक्टर से बात कर लें।

कारण

मैस्टाइटिस होने के कारण क्या है?

मैस्टाइटिस स्तन के ऊतकों में एक इंफेक्शन है जो स्तनपान के दौरान सबसे ज्यादा होता है। यह तब होता है जब बच्चे के मुंह से बैक्टीरिया क्रैक निप्पल के जरिए मिल्क डक्ट में प्रवेश कर जाते हैं। यह बीमारी बच्चे की डिलीवरी के एक से तीन महीने के बीच होती है।

लेकिन मैस्टाइटिस ब्रेस्टफीडिंग न कराने वाली और मेनोपॉज से गुजर चुकी महिलाओं को भी हो सकता है। इसके अलावा डायबिटीज के कारण इम्यूनिटी कमजोर होने और धूम्रपान करने वाली महिलाओं को भी यह बीमारी हो सकती है।

ये भी पढ़ें : रेड मीट बन सकता है ब्रेस्ट कैंसर का कारण, इन बातों का रखें ख्याल

जोखिम

मैस्टाइटिस के साथ मुझे क्या समस्याएं हो सकती हैं?

मैस्टाइटिस का पर्याप्त उपचार मौजूद नहीं है। यह बीमारी होने पर मिल्क डक्ट अवरुद्ध हो जाता है जिसके कारण स्तन में पस जमा होने लगता है। अधिक मात्रा में पस जमा होने पर स्थिति गंभीर हो जाती है और इसे सर्जरी के जरिए बाहर निकाला जाता है। भविष्य में मैस्टाइटिस के जोखिम से बचने के लिए इस बीमारी के लक्षण दिखायी देने के तुरंत बाद डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: पार्किंसंस रोग के लिए फायदेमंद है डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS)

उपचार

यहां प्रदान की गई जानकारी को किसी भी मेडिकल सलाह के रूप ना समझें। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

मैस्टाइटिस का निदान कैसे किया जाता है?

मैस्टाइटिस का पता लगाने के लिए डॉक्टर शरीर की जांच करते हैं और मरीज से उसके शरीर में दिखने वाले लक्षणों के बारे में विस्तार से बात करते हैं। इस बीमारी को जानने के लिए कुछ टेस्ट कराए जाते हैं :

कुछ मरीजों में अल्ट्रासाउंड के द्वारा मैस्टाइटिस का पता लगाया जाता है। मैस्टाइटिस की जांच के लिए डॉक्टर सीरिंज से ब्रेस्ट मिल्क निकालकर यह पता लगाते हैं कि स्तन में इंफेक्शन किस ऑर्गनिज्म के द्वारा हुआ है। इससे इस बीमारी का इलाज करना आसान हो जाता है।

मैस्टाइटिस का इलाज कैसे होता है?

कुछ थेरिपी और दवाओं से व्यक्ति में मैस्टाइटिस के असर को कम किया जाता है। मैस्टाइटिस के लिए तीन तरह की मेडिकेशन की जाती है :

  1. यदि मरीज को इंफेक्शन है तो उसे 10 दिनों तक एंटीबायोटिक्स की खुराक दी जाती है। मैस्टाइटिस के लक्षणों को कम करने के लिए नियमित दवा लेना जरुरी होता है। एंटीबायोटिक्स लेने के बाद भी यदि यह बीमारी दूर नहीं होती है तो डॉक्टर दूसरी दवा देते हैं।
  2. मैस्टाइटिस के कारण होने वाले दर्द को कम करने के लिए एसिटामिनोफेन और इबुप्रोफेन आदि दवा दी जाती है।
  3. यदि मैस्टाइटिस बहुत सामान्य है तो इसके इलाज के लिए डॉक्टर सिफैलेक्सिन और डिक्लोजैकिसिलिन (Dicloxacillin) ये दो दवाएं देते हैं।

मैस्टाइटिस होने के बाद भी बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करना सुरक्षित है। स्तनपान कराने से इंफेक्शन दूर होने में मदद मिलती है। स्तनपान बंद करने से मैस्टाइटिस के लक्षण गंभीर हो सकते हैं। इसलिए लगातार अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें।

घरेलू उपचार

जीवनशैली में होने वाले वदलाव क्या हैं, जो मुझे मैस्टाइटिस को ठीक करने में मदद कर सकते हैं?

अगर आपको मैस्टाइटिस है तो आपके डॉक्टर आपको अपने आहार में 500 अतिरिक्त कैलोरी शामिल करने के लिए बताएंगे। इसके साथ ही आपको दिन भर में 10 गिलास पानी पीने की सलाह दी जाएगी। वहीं, स्तन में दूध की मात्रा बढ़ाने के लिए पोषक तत्वों से युक्त संतुलित आहार लेने के लिए भी कहा जाता है। आप बच्चे को स्तनपान कराने के बाद बर्फ से अपने स्तन की सिंकाई कर सकती है। इससे दर्द कम होता है। बच्चे को सही पोजीशन में बैठकर या लेटकर दूध पिलाएं और अगर संभव हो तो ब्रेस्ट पंप का इस्तेमाल करें।

इस संबंध में आप अपने डॉक्टर से संपर्क करें। क्योंकि आपके स्वास्थ्य की स्थिति देख कर ही डॉक्टर आपको उपचार बता सकते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है, अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें:-

Hematuria: (हेमाट्यूरिया) पेशाब में खून आना क्या है?

Pernicious anemia: पारनिसियस एनीमिया क्या है?

Sonali Bendre Birthday : इस तरह सोनाली बेंद्रे ने जीती थी कैंसर की जंग, पढ़ें कैसे संभाला था खुद को

Scurvy : स्कर्वी रोग क्या है?

पेट का कैंसर क्या है ? इसके कारण और ट्रीटमेंट

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

अपने पीरियड सायकल को ट्रैक करना, अपने सबसे फर्टाइल डे के बारे में पता लगाना और कंसीव करने के चांस को बढ़ाना या बर्थ कंट्रोल के लिए अप्लाय करना।

ओव्यूलेशन कैलक्युलेटर

सायकल की लेंथ

(दिन)

28

ऑब्जेक्टिव्स

(दिन)

7

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र
लेखक की तस्वीर badge
Anoop Singh द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 11/03/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड