backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

तो इस वजह से अचार बन जाता है लाखों लोगों की पहली पसंद

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. हेमाक्षी जत्तानी · डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Anu sharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 29/08/2021

तो इस वजह से अचार बन जाता है लाखों लोगों की पहली पसंद

हम भारतीय लोग खाने के शौकिन माने जाते हैं। भौगोलिक स्थितियों के कारण हर जगह का खाना ही अलग होता है। लेकिन, भारतीय व्यंजन मसालों, तेल और घी के उपयोग के कारण दुनिया में सबसे अलग होते हैं। इसके अलावा भारतीय मसाले पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हैं। तीखा, मीठा, मसालेदार खाना हमारे भोजन का मुख्य हिस्सा है। एक और चीज है, जिसके बिना हमारा भोजन पूरा नहीं होता और वो है अचार। अचार का नाम सुनते ही सबके मुंह में पानी आ जाता है। खासतौर पर खट्टा-मीठा और स्पाइसी घर का बना आम के पिकल्स का। जब आपके पास घर पर सब्जी बनाने का समय न हो या खाने के लिए कुछ न हो। तो ब्रेड पर थोड़ा सा अचार रखें और आपका खाना हो गया पूरा। हर घर में मां या दादी के हाथ का पिकल्स बना हुआ अवश्य मिल जाएगा। लेकिन, अचार को हमेशा अन्य खाद्य पदार्थों से कम आंका जाता है। आज हम आपको कुछ ऐसे कारण बताने जा रहे हैं कि क्यों आपको एक चम्मच पिकल्स का महत्व कम नहीं आंकना चाहिए।

आचार के फायदे (Benefits of Pickle)

अचार न केवल किसी बोरिंग खाने को स्वादिष्ट ट्विस्ट लाता है बल्कि इसके कुछ स्वास्थ्य लाभ भी है। पिकल्स के ऐसे ही फायदे हैं:

  • वेट लॉस (Weight loss) के लिए अगर आप काफी सारे उपाय अपना कर थक चूके हैं, तो आपको एक बार पिकल्स को भी अपना लेना चाहिए। हां हो सकता है कि आपको यह जानकर थोड़ी हैरत हो कि अचार वजन कम (Weight lose) करने में मदद कर सकता है। लेकिन यह सच है। दरअसल, अचार में बहुत से मलाले होते हैं, जो आपकी डायट में मौजूद फैट को तोड़ने में मदद करते हैं।
  • हमने अक्सर सुना है कि प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान भी महिलाओं का पिकल्स खाने का मन करता है। ऐसे में आम और नींबू का अचार खाने से महिलाओं को कमजोरी महसूस नहीं होती है।
  • अचार में काफी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट (Anti oxident) पाए जाते हैं। साथ ही एंटी-ऑक्सीडेंट्स के फायदे किसी से छिपे हुए नहीं हैं। ये आपकी स्किन से लेकर लेकर आपके बालों के लिए भी फायदेमंद हो सकते हैं। लेकिन, साथ ही इस बात का ख्याल रखना जरूरी होता है कि आप एक निर्धारित मात्रा में ही पिकल्स का सेवन करें, तो ही यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।
  • अचार के सेवन को लेकर किए गए शोध में सामने आया कि यह डायबिटीज की स्थिति में लाभकारी हो सकता है। लेकिन साथ ही इस शोध में कहा गया कि अचार का सेवन हफ्ते में सिर्फ एक बार ही करना सेहतमंद हैं। इसके अलावा आंवले का अचार डायबिटीज से जूझ रहे लोग खा सकते हैं।
  • अचार आपकी पाचन क्रिया को सुचारू रखने में भी मदद कर सकता है। इसमें मौजूद फाइबर्स इसमें आपकी मदद करते हैं।

और पढ़ें : कितने दिनों तक स्टोर कर सकते हैं ब्रेड

जानिए भारतीयों में अचार का महत्व (Know the importance of pickle in Indians)

सुंदर बर्तन

पिकल्स का सबसे अच्छा भाग है, वो सुंदर बर्तन, जिनमें इसे रखा जाता है। यह अचार का महत्व भी बढ़ा देता है। वो बड़ी-बड़ी बरनिया हमारे जेहन में घर कर जाती है और जिंदगी भर के लिए हमारी यादों का हिस्सा बन जाती हैं, जो हमारे नानी या दादी के घर में होती थी। हालांकि, आजकल यह बर्तन घर में कम देखने को मिलते हैं। मिट्टी से बने यह बर्तन ऐसे होते हैं, जिनमें पिकल्स लंबे समय तक फ्रेश और स्वादिष्ट रहता है। अन्य खाद्य पदार्थों को आप इन बर्तनों में नहीं रखते।

विविधता

पिकल्स कितने प्रकार के होते हैं। यह बात तो शायद ही कोई नहीं जानता होगा। हमारे घरों में तो हर सब्जी का पिकल्स डाल दिया जाता है। शाकाहारी के साथ-साथ मांसाहारी पिकल्स भी आपको मिल जाएंगे। अगर आप सीफूड के दीवाने हैं, तो आपको प्रॉन्स का बना अचार भी आसानी से मिल जाएगा। मेवों से बने पिकल्स की तो बात ही निराली है। यही नहीं, सब्जियों से बने चारों में विटामिन और मिनरल होते हैं, इसलिए यह आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं हैं।

और पढ़ें : ज्यादा नमक खाना दे सकता है आपको हार्ट अटैक

भूखे न रहने दें

अगर आपके घर में स्वादिष्ट अचार है, तो आप कभी भी भूखे नहीं रह सकते। इसे आप रोटी, परांठे, ब्रेड, मठरी यानी हर एक चीज के साथ खा पर अपनी भूख को शांत कर सकते हैं। इसका स्वाद हर चीज को स्वादिष्ट बना देता है।

रंग से भी जुड़ा है अचार का महत्व

अचार की एक और खास बात है उसका रंग। यह हर रंग में उपलब्ध होता हैं। यही नहीं, रंग से आप उनके स्वाद को जज नहीं कर सकते। लाल रंग का आम का अचार भी उतना ही स्वादिष्ट होता है, जितना शलजम का सफेद रंग का।

और पढ़ें : A टू Z फूड का जायका, जो आपका भी पसंदीदा होगा

[mc4wp_form id=”183492″]

अलग-अलग स्वाद

अचार का स्वाद अलग-अलग होता है। जैसे दक्षिण भारत में लहसुन के अचार को प्राथमिकता दी जाती है। वहीं, मिर्ची का स्पाइसी अचार खा कर आपकी आंख में आंसू न आ जाएं, ऐसा हो ही नहीं सकता। कोई अलग-सा स्वाद चाहिए, तो गाजर और मूली का कच्चा अचार सबसे बेहतरीन है। जैसा चाहे वैसा अचार आप बना सकते हैं या आपको बाजार में मिल जाएगा।

सबकी अलग-अलग पसंद

क्या आप जानते हैं कि हर तरह कें अचार की अपनी फैन फॉलोविंग है। जैसे अगर कई लोगों को आम का अचार पसंद है, तो नींबू के अचार के भी उतने ही फैन होंगे। यही नहीं, मिक्स अचार का भी अपना ही स्वाद है। खासतौर पर अगर आपके पास आलू के गर्म परांठे हैं, तो आपको और क्या चाहिए? केवल थोड़ा सा अचार और आपका शानदार नाश्ता तैयार है। इन कॉम्बिनेशन को आप कहीं भी कभी भी खा सकते हैं।

और पढ़ें : देर रात खाना सेहत के लिए पड़ सकता है भारी, हो सकती हैं ये समस्याएं

दादी-नानी का प्यार

मुझे याद है जब भी हम घर से होस्टल जाते थे तो दादी, नानी हमें और कुछ दे या न दें पर पिकल्स अवश्य दिया करती थी। वो अचार नहीं उनका प्यार होता था, जिन्हें वो बहुत मेहनत से बनाया करती हैं। पहले आम या जिस का भी पिकल्स बनाना हो, उसे छोटे टुकड़ों में काटना और उसके बाद उसमें मसाले डालना। वो स्वाद ही अलग होता है।

यह बात आपने नोटिस की होगी कि घर के बने पिकल्स का स्वाद बाजार के पिकल्स से बिल्कुल अलग होता है। उसमे अंतर होता है प्यार और भावनाओं का। घर का बना पिकल्स केवल पिकल्स नहीं बल्कि उसका प्यार और भावनाएं होती हैं, जिसने उसे बनाया है। इसलिए, पिकल्स का महत्व कभी भी कम नहीं आंकना चाहिए।

उम्मीद करते हैं कि आपको अचार (Pickels) से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. हेमाक्षी जत्तानी

डेंटिस्ट्री · Consultant Orthodontist


Anu sharma द्वारा लिखित · अपडेटेड 29/08/2021

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement