कोरोना वायरस के ट्रीटमेंट के लिए इस्तेमाल की जाएगी रेमडेसिवीर, जानें इसके बारे में

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 2, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोविड 19 की रोकथाम के लिए पूरी दुनियाभर में कोरोना वैक्सीन और कोरोना के इलाज पर कई तरह के शोध लगातार जारी है। कुछ दवाओं की मदद से मरीजों का ट्रीटमेंट भी संभव हो पाया है। ऐसी ही एक दवा रेमडेसिविर (Remdesivir) है। कोविड-19 के उपचार में यह एंटी-वायरल दवा काफी प्रभावशाली साबित हो रही है। आपको बता दें कि संदिग्ध या लेबोरेटरी कनफर्म्ड कोरोना केसेस के मरीज के इलाज के लिए एंटी-वायरल दवा रेमडेसिविर को पुष्टि मिल गई। भारत की टॉप ड्रग्स रेगुलेटरी बॉडीज ने कोविड-19 के उपचार के लिए इस दवा को मंजूरी दे दी है। कोरोना के इलाज के लिए वैश्विक नैदानिक परीक्षणों में सबसे ज्यादा ट्रायल की जाने वाली दवाओं में से एक रेमडेसिवीर (Remdesivir Drug) है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

रेमडेसिवीर दवा का उपयोग केवल अस्पताल या इंस्टीटूशनल्स सेटिंग्स में ही किया जाएगा। हर रोगी यह दवा तभी दी जाएगी जब उसके पास प्रिसक्रिप्शन होगा हैं। दवा के इस्तेमाल से होने वाले लिवर और किडनी पर होने वाले साइडइफेक्ट्स के बारे में उत्पाद के पैकेज पर निर्दिष्ट करना अनिवार्य होगा। इसके अलावा कंपनी के जोखिम प्रबंधन योजना के तहत, सीडीएससीओ (CDSCO) ने भारत में दवा के उपयोग से होने वाली एडवर्स ड्रग रिएक्शन के बारे में जानकारी एकत्र करके प्रोसेस और फॉरवर्ड करने के लिए एक सिस्टम को अनिवार्य कर दिया है। इसे एक महीने के भीतर जमा करना होगा। अतिरिक्त क्लीनिकल परीक्षणों (clinical trial) के रिजल्ट्स को नौ महीने के अंदर-अंदर रेगुलेटर के सामने प्रेजेंट करना होगा जबकि भारत में रेमडेसिवीर के साथ इलाज किए गए सभी रोगियों की निगरानी की जाएगी और उस रिपोर्ट को हर महीने प्रस्तुत करना होगा।

कोविड-19 के उपचार में दवा के इस्तमाल को मिली मंजूरी

एक फेमस अंग्रेजी वेबसाइट की माने तो ग्लोबल क्लिनिकल ट्रायल में साबित हो चुका है कि कोविड-19 के उपचार में यह दवा कारगार है। इसी वजह से भारत की ड्रग्स रेगुलेटरी बॉडी, सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (CDSCO) ने रेमडेसिवीर (Remdesivir) को देश में इस्तेमाल करने की मंजूरी दे दी गई है। जो मरीज कोरोना से संक्रमित हैं और अस्पताल में भर्ती हैं, उनके इलाज के लिए यह दवा पांच दिनों तक दी जाएगी। आपको बता दें कि यह दवा अमेरिका की प्रमुख बायोटेक्नेलॉजी कंपनियों में से एक गिलियड साइंसेज (Gilead Sciences) द्वारा बनाई जाती है। इसे मुंबई स्थित क्लिनेरिया ग्लोबल सर्विसेज द्वारा आयात किया जाएगा।

और पढ़ें : अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोविड-19 के इलाज में कारगर है रेमडेसिवीर

रेमडेसिवीर एक एंटी वायरल (anti-viral) दवा है। इस दवा को पहले इबोला के इलाज के लिए बनाया गया था। अब यह कोरोना के इलाज में काम आ रही है। रेमडेसिवीर ड्रग की क्लिनिकल ट्रायल रिपोर्ट की माने तो इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना से संक्रमित 50% रोगियों की स्थिति में सुधार 5 दिनों में ही दिखाई देने लगता है। रिपोर्ट्स से यह बात भी सामने आई है कि सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गनाइजेशन (Central Drugs Standard Control Organisation) ने इस दवा के उपयोग को 5 दिनों तक ही सीमित रखने का फैसला किया है। क्लिनिकल ट्रायल के सफल होने के बाद यह फैसला भी लिया गया कि देश में जेनेरिक वोलंटरी लाइसेंस धारकों को भी इस दवा को बनाने के लिए दिशा-निर्देश दिए जाएंगे।

और पढ़ें :  अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

ट्रायल में क्या निकला

एंटी-वायरल रेमडेसिवीर दवा का कोविड-19 के उपचार में सुरक्षा और प्रभावशीलता का मूल्यांकन करने के लिए लगभग 1059 रोगियों पर इसका क्लिनिकल ट्रायल किया गया था। इन मरीजों को दो ग्रुप में बांटा गया। इसमें से 538 कोरोना संक्रमित लोगों को रेमडेसिवीर (Remdesivir Drug) और 521 को प्लेसबो (placebo) दी गई। पाया गया कि रेमडेसिवीर वाले कोरोना संक्रमित मरीज प्लेसबो की तुलना में जल्दी से ठीक हो गए। रेमडेसिवीर का इस्तेमाल करने वाले मरीजों का रिकवरी रेट 31 फीसदी तेज था। हालांकि, 100 प्रतिशत की तुलना में 31 फीसदी रिकवरी रेट कुछ भी नहीं था मगर यह बहुत अहम था। इससे यह साबित हो गया था कि रेमडेसिवीर कोरोना वायरस की रोकथाम कर सकती है।

और पढ़ें :  Corona virus: कोरोना वायरस से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी दिए थे पॉजिटिव संकेत

क्लिनिकल ट्रायल के तीसरे फेज में एंटी-वायरल दवा रेमडेसिवीर के सकारात्मक परिणाम सामने आए थे। जिसकी वजह से लोगों में भी कोरोना के इलाज को लेकर एक उम्मीद जग गई थी। इसके अलावा WHO ने भी रेमडेसिवीर दवा के पॉजिटिव रिजल्ट्स से कोरोना के इलाज पर उम्मीद जगाई थी।

और पढ़ें : क्या हवा से भी फैल सकता है कोरोना वायरस, क्या कहता है WHO

बीसीजी टीके और हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन पर भी जारी है स्टडी

कोरोना वायरस के ट्रीटमेंट पर रेमडेसिवीर ड्रग के अलावा हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन और बीसीजी वैक्सीन की उपयोगिता और प्रभावशीलता पर भी रिसर्च चल रही है। अभी हाल फिलहाल ही में हुई एक स्टडी से यह बात सामने आई है कि जिन देशों में फेफड़ों के संक्रमण (जैसे टीबी) के उपचार के लिए बीसीजी की वैक्सीन दी जा रही है, उन देशों में कोविड-19 संक्रमण के केसेस कम ही देखने को मिल रहे हैं।

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

1,435,453

कंफर्म केस

917,568

स्वस्थ हुए

32,771

मौत
मैप

साथ ही कोरोना संक्रमण के उपचार में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन ड्रग (Hydrocychloroquine drug) भी प्रभावी है। यह बात भी सामने आई थी जिसे लेकर भी ट्रायल जारी है। दरअसल, हाइड्रोक्सी कोलोरोक्वाइन एंटीमलेरियल दवा है जिसका इस्तेमाल मलेरिया के साथ अन्य स्वास्थ्य स्थितियों जैसे रूमेटाइड अर्थराइटिस (rheumatoid arthritis) और ल्यूपस एरिथेमेटोसस (lupus erythematosus) के इलाज में भी किया जाता है।

कोरोना वायरस के लिए होम्योपैथिक दवा

कोरोना वायरस संक्रमण के उपचार को लेकर तमाम तरह की बाते और अफवाहें सामने आ रही हैं। ऐसी ही बात सामने आ रही है कि कोरोना में होम्योपैथिक दवा प्रभावी है। लेकिन, यह सच नहीं है। अभी तक इस संबंध में कोई भी शोध सामने नहीं आए हैं जिनसे यह साबित हो सके कि होम्योपैथिक दवा से कोरोना वायरस संक्रमण को रोका जा सकता है। हां, इनके सेवन से सर्दी, जुखाम को बस रोका जा सकता है, कोरोना को नहीं। कोविड-19 वायरस के कोई भी लक्षण दिखने पर होम्योपैथिक दवा या घरेलू उपचार न करें। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना ही बेहतर होगा।

और पढ़ें : कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोरोना वायरस की वैक्सीन निजात करने में जुटे हैं कई देश

एक ओर जहां कोरोना वायरस पैर पसारते जा रहा है वहीं, दुनियाभर के देश कोरोना वैक्सीन की खोज में भी जोरो से लग गए हैं। चीन, अमेरिका, इटली और यूरोप जैसे तमाम देशों ने कोविड-19 वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल शुरू कर दिया है। देश की सुरक्षा के लिए सभी सबसे पहले वैक्सीन तैयार करने में लगे हुए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने एक रिपोर्ट में बताया कि यदि मिलकर सही से काम किया तो हो सकता है कि अगले 12-18 महीने में कोरोना का टीका बनाने में सफल होंगे।

वहीं, सांस और फ्लू जैसी हेल्थ कंडीशंस के इलाज के लिए दवा बनाने फेमस कंपनी सिप्ला ने दावा किया है कि वह अगले छह महीनों में कोरोना वायरस का उपचार ढ़ूंढ निकालेगी। यदि ऐसा होता है तो सिप्ला कोरोना वायरस की दवा बनाने वाली सबसे पहली भारतीय कंपनी होगी। फिलहाल यह कंपनी गवर्नमेंट लैब के साथ मिलकर वायरस की दवा को बनाने में लगी हुई है।

और पढ़ें : Coronavirus 2020: इन सेलिब्रिटी को कोरोना वायरस की पुष्टि, रोनाल्डो ने खुद को किया अलग तो बिग बी ने सुनाई कविता

कोविड-19 के उपचार से पहले ज्यादा जरूरी सावधानी बरतना

जैसा कि आपको पता है कि देश में लॉकडाउन 5.0 के साथ कई तरह की छूट भी दी गई हैं। ऐसे में देखा जा रहा है कि कोरोना संक्रमण के मामले और तेजी से बढ़ रहे हैं। नतीजन, आपको और सतर्क होने की जरुरत है और अपना ध्यान पहले से और ज्यादा रखने की आवश्यकता है। इसलिए नीचे बताई गई इन बातों का ध्यान रखें-

  • कोरोना से बचाव के लिए हाइजीन मेंटेन करना बहुत जरूरी है। इसलिए, हाथों को समय-समय पर साबुन से धुलें।
  • लोगों से मिलते समय दो गज की दूरी बनाएं।
  • आंख, नाक और मुंह को बार-बार छूने से बचें और जब जरूरी हो तो हाथ धुलकर ही चेहरा छुएं।
  • खासते या छींकते समय ड्रॉप्लेट्स किसी और तक पहुंचे इसके लिए हैंकी या टिशू का इस्तेमाल जरूर करें।
  • अगर बाहर जा रहे हों तो एल्कोहॉल बेस्ड सैनिटाइजर को साथ रखें और समय-समय पर हाथों को सैनिटाइज करते रहें।
  • डिस्पोजल मास्क को एक बार से ज्यादा इस्तेमाल न करें। इस्तेमाल करने के बाद इसे बंद डस्टबिन में फेंक दें।

और पढ़ें : कोरोना वायरस: महिलाओं और बच्चों में कोरोना वायरस का खतरा कम, पुरुषों में ज्यादा

यह भी ध्यान रहे

कोविड-19 को खत्म करने और उससे बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के साथ साफ-सफाई पर बहुत ध्यान देना होगा। इसके अलावा, अफवाहों पर गौर न करें सिर्फ सरकार या हेल्थ एक्सपर्ट द्वारा दी गई जानकारी पर ही विश्वास करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कैसे स्वस्थ भोजन की आदत कोरोना से लड़ने में मददगार हो सकती है? जानें एक्सपर्ट्स से

स्वस्थ भोजन की आदत कैसे डेवलप करें? बेहतर स्वास्थ्य के लिए स्वस्थ भोजन की आदत को अपनाना जरूरी है। स्वस्थ भोजन खाने के क्या फायदे या प्रभाव हैं?

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स किसी की सुधरी तो किसी की हुई बेकार

लॉकडाउन में ईटिंग हैबिट्स बदल गई हैं। लॉकडाउन के दौरान घर पर हेल्दी फूड्स खाना आपकी इम्युनिटी को स्ट्रॉन्ग रखने के लिए जरूरी है। वर्क फ्रॉम होम करते हुए हम लोगों को अपनी सेहत और फिटनेस पर भी ध्यान देने का मौका मिला। Lockdown eating habits in hindi

के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अगस्त 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

सीरो सर्वे को लेकर क्यों हो रही है चर्चा, जानें एक्सपर्ट से इसके बारे में सबकुछ

सीरो सर्वे क्या है, एंटीबॉडी टेस्ट क्यों किया जाता है, एंटीबॉडी टेस्ट कैसे करते हैं, कोरोना में सीरो सर्वे, आईसीएमआर की गाइडलाइन, Sero survey antibody test Covid-19, ICMR.

के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
कोरोना वायरस, कोविड 19 व्यवस्थापन अगस्त 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

क्या ई-बुक्स सेहत के लिए फायदेमंद है, जानें इससे होने वाले फायदे और नुकसान

ई-बुक्स (E-Books)  जरिए रात में आईपैड, लैपटॉप या ई-रीडर पर किताबें पढऩे से नींद की गुणवत्ता कम हो जाती है। (ई-बुक्स (E-Books) ke Fayde aur nuksan

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Arvind Kumar
मेंटल हेल्थ, स्वस्थ जीवन अगस्त 9, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोविड के बाद फेफड़ों का स्वास्थ्य -corona and lung world lungs day

क्या कोरोना होने के बाद आपके फेफड़ों की सेहत पहले जितनी बेहतर हो सकती है?

के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ सितम्बर 22, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
PPI medicines - पीपीआई से कोरोना

क्या पेंटोप्रोजोल, ओमेप्रोजोल, रैबेप्रोजोल आदि एंटासिड्स से बढ़ सकता है कोविड-19 होने का रिस्क?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ सितम्बर 11, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
COVID-19 के दौरान स्कूल लौटने के लिए सेफ्टी टिप्स

फिर से खुल रहे हैं स्कूल! जानें COVID-19 के दौरान स्कूल जाने के सेफ्टी टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ सितम्बर 8, 2020 . 9 मिनट में पढ़ें
पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी/ patient and health worker safety

वर्ल्ड पेशेंट सेफ्टी डे: पेशेंट और हेल्थ वर्कर्स की सेफ्टी कैसे है एक दूसरे पर निर्भर?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें