Chamomile: कैमोमाइल क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date दिसम्बर 31, 2019
Share now

परिचय

कैमोमाइल क्या है?

कैमोमाइल एक औषधीय गुणों वाला पौधा है। सदियों से इसका इस्तेमाल कई बीमारियों के उपचार के लिए किया जाता है। इसमें कई शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो शरीर को होने वाली कई बीमारियों से कवच प्रदान करते हैं। कई अध्ययन में भी ये पता चला है कि केमोमाइल का सेवन सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसके इस्तेमाल चाय के तौर पर भी किया जा सकता है।

कैमोमाइल का उपयोग किस लिए किया जाता है?

अनिद्रा:

कैमोमाइल में एपीजेनिन (Apigenin) नामक एंटी-ऑक्सीडेंट होता है जो नर्व्स को रिलैक्स कर अच्छी नींद में मदद करता है।

डाइजेस्टिव सिस्टम को करे मजबूत:

अच्छे स्वास्थ्य के लिए सही से डायजेशन होना बहुत जरूरी है। चूहों पर किए गए एक शोध में पाया गया कि कैमोमाइल में एंटी-इन्फलामेटरी प्रॉपर्टीज होती हैं, जो डायरिया से लड़ने में कारगर है। साथ ही ये पाचन क्रिया को मजबूत बनाती हैं।

पीरियड्स में होने वाले दर्द को करे दूर:

एग्रीकल्चर एंड कैमिस्ट्री ऑफ जर्नल के अनुसार, कैमोमाइल चाय को पीने से पीरियड्स में होने वाले दर्द से राहत मिलती है। ये यूट्रेस को रिलैक्स कर उन हॉर्मोंस को बनने से रोकती है जिनकी वजह से महावारी के दौरान दर्द होता है।

कैंसर से बचाव:

कैमोमाइल चाय में एंटीऑक्सीडेंट्स गुण होते हैं जो ब्रेस्ट कैंसर, डाइजेस्टिव ट्रेक्ट, स्किन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और यूट्रस कैंसर को रोकने में मदद कर सकते हैं। टेस्ट-ट्यूब अध्ययनों में पता चला है कि कैमोमाइल में एंटीऑक्सीडेंट एपिगेनिन होता है, जो कैंसर कोशिकाओं से लड़ने के लिए मददगार होता है।

कैमोमाइल चाय को लेकर एक अध्यय किया गया जिसमें 537 लोगों को शामिल किया गया। अध्ययन में पाया गया कि जो लोग प्रति सप्ताह दो से छह बार कैमोमाइल चाय का नियमित तौर पर सेवन करते थे, उन लोगों की थायराइड कैंसर विकसित होने की संभावना, कैमोमाइल चाय न पीने वालों के मुकाबले काफी कम थी।

दिल को रखे स्वस्थ:

कैमोमाइल टी में प्रचुर मात्रा में फ्लेवोन्स (Flavones) होते हैं, जो ब्लड प्रेशर को कम कर कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित रखता है। इससे दिल संबंधित बीमारियों के होने की संभावना भी कम होती है।

हड्डियों को मजबूत बनाएंः

बढ़ती उम्र में हड्डियों से जुड़ी बीमारियां जैसे, ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी सबसे आम होती है। इस बीमारी के होने के कारण हड्डियां अपना पोषण खोने लगती हैं और धीरे-धीरे कमजोर बन जाती है। ऐसे में हड्डियों को कमजोर होकर टूटने से रोकने के लिए सेलेक्टिव एस्ट्रोजन रिसेप्टर मोड्यूलेटर का उपयोग किया जा सकता है। वहीं, कैमोमाइल टी में एंटी-एस्ट्रोजेनिक प्रभाव मौजूद होता है, जो हड्डियों को पोषित करने और उन्हें मजबूत बनाए रखने में मदद करती है।

इन परेशानियों में भी है मददगार:

  • शुगर को करे कंट्रोल
  • रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए
  • डिप्रेशन को करे दूर
  • हड्डियों को बनाए मजबूत
  • स्किन के लिए फायदेमंद
  • हाइपरग्लिकेमिया
  • पेट की गड़बड़ी
  • मोटापे की समस्या
  • घबराहट
  • बवासीर
  • एक्जिमा

कैसे काम करता है कैमोमाइल?

कुछ स्टडीज के अनुसार कैमोमाइल के फ्लेवोनोइड और एपिगेनिन जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं, जो हमें कई बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं। कैमोमाइल हर्बल सप्लीमेंट्री कैसे काम करता है, इस बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं किए गए हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से राय लें।

ये भी पढ़ें: Capsicum : शिमला मिर्च क्या है?

उपयोग

कितना सुरक्षित है कैमोमाइल का उपयोग?

  • कैमोमाइल को गर्मी और नमी से दूर, ठंडी, सूखी जगह पर स्टोर करें। इसे सीमित मात्रा में लेना सुरक्षित होता है। इसकी हल्की मात्रा में खून को पतला करने का प्रभाव होता है। इसलिए लंबे समय तक ज्यादा मात्रा में इसका सेवन नुकसानदायक हो सकता है। अगर आप कोई सर्जरी कराने वाले हैं तो दो सप्ताह पहले कैमोमाइल का उपयोग करना बंद कर दें। क्योंकि एनेस्थिशिया की दवाओं के साथ इसका सेवन हानिकारक हो सकता है।
  • गर्भवती महिलाओं को कैमोमाइल का इस्तेमाल सावधानी से करना चाहिए। कुछ स्टडीज के अनुसार कैमोमाइल अनबॉर्न बेबी के लिए सुरक्षित नहीं है। यह गर्भपात की संभावना को भी बढ़ाता है हालांकि अभी इस बारे में और भी स्टडीज की जरूरत है इसलिए बेहतर होगा गर्भावस्था के दौरान इसके इस्तेमाल से बचें। सेडेटिव या अल्कोहल के साथ भी इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए वरना इनका असर ज्यादा गहरा हो सकता है।
  • वैसे तो इसकी चाय का सेवन सबके लिए सेफ होता है, लेकिन कुछ लोग जिन्हें डेजी परिवार के पौधों से एलर्जी हो उन्हें इससे भी एलर्जी हो सकती है।
  • बर्थ कंट्रोल गोलियों के साथ कैमोमाइल लेने से इन गोलियों के असर में कमी आ सकती है। एस्ट्रोजन गोलियों के साथ इसे लेने से एस्ट्रोजेन गोलियों के प्रभाव में भी कमी आ सकती है।
  • कैमोमाइल लिवर और सेडेटिव दवाओं के प्रभाव को बदल सकता है। इसे वारफारिन के साथ लेने से खून का जमना धीमा हो सकता है जिससे चोट और ब्लीडिंग की संभावना बनी रहती है।

दवाइयों की तुलना में हर्ब्स लेने के लिए नियम ज्यादा सख्त नहीं हैं। बहरहाल यह कितना सुरक्षित है इस बात की जानकारी के लिए अभी और भी रिसर्च की जरूरत है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले इसके रिस्क और फायदे को अच्छी तरह से समझ लें। हो सके तो अपने हर्बल स्पेशलिस्ट या डॉक्टर से सलाह लेकर ही इसे यूज करें।

ये भी पढ़ें: Clove : लौंग क्या है?

साइड इफेक्ट्स

कैमोमाइल से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

  • चेहरे और आंखों में जलन
  • ड्राउजिनेस ( ज्यादा मात्रा में लेने पर)
  • उल्टी
  • हाइपर सेंसटिविटी

जरूरी नहीं कि कैमॅमाइल का इस्तेमाल करने वाले हर लोग इन साइड इफेक्ट्स का अनुभव करें। कुछ साइड इफेक्ट्स हमारी लिस्ट में नहीं भी हो सकते हैं। साइड इफेक्ट्स यदि आप की चिंता का कारण बना हुआ है तो कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से परामर्श करें।

ये भी पढ़ें: Fennel Seed : सौंफ क्या है?

डोजेज

कैमोमाइल को लेने की सही खुराक क्या है ?

आप कौन सी दवाइयां ले रहे हैं या आपके मेडिकल कंडीशन क्या है इस बात पर निर्भर करता है कि आप कैमोमाइल ले या नहीं? इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहले अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर्स से सलाह लें।

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य कंडीशंस पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। कृपया अपनी उचित खुराक के लिए अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

ये भी पढ़ें: Cumin Seed : जीरा क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है?

  • कैप्सूल
  • क्रीम
  • लिक्वड एक्स्ट्रैक्ट
  • लोशन
  • शैम्पू और कंडीश्नर
  • चाय
  • टिंचर

और पढ़ें:-

क्या लौंग लगा सकती है आपके स्वास्थ्य में चार चांद?

Clavulanic Acid : क्लैवुलेनिक एसिड क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

कहीं आपको बवासीर (पाइल्स) तो नही? पाइल्स के बारे में जानने के लिए खेलें क्विज

जब दिल की धड़कन बढ़ने लगे तो, समझ लो कि प्यार नहीं ब्रोकन हार्ट हो गया है

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    सिर्फ ग्रीन-टी ही नहीं, इंफ्यूजन-टी भी है शरीर के लिए लाभकारी

    इंफ्यूजन टी आपके लिए भले ही नया हो, लेकिन इंफ्यूजन टी आपके शरीर के लिए लाभकारी हो सकता है। आपको एक बार इसे ट्राई करना चाहिए। आपको फायदे नजर आने लगेंगे।

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Bhawana Awasthi

    Methoxylated flavones: मिथोक्सिलेटेड फ्लेवोनस क्या है?

    जानिए मिथोक्सिलेटेड फ्लेवोनस क्या है? मिथोक्सिलेटेड फ्लेवोनस के फायदे और नुकसान क्या हैं? Methoxylated flavones के सेवन से पहले डॉक्टर से क्यों सलाह लेना जरूरी है?

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Bhawana Sharma

    होंठों पर पिंपल्स का इलाज ढूंढ रहे हैं? तो ये आर्टिकल कर सकता है आपकी मदद

    होंठों पर पिंपल्स का इलाज कैसे करें? होंठों पर पिंपल्स का इलाज के लिए कैस्टर ऑयल, lip pimples home remedies in hindi, होंठों पर दाने से छुटकारा...

    Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
    Written by Smrit Singh

    जानें बॉडी पर कैफीन के असर के बारे में, कब है फायदेमंद है और कितना है नुकसान दायक

    कैफीन के असर से क्या क्या होती हैं बीमारिया, कितना में मात्रा में सेवन करना है फायदेमंद, पूर्व में किए शोध से क्या पता चला है, तमाम जानकारी इस आर्टिकल में जानिए।

    Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
    Written by Satish Singh