गर्भपात के बाद प्रेग्नेंसी में किन बातों का रखना चाहिए ख्याल?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जुलाई 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

किसी भी महिला के लिए मिसकैरिज शायद उसकी जिंदगी के सबसे दुखद पलों में शामिल होगा। प्रेग्नेंसी के दौरान किसी भी समस्या की वजह से मिसकैरिज हो सकता है। कई मामलों में डॉक्टर को अबॉर्शन भी करना पड़ जाता है। ऐसे में मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी की कितनी संभावना रहती है? ये प्रश्न अक्सर महिलाओं को परेशान कर सकता है। अबॉर्शन या मिसकैरिज के बाद महिला की फर्टिलिटी पर खास प्रभाव नहीं पड़ता है। मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी की कितनी संभावना रहती है और किन बातों पर ध्यान देना चाहिए, इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए।

और पढ़ें : स्टिलबर्थ के खतरे को कैसे करें कम?

मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी कितनी जल्दी संभव है ?

हैलो स्वास्थ्य ने फोर्टिस हॉस्पिटल की कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्‍ट डॉ. सगारिका बसु से बात की तो उन्होंने कहा कि, ‘ एक बार अबॉर्शन या मिसकैरिज हो जाने के बाद बॉडी को रिकवर होने के लिए थोड़ा समय देना जरूरी होता है। मिसकैरिज के बाद कंसीव करने के लिए कम से कम दो से तीन महीने का समय देना बेहतर रहेगा। शरीर को पहले जैसी अवस्था में लाने के लिए पौष्टिक आहार के साथ ही मानसिक रूप से तैयार होना भी बहुत जरूरी होता है।’

मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी के बारे में सोचा जा सकता है। अबॉर्शन के कुछ ही दिनों बाद महिला के पीरियड्स शुरू हो जाते हैं। साथ ही 14 से 28 दिनों में ऑव्युलेशन की प्रॉसेस होने लगेगी। ये प्रॉसेस अबॉर्शन के एक हफ्ते बाद शुरू हो सकती है। अगर अबॉर्शन के एक हफ्ते बाद तक अनसेफ सेक्स किया जाता है तो महिला में बिना पीरियड्स के आए ही प्रेग्नेंसी के चांसेस रहते हैं। सभी महिलाओं में पीरियड्स के दिनों की संख्या समान नहीं होती है। इस कारण दिन कम या ज्यादा हो सकते हैं। कुछ महिलाओं में ऑव्युलेशन देर से होने की भी संभावना रहती है। मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी में वैसे ही लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे कि साधारण तौर पर गर्भावस्था में लक्षण दिखआई देते हैं। कुछ लक्षण जैसे,

अगर आपको अबॉर्शन के छह सप्ताह बाद तक भी पीरियड्स नहीं होते हैं तो होम प्रेग्नेंसी टेस्ट लेकर देखें। अगर रिजल्ट पॉजिटिव आता है तो अपने डॉक्टर से बात करें। डॉक्टर प्रेग्नेंसी की जांच करेंगे कि कहीं वो लेफ्टओवर प्रेग्नेंसी हाॅर्मोन तो नहीं हैं।

और पढ़ें : तीसरी प्रेग्नेंसी के दौरान इन बातों का रखना चाहिए विशेष ख्याल

मिसकैरिज के बाद कितना करें इंतजार?

अबॉर्शन के बाद डॉक्टर कम से कम एक से दो हफ्ते तक सेक्स न करने की सलाह देते हैं। इंफेक्शन से बचने के लिए डॉक्टर सेफ सेक्स की सलाह देते हैं। ज्यादातर केस में डॉक्टर अबॉर्शन के तीन महीने बाद तक कंसीव करने की सलाह देते हैं। अगर आप मेंटली, फिजिकली और इमोशनली फिट हैं तो आपको कंसीव करने के लिए ज्यादा इंतजार करने की जरूरत नहीं है। अगर आप इमोशनल तौर पर रेडी नहीं हैं तो इंतजार करना बेहतर रहेगा। सर्जिकल अबॉर्शन में महिलाओं को कुछ कॉम्प्लिकेशन फेस करने पड़ते हैं। जैसे-

  • इंफेक्शन की समस्या
  • गर्भाशय ग्रीवा टियर
  • ब्लीडिंग
  • रिटेन्ड टिशू
  • प्रोसीजर के दौरान प्रयोग की जा रही दवाओं से समस्या

मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी के लिए कितना इंतजार करना चाहिए, इसके अलग-अलग जवाब मिल सकते हैं। कुछ डॉक्टर जल्द ही प्रेग्नेंसी के बारे में राय देते हैं, वहीं कुछ 18 महीने का इंतजार करने के लिए भी कह सकते हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार (WHO) मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी के लिए छह महीने का इंतजार सही रहता है। अगर आपका सर्जिकल अबॉर्शन हुआ है तो एक बार अपने डॉक्टर से संपर्क करने के बाद ही प्रेग्नेंसी प्लान करें।

और पढ़ें : प्रेग्नेंट होने के लिए सेक्स के अलावा इन बातों का भी रखें ध्यान

गर्भपात के बाद प्रेग्नेंसी: मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी में देरी सही है?

मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी को लेकर स्टडी की गई। स्टडी में साफ किया गया कि जिन महिलाओं को मिसकैरिज के कुछ समय बाद (छह महीने) प्रेग्नेंसी हुई, उन्हें ज्यादातर किसी भी तरह के कॉम्प्लिकेशन का सामना नहीं करना पड़ा। वहीं जिन महिलाओं ने मिसकैरिज के दो साल बाद कंसीव किया, उन्हें कुछ कॉम्प्लिकेशन जैसे एक्टोपिक प्रेग्नेंसी (ectopic pregnancy) या प्रेग्नेंसी टर्मिनेशन का सामना करना पड़ा। साथ ही ऐसी महिलाओं की डिलिवरी सी-सेक्शन से की गई। तुलना करने पर देर से कंसीव करने वाली महिलाओं में प्रीमैच्योर बर्थ, लो बर्थ वेट आदि भी देखने को मिले। इस सवाल का जबाव आपका डॉक्टर बेहतर तरीके से दे सकते हैं। अगर आप भी ऐसा कुछ प्लान कर रही हैं तो बेहतर रहेगा कि एक बार डॉक्टर से इस बारे में राय लें।

और पढ़ें : हेल्थ इंश्योरेंस से पर्याप्त स्पेस तक प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी है इस तरह की फाइनेंशियल प्लानिंग

गर्भपात के बाद प्रेग्नेंसी:  अबॉर्शन से समस्या हो सकती है?

अबॉर्शन से किसी भी तरह की समस्या होने की संभावना कम ही रहती है। अगर अबॉर्शन के बाद भी पेट में दर्द की समस्या हो तो डॉक्टर इस बारे में चेकअप कर सकते हैं। कई मामलों में ज्यादा ब्लीडिंग से एनीमिया और वीकनेस की समस्या हो सकती है। साथ ही इंफेक्शन की वजह से ट्युबल ब्लॉकेज होने की संभावना रहती है। वैसे तो अबॉर्शन के समय वॉम्ब में लाइनिंग के डैमेज होने के चांसेज कम ही होते हैं। अगर ऐसा होता है तो दोबारा कंसीव करने में समस्या हो सकती है। इस बारे में आपको अपने डॉक्टर से अधिक जानकारी प्राप्त करनी चाहिए। ऐसा जरूरी नहीं है कि सब के साथ ही अबॉर्शन के समय दिक्कत आए।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें : परिवार बढ़ाने के लिए उम्र क्यों मायने रखती है?

अबॉर्शन के बाद कंसीव करते समय रखें ध्यान

मिसकैरिज के बाद शरीर को आराम की जरूरत होती है। जब आपको कुछ महीने बाद ऐसा लगे कि आप पूरी तरह से फिट हैं तब कंसीव करने का फैसला लें। अगर आपका सर्जिकल एबॉर्शन हुआ है तो डॉक्टर की राय एक बार जरूर लें। दूसरे बच्चे के बारे में सोचने से पहले एक बार चाहे तो चेकअप करा लें। डॉक्टर आपका चेकअप करने के बाद उचित राय दे सकता है। दूसरी प्रेग्नेंसी के लिए वॉम्ब लाइनिंग का सही होना बहुत जरूरी है। अबॉर्शन के दो से तीन दिन तक ब्लीडिंग हो सकती है। अगर आपको ज्यादा समय तक ब्लीडिंग हो रही है तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

अबॉर्शन के बाद कंसीव करना पति-पत्नी का निजी फैसला होता है। मेडिकली महिला दूसरी बार प्रेग्नेंसी के लिए प्रिपेयर है या नहीं, इस बात की जानकारी डॉक्टर दे सकता है। बेहतर रहेगा कि आप किसी भी तरह की जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

उम्मीद करते हैं कि आपको इस आर्टिकल की जानकारी पसंद आई होगी और आपको मिसकैरिज के बाद प्रेग्नेंसी से जुड़ी सभी जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कितना सामान्य है गर्भावस्था में नसों की सूजन की समस्या? कब कराना चाहिए इसका ट्रीटमेंट

जानिए गर्भावस्था में नसों की सूजन in Hindi, गर्भावस्था में नसों की सूजन के लक्षण, garbhavastha me nasho ki sujan के कारण, Varicose veins during pregnancy.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
डिलिवरी केयर, प्रेग्नेंसी मार्च 30, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

अबॉर्शन से पहले, जानें सुरक्षित गर्भपात के लिए क्या कहता है भारतीय संविधान

जानिए सुरक्षित गर्भपात की जानकारी in Hindi, सुरक्षित गर्भपात के लिए भारतीय संविधान, अबॉर्शन के प्रकार, अबॉर्शन के विकल्प, Termination Of Pregnancy, टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी क्या है, Surakshit Abortion, surakshit garbhpat.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रेग्नेंसी प्लानिंग, प्रेग्नेंसी मार्च 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Miscarriage: गर्भपात क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और इलाज

जानिए गर्भपात (मिसकैरिज) क्या है in hindi, गर्भपात (मिसकैरिज) के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Miscarriage को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 25, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Mifepristone+Misoprostol: मिफेप्रिस्टोन+मिसोप्रोस्टोल क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

जानिए मिफेप्रिस्टोन+मिसोप्रोस्टोल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, मिफेप्रिस्टोन+मिसोप्रोस्टोल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Mifepristone+Misoprostol डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anoop Singh
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल फ़रवरी 17, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

प्रेग्नेंसी के दौरान एमनियोसेंटेसिस टेस्ट Pregnancy ke dauran Amniocentesis test

क्या प्रेग्नेंसी के दौरान एमनियोसेंटेसिस टेस्ट करवाना सेफ है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ मई 26, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
प्रेग्नेंसी में बुखार - fever in pregnancy

प्रेग्नेंसी में बुखार: कहीं शिशु को न कर दे ताउम्र के लिए लाचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr Sharayu Maknikar
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ मई 11, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मिसकैरेज से कैसे बाहर आएं-Miscarriage se kaise bahar aaye

जानें मिसकैरेज से कैसे बाहर आएं?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita Mishra
प्रकाशित हुआ अप्रैल 28, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था के दौरान बेटनेसोल इंजेक्शन

गर्भावस्था के दौरान बेटनेसोल इंजेक्शन क्यों दिया जाता है? जानिए इसके फायदे और साइड इफेक्ट्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ अप्रैल 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें