Chinese Rhubarb: चाइनीज रुबाब क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 28, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

परिचय

चाइनीज रुबाब क्या है?

रुबाब एक पौधा है। इसकी जड़ और तने का इस्तेमाल कई दवाओं में किया जाता है। इसका वानस्पातिक नाम रियम पालमेंटम (Rheum Palmatum) है। ये Polygonaceae परिवार से ताल्लुख रखता है। ये लैक्सिटिव और एंटीडायरियल प्रॉपर्टीज के लिए जाना जाता है। आमतौर पर इसका इस्तेमाल डायजेस्टिव सिस्टम से सबंधित परेशानियां जैसे कब्ज, डायरिया, पेट में दर्द आदि के उपचार के लिए किया जाता है। इस पौधे के डंठल का इस्तेमाल भोजन बनाने के लिए भी किया जा सकता है। वहीं, पारंपरिक चाइनीज मेडिसिन में इसका इस्तेमाल अकेले या अन्य पदार्थों के साथ मिलाकर भी किया जाता है। अगर भोजन में रुबाब का इस्तेमाल करना है, तो इसके लिए इस पौधे के तने और इसके प्यूरी का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा कुछ पकवानों में इसके पाउडर का इस्तेमाल एक मसाले के तौर पर भी किया जा सकता है जो खाने को स्वादिष्ट बना सकता है।

चाइनीज रुबाब का उपयोग किसलिए किया जाता है?

रुबाब की तीन प्रजातियां होती है और तीनों को ही चाइनीज रुबाब के नाम से जाना जाता है। मुख्य तौर पर यूरोप और उत्तरी अमेरिका में खाना पकाने में इनका इस्तेमाल सबसे अधिक किया जाता है। इसकी एक प्रजाति का डंठल लाल रंग का होता है जिसे गार्डन रुबाब कहते हैं। हालांकि, इसमें कोई औषधीय गुण नहीं होते हैं। इसलिए इसका इस्तेमाल दवा के तौर पर नहीं किया जाता है।

डायजेशन संबंधित परेशानियों के लिए है वरदान

रुबाब का इस्तेमाल कब्ज, डायरिया, सीने में जलन, पेट में दर्द, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ब्लीडिंग से निजात दिलाने के लिए किया जाता है। कुछ लोग इसका प्रयोग पाचन तंत्र को सुचारू चलाने के लिए करते हैं। ये बवासीर में भी राहत प्रदान करता है। इसको सीमित मात्रा में कुछ समय तक इस्तेमाल करने के लिए सुरक्षित माना जाता है। कई बार इसे स्किन संबंधित परेशानियों के लिए त्वचा पर लगाकर भी इस्तेमाल किया जाता है।

इसके अलावा, इसका इस्तेमाल रजोनिवृत्ति के लक्षण, मासिक धर्म में ऐंठन, आंत की सूजन जैसी कई अन्य स्थितियों में भी किया जा सकता है। हालांकि, इन स्थितियों में इसका इस्तेमाल करना कितना लाभकारी हो सकता है, इसके लिए उचित अध्ययन करने की आवश्यकता है।

इस पौधे में कई रसायनिक गुण होते हैं जो घावों को जल्दी ठीक करने में भी मददगार हो सकते हैं। इस पौधे में भरपूर मात्रा में फाइबर होता है जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करने में मदद कर सकता है।

हरपीज लैबियालिस के उपचार में मददगार

हरपीज लैबियालिस को कोल्ड सोर भी कहते हैं। इसकी समस्या होने पर इस पौधे से बनी क्रीम का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह एसाइक्लोविर (जोविराक्स) क्रीम जितना प्रभावी हो सकता है।

मोटापा से राहत दिलाए

कुछ शोधों में इसका दावा किया गया कि कुछ निश्चित समय तक इसका इस्तेमाल करने से मोटे लोग अपने शरीर का वजन आसानी से कम कर सकते हैं और उसे कंट्रोल कर सकते हैं। हाालंकि, अभी भी इस दिशा में उचित अध्ययन करने की आवश्यकता है।

कैसे काम करता है चाइनीज रुबाब?

चाइनीज रुबाब कैसे काम करता है इस बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने हर्बलिस्ट से कंसल्ट करें। हालांकि कुछ शोध बताते हैं कि इसमें लैक्सेटिव गुण होते हैं जो कि डाइजेशन के लिए लाभकारी होते हैं। इसमें कुछ ऐसे कैमिकल्स होते हैं जो सूजन को कम करने में मददगार हैं। इसमें पाए जाने वाला फाइबर कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करता है।

यह भी पढ़ेंः Lychee : लीची क्या है?

सावधानियां और चेतावनी

चाइनीच रुबाब के इस्तेमाल से पहले किन बातों के बारे में मुझे मालूम होना चाहिए?

  • इस हर्ब का इस्तेमाल करने से पहले ब्लड और यूरिन इलेक्ट्रोलाइट को मॉनिटर करने की जरूरत है। अगर इसका इस्तेमाल करने से पेट में दर्द, जी मिचलाना या उल्टी की शिकायत होती है तो इसका उपयोग करना बंद कर दें।
  • आप इस हर्बल को दूसरे हर्ब्स के साथ ले सकते हैं। इसके बेहतर परिणाम के लिए इसको लेने के एक घंटे के बाद तक कोई ड्रग, एंटासिड्स या दूध न लें।
  • बच्चों और जानवरों की पहुंच से इसे दूर रखें।

दवाइयों की तुलना में हर्ब्स लेने के लिए नियम ज्यादा सख्त नहीं हैं। इसलिए किसी भी हर्ब का उपयोग करने से पहले हर्बलिस्ट से जरूरत संपर्क करें। बहरहाल यह कितना सुरक्षित है इस बात की जानकारी के लिए अभी और भी रिसर्च की जरूरत है। इस हर्ब को इस्तेमाल करने से पहले इसके रिस्क और फायदे को अच्छी तरह से समझ लें।

कितना सुरक्षित है चाइनीज रुबाब का उपयोग?

निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थिति में इस हर्बल का इस्तेमाल न करें:

किन दवाओं के साथ चाइनीज रुबाब का उपयोग न करें?

  • एंटासिड चाइनीज रुबाब के असर को प्रभावित कर सकता है, यदि इसे एक घंटे के अंदर लिया जाए।
  • चाइनीज रुबाब का लगातार उपयोग करने से शरीर में पोटेशियम लेवल कम हो सकता है। इसके अलावा ये कार्डियक ग्लाइकोसाइड्स, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के प्रभाव को बढ़ा सकता है।
यह भी पढ़ेंः Protein powder: प्रोटीन पाउडर क्या है?

साइड इफेक्ट्स

चाइनीज रुबाब के उपयोग से मुझे क्या साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं?

चाइनीज रुबाब से नीचे बताए साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं:

  • जी मिचलाना, उल्टी, डायरिया, पेट में दर्द
  • यूरिन डिस्कलरेशन, हेमट्यूरिया, अल्बुमिनुरिया
  • विटामिन और मिनिरल की कमी, असंतुलन इलेक्ट्रोलाइट

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हो ऐसा जरुरी नहीं है, कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ेंः Zedoary: सफेद हल्दी क्या है? 

डोसेज

चाइनीज रुबाब को लेने की सही खुराक क्या है?

  • क्लीनिकल परिक्षण में सूखे चाइनीज रुबाब एक्सट्रैक्ट को 20 से 50 मिलीग्राम/किलोग्राम प्रतिदिन का उपयोग किया गया है।

यहां दी हुई जानकारियों का इस्तेमाल डॉक्टरी सलाह के विकल्प के रूप में ना करें। इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

यह भी पढ़ें : Coriander: धनिया क्या है?

उपलब्ध

किन रूपों में उपलब्ध है चाइनीज रुबाब?

चाइनीज रुबाब निम्नलिखित रूपों में उपलब्ध है:

  • एक्सट्रैक्ट
  • पाउडर
  • सिरप
  • टैबलेट
  • टिंचर

हमें उम्मीद है चाइनीज रुबाब हर्ब पर आधारित यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यहां बताई गई किसी प्रकार की कोई परेशानी है तो आप इस हर्ब का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन डॉक्टर की सलाह पर। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकली सलाह या उपचार की सिफारिश नहीं करता है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो कृपया इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

संबंधित लेख:

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Rose Geranium Oil: रोज जेरेनियम ऑयल क्या है?

जानिए रोज जेरेनियम ऑयल की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, रोज जेरेनियम ऑयल उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Rose Geranium Oil डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Hemakshi J
Written by Anu Sharma
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल मार्च 25, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Traveler’s diarrhea : ट्रैवेलर्स डायरिया क्या है?

जानिए ट्रैवेलर्स डायरिया क्या है in hindi, ट्रैवेलर्स डायरिया के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, Traveler's diarrhea को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anu Sharma
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z मार्च 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Indigetion: अपच क्या है?

जानिए अपच की जानकारी in hindi,निदान और उपचार, अपच के क्या कारण हैं, लक्षण क्या हैं, घरेलू उपचार, जोखिम फैक्टर, Indigetion का खतरा, मस्से का इलाज जानिए जरूरी बातें।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Mona Narang
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 27, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Rectal Cancer: रेक्टल कैंसर क्या है?

जानिए रेक्टल कैंसर क्या है in hindi, रेक्टल कैंसर के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, rectal cancer को ठीक करने के लिए आप इस तरह के घरेलू उपाय अपना सकते हैं।

Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
Written by Sunil Kumar
हेल्थ कंडिशन्स, स्वास्थ्य ज्ञान A-Z फ़रवरी 27, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

बरगद -banyan tree

बरगद के फायदे एवं नुकसान – Health Benefits of Banyan Tree (Bargad ka Ped)

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Ankita Mishra
Published on जून 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
विजीलैक-vizylac

Vizylac: विजीलैक क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Bhawana Awasthi
Published on जून 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
बिफिलेक

Bifilac: बिफिलेक क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Satish Singh
Published on जून 2, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कैसी एब्सोल्युट

Cassie absolute: कैसी एब्सोल्युट क्या है?

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Anu Sharma
Published on मार्च 31, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें