Coriander: धनिया क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date जनवरी 9, 2020
Share now

परिचय

धनिया क्या होता है?

धनिया खाने में फ्लेवर डालने और गार्निश करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन, इसमें सेहत को फायदा पहुंचाने वाले गुण भी हैं। यह जी घबराने, ब्लड शुगर को नियंत्रित करने आदि में काम आता है। इसका बोटेनिकल कोरिएंड्रम सैटिवम (Coriandrum sativum) नाम है, जो कि Umbellifers फैमिली से आता है। सामान्य तौर पर इसके पत्तो का इस्तेमाल सब्जी की सजावट करने और ताजे मसाले के रूप में किया जाता है। वहीं, इसके बीज को सुखाकर सूखे मसाले की तरह इसका इस्तेमाल किया जाता है। यह दो प्रकार की होती है, पहली देशी और दूसरी हायब्रीड। इसका देशी प्रकार स्वाद और खुशबू में ज्यादा तेज होती है, जबकि, हायब्रीड धनिया ये बाजारों में ज्यादा देखने को मिलती है लेकिन स्वाद ओर खुशबू में ज्यादा अच्छी नहीं होती। देशी धनिया बाजारों में दिसम्बर से फरवरी तक ही उपलब्ध होती है।

इसके हरे कच्चे पत्तों में विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन के के गुण पाए जाते हैं और इसके बीज में फाइबर, कैल्शियम, कॉपर और आयरन की मात्रा पाई जाती है।

यह भी पढ़ें: Buttercup: बटरकप क्या है?

उपयोग

धनिया का इस्तेमाल किसलिए किया जाता है ? 

विशेषज्ञों के मुताबिक, धनिया का इस्तेमाल खसरा, बवासीर, दांत दर्द, कीड़े, और जोड़ों के दर्द के साथ-साथ बैक्टीरिया और फंगस के कारण होने वाले संक्रमण के इलाज के लिए भी किया जाता है। परंपरागत भारतीय घरों में महिलाएं धनिया का इस्तेमाल दूध के प्रवाह को बढ़ाने के लिए करती हैं।

ऐसा माना जाता है कि धनिये का सेवन करने से स्तनपान कराने वाली महिलाओं का दूध बढ़ता है। आजकल के टाइम में धनिया का उपयोग दवाओं और तम्बाकू में स्वाद बढ़ाने वाले के लिए किया जाता है। कुछ कंपनी ब्यूटी प्रोडक्ट्स और साबुन की खुशबू को बढ़ाने के लिए भी इसका इस्तेमाल करते हैं।

इसके अलावा इसका बीज पाचन तंत्र को मजबूत बनाने में लाभकारी होता है। इसके बीज को नियमित तौर पर प्रतिदिन दो से तीन बार सौंफ की तरह चबाकर खाने से चेहरे की चमक बढ़ती है। अगर चाहें तो इसके बीजों को सौंफ के साथ भी खा सकते हैं।

इनके अलावा जिन्हें शुगर की समस्या है वो भी इसका सेवन कर सकते हैं। इसका बीज शुगर को कंट्रोल में बानए रखती है और पेट की समस्याओं जैसे कब्ज या गैस से भी राहत प्रदान करती है।

जिन्हें पथरी की समस्या हैं उन्हें हर दिन सुबह खाली पेट धनिया के पत्तों का पानी पीने से लाभ मिलता है। इसके लिए इसके ताजे हरे पत्तों को पानी में उबालें फिर उस पानी को छान कर पी जाएं। ऐसे करने से पथरी यूरीन के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाती है।

धनिया कैसे काम करता है?

यह हर्बल सप्लीमेंट कैसे काम करता है, इस बारे में पर्याप्त अध्ययन नहीं किए गए हैं। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें। हालांकि कुछ अध्ययन में यह भी कहा गया है कि इसमें एंटी-लिपिड और एंटी-डायबिटिक पाए जाते हैं। कुछ स्थानों पर धनिया का तेल भी इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़ें : Ginseng : जिनसेंग क्या है?

धनिया से जुड़ी सावधानियां एवं चेतावनी

धनिया के सेवन से पहले मुझे इसके बारे में क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए? 

इसका इस्तेमाल करने से पहले इस बात को जान लीजिए कि इसको हमेशा धूप और नमी से बचाकर एक सील कंटेनर में ही रखना चाहिए।

सर्जरीः हाल ही में हुए अध्ययन के मुताबिक, अगर शरीर में किसी भी तरह की मेडिकल सर्जरी कराई हो तो उन लोगों को धनिया का इस्तेमाल कुछ वक्त तक छोड़ देना चाहिए।

ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगरः यह रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) और रक्त शर्करा (ब्लड शुगर) के स्तर को कम करने में काफी लाभदायक सााबित हो सकता है। अगर आप ब्लड प्रेशर को कम करने और ब्लड शुगर को कम करने के लिए किसी तरह की दवाई का इस्तेमाल कर रहे हैं तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बलिस्ट या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

धनिया कितना सुरक्षित है?

इस पर हुए नए अध्ययन में हुए यह बात सामने आई है कि गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान धनिया (औषधीय रूप से) का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं तो सीधे तौर पर इसका प्रयोग करने से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Garlic : लहसुन क्या है?

धनिया के साइड इफेक्ट

शोध के मुताबिक, इसका प्रयोग करने से एंटी-डायबिटिक दवाओं का प्रभाव बढ़ सकता है। अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं और एंटी-डायबिटिक दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लीजिए।

अधिक मात्रा में इसका इस्तेमाल करने से मतली, उल्टी, एनोरेक्सिया, वसायुक्त यकृत ट्यूमर, नाफिलेक्सिस जैसी समस्या हो सकती हैं। नए अध्ययन में धनिया के दुष्प्रभावों को लेकर कई सारी बातें सामने नहीं आ पाई है।

हालांकि हर किसी को ये साइड इफेक्ट हों ऐसा जरुरी नहीं है। कुछ ऐसे भी साइड इफेक्ट हो सकते हैं जो ऊपर बताए नहीं गए हैं। अगर आपको इनमें से कोई भी साइड इफेक्ट महसूस हो या आप इनके बारे में और जानना चाहते हैं तो नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें: Acacia : बबूल क्या है?

धनिया की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरुर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में धनिया खाना चाहिए? 

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

अगर आप इसका इस्तेमाल काढ़े के तौर पर कर रहे हैं तो 150 मिली लीटर उबलते पानी में 2 चम्मच धनिया डालकर उबालकर पीजिए। नए शोध के मुताबिक, इसका काढ़ा भोजन से पहले पीने से तनाव का स्तर गिरता है और शरीर की एकाग्रता क्षमता बढ़ती है।

धनिया किन-किन रूपों में उपलब्ध है? 

यह हर्बल सप्लीमेंट क्रूड एक्सट्रैक्ट, टिंचर और साबूत दानों में बाजार में उपलब्ध है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें:-

Fenugreek : मेथी क्या है?

बच्चों को ग्राइप वॉटर पिलाना सही या गलत? जानिए यहां

जानें मेडिटेशन से जुड़े रोचक तथ्य : एक ऐसा मेडिटेशन जो बेहतर बना सकता है सेक्स लाइफ

कभी आपने अपने बच्चे की जीभ के नीचे देखा? कहीं वो ऐसी तो नहीं?

संबंधित लेख:

    क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
    happy unhappy"
    सूत्र

    शायद आपको यह भी अच्छा लगे

    Vietnamese Coriander : वियतनामी धनिया क्या है?

    जानिए वियतनामी धनिया की जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, वियतनामी धनिया उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Vietnamese Coriander डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

    Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
    Written by Sunil Kumar

    Laparoscopic Cholecystectomy : लैप्रोस्कोपिक कॉलेसिस्टेक्टमी क्या है?

    जानिए लैप्रोस्कोपिक कॉलेसिस्टेक्टमी की जानकारी in Hindi, laparoscopic-cholecystectomy क्या है , कैसे और कब की जाती है, लैप्रोस्कोपिक कॉलेसिस्टेक्टमी की प्रक्रिया, क्या है जोखिम, जानें इसके खतरे, कैसे करें रिकवरी, कैसे करें बचाव।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Shayali Rekha

    दूसरी तिमाही की परेशानी से राहत पाने के कुछ आसान टिप्स

    गर्भावस्था के दूसरी तिमाही की परेशानी क्या-क्या हैं? प्रेग्नेंसी में डायजेशन, हार्टबर्न, गैस और कब्ज की परेशानी से बचने के लिए क्या करें?

    Medically reviewed by Dr. Shruthi Shridhar
    Written by Nidhi Sinha

    जानिए क्या है पाचन संबंधी विकार (Digestive Disorder) और लक्षण?

    जानिए पाचन संबंधी विकार in Hindi, पाचन संबंधी विकार क्या है, Digestive Disorder के लक्षण क्या है, पेट दर्द के घरेलू उपाय, एसिडिटी से राहत कैसे पाएं।

    Medically reviewed by Dr Sharayu Maknikar
    Written by Bhawana Awasthi