Protein powder: प्रोटीन पाउडर क्या है?

Medically reviewed by | By

Update Date मई 14, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
Share now

मूल बातें जानें

प्रोटीन पाउडर क्या है?

कई प्रकार के प्रोटीन से भरपूर खाने पीने की चीजों को मिलाकर प्रोटीन पाउडर को बनाया जाता है जैसे- हर्बल, सोयाबीन, मटर, चावल, आलू,अंडे या दूध आदि। इन सभी का एक कॉम्बिनेशन तैयार करने के बाद इसमें शुगर, विटामिन्स और खनिज तत्व मिलाए जाते हैं।

सप्पलीमेंट के तौर पे दो तरह के प्रोटीन पाउडर होते है

  • व्हेय (whey)
  • केसिन (casein)

व्हेय प्रोटीन एक जल्दी से पचने वाला प्रोटीन है वहीं केसिन को पचने में काफ़ी समय लगता है।

ये सप्लीमेंट्स प्रोटीन डाइट के विकल्प के रूप इस्तेमाल किए जाते हैं। ये अतिरिक्त वज़न कम करने में कारगर और मांसपेशियों की मजबूती बढ़ाने में मदद करते हैं। ये अमीनो एसिड के अच्छे स्रोत होते हैं।

यह भी पढ़ेंः Zedoary: सफेद हल्दी क्या है? 

प्रोटीन पाउडर का उपयोग किस लिए किया जाता है?

वर्कआउट के बाद आपको ज्यादा ऊर्जा की जरूरत होती है । एक्सरसाइज के बाद शरीर में ईंधन देने के लिए अधिक प्रोटीन की आवश्यकता होती है क्योंकि इस स्थिति में आपको नार्मल प्रोटीन डाइट से अधिक प्रोटीन की जरूरत होती है ।

यदि आप वर्कआउट करने के दौरान मजबूत मांशपेशियां बनाने की कोशिश कर रहे हैं, तो आपको सामान्य रूप से अधिक प्रोटीन की आवश्यकता होगी।

जब आप किसी चोट से उबर रहे हों तो उसे जल्दी ठीक करने में प्रोटीन पाउडर मदद करता है।

यदि आप शाकाहारी हैं तो आप मांस, चिकन और मछली सहित कई आम प्रोटीन स्रोतों से दूर हो जाते है। ऐसे में प्रोटीन पाउडर आपके शरीर में प्रोटीन की जरूरत को पूरा करता है।

सावधानी और चेतावनी

प्रोटीन पाउडर का उपयोग करने से पहले मुझे क्या पता होना चाहिए?

  • यदि आप प्रेग्नेंट है या बच्चे को दूध पिला रही है तो ऐसे में इस प्रोटीन सप्पलीमेंट को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले ।
  • आपको प्रोटीन पाउडर से या उसके किसी सबटेंस से किसी भी प्रकार की एलर्जी तो नही सप्लीमेंट के उपयोग से पहले, जरूरी बातों और निर्देशों पे ध्यान दे। जैसे, पानी की सही मात्रा, विटामिन, खनिज तत्व और फाइबर का सही मात्रा में सेवन।

उपयोग से पहले मुझे किस बात का ध्यान देना चाहिए

  • व्हेय प्रोटीन में ग्लोब्यूलर प्रोटीन मौजूद होता है जो शरीर को नुकसान पहुचा सकता है ।
  • प्रोटीन पाउडर में काफी मात्रा में टॉक्सिक मेटेल्स् या जहरीले पदार्थ होते हैं जो शरीर के लिए खतरनाक हो सकते हैं। इन्हें लेने से सरदर्द, थकान कब्ज और मासपेशियों में दर्द की शिकायत हो सकती है.

यह भी पढ़ें : Coriander: धनिया क्या है?

प्रोटीन पाउडर खाने के फायदे क्या हैं?

वजन घटाने में मदद करे

158 लोगों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया है कि, प्रोटीन पाउडर लोगों का वजन घटाने में काफी मददगार है। वजन घाटने के दौरान यह शरीर से सिर्फ वसा को कम करता है। इसका हड्डियों या मांसपेशियों पर ज्यादा प्रभाव नहीं होता है।

कैंसर रोधी गुण

इसमें कैंसर के उपचार के गुण भी पाए जाते हैं। हालांकि, यह कैंसर के उपचार में कितना लाभकारी हो सकता है, इस बारे में अभी भी उचित अध्ययन करने की आवश्यकता है।

कोलेस्ट्रॉल में कमी

ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अध्ययन ने 12 सप्ताह के लिए ओवरवेट वाले 70 पुरुषों और महिलाओं को शामिल किया गया। जिन्हें दिन में एक बार प्रोटीन का सेवन करने के लिए दिया गया। जिसमें पाया गया कि अध्ययन में शामिल लोगों में कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के लेवल में काफी कमी आई।

अस्थमा का उपचार

प्रोटीन अस्थमा वाले बच्चों में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया में सुधार कर सकता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फूड साइंस एंड न्यूट्रीशन में प्रकाशित एक छोटे से अध्ययन में इसका दावा किया गया है। अध्ययन के मुताबिक, अध्ययन में अस्थमा से पीड़ित कुछ बच्चों को शामिल किया गया था, जिन्हें 1 महीने तक रोजाना दिन दो बार 10 ग्राम प्रोटीन सप्लीमेंट का सेवन करने के लिए दिया गया। इसका परिणाम ये रहा कि बच्चों का अस्थमा कम होने के साथ-साथ उनको रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ी।

ब्लड प्रेशर और हृदय रोग के खतरे कम करे

इंटरनेशनल डेयरी जर्नल में प्रकाशित शोध में पाया गया कि पेय पदार्थ के तौर पर प्रोटीन का सेवन करने से उच्च रक्तचाप यानी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कम किया जा सकता है। साथ ही, यह हृदय रोग और स्ट्रोक के खतरे को भी कम कर सकता है।

एचआईवी से पीड़ित लोगों में वजन कम करना

क्लिनिकल एंड इंवेस्टिगेटिव मेडिसिन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि प्रोटीन का सेवन करने से एचआईवी पॉजिटिव रोगियों को वजन घटाने में मदद मिल सकती है।

यह भी पढ़ेंः Lychee : लीची क्या है?

साइड इफेक्ट्स

प्रोटीन पाउडर के इस्तेमाल से मुझे क्या साइड इफेक्ट हो सकते है?

  • कुछ प्रोटीन पाउडर में अधिक विषाक्त धातु जैसे सीसा, कैडमियम, आर्सेनिक और पारा आदि होते हैं। इस कारण सिरदर्द, थकान, कब्ज और मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है।
  • ‘वे’ प्रोटीन में कुछ हॉर्मोन और बायोएक्टिव पेप्टाइड्स होते हैं जो मुंहासों की आशंका बढ़ाते हैं।
  • कुछ व्हेय प्रोटीन सप्लीमेंट में शुगर की मात्रा ज्यादा होने से इसमें कार्बाेहाइड्रेट मौजूद होते हैं जो फैट घटाने के बजाय बढ़ाते हैं। अत्यधिक सेवन से हृदय सम्बंधी खतरा भी जुड़ा हुआ है।
  • पेट सम्बंधी रोग भी हो सकते हैं।
  • पेट में ऐंठन की समस्या हो सकती है।
  • सिरदर्द की समस्या हो सकती है।
  • प्रोटीन पाउडरों का लंबे समय तक सेवन ओस्टियोपोरोसिस (हडि्डयों में कमजोरी) और किडनी सम्बंधी परेशानियां खड़ी हो सकती हैं।
यह भी पढ़ें : Aloe Vera : एलोवेरा क्या है?

डोज/ मात्रा

सामान्य खुराक क्या है?

अमेरिकन कॉलेज ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन और पोषण और आहार विज्ञान अकादमी से द्वारा मानक खुराक:

  • औसत वयस्क को प्रति दिन शरीर के वजन के हिसाब से प्रति किलोग्राम 0.8 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है।
  • रीक्रिएशनल एथलेटिक्स में भाग लेने वाले लोगों को शरीर के प्रत्येक किलोग्राम वजन के लिए 1.1 से 1.4 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है।
  • प्रतियोगी एथलीटों को 1.2 से 1.4 ग्राम की आवश्यकता होती है, और अल्ट्रा-एंड्योरेंस स्पोर्ट्स में शामिल लोगों को 2.0 ग्राम प्रति किलोग्राम वजन की आवश्यकता हो सकती है।
  • मांसपेशियों का निर्माण करने वाले एथलीटों को प्रति दिन 1.5 से 2.0 ग्राम प्रति किलोग्राम की आवश्यकता होती है।

प्रोटीन सप्लीमेंट्स किस रूप में आते हैं?

  • ये प्रोटीन सप्लीमेंट्स पाउडर, शेक या कैप्सूल के रूप में होते हैं।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपका इससे जुड़ा कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़ें:-

Hazelnut : हेजलनट क्या है?

Asafoetida: हींग क्या है?

Garlic: लहसुन क्या है?

Lime : हरा नींबू क्या है?

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy"
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Glycomet SR 500 : ग्लाइकोमेट एसआर 500 क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ग्लाइकोमेट एसआर 500 की जानकारी in hindi, ग्लाइकोमेट एसआर 500 के साइड इफेक्ट क्या है, मेटफॉर्मिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glycomet SR 500.

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 6, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें

पर्पल नट सेज के फायदे एवं नुकसान: Health Benefits of purple nut sedge

पर्पल नट सेज की जानकारी, फायदे, पर्पल नट सेज के उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कितना लें, Purple nut sedge डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स। purple nut sedge in Hindi.

Medically reviewed by Dr. Pooja Daphal
Written by Shikha Patel
जड़ी-बूटी A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Folvite 5 mg Tablet : फोल्विट 5 एमजी टैबलेट क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

फोल्विट 5 एमजी टैबलेट जानकारी in hindi, फायदे, लाभ, फोल्विट 5 एमजी टैबलेट का उपयोग, इस्तेमाल कैसे करें, कब लें, कैसे लें, कितना लें, खुराक, Folvite 5 mg डोज, ओवरडोज, साइड इफेक्ट्स, नुकसान, दुष्प्रभाव और सावधानियां।

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shikha Patel
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 6, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Glizid M : ग्लिजिड एम क्या है? जानिए इसके उपयोग और साइड इफेक्ट्स

ग्लिजिड एम की जानकारी in hindi, ग्लिजिड एम के साइड इफेक्ट क्या है, ग्लिक्लाजिड और मेटफॉर्मिन दवा किस काम में आती है, रिएक्शन, उपयोग, Glizid M

Medically reviewed by Dr. Pranali Patil
Written by Shayali Rekha
दवाइयां A-Z, ड्रग्स और हर्बल जुलाई 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें