नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस क्या है? जानें इसके लक्षण,कारण और इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट अक्टूबर 26, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस एक प्रकार का वाटर बैलेंस डिसआर्डर (पानी के संतुलन का विकार) है। इसे असामान्य विकार भी कहते हैं, यह हमारे शरीर में तरल पदार्थों के असंतुलन के कारण होता है। नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस वाले लोग बहुत अधिक मूत्र (पॉल्यूरिया) विसर्जन करते हैं, जिसके कारण उन्हें अत्यधिक प्यास लगती है। अत्यधिक प्यास लगने की इस स्थिति को पॉलीडिप्सिया कहते हैं। आपको बता दें कि पॉलीडिप्सिया की स्थिति में व्यक्ति को बहुत अधिक प्यास लगती है, इतना ही नहीं अत्यधिक मात्रा में पानी पीने के बाद भी व्यक्ति की प्यास नहीं बुझती है। उन्हें हर समय ऐसा महसूस होता है जैसे उनका गला सूख गया है। नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस को वंशानुगत (Hereditary) किया जा सकता है। यह कुछ दवाओं की वजह से और क्रोनिक विकार से भी हो सकता है ,जो कभी भी किसी भी उम्र में हो सकता है। 

  • नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस डायबिटीज मेलेटस जैसा नहीं होता है। डायबिटीज मेलेटस ब्लड शुगर लेवल को बढ़ाता है। लेकिन नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस किडनी में समस्या के कारण होता है। नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस में, किडनी हार्मोन को सही तरह से रिस्पॉन्स नहीं करती है। जो तरल पदार्थों के संतुलन को नियंत्रित करता है। इस विकार के कारण अत्यधिक पेशाब आना और अत्यधिक प्यास लगने जैसे लक्षण दृष्टिगोचर होते हैं। इसका इलाज किसी चुनौती से कम नहीं होता है।

और पढ़ें: जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस क्या है?

डायबिटीज इन्सिपिडस हार्मोन से संबंधित समस्याओं के कारण होता है जिसे एन्टिडाययूरेटिक हार्मोन(ADH) कहा जाता है। एडीएच मस्तिष्क के एक हिस्से में निर्मित होता है जिसे हाइपोथैलेमस कहा जाता है। यह पिट्यूटरी ग्रंथि में एकत्रित होता है। एडीएच रिलीज होने से हमारे शरीर में तरल की कमी या डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है।  मूत्र की कमी इसका एक परिणाम है।

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस में पर्याप्त एडीएच का उत्पादन करता है। आमतौर पर, किडनी के एडीएच सेंसर खराब होते हैं। इसका परिणाम यह होता है कि एडीएच बिना किसी प्रभाव के बहता रहता है। किडनी पर्याप्त मात्रा में पानी को अवशोषित नहीं कर पाती है। इसके कारण बहुत पतला मूत्र उत्सर्जित होता है जैसे कि कोई एडीएच मौजूद नहीं था।

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के लक्षण

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के लक्षण इस प्रकार हैं।

  • अत्यधिक प्यास (पॉलीडिप्सिया )
  • कमजोरी
  • मूत्र का अत्यधिक मात्रा में उत्सर्जन (पॉल्यूरिया)
  • मांसपेशियों में दर्द
  • इसमें लोग प्रति दिन 1 से 6 गैलन (3 से 20 लीटर) मूत्र का त्याग करते हैं।

जब नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस आनुवंशिक होता है, तो लक्षण आमतौर पर जन्म के तुरंत बाद ही शुरू हो जाता है। शिशु बोल नहीं सकते हैं, इसलिए अपने प्यास की बात बार-बार बता नहीं सकते हैं। जिसके चलते वो डिहाइड्रेट हो जाते हैं, इसी कारण से उनको उल्टी और दौरे के साथ बुखार भी आता रहता है। डिमेंशिया वाले वृद्ध लोगों में भी डिहाइड्रेशन होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि वे भी अपने अत्यधिक प्यास लगने के बारे में बता नहीं पाते हैं।  

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के कारण क्या हैं?

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस शिशुओं में जन्म के समय उनमें मौजूद आनुवंशिक उत्परिवर्तन के कारण होता है। तो वहीं वयस्कों में जो नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस विकसित होने का कारण आनुवांशिकता नहीं है। इनमें इस बीमारी के होने का कारण दवाएं या इलेक्ट्रोलाइट असामान्यताएं होती है। वयस्कों में नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के कारण इस प्रकार हो सकते हैं।  

  • लिथियम एक दवा है, जो आमतौर पर बायपोलर (bipolar) डिसआर्डर के लिए ली जाती है। लिथियम लेने वाले 20% लोगों तक नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस की बीमारी हो सकती है।
  • कई अन्य दवाएं हैं, जिनमें डेमेक्लोसाइक्लिन (डेक्लामाइसिन), ओफ्लॉक्सासिन (फ्लोक्सिन), ऑर्लिस्टेट (अल्ली, जेनिकल) और अन्य शामिल हैं।
  • रक्त में कैल्शियम का उच्च स्तर होना।
  • रक्त में पोटेशियम का निम्न स्तर होना।
  • किडनी की बीमारी, विशेष रूप से पॉलीसिस्टिक किडनी रोग का होना।

डायबिटीज इन्सिपिडस के दूसरे रूप को केंद्रीय डायबिटीज इन्सिपिडस के नाम से भी जाना जाता है। सेंटर डायबिटीज इन्सिपिडस में  किडनी सामान्य रूप से कार्य करते हैं, लेकिन मस्तिष्क में पर्याप्त एडीएच का उत्पादन नहीं होता है। सेंट्रल डायबिटीज इन्सिपिडस में नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस जैसे लक्षण होते हैं। हालांकि, सेंट्रल डायबिटीज इन्सिपिडस का इलाज डेसमोप्रेसिन नामक दवा के साथ एडीएच द्वारा किया जा सकता है। 

और पढ़ें : जानें कैसे स्वेट सेंसर (Sweat Sensor) करेगा डायबिटीज की पहचान

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस का निदान

जिन शिशुओं को यह रोग जन्म से ही मिला है, समय पर उनका इलाज न किए जाने पर उनके मस्तिष्क को नुकसान पहुंच सकता है। जिन लोगों को यह बीमारी आनुवंशिकता द्वारा नहीं मिली है, उन लोगों में किडनी की कार्य प्रणाली को ठीक करके नेफ्रोजेनिक मधुमेह इन्सिपिडस का इलाज किया जा सकता है। नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस का निदान इस प्रकार किया जा सकता है।

  • रक्त परीक्षण
  • मूत्र परीक्षण

प्रयोगशाला परीक्षण में आपके ब्लड में हाई सोडियम लेवल और मूत्र के पतला होने के वजह का पता लगाया जाता है। 

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस का इलाज

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस का इलाज थोड़ा मुश्किल हो सकता है। क्योंकि आपका किडनी एडीएच को रिस्पांस नहीं देता है। इसलिए एडीएच इसमें अधिक मदद नहीं कर सकता है। किडनी, एडीएच को रिस्पांस करे इसका कोई बेहतर तरीका सामने नहीं आया है। वास्तव में इसके उपचार के विकल्प सीमित हैं। यदि इसके लिए लिथियम जैसी दवा जिम्मेदार है, तो दवाओं को बदलने से नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस में सुधार हो सकता है।

  • नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस वाले ज्यादातर वयस्क पानी पीने से तरल पदार्थों के नुकसान से बचे रहते हैं। कुछ लोगों के लिए हर समय प्यास लगे रहना और पेशाब के लक्षण असहनीय हो सकते हैं। कुछ ऐसे उपचार हैं जो नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के लक्षणों को कम कर सकते हैं। पूरी तरह से नहीं लेकिन कुछ हद तक यह कम कर सकते हैं। 
  • इबुप्रोफेन (मोट्रिन), इंडोमेथेसिन (इंडोसिन), और नेप्रोक्सन (नेप्रोसिन) जैसे नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लामेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) भी पेशाब को कम कर सकते हैं।
  • डाइयुरेटिक्स वैसे तो पैराडॉक्सिकल हो सकती हैं, लेकिन हाइड्रोक्लोरोथियाजाइड और एमिलोराइड की तरह “वाटर पिल्स” नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस से अत्यधिक पेशाब को कम करने में मदद कर सकता है।

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें। हैलो स्वास्थ्य किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है।

और पढ़ें: गर्भावस्था की पहली तिमाही में अपनाएं ये प्रेग्नेंसी डायट प्लान

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के लिए कुछ टिप्स

नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस का रोकथाम आप कुछ घरेलू उपाय द्वारा कर सकते हैं। नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस का उपचार करने के लिए आपको अपने आहार और दैनिक जीवन में कुछ परिवर्तन करने की जरूरत है, जो इस प्रकार हैं-

  • इसका रोकथाम करने के लिए आपको कम नमक, कम प्रोटीन वाला आहार लेना चाहिए। जो मूत्र उत्पादन को कम कर सकता है।
  • नेफ्रोजेनिक डायबिटीज इन्सिपिडस के लिए सबसे महत्वपूर्ण उपचार में पानी का सेवन अच्छी मात्रा में करना शामिल है। तरल पदार्थ की कमी से डिहाइड्रेशन या इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन हो सकता है, जो कभी-कभी गंभीर रूप ले सकता है।
  • यदि फल और मल्टीविटामिन जैसे पदार्थों का सेवन करने के बाद भी लक्षणों में सुधार नहीं होता है, तो आपको मेडिकल ट्रीटमेंट लेना चाहिए। 

ऊपर दी गई जानकारी चिकित्सा सलाह का विकल्प नहीं है। इसलिए किसी भी दवा या सप्लिमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

क्या वजन घटने से डायबिटीज का इलाज संभव है?

वजन और डायबिटीज का क्या रिश्ता है? वजन घटने से डायबिटीज का इलाज कैसे किया जाता है? कौन-से व्यायाम करने चाहिए? Diabetes and weight loss in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स सितम्बर 15, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करें इस्तेमाल?

क्या आपको पता है कि ब्लड शुगर टेस्ट करने के लिए डायबिटीज टेस्ट स्ट्रिप्स का सुरक्षित तरीके से कैसे करेंगे इस्तेमाल? Diabetes Test Strips in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स सितम्बर 14, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

Quiz : हाथ किस तरह से स्वास्थ्य स्थितियों के बारे में बता सकते हैं, जानने के लिए खेलें यह क्विज

जानिए हाथों के माध्यम से कैसे पता चलता है कि कहीं आपको डायबिटीज, अस्थमा, एनीमिया आदि समस्याएं तो नहीं हैं, इस क्विज के माध्यम से

के द्वारा लिखा गया Anu sharma
क्विज अगस्त 25, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें

जानिए, मेटफार्मिन को वजन कम करने के लिए प्रयोग करना चाहिए या नहीं?

मेटफार्मिन क्या है, क्या मेटफार्मिन वेट लॉस का कारण बन सकती है, डायबिटीज में मेटफार्मिन लेने से वजन कम होता है या नहीं, Metformin Weight Loss in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Anu sharma
डायबिटीज, हेल्थ सेंटर्स अगस्त 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

डायबिटिक पेशेंट की देखभाल करने वाली की मेंटल हेल्थ

डायबिटिक पेशेंट की देखभाल करने वाले लोग इन बातों का रखें ध्यान, बच सकेंगे स्ट्रेस से     

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ नवम्बर 6, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
कोविड- 19 और बच्चों में डायबिटीज

कोविड-19 और बच्चों में डायबिटीज के लक्षण, जानिए इस बारे में क्या कहती हैं ये रिसर्च

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 6 मिनट में पढ़ें
टाइप 2 मधुमेह का उपचार/type 2 diabetes treatment

क्या आप जानते हैं कि डायबिटीज को रिवर्स कैसे कर सकते हैं? तो खेलिए यह क्विज!

के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ नवम्बर 3, 2020 . 1 मिनट में पढ़ें
टाइप-1 डायबिटीज क्या है

टाइप-1 डायबिटीज क्या है? जानें क्या है जेनेटिक्स का टाइप-1 डायबिटीज से रिश्ता

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Mousumi dutta
प्रकाशित हुआ सितम्बर 17, 2020 . 8 मिनट में पढ़ें