मांसपेशियों में दर्द की समस्या क्यों होती है, क्या है इसका इलाज?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट November 30, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

आपने कई बार महसूस किया होगा कि चलते हुए अचानक से पैर में दर्द महसूस होने लगता है। हाथ को आगे या पीछे करते समय कंधे के पास खिचांव महसूस होने लगना आदि समस्याएं मसल्स में दर्द के कारण हो सकती हैं। मसल्स में दर्द होने पर हमें हाथ या पैर में दर्द महसूस होता है। मांसपेशियों में दर्द की समस्या मसल्स में इंजरी के कारण हो सकती है। मांसपेशियों में फाइबर्स टिशू पाए जाते हैं जो मसल्स को हड्डी से जोड़ने का काम करते हैं। मामूली चोट के कारण भी इस दर्द की समस्या हो सकती है जबकि अधिक चोट लगने में कम्प्लीट टियर यानी मसल्स टियरिंग की समस्या हो सकती है। कई बार मसल्स स्ट्रेच हो जाने के कारण भी मांसपेशियों में दर्द की समस्या हो जाती है। ऐसा पीठ के निचले हिस्से और जांघ में भी महसूस हो सकता है।

और पढ़ें : बोन ग्राफ्टिंग (Bone Grafting) क्या है? जानिए इसके प्रकार और जोखिम

मांसपेशियों में दर्द से पहले समझें मोच और स्ट्रेन को

स्ट्रेन और मोच के बीच का अंतर यह है कि स्ट्रेन में एक मांसपेशी के बैंड पर चोट लगती है। फाइबर्स टिशू जो एक मांसपेशी को हड्डी से जोड़ती है उस पर चोट लगने से स्ट्रेन की समस्या हो जाती है। जबकि मोच में टिशू के बैंड इंजर्ड हो जाते हैं जो कि दो हड्डियों को एक साथ जोड़ते हैं।

इन कारणों से हो सकता है मांसपेशियों में दर्द

मांसपेशियों में दर्द कई कारणों से हो सकता है। अधिक शारीरिक गतिविधियों के कारण भी इस दर्द की समस्या हो सकती है।

और पढ़ें : लिगामेंट टीयर हो सकता है बेहद तकलीफ भरा, ऐसे करना होगा इसका सामना

क्रोनिक मसल्स पेन

क्रोनिक मसल्स पेन रिपिटीटिव मूवमेंट के कारण हो सकता है। कुछ मूवमेंट जैसे कि

  • रोइंग, टेनिस, गोल्फ या बेसबॉल खेलने के दौरान
  • लंबे समय तक एक ही स्थिति में बैठे रहने के कारण
  • बैक पुजिशन में लंब समय तक बैठे रहने से
  • डेस्क में लगातार बैठ कर काम करने से

मांसपेशियों में तनाव के लक्षण

  • मसल्स में हाथ रखने या फिर मसल्स वाले भाग में हाथ रखने से दर्द की समस्या होना
  • प्रभावित स्थान में स्किन के कलर में अंतर आ जाना
  • सूजन की समस्या
  • मसल्स क्रैम्प
  • मसल्स में वीकनेस महसूस होना
  • प्रभावित स्थान में दर्द महसूस होना
  • मूवमेंट के दौरान दर्द का एहसास

और पढ़ें : Tennis elbow : टेनिस एल्बो की समस्या क्या है? जानें कैसे करें इससे बचाव

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

मांसपेशियों में दर्द को कैसे डायग्नोज किया जाएगा ?

अगर आपको मांसपेशियों में दर्द या खिंचाव महसूस हो रहा है तो पहले डॉक्टर शारीरिक जांच करेगा और मसल्स में दर्द का कारण भी पूछ सकता है। कुछ सवाल जैसे कि क्या गलत एक्सरसाइज की थी या फिर कोई चोट लग गई है आदि। डॉक्टर जांच के लिए इमेजिंग टेक्नीक का यूज भी कर सकते हैं। एक्स-रे की हेल्प से जानकारी मिल जाएगी कि हड्डी टूटी है या फिर नहीं। डॉक्टर जांच के बाद मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या को ग्रेड 1,2 या 3 में बांट देगा। ग्रेड ए में स्ट्रेन हल्का रहता है और जल्दी ठीक भी हो जाता है। जबकि ग्रेड 2 में थोड़ा समय लग सकता है। ग्रेड 3 में सीरियस मसल्स टीयर की समस्या हो चुकी है। ऐसे में समस्या के निदान में ज्यादा समय लगता है।

मांसपेशियों में दर्द की समस्या का निदान

मांसपेशियों में दर्द अगर किसी आम कारण से हो रहा है तो घरेलू उपाय की मदद से भी समस्या का निदान किया जा सकता है। रिकवरी में थोड़ा समय लग सकता है लेकिन मांसपेशियों में पेन की समस्या कुछ ही समय बाद ठीक हो जाएगी। अगर परेशानी ज्यादा हो, तो मांसपेशियों में दर्द की परेशानी दूर करने के लिए दवा प्रिस्क्राइब की जाती है

मांसपेशियों में दर्द से राहत के लिए RICE टेक्नीक

रेस्ट (Rest): आराम करने से बॉडी मसल्स को रिकवरी के लिए समय मिल जाएगा। अगर थोड़ा आराम कर लेगें तो आपको महसूस होगा कि मांसपेशियों का दर्द गायब हो गया है।

बर्फ (Ice): कपड़े में बर्फ को लपेटने के बाद दर्द वाली जगह में आइस पैक को लगाएं। ऐसा 10 से 15 मिनट तक करें। ऐसा करने से स्वेलिंग और सूजन की समस्या में राहत मिल जाएगी।

कम्प्रेशन (Compression): अगर संभव हो तो कंम्प्रेशन बैंडेज का यूज किया जा सकता है। कुछ लोग क्लोथ का यूज भी करते हैं। अगर आपके पास कंप्रेशन बैंडेज नहीं है तो ड्रग स्टोर से इलास्टिक बैंडेज खरीदकर हाथ या पैर, जहां भी समस्या महसूस हो रही हो, बांध सकते हैं। एंकल, लेग, कलाई और आर्म में इसे आसानी से यूज किया जा सकता है।

एलिवेशन (Elevation): ऐलिवेशन टेक्नीक यानी शरीर के जिस भी स्थान (हाथ, पैर) में दर्द हो रहा है, उसे थोड़ा ऊपर की ओर उठा दें। ऐसा करने से राहत मिलती है। हो सकता है कि आपका मांसपेशियों का दर्द अचानक से खत्म हो जाए।

और पढ़ें : सोरियाटिक गठिया की परेशानी होने पर अपनाएं ये उपाय

अधिक दर्द से राहत के लिए मेडिसिन

अगर आपको मांसपेशियों में अधिक दर्द की समस्या है तो आप दवाई भी ले सकते हैं ताकि दर्द से तुरंत राहत मिल जाए। ओवर-द-काउंटर (ओटीसी) नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी ड्रग्स (एनएसएआईडी) जैसे कि डाइक्लोफिनेक (Diclofenac) , इबूप्रोफेन (Ibuprofen) और नेप्रोक्सन को लेने से मांसपेशियों के दर्द और सूजन दोनों में राहत मिल सकती है। एसिटामिनोफेन दर्द से राहत दे सकता है। अगर आपको मांसपेशियों में पेन लंबे समय से हो रहा है तो बेहतर रहेगा कि एक बार डॉक्टर से परामर्श करें और फिर मेडिसिन लें।

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए ?

लोगों को अक्सर मांसपेशियों में दर्द की समस्या हो सकती है। अगर आपको मांसपेशियों में हल्का दर्द हो रहा है तो बेहतर होगा कि घरेलू उपाय की सहायता लें। अगर मांसपेशियों में अधिक दर्द हो रहा है और इसकी वजह इंजरी है तो बेहतर होगा कि एक तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन न करें।

इन बातों का रखें ध्यान

सेल्फ केयर से मांसपेशियों में पेन से राहत मिल सकती है। इसके लिए आपको कुछ बातों पर ध्यान देना होगा।

  • ओवर-द-काउंटर दवा का यूज करें।
  • दर्द की समस्या सही होने पर उस स्थान में हीट एप्लाई करें। ऐसा करने से उस एरिया में ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाएगा और मांसपेशियों को भी रिलेक्स फील होगा।
  • मसल्स को लंबे समय तक एक ही स्थिति में न रहने दें।
  • एक्सरसाइज के पहले जब वार्मअप करें तो ट्रेनर की देखरेख में करें।
  • चलते, बैठने और सोते समय सही पुजिशन का ध्यान रखें।

मांशपेशियों में दर्द का इलाज दवा से भी किया जा सकता है।

अगर आपको मांसपेशियों में दर्द की शिकायत है तो घरेलू उपाय की सहायता ले सकते हैं। समस्या अधिक है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। किसी भी तरह के मूवमेंट को करते समय विशेष सावधानी रखें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

फाइब्रोमायल्जिया के लिए वर्कआउट रूटीन आपको पहुंचा सकता है इतने सारे फायदे

फाइब्रोमायल्जिया के लिए वर्कआउट रूटीन फॉलो करने से आपको दर्द से राहत मिल सकती है। आप ट्रीटमेंट के साथ ही एक्सरसाइज भी कर सकते हैं। Exercise importance for Fibromyalgia

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi

एक्सरसाइज के पहले क्या खाना हमारे सेहत के लिए होता है फायदेमंद, जानने के लिए पढ़ें

एक्सरसाइज के पहले क्या खाएं यह काफी जरूरी होता है, इसके लिए हमें डायट में कार्ब, प्रोटीन व फैट को शामिल करना चाहिए, अधिक जानने के लिए पढ़ें आर्टिकल।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
आहार और पोषण, स्पेशल डायट January 19, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

जांघ में दर्द की तकलीफ को कैसे करें दूर?

जांघ में दर्द की समस्या क्यों होती है? जांघ में दर्द का कारण क्या है? कैसे दूर हो सकती है थाइज पेन की प्रॉब्लम? Thigh pain cause, symptoms and treatment with home remedies in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

साल 2021 में भी फॉलो करें ये हेल्दी रेज्यूलेशन और रहें फिट

कोरोना जैसी महामारी के साल ये साल कैसा रहा ये बात किसी से छुपी नहीं है। ये साल हेल्थ को लेकर कई उतार-चढ़ाव देखे लोगों ने। लेकिन उनकी जीवनशैली में कई तरह के सुधार भी आए है, जिसे आगे भी फॉलो करने की जरूरत है और फॉलो करें हेल्दी रेज्यूलेशन आइडिया (Healthy resolutions ideas) ...

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Niharika Jaiswal
सामान्य स्वच्छता, अच्छी आदतें December 16, 2020 . 11 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

एग्जाम फोबिया (Exam Phobia) 

एग्जाम फोबिया से बचने के ये हैं 7 गुरुमंत्र

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ March 3, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
मेनोपॉज और लिबिडो - Menopause and libido

मेनोपॉज और लिबिडो में क्या है संबंध और कैसे पाएं इस स्थिति में राहत? 

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
एक्सरसाइज सेफ्टी टिप्स

अगर रहना चाहते हैं फिट, तो आपके काम आएंगे यह एक्सरसाइज सेफ्टी टिप्स

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ February 26, 2021 . 7 मिनट में पढ़ें
इंसेक्ट से होने वाले इन्फेक्शन

इंसेक्ट्स से होने वाले इन्फेक्शन से इस तरह से आप कर सकते हैं बचाव

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
प्रकाशित हुआ February 18, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें