home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी समझकर आप बदल सकते हैं अपनी किस्मत?

हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी समझकर आप बदल सकते हैं अपनी किस्मत?

हैंडराइटिंग क्या कहती है आपके बारे में?

कंप्यूटर और मोबाइल फोन के इस जमाने में कलम की जगह माउस (Mouse) और स्टाइलस (Stylus) ने ले ली है। ऐसे में जब कभी भी आपको कलम (Pen/Pencil) से लिखने की जरूरत पड़ जाए तो आपकी लिखावट की चर्चा हो ही जाती है कि आपकी राइटिंग बहुत अच्छी है या नहीं। लेकिन, क्या आपने कभी ये सोचा है कि आपकी राइटिंग आपकी लाइफस्टाइल और आपकी हैंडराइटिंग आपके स्वभाव और व्यक्तित्व को भी दर्शाती है? एक रिसर्च के अनुसार हैडराइटिंग के विज्ञान को ग्रेफोलॉजी भी कहा जाता है। यह आपके हेल्थ और आपके स्वभाव दोनों को समझने के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार हैंडराइटिंग को राइटिंग ऑफ ब्रेन भी कहा जाता है।

और पढ़ें : क्यों कुछ लोग बाएं हाथ से लिखते हैं?

हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी क्या है ?

हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी आपकी लिखावट को पढ़ने और आपके बारे में समझने का एक तरीका है। यह हर कोई नहीं कर सकता है। हम में से कई लोग किसी भी हैंडराइटिंग की तारीफ कर सकते हैं। लेकिन, स्वास्थ्य और जीवनशैली के बारे में ग्रेफोलॉजी एक्सपर्ट्स ही आपको और सही जानकारी दे सकते हैं। ग्रेफोलॉजी भी ठीक वैसे ही है जैसे किसी भी कोर्स की पढ़ाईकी जाती है, जैसे एमबीए, मेडिकल या बीएड आदि। ऐसा भी नहीं है की हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजीकोई नई डिग्री या कोर्स हो। ये काफी पुराने जमाने से ही लोग इसके बारे में जानते हैं।

हर व्यक्ति की हैंडराइटिंग की अपनी एक अलग पहचान होती है। हैंडराइटिंग में आपकी कमजोरी, सकारात्मक स्वभाव, सेहत और आप कितने महत्वाकांक्षी हैं? इनसब की जानकारी मिलती है। इन्हीं छोटी-छोटी बातों को गौर कर आपके बारे में बताया जाता है या आप कह सकते हैं की इससे आपकी पर्सनैलिटी की पहचन होती है।

और पढ़ें : मानव शरीर की 300 हड्डियों से जुड़े रोचक तथ्य

क्या कहती हैं आपकी हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी

हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी से कैसे समझें हेल्थ और लाइफस्टाइल के बारे में

  • सीधी लिखावट- लिखावट के आकार से समझा जाता है की आपका स्वभाव कैसा है। अगर आप छोटा और कम स्पेस (गैप) के साथ लिखते हैं तो यह दर्शाता है की आप बहुत जल्द लोग से अपने विचारों का आदान प्रदान नहीं कर पाते हैं। लेकिन, अगर आपकी लिखावट साफ है और दो शब्दों के बीच की दूरी भी ठीक है, तो आप खुले विचारों वाले लोगों की श्रेणी में माने जाते हैं। सीधी लिखावट हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी के अंतर्गत आती है।
  • लिखावट का दबाव- पेन या पेंसिल को मजबूती के साथ पकड़ने वाले लोगों को और दबाव के साथ लिखने वाले लोगों को महत्वाकांक्षी माना जाता है और ऐसे व्यक्ति अपने काम को अधूरा छोड़ने में भरोसा नहीं रखते हैं। वहीं कम दबाव के साथ लिखने वाले लोगों के बारे में धारणा है की ये काफी संवेदनशील होते हैं और हर परिस्थितयों में अपने आपकी ढ़ाल लेते हैं।
  • लिखने का तरीका- कुछ लोग लिखने के दौरान अपनी राइटिंग दाईं या बाईं ओर झुका लेते हैं। ऐसा माना जाता है की दाईं ओर झुकावट के साथ लिखने वाले दोस्त बनाने और लोगों से मिलने-जुलने में माहिर होते हैं। वहीं जिन लोगों की राइटिंग बाईं ओर झुकी हुई होती है, तो ऐसे लोग किसी अन्य से ज्यादा घुलना मिलना पसंद नहीं करते हैं।
  • सिग्नेचर- सिग्नेचर जिसे हिंदी में हस्ताक्षर कहते हैं। आपके हस्ताक्षर से भी आपके स्वभाव का आंकलन किया जा सकता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार जो लोग अपना सिग्नेचर जरूरत से ज्यादा छोटा रखते हैं, उनमें आत्मविश्वास की कमी हो सकती है। वैसे जो लोग सिग्नेचर करने के बाद उसे काट देते हैं, माना जाता है ऐसे व्यक्ति अपने आप से खुश नहीं रहते हैं।

और पढ़ें: मां का गर्भ होता है बच्चे का पहला स्कूल, जानें क्या सीखता है बच्चा पेट के अंदर?

उम्मीद करते हैं ऊपर दी गई जानकारी से आप भी अपनी लिखावट या हस्ताक्षर में सकरात्मक बदलाव ला सकते हैं। हालांकि आप सोच रहें की आपको लिखावट अच्छी नहीं है, तो ऐसे में क्या करना चाहिए?

लिखावट अच्छी करने के लिए अपनाएं निम्नलिखित उपाय-

अपनी हैंडराइटिंग या किसी बच्चे की हैंडराइटिंग सुधारने के लिए सबसे पहले आपको रोजाना लिखने की आदत डालनी चाहिए। वैसे आजकल डिजिटल वर्ल्ड में हाथ से लिखने की जरूरत नहीं पड़ती लेकिन, हैंडराइटिंग आपके पर्सनाल्टी को बयां करती है। आप चाहें तो दिनभर की घटनाओं डायरी में लिख सकते हैं और बच्चों को रोजाना हाथ से लिखना चाहिए। ऐसा करने से हैंडराइटिंग में सुधार आता है।

लिखने की प्रैक्टिस हर रोज करें। नियमित की गई प्रैक्टिस से ही हैंडराइटिंग बेहतर हो सकती है।

लिखने के दौरान शब्दों को सही तरह से लिखने की आदत डालें। छोटा-बड़ा या टेढ़ा-मेढ़ा न लिखें। इन पर शुरुआत से ही ध्यान देने पर आपकी हैंडराइटिंग (हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी) बेहतर हो सकती है।

लिखने के दौरान अपना पूरा ध्यान अपनी लिखावट पर केंद्रित करें। ऐसा करने से आपकी लिखावट ठीक हो जाएगी।

अच्छी लिखावट सिर्फ दिखने में सुंदर और आकर्षित ही नहीं होते हैं बल्कि इससे आपके व्यक्तित्व की भी जानकारी मिलती है। हैंडराइटिंग के फायदे क्या हैं? इससे निम्नलिखित फायदे मिल सकते हैं। जैसे-

अच्छी लिखावट का फायदा हमें स्कूल के दिनों से ही मिलने लगता है। शिक्षक आपके हैंडराइटिंग की तारीफ करते हैं और आपको आपकी अच्छी हैंडराइटिंग की वजह से एक्स्ट्रा नंबर भी मिल जाते हैं।

अगर आपकी हैंडराइटिंग अच्छी है, तो आप स्कूल, कॉलेज, परिवार या फिर अपने ऑफिस में चर्चा के पात्र होते हैं। अच्छी हैंडराइटिंग की वजह से कई बार आपको कुछ खास लिखने की जिम्मेदारी भी दी जाती है।

अच्छी हैंडराइटिंग की वजह आपका आत्मविश्वाश भी बढ़ता है।

आप अपनी हैंडराइटिंग की वजह से दूसरों पर अच्छा इम्प्रेशन डाल पाते हैं।

अगर आपकी लिखावट अच्छी होगी तो स्कूल से लेकर कॉलेज तक आपके नोट्स की डिमांड ज्यादा रहेगी। कोई भी इंसान वैसे लोगों से ही नोट्स लेना पसंद करते हैं, जिनकी लिखावट अच्छी होती है।

वैसे कई लोग ऐसे होते हैं, जिनकी लिखावट अच्छी नहीं होती है तो ऐसे लोगों को प्रैक्टिस करते रहना चाहिए। लगातार हो रहे प्रैक्टिस की वजह से आपकी हैंडराइटिंग अच्छी हो सकती है। अगर आप ऐसा करने में असमर्थ हैं, तो कुछ हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी टिप्स फॉलो कर आप अपनी कई सारी परेशानी को दूर कर सकते हैं और अपने व्यक्तित्व में पॉसिटिव बदलाव ला सकते हैं।

अगर आप हैंडराइटिंग ग्रेफोलॉजी से जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो इससे जुड़े एक्सपर्ट से समझना बेहतर होगा।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

What your handwriting says about YOUR health/https://www.dailymail.co.uk/health/article-4176286/What-handwriting-says-health.html/ Accessed on 10/12/2019

Handwriting and Health/https://handwritingfoundation.org/handwriting-and-health/ Accessed on 10/12/2019

How Your Handwriting Reveals Your Personality/https://www.lifehack.org/411889/how-your-handwriting-reveals-your-personality/Accessed on 05/02/2020

What does your handwriting say about your personality?/https://www.dailycal.org/2019/06/17/quiz-what-does-your-handwriting-say-about-your-personality/Accessed on 05/02/2020

What your handwriting says about you, according to a graphologist/https://www.independent.co.uk/news/science/handwriting-personality-test-graphology-writing-letters-expert-a8372866.html/Accessed on 05/02/2020

WHAT IS GRAPHOLOGY?/https://www.britishgraphology.org/about-british-institute-of-graphologists/what-is-graphology/Accessed on 05/02/2020

 

 

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 09/10/2019
x