home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

वर्ल्ड फैमिली डॉक्टर डे: अमीर ही नहीं, गरीब परिवारों के लिए भी जरूरी हैं फैमिली डॉक्टर

वर्ल्ड फैमिली डॉक्टर डे: अमीर ही नहीं, गरीब परिवारों के लिए भी जरूरी हैं फैमिली डॉक्टर

आपके घर में कोई न कोई अक्सर बीमार पड़ जाता होगा। ऐसे में आपमें से कुछ लोग बार-बार डॉक्टर के पास चक्कर लगाते होंगे। वहीं कुछ लोग होंगे, जिन्होंने अपने फ्लू, बैक पेन या अन्य किसी बीमारी के लिए फैमिली डॉक्टर रखा होगा। छोटी से छोटी बीमारी के लिए भी वे अपने फैमिली डॉक्टर से संपर्क करते होंगे। फैमिली डॉक्टर होने के कई लाभ हैं। वे आपके परिवार की मेडिकल हिस्ट्री के बारे में अच्छे से जानते होंगे। ऐसे में वे परिवार के सदस्य को सही दवा दे पाएंगे। इसके अलावा इमरजेंसी में भी आपको घर पर ही मेडिकल सेवा उपलब्ध हो जाएगी। फैमिली डॉक्टर्स हमारे परिवार के लिए एक जरूरी रोल निभाते हैं। 19 मई को वर्ल्ड फैमिली डॉक्टर डे मनाया जाता है। ऐसे में हम आपको फैमिली डॉक्टर होने से मिलने वाली सुविधाओं के बारे में बताते हैं। साथ ही, यह भी बताएंगे कि फैमिली डॉक्टर सिर्फ अमीर परिवारों की जरूरत बनकर ही क्यों रह गए हैं।

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिहाज से लंबे समय तक बैठ कर काम करना है खतरनाक

क्या सिर्फ अमीर लोगों की जरूरत है फैमिली डॉक्टार?

आज हर कोई अच्छे डॉक्टर या स्पेशलिस्ट से ही अपना इलाज करवाना चाहता है और जरूरत पड़ने पर करवाता भी है। लेकिन फैमिली डॉक्टर रखना हर किसी के बस की बात नहीं है क्योंकि इनकी फीस भी काफी ज्यादा होती है। गरीब तबका फैमिली डॉक्टर का खर्च वहन नहीं कर सकता है इसलिए वे बीमारी के समय ही डॉक्टर को फीस देना मुनासिब समझते हैं। ऐसा नहीं है कि गरीब परिवारों को फैमिली डॉक्टर की जरूरत नहीं है लेकिन ज्यादा खर्च के चलते वे फैमिली डॉक्टर नहीं रख पाते। यह दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन सत्य है। इसके अलावा आज ज्यादातर डॉक्टर विशेषज्ञ बन गए है इसलिए भी उनकी फीस बढ़ गई है।किसी एक हिस्से के विशेषज्ञ होने की वजह के फैमिली डॉक्टर की जिम्मेदारी कम हो गई है। खांसी, जुकाम और फ्लू जैसी छोटी-मोटी बीमारी के लिए लोगों को फैमिली डॉक्टर से मदद नहीं मिल पाती है। फैमिली डॉक्टर एक डॉक्टर के साथ परिवार का एक दोस्त भी होता है जिससे वो हर उपचार का इलाज बता सके। लेकिन पैसे कमाने की होड़ में डॉक्टर्स में सेवा भाव खत्म हो गया है। साथ ही हमारा समाज भी अपने अधिकारों को नहीं जानता है। उन्हें सिर्फ उतना ही पता होता है जितना डॉक्टर उन्हें बताता है। ऐसे में समाज को भी उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने की जरूरत है जिससे वे फैमिली डॉक्टर से पूरा लाभ उठा सकें।

यह भी पढ़ें: कहीं क्लीनर की महक आपको बीमार ना कर दें!

फैमिली डॉक्टर के क्या फायदे हैं?

फैमिली डॉक्टर रखना आज लोगों के लिए मुश्किल हो गया है लेकिन इनके होने से बहुत लाभ होते हैं। जब आप सालों से किसी एक डॉक्टर से ही इलाज कराते हैं, तो उन्हें आपके मेडिकल इतिहास के बारे में पूरी जानकारी होती है। साथ ही उन पर भरोसा भी बन जाता है। इससे फैमिली डॉक्टर बेहतर इलाज दे पाते हैं। इसके अलावा वे आपके स्वास्थ्य पर पूरी निगरानी रखते हैं। मेडिकल इतिहास के अलावा डॉक्टर को यह भी पता होता है घर में क्या चल रहा है। उदाहरण के लिए, जिस बच्चे के माता-पिता ने नौकरी खो दी हो, तो डॉक्टर उसका इलाज करते समय यह ध्यान रखेंगे कि परिवार में किसी को भी तनाव न हो और बच्चे का इलाज कम खर्च या बिना फीस लिए भी हो जाए।

फैमिली डॉक्टर आपका हर महीने चेकअप कर सकते हैं। इससे आपको अलग से समय निकालकर डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं होगी। अगर परिवार में किसी को हृदय रोग, मधुमेह और गठिया जैसी बीमारी है तो वे नियमित रूप से उनका इलाज कर सकेंगे। गर्भावस्था के दौरान भी फैमिली डॉक्टर की जरूरत हमेशा पड़ती है। वे माइनर सर्जिकल प्रक्रिया भी कर सकते हैं, जैसे कि मस्सा जमना या फोड़ा निकलना। जब कभी आपको किसी विशेषज्ञ की जरूरत होती है तो वे आपको बेहतर सलाह देने में मदद करते हैं। हृदय रोग, कैंसर या किसी अन्य गंभीर बीमारी में वे आपको विशेषज्ञ के पास जाने की सलाह देते हैं।

गरीब लोगों के लिए फैमिली डॉक्टर रखना मुनासिब नहीं है

जैसे-जैसे बीमारियां बढ़ रही हैं वैसे-वैसे डॉक्टरों की फीस में भी इजाफा होता जा रहा है। ऐसे में गरीब परिवारों के लिए फैमिली डॉक्टर रखना मुश्किल है। हालांकि कुछ आंकड़ों में सामने आया है कि फैमिली डॉक्टर रखकर पैसे बचाए जा सकते हैं। एक डॉक्टर एक बीमारी के चेकअप के लिए करीब 500 से 700 रुपये लेता है, जबकि फैमिली डॉक्टर इतने पैसों में सभी रोगों की दवा दे देता है। पैसे से ज्यादा जरूरी यह है कि वे आपको बेहतर स्वास्थ्य दे सकते हैं।

फैमिली डॉक्टर की जरूरत उस समय सबसे ज्यादा होती है जब कोई आपातकाल स्थिति आ जाए, जैसे कि हार्ट अटैक। ऐसे समय पर मरीज को अस्पताल ले जाने का समय नहीं होता है। फैमिली डॉक्टर होने पर परिवार के सदस्य तुरंत फोन करके उन्हें घर पर ही बुला सकते हैं। चाहे देर रात ही क्यों न हो। फैमिली डॉक्टर होने के नाते वे आपकी ऐसे समय पर जरूर मदद करते हैं। फैमिली डॉक्टर आपके अच्छे सलाहकार भी होते हैं। क्लिनिक जाने पर आपको हर बार नए डॉक्टर से अपनी जांच करानी पड़ती है। वो नया डॉक्टर आपकी शुरू से जांच करेगा जिसमें आपका पैसा भी ज्यादा खर्च होगा। वहीं फैमिली डॉक्टर को सारी जानकारी पहले से ही होगी। ऐसे में आपका वक्त और पैसे दोनों बचेंगे।

यह भी पढ़ेंः एसिडिटी में आराम दिलाने वाले घरेलू नुस्खे क्या हैं?

इंटरनेट ने ली फैमिली डॉक्टर की जगह

कुछ लोग फैमिली डॉक्टर इसलिए भी नहीं रखते क्योंकि अब इंटरनेट पर ही लोगों को बीमारी की सारी जानकारी मिल जाती है। गरीब ही नहीं अमीर परिवार भी अब फैमिली डॉक्टर रखने से बचते हैं। वे डॉक्टर का आधा काम खुद ही इंटरनेट के जरिए कर लेते हैं। हालांकि ऐसा करने से आप अपने ही स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाते हैं। आपको लगता है कि ऐसा करके आप पैसे बचा लेंगे लेकिन कभी-कभी इससे आपको ज्यादा नुकसान हो सकता है। आज लोगों की सोच ये भी हो गई है कि अच्छा इलाज सिर्फ सुपरस्पेशलिस्ट अस्पताल में ही मिल सकता है। इसलिए भी वे फैमिली डॉक्टर नहीं रखना चाहते।

यह भी पढ़ेंः गंभीर स्थिति में मरीज को आईसीयू में वेंटीलेटर पर क्यों रखा जाता है?

एक सही फैमिली डॉक्टर चुनने के लिए आप उस डॉक्टर का चयन कर सकते हैं जो आपके घर के सबसे नजदीक रहता हो। उनकी क्वालिफिकेशन की सही तरह से जांच करें। डॉक्टर एमबीबीएस है तो काम चल सकता है। इसके अलावा डॉक्टर का स्वभाव विनम्र हो। मरीज की बात सुनने वाला होना चाहिए। साथ ही विश्वसनीयता को भी परखें। फैमिली डाक्टर आज समय की जरूरत बन गए हैं। बता दें कि विदेशों में, फैमिली डॉक्टर के रेफर किए बिना, सीधे स्पेशलिस्ट डॉक्टर के पास नहीं जा सकते।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की कोई भी मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर इससे जुड़ा आपका कोई सवाल है, तो अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं।

health-tool-icon

बीएमआर कैलक्युलेटर

अपनी ऊंचाई, वजन, आयु और गतिविधि स्तर के आधार पर अपनी दैनिक कैलोरी आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए हमारे कैलोरी-सेवन कैलक्युलेटर का उपयोग करें।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

World Family Doctor Day: https://www.nhp.gov.in/world-family-doctor-day_pg Accessed May 18, 2020

Concept of family doctor: https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pubmed/20354244 Accessed May 18, 2020

Internal Medicine Vs Family Doctor: https://www.sgu.edu/blog/medical/internal-medicine-vs-family-medicine/ Accessed May 18, 2020

लेखक की तस्वीर badge
Mona narang द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 16/07/2020 को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x