home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

जानें क्यों रोज नहाना है जरूरी, नहीं नहाएंगे तो क्या होगा?

जानें क्यों रोज नहाना है जरूरी, नहीं नहाएंगे तो क्या होगा?

नहाना या स्नान करना(Bathing)… हमारे नियमित कामों में से एक अत्यधिक महत्वपूर्ण काम है। लेकिन, कई आलसी लोग कभी ठंड का बहाना देकर तो कभी लेट होने की वजह से बिना नहाए दिन गुजार देते हैं। पर क्या आपने कभी ये सोचा है कि स्नान करना क्यों जरूरी है? आज इस आर्टिकल में जानेंग कि नियमित रूप से स्नान नहीं करने से क्याक्या नुकसान हो सकता है?

स्नान न करने से होने वाले शारीरिक परेशानी:

पसीना

नहीं नहाने से बॉडी टेम्प्रेचर जब बढ़ता है तब शरीर से पसीना निकलता है। शरीर से पसीना निकलना एक तरह से अच्छा भी है, क्योंकि इससे टॉक्सिन (विषाक्त) शरीर से बाहर निकलता है। लेकिन, स्नान नहीं करने के कारण पसीना ज्यादा आता है, जिससे लगातार आने वाले पसीने की वजह से बैक्टीरिया बनने लगता है जो शरीर को नुकसान पहुंचाता है।

बैक्टीरिया

शरीर में ज्यादा पसीना होने के साथसाथ बैक्टीरिया भी बनने लगता है। जब बैक्टीरिया और पसीना एक साथ मिलने लगता है, तो ऐसी स्थिति में शरीर से बदबू आने लगती है और धीरेधीरे बैक्टीरिया की वजह से खुजली भी शुरू हो जाती है।

ये भी पढ़ें : त्वचा के लिए जरूरी है स्क्रबिंग

इंफेक्शन

शरीर के अंदर और बाहर दोनों जगह बैक्टीरिया मौजूद होते हैं। जिससे शरीर में इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। यहां तक की इंफेक्शन के साथसाथ फंगस का खतरा शुरू हो जाता है।

मुंहासे (Acne)

ठीक से और नियमितरूप से स्नान नहीं करने की वजह से चेहरे पर मुंहासे या दाने भी आने लगते हैं। साफसफाई की कमी की वजह से ऐसा होता है और अगर ध्यान नहीं दिया गया तो मुहांसे या दाने से खून आने भी लगते हैं।

त्वचा पर पैच होना

अगर आप रोज स्नान नहीं करेंगे तो आपकी स्किन पर पैच नजर आएगा। इसे डर्माटाइटिसनेग्लेक्टा कहा जाता है।

स्किन खराब का होना

स्नान न करना, स्किन की सफाई न करना ऐसे में स्किन की समस्या शुरू हो जाती है। कभीकभी एग्जिमा की भी परेशानी हो सकती है।

ये भी पढ़ें: त्वचा से लेकर बालों तक के लिए फायदेमंद है नीम, जानें इसके लाभ

फंगल इंफेक्शन

शॉवर लेना से न केवल आप अच्छा और तरोताजा महसूस करते है, बल्कि यह खुद को स्वस्थ रखने का के लिए बेहद जरूरी भी है। रोज शॉवर लेने से साफ पानी बॉडी के उन हिस्सों में भी पहुंचता है, जहां पसीने से फंगल इंफेक्शन होने का खतरा होता है।

बाल ऑयली होना

अगर आप बाल की सफाई भी नियमित नहीं करती हैं, तो बाल ऑयली होने के साथसाथ गंदे भी होते हैं। ऐसे में डैंड्रफ की समस्या भी शुरू हो जाती है।

प्राइवेट पार्ट्स

शॉवर लेने के दौरान प्राइवेट पार्ट्स की सफाई पर भी ध्यान देना जरूरी है। अगर प्राइवेट पार्ट्स की सफाई ठीक से नहीं हुई, तो इससे प्राइवेट पार्ट्स में इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाएगा।

ये भी पढ़ें:नवजात शिशु को नहलाना कब से शुरू करें?

नियमित नहाने के साथ इन बातों का भी रखें ध्यान

  • बाथटब, शॉवर स्टाल और बेसिन साफ रखें
  • साफ कपड़े पहनें
  • त्वचा के अनुसार बॉडी सोप और फेस वॉश का चयन करें
  • खुद का तौलिया (टॉवल) इस्तेमाल करें
  • प्राइवेट पार्ट्स की देखभाल के लिए डिस्पोजेबल दस्ताने इस्तेमाल करें
  • एंटीइंफेक्शन लिक्विड का इस्तेमाल जरूर करें
  • गुनगुने पानी से स्नान करें, ज्यादा गर्म पानी से स्नान करने से त्वचा रूखी पड़ने लगती है और खुजली की भी समस्या शुरू हो जाती है

स्नान न करने या किसी अन्य वजह से अगर आपको स्किन की समस्या होती है, तो डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। त्वचा रोग विशेषज्ञ आपको आपके त्वचा के अनुसार सलाह दे सकते हैं, जिससे आपकी परेशानी कम हो सकती है। कभीभी खुद से इलाज न करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर
Dr Sharayu Maknikar के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Nidhi Sinha द्वारा लिखित
अपडेटेड 04/10/2019
x