home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

General Hygiene: सामान्य स्वच्छता क्यों है जरूरी, क्या हैं इसके लाभ?

General Hygiene: सामान्य स्वच्छता क्यों है जरूरी, क्या हैं इसके लाभ?

ऐसा माना जाता है कि साफ शरीर और घर में ही भगवान का वास होता है। खुद को, अपने घर और आस-पड़ोस को साफ रखना सभी के लिए जरूरी है। सामान्य स्वच्छता (general hygiene) वह प्रेक्टिस है, जिसे हम सब अपने घरों और रोजमर्रा की जिंदगी में अपनाते हैं, ताकि अपने परिवार, दोस्तों और प्रियजनों को संक्रामक बीमारियों से बचा सकें। सामान्य स्वच्छता (general hygiene) से कीटाणुओं और बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद मिलती है। आपका खुद को साफ रखना न केवल आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है बल्कि इससे आपके आसपास का जीवन भी प्रभावित होता है।

यही नहीं, साफ-सफाई और सामान्य स्वच्छता (general hygiene) न रखने से आपको शर्मिंदगी का भी सामना करना पड़ सकता है। अक्सर हम साफ-सफाई (cleanliness) और सामान्य स्वच्छता (general hygiene) को एक ही मानते हैं। लेकिन, इन दोनों में बहुत फर्क है। जानें, इन दोनों के बारे में और पाएं पूरी जानकारी सामान्य स्वच्छता के बारे में।

साफ सफाई (Cleanliness) और सामान्य स्वच्छता (General Hygiene) में अंतर

आप साफ-सफाई के लिए हायजीन शब्द का प्रयोग नहीं कर सकते। क्योंकि, इन दोनों में बहुत अंतर होता है। कई मामलों में साफ-सफाई का मतलब होता है धूल-मिटटी या अनचाही चीजों को अपने शरीर, घर आदि से बाहर निकालना। लेकिन जनरल हायजीन (general hygiene) यानी सामान्य स्वच्छता (general hygiene) का अर्थ है बीमारियों से बचने के लिए अपनाए जाने वाले कई तरीकों में से एक स्वच्छता का प्रयोग करना। इस उदाहरण में स्वच्छता अभ्यास का उद्देश्य रोग पैदा करने वाले जीवों के प्रसार को रोकना है। सफाई इस कार्य को पाने का एक साधन है।

यह भी पढ़ें: नेशनल डीवर्मिंग डे : स्वच्छता पर दें ध्यान, नहीं होगी संक्रमण की समस्या

सामान्य स्वच्छता (general hygiene) कितने प्रकार की होती है?

सामान्य स्वच्छता (general hygiene) को हम तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं :

  • पर्सनल हायजीन (personal hygiene) यानी निजी स्वच्छता
  • डोमेस्टिक हायजीन (domestic hygiene)
  • सोशल हायजीन (social hygiene)

पर्सनल (personal hygiene) हायजीन यानी निजी स्वच्छता

सामान्य स्वच्छता (general hygiene) में सबसे पहले है निजी स्वच्छतापर्सनल यानी निजी स्वच्छता यानी खुद को साफ रखना। पर्सनल हायजीन (personal hygiene) में आपको निम्नलिखित चीजों का ध्यान रखना चाहिए:

हैंड वाश

इस बारे में दिल्ली के क्लीनिकल जनरल फीजिशयन डॉक्टर अशोक रामपाल का कहना है कि जब से कोरोना का महा संकट आया है, तब से लोग हैंड वॉश को लेकर थोड़ा सजग हो गए हैं और यह एक बहुत ही अच्छी चीज है। सामान्य तौर पर दिन भर घर पर रहने वाले व्यक्ति को भी हर दो से चार घंटे में एक बार हैंड वॉश करना चाहिए। इसके अलावा यदि किसी को फ्लू हो रखा है, तो उसे अपनी पर्सनल हायजीन और दूसरों की भी पर्सनल हायजीन का विशेष ध्यान रखना चाहिए। पर्सनल हायजीन में सबसे ज्यादा तौलिया और रूमाल आता है। जो कभी भी एक-दूसरे का इस्तेमाल न करें । सबका अलग-अलग होना चाहिए। अपनी पर्सनल हायजीन (personal hygiene) रूटीन को आपको अपने हाथों से शुरू करना चाहिए। क्योंकि, हम अपने हाथों का दिन में कई बार हर काम में प्रयोग करते हैं, उनसे कई सर्फेस को छूते हैं, लोगों से हाथ मिलाते हैं, खाना खाते हैं, अपने लैपटॉप पर टाइपिंग करते हैं आदि। हमारे हाथ रोगाणुओं का सबसे बड़ा वाहक हैं। अपने परिवार और खुद को स्वस्थ रखने का सबसे पहला मन्त्र है, हैंड हायजीन को मेंटेन रखना। इससे आप जुकाम, खांसी, फ्लू और कई अन्य बीमारियों से भी बच सकते हैं। हैंड हायजीन को बनाने रखने के लिए इन बातों का रखें ध्यान:

  • अपने हाथों को हमेशा साबुन से साफ करें
  • आपको खाना बनाने या खाने से पहले हाथ धोने चाहिए
  • किसी बच्चे को उठाने से पहले हाथों को धोएं
  • बाथरूम जाने के बाद हाथ धोना न भूलें
  • खांसी या छींक के बाद हाथ धोएं
  • किसी बीमार व्यक्ति या जानवर के कांटेक्ट में आने के बाद हाथ धोना न भूलें

दांतों की सफाई

जनरल हायजीन (general hygiene) के इस प्रकार में हाथों के साथ दांतों की सफाई भी जरुरी है, ताकि आप मसूड़ों के रोग, गंदी सांस, दांतों की सड़न और अन्य कई संक्रमण से बच सके।

  • इस बात का ध्यान रखें कि आप और आपका परिवार दिन में दो बार ब्रश अवश्य करे।
  • दांतों को रोजाना फ्लॉस करें।
  • अपने ब्रश को एक साफ और सुखी जगह पर रखें।

यह भी पढ़ें: हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

नहाना

रोजाना नहाना सामान्य स्वच्छता (general hygiene) और पर्सनल हायजीन (personal hygiene) का महत्वपूर्ण हिस्सा है। स्वस्थ रहने के लिए इन तरीकों को अपनाना न भूलें।

  • रोजाना नहाएं। गर्मियों के मौसम में दो बार नहाएं। इससे न केवल आप शरीर की बदबू दूर होगी। बल्कि, जो बैक्टीरिया बदबू पैदा करने का कारण होते हैं वो भी दूर होते हैं और स्किन इंफेक्शन से भी बचा जा सकता है।
  • बालों की सफाई के लिए हफ्ते में एक या दो बार बालों को धोएं।
  • अगर आप पूरा दिन घर से बाहर हैं, तो घर आते ही नहाएं।

कपड़े की साफ सफाई

रोगाणु और धूल-मिट्टी आपके कपड़ों को भी गंदा कर सकते हैं। इसलिए अपने कपड़ों की हायजीन भी जरूरी है। यह और भी अधिक आवश्यक है, अगर आपके परिवार का कोई सदस्य या मित्र बीमार है

नाखून की सफ़ाई

सामान्य हायजीन (general hygiene) में नाखूनों को न भूलें। नाखून भी बीमारी और रोगाणुओं के फैलने का कारण बन सकते हैं। इसलिए नियमित रूप से इन्हें काटें और इसके साथ ही इन्हें साफ करना न भूलें। सामान्य हायजीन (general hygiene) मुश्किल नहीं है। अगर आप इसे जीवन का हिस्सा बना लेते हैं, तो यह आपको आदत बन जाती है।

मेंस्ट्रुअल हायजीन (Personal hygiene for women)

महिलाओं के लिए यह बेहद जरूरी है। क्योंकि, इस दौरान योनि को साफ़-सफाई की खास जरूरत होती है। इसके लिए आपको अधिक कुछ करने की जरूरत नहीं है। बल्कि, रोजाना साफ पानी के प्रयोग से आप इसे कर सकते हैं। इसके साथ ही आपको नियमित रूप से टेम्पोन और सैनिटरी नैपकिन का प्रयोग करना चाहिए। इनका प्रयोग करने से पहले और बाद में अपने हाथों को जरूर धोएं। इनके प्रयोग के बाद उनका उपयुक्त विधि से निपटारा किया जाना चाहिए।

दांतों की साफ-सफाई कैसे करते हैं आप? क्विज से जानें अपने दांतों की हालत

डोमेस्टिक हायजीन (domestic hygiene)

सामान्य हायजीन (general hygiene) के दूसरे प्रकार डोमेस्टिक हायजीन (domestic hygiene) में आपको खुद के साथ ही अपने घर को भी साफ रखना हैडोमेस्टिक हायजीन में घर की स्वच्छता, खाना बनाते हुए सफाई और वेंटिलेशन आदि शामिल है। इसे आप अपने घर की साफ-सफाई भी बोल सकते हैं। इसमें वो सभी एक्टिविटीज शामिल हैं, जिनसे आप अपने घर को साफ रख सकते हैं। इसमें आपके घर के फर्श की सफाई, टॉयलेट की सफाई,बिस्तर की सफाई, बर्तन साफ करना आदि सब शामिल है। एक स्वस्थ जगह के लिए घर को साफ रखना जरूरी है। अगर ऐसा नहीं होगा तो आपके घर में गंदगी, धूल मिट्टी, नमी जमा होगी और यह रोगाणुओं, परजीवी और वैक्टर आदि के लिए उपयुक्त स्थान बन जायेगा। जिससे घर में रहने वाले लोग बीमार पड़ेंगे।

अपने डोमेस्टिक हायजीन (domestic hygiene) के लिए आपको निम्नलिखित चीजों का ध्यान रखना चाहिए:

  • अपने जूतों को घर के बाहर ही उतारे ताकि धूल-मिट्टी के साथ रोगाणु घर के अंदर प्रवेश न कर पाएं।
  • रोजाना घर के अंदर की धूल-मिट्टी साफ करें क्योंकि यह मिट्टी फंगल स्किन इंफेक्शन या सांस सम्बन्धी समस्याओं का कारण बन सकती है।
  • हम अपने जीवन का एक तिहाई हिस्सा सो कर निकालते हैं। ऐसे में आपको अपने बिस्तर की जनरल हायजीन (general hygiene) का ध्यान रखना चाहिए। उन्हें भी समय-समय पर धोएं, झाड़ें और धुप में सुखाएं।
  • अगर आपके घर में पालतू जानवर हैं तो आपको एलर्जी की संभावना अधिक है क्योंकि कुत्ते और बिल्लियों में हानिकारक बैक्टीरिया होते हैं। ऐसे में रोजाना अपने पेट की साफ-सफाई के साथ ही उनके बेड और अन्य सामान को भी साफ करें। पालतू जानवर को हाथ लगाने के बाद हाथ अवश्य धोएं।
  • जब भी आप अपने गार्डन में जाएं या वहां काम करें तो अपने ग्लव्स पहन लें। इसके साथ ही काम के बाद अपने हाथ धोएं और अपने नाखूनों को भी साफ करें।
  • घर का कूड़ेदान बैक्टीरिया की पसंदीदा जगह होती है। ढक्कन वाले कूड़ेदान का प्रयोग करें और रोजाना उसे साफ करें। बाथरूम की सामान्य स्वच्छता (general hygiene) भी जरूरी है। ऐसे में बाथरूम की नियमित सफाई करें।

यह भी पढ़ें: जानें एक्सपर्ट की नजर से टॉयलेट की स्वच्छता क्यों है जरूरी?

सोशल हायजीन (social hygiene)

सामान्य स्वच्छता (general hygiene) के तीसरे प्रकार सोशल हायजीन (social hygiene) का अर्थ है अपने आस-पड़ोस में साफ-सफाई को बनाए रखना। इसमें आपके आपका आस-पड़ोस, बाजार, अस्पताल, रास्ते, स्कूल आदि सब शामिल हैं। अगर यह सब गंदे होंगे तो यहां भी रोगाणुओं, परजीवी और वैक्टर आदि फैलेंगे। जिससे पूरा गांव या शहर किसी बीमारी का शिकार हो सकता है।

सामान्य स्वच्छता

पुअर हायजीन (poor hygiene) के कारण फैलने वाले रोग

पुअर हायजीन (poor hygiene), बीमारी और सेहत में समस्याओं से जुड़ी हुईं है। अगर आप सामान्य स्वच्छता (general hygiene) का पालन नहीं करते हैं तो पुअर हायजीन (poor hygiene) के कारण आपको कुछ गंभीर रोग भी हो सकते हैं। जैसे अगर आप अपने हाथ अच्छे से नहीं धोते हैं, तो रोगाणु आपके हाथों के माध्यम से आपके मुंह में प्रवेश कर जाते हैं। जिससे स्टमक इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। सामान्य हायजीन (general hygiene) की आदत न होना आपके आत्म सम्मान को प्रभावित कर सकती हैं। प्रेजेंटेबल दिखना और महसूस करना आपको आत्मविश्वास में भी वृद्धि होती है। पुअर हायजीन (poor hygiene) के कारण फैलने वाले रोग इस प्रकार हैं:

साल्मोनेला (Salmonella)

साल्मोनेलोसिस ‘साल्मोनेला’ द्वारा फैलने वाला एक संक्रमण है। इसका सबसे आम कारण फ़ूड पॉइजनिंग है। यह संक्रामक है और ज्यादातर मामलों में लक्षण हल्के होते हैं। इसके अधिकतर मामलों में उपचार की आवश्यकता भी नहीं होती है। लेकिन गंभीर रोगियों, जैसे कि छोटे बच्चे या बजुर्गों को डीहाइड्रेशन और यहां तक ​​कि मृत्यु भी हो सकती है। इसका कारण साफ-सफाई का न होना और गंदगी होता है।

एथलीट’स फुट (athlete’s foot)

यह रोग पैरों के तल पर होने वाले इंफेक्शन के कारण होता है और यह बहुत ही सामान्य समस्या है वास्तव में, एक फंगस से फैलती है। इसके सबसे आम लक्षणों में खुजली, लालिमा, क्रैकस, और छाले भी हैं। आमतौर पर, आप इस समस्या के होने पर पैरों में दुर्गंध भी महसूस करेंगे। यह समस्या भी आमतौर पर सामान्य हायजीन (general hygiene) का पालन न करना ही होती है। अपने पैरों को रोजाना धोना, नियमित रूप से जूतों और जुराबों को बदलना और कवकनाशी का प्रयोग करना जरूरी है।

मसूड़े की सूजन (Gingivitis)

यह रोग आमतौर पर सही ओरल हायजीन (oral hygiene) का पालन नहीं करने के कारण होता है। यह तब होता है जब बैक्टीरिया मुंह के अंदर होते हैं और मसूड़ों के साथ फैल जाते हैं। मसूड़े की सूजन से बचने के लिए, अपने दांतों को हर दिन ब्रश करना सही है। इसके अलावा, एक माउथवॉश का उपयोग करने की भी सलाह दी जाती है। माउथ हायजीन (mouth hygiene) का पालन नहीं करने से मुंह में दुर्गंध भी हो सकती है।

यह भी पढ़ें: मेंटल हेल्थ वीक : आमिर खान ने कहा दिमागी और भावनात्मक स्वच्छता भी उतनी ही जरूरी है, जितनी शारीरिक

फ्लू (flu)

जैसे ही गर्मियों शुरू होती हैं लोग फ्लू के लक्षणों का ज्यादातर अनुभव करते हैं जैसे बुखार, सिरदर्द आदि। सामान्य हायजीन (general hygiene) में कमी भी इस बीमारी का कारण हो सकता है। अगर हम खुद को, अपने घर या आस-पड़ोस को साफ नहीं रखते हैं तो हमारा इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है जिससे यह बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है।

वजायनल इंफेक्शंस

यह इंफेक्शंस महिलाओं के जीवन को कभी भी प्रभावित कर सकते हैं। यह हमारे योनि या योनि के आसपास के क्षेत्र में बैक्टीरिया के फैलने के कारण होती हैं। ऐसे में योनि के स्वास्थ्य का ध्यान रखना बेहद जरूरी है।

सामान्य हायजीन (general hygiene) की कमी के कारण हेपेटाइटिस A , कंजंक्टिवाइटिस, जठरांत्र शोथ (गैस्ट्रोएन्टराइटिस) , बार-बार इंफेक्शन जैसे रोग भी हो सकते हैं

सामान्य स्वच्छता

सामान्य स्वच्छता (general hygiene) के लिए कुछ टिप्स

यदि आप अपनी सामान्य स्वच्छता (general hygiene) में सुधार करना चाहते हैं या बच्चे में इनकी आदत डालना चाहते हैं, तो इन टिप्स को अपनाएं:

रिमाइंडर सेट करें

अगर आप को सामान्य स्वच्छता (general hygiene) से जुडी चीजें याद नहीं रहती जैसे नहाना, नाखून काटना, घर को साफ करना आदि। तो अपने फोन पर रिमाइंडर सेट कर दें। धीरे-धीरे जब आप इन्हें करना शुरू कर देंगे, तो यह सब आपकी आदत बन जाएगी। बच्चे भी आपको यह सब करता हुआ देख कर प्रेरित होंगे।

मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी के लिए क्लिक करें :

संकेतों का उपयोग करें

शौचालय का उपयोग करने के बाद अपने हाथ धोने के लिए बाथरूम में, खाने से पहले अपने हाथों को धोने के लिए, रात को ब्रश करने, बर्तन धोने, किचन या बाथरूप साफ करने के लिए आप वहां संकेत यानी बोर्ड या पोस्टर लगा सकते हैं। ये संकेत आपको यह सब याद रखने में मदद कर सकते हैं और सामान्य हायजीन (general hygiene) की आदतों को बेहतर बनाने में भी सहायक होंगे।

अभ्यास करें

एक नई आदत सीखने में समय लगता है। सप्ताह शुरू होते ही एक नई आदत के साथ शुरुआत करें और इसे अपनी प्राथमिकता बनाएं। एक या दो सप्ताह तक इसका अभ्यास करें। जब आप इसके साथ सहज महसूस करते हैं, तो एक नई आदत को इसमें जोड़ें।

सामान्य हायजीन (general hygiene) को मेंटेन रखने के लिए केवल आपको ही नहीं बल्कि उस स्थान से जुड़े हर एक व्यक्ति को मेहनत करनी होगी। इसके लिए आप लोगों को सफाई के महत्व के बारे में समझा सकते हैं। इसकी शुरुआत आप खुद से करें। आपको देख कर लोग भी प्रेरित होंगे। सामान्य हायजीन (general hygiene) एक बहुत महत्वपूर्ण चीज है। अगर आज आप इसका महत्व समझेंगे तो आने वाले समय में हम एक नए समाज का निर्माण कर पाएंगे और आने वाली पीढ़ी में भी इन अच्छी आदतों के बारे में सीखा पाएंगे।

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट कुछ दिन पहले को
डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
x