backup og meta
खोज
स्वास्थ्य उपकरण
बचाना

क्या आपका जीभ साफ करने का तरीका सही है?

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड डॉ. प्रणाली पाटील · फार्मेसी · Hello Swasthya


Shayali Rekha द्वारा लिखित · अपडेटेड 02/09/2020

क्या आपका जीभ साफ करने का तरीका सही है?

जीभ हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। खाने से लेकर बोलने तक यह हमारे आवश्यक काम करती है, लेकिन जब हम दांतों की इतनी सफाई करते हैं तो जीभ का भी ध्यान हमें रखना चाहिए। अब शायद आप ये कहें कि जीभ को साफ तो हम रोजाना करते हैं, लेकिन हमारा सवाल यह है कि क्या आपको जीभ साफ करने का तरीका पता है। रोजाना हम जीभ साफ करने का जो तरीका अपनाते हैं, उससे जीभ को चोट भी पहुंच सकती है। इसलिए जीभ साफ करने का तरीका आपको पता होना चाहिए।

यह भी पढ़ें : आखिर कैसा होना चाहिए स्वस्थ जीभ का रंग?

टंग स्क्रैपिंग क्या है?

टंग स्क्रैपिंग को हिंदी में जीभ साफ करना कहते हैं। टंग स्क्रैपिंग जीभ पर जमे हुए एक्स्ट्रा पार्टिकल्स को निकालने का आसान और तेज तरीका है। जीभ पर जमे हुए एक्सट्रा पार्टिकल्स के कारण ही हमारे मुंह से बदबू आती है। टंग स्क्रैपिंग के लिए प्लास्टिक, स्टील या तांबे का बना हुआ टंग स्क्रैपर आता है। रोजाना ब्रश करने के बाद आपको टंग स्क्रैपर की मदद से अपने जीभ की सफाई करनी चाहिए। जिससे ओरल हेल्थ दुरुस्त होती है। 

जीभ साफ करने के फायदे क्या हैं?

जीभ साफ करने का तरीका

रोजाना जीभ साफ करना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। जीभ साफ करने का तरीका जानने से पहले आप ये बात पता कर लें कि जीभ साफ करने के फायदे क्या हैं :

मुंह में बदबू पैदा करने वाले सल्फर कम्पाउंड में कमी होती है

जर्नल ऑफ पीरियडोंन्टोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक रोजाना जीभ साफ करने से मुंह में बदबू पैदा करने वाले सल्फर कम्पाउंड जीभ से साफ हो जाते हैं। एक टंग स्क्रैपर 75 फीसदी तक सल्फर कम्पाउंड रिमूवर होते हैं, जबकि टूथब्रश से सिर्फ 45 प्रतिशत सल्फर कम्पाउंड रिमूव होते हैं। 

 बैक्टीरिया को कम करता है

एक स्टडी के मुताबिक ओरल हेल्थ के लिए जीभ साफ करने का तरीका बहुत जरूरी है। हमें रोजाना जीभ साफ करनी चाहिए, जिससे हमारे जीभ पर मौजूद बैक्टीरिया भी साफ हो जाएं। इससे हमें स्वास्थ्य समस्याएं होने की समस्या भी कम ही रहेगी।

यह भी पढ़ें : जीभ से जुड़े तथ्य नहीं जानते होंगे आप

मुंह में ताजगी महसूस होती है

ब्रश करने के बाद ताजा सांसें या मुंह में ताजगी का एहसास किसे नहीं पसंद है। ऐसे में हमें अपनी जीभ को साफ करने से ये ताजगी घंटों तक बनाए रख सकते हैं। अमेरिकन डेंटल एसोसिएशन के अनुसार जीभ की सफाई करने से मुंह में ताजगी का एहसास होता है। 

प्लाक को साफ करने में करता है मदद

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ क्लीनिकल पीडियाट्रिक डेंटिस्ट्री के मुताबिक बच्चे की जीभ साफ करना बेहद जरूरी है। हम सभी के जीवन में रोजाना मुंह की सफाई के साथ जीभ को साफ करना बेहद आसान और महत्वपूर्ण काम होता है, लेकिन बच्चों की जीभ की सफाई किसी के लिए भी एक मुश्किल कार्य साबित हो सकता है। जीभ की सही तरीके से सफाई करने से मुंह से बदबू और संक्रमित बीमारियां होने का खतरा कम रहता है। इसके साथ ही बचपन से ही शिशु के मसूड़ें मजबूत रहते हैं और इनमें कैविटी होने की आशंका कम हो जाती है।

खाने के स्वाद को बेहतर बनाती है जीभ की सफाई

शायद ये बात आपको अजीब लगे, लेकिन यह सच है कि जीभ पर जमा प्लाक खाने के स्वाद को पूरी तरह से नहीं लेने देता है। एक अध्ययन में ये बात सामने आई है कि हमारे जीभ पर जमा हुआ प्लाक सुक्रोज और सिट्रीक एसिड का स्वाद सही से नहीं लेने देता है। इसलिए अगर खाने में डली हुई सभी सामग्रियों का स्वाद लेना है तो हमें जीभ साफ करनी ही पड़ेगी। 

यह भी पढ़ें : ओरल हेल्थ क्या है? बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक के लिए है जरूरी

जीभ साफ करने का तरीका क्या है?

आप रोजाना जीभ को साफ करते होंगे, लेकिन जीभ साफ करने का तरीका आपके लिए जानना बेहद जरूरी है। आइए जानते हैं स्टेप बाइ स्टेप जीभ साफ करने का तरीका  :

  1. एक टंग स्क्रैपर लें, यह प्लास्टिक या मेटल किसी का भी हो सकता है। टंग स्क्रैपर ‘V’ आकार का या शीर्ष पर एक गोल किनारे वाला हैंडल के साथ जैसा हो सकता है। 
  2. अब अपनी जीभ को जितना हो सके उतना बाहर की ओर निकालें।
  3. टंग स्क्रैपर को अपनी जीभ के पिछले हिस्से की ओर रखें।
  4. टंग स्क्रैपर को अप आगे की तरफ हल्का दबाव बनाते हुए ऐसे खींचें जैसे आप वाइपर कर रहे हों।
  5. अब टंग स्क्रैपर पर जीभ से निकले पार्टिकल को पानी की मदद से साफ करें। साथ ही मुंह में आए हुए लार को भी इस दौरान थूंक दें। 
  6. टंग स्क्रैपर की इस प्रक्रिया को लगभग दो से पांच बार दोहराएं।
  7. इसके बाद टंग स्क्रैपर को साफ कर के अगले बार इस्तेमाल करने के लिए रख दें। 

टंग स्क्रैपिंग करते समय अगर आप टंग स्क्रैपर को मुंह में ज्यादा अंदर तक डाल देंगे तो आपको उल्टी भी हो सकती है। वहीं, आप दिन में कम से कम दो बार जीभ साफ करने का तरीका अपना कर जीभ को साफ करें। हमेशा खाना खाने के पहले अपनी जीभ को साफ कर लें। अगर आप खाना खाने के बाद जीभ को साफ करते हैं तो आपको उल्टी हो सकती है। हमेशा ब्रश करने के बाद जीभ को साफ करें। 

यह भी पढ़ें- दांतों की परेशानियों से बचना है तो बंद करें ये 7 चीजें खाना

घरेलू तरह से जीभ साफ करने का तरीका सीखें

जीभ साफ करने का तरीका घरेलू भी हो सकता है, लेकिन आपको पहले बता दें कि ऊपर बताया गया जीभ साफ करने का तरीका आपके जीभ पर जमे पार्टिकल्स को साफ करता है, जबकि घरेलू तरीके अपनाकर आप जीभ बैक्टीरिया को भी साफ कर सकते हैं :

नमक पानी का करें गार्गल

जीभ साफ करने का तरीका अपनाने के बाद अक्सर लोग माउथवॉश का इस्तेमाल करते हैं। आपको बता दें कि नमक पानी का गार्गल करना खुद में एक फ्री माउथवॉश है। नमक एक प्राकृतिक डिसइंफेक्टेंट है, जो बैक्टीरिया को कम करने के साथ मुंह में होने वाले दर्द से राहत देता है। नमक पानी के द्वारा खाने के अवशेष निकल जाते हैं। 

इसके लिए आपको गुनगुने पानी में दो या तीन चुटकी भर नमक मिला लें। इस सॉल्यूशन को अपने मुंह में 30 सेकेंड तक रख कर पूरे मुंह में फैलाएं। फिर इसे थूंक दें। ऐसा दिन में दो या तीन बार ऐसा करें, लेकिन लंबे समय नमक पानी का इस्तेमाल करने से टूथ इनेमल पर निगेटिव इफेक्ट पड़ता है। 

प्रोबायोटिक्स का सेवन करें

प्रोबायोटिक्स का सेवन करने से हमारा गट हेल्दी रहता है, लेकिन प्रोबायोटिक्स हमारे जीभ के लिए भी हेल्दी हो सकते हैं। जीभ पर सफेद कोटिंग होने का सबसे सटीक इलाज है प्रोबायोटिक्स का सेवन करना। आप प्रोबायोटिक्स के रूप में दही, योगर्ट आदि खा सकते हैं। 

इस तरह से आप जीभ को साफ रखकर ओरल हाइजीन को मेंटेन कर सकते हैं साथ ही मुंह की बीमारियों से बच सकते हैं। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। 

और पढ़ें :

ओरल हाइजीन का रखेंगे ख्याल तो शरीर को भी होने लगेगा फायदा

बच्चों की ओरल हाइजीन को ‘हाय’ कहने के लिए शुगर को कहें ‘बाय’

जानिए क्या है प्रेग्नेंसी और ओरल हेल्थ कनेक्शन

Aminacrine : ऐमीनाक्राइन क्या है? जानिए इसके उपयोग, साइड इफेक्ट्स और सावधानियां

डिस्क्लेमर

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

के द्वारा मेडिकली रिव्यूड

डॉ. प्रणाली पाटील

फार्मेसी · Hello Swasthya


Shayali Rekha द्वारा लिखित · अपडेटेड 02/09/2020

ad iconadvertisement

Was this article helpful?

ad iconadvertisement
ad iconadvertisement