ओरल हाइजीन का रखेंगे ख्याल तो शरीर को भी होने लगेगा फायदा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट August 24, 2020 . 3 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

क्या आप जानते हैं कि डेंटल हाइजीन (dental hygiene) आपके सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए जरूरी है या मुंह की समस्याएं आपके शरीर के बाकी हिस्सों को भी प्रभावित कर सकती हैं?  दांतों की सही से देखभाल न करने से आपको दिल की समस्याओं से भी दो-चार होना पड़ सकता है। ऐसे में अच्छी हेल्थ के लिए मौखिक स्वच्छता (oral hygiene) को बनाए रखना जरूरी है। ओरल हाइजीन के फायदे सिर्फ मुंह को ही नहीं बल्कि पूरे शरीर को ही मिलते हैं। जानते हैं ओरल केयर (oral care) से शरीर को क्या फायदे मिलते हैं। 

अच्छी ओरल हाइजीन के फायदे (Benefits of oral hygiene)

ओरल हाइजीन के फायदे: मसूड़ों की सेहत होती है बेहतर 

मुंह में बहुत सारे बैक्टीरिया पाए जाते हैं। कुछ अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जो भोजन को पचाने में मदद करते हैं। कुछ बैक्टीरिया हानिकारक होते हैं जो बीमारी और संक्रमण का कारण बनते हैं।  यदि आप ठीक से फ्लॉस या ब्रश नहीं करते हैं, तो हानिकारक बैक्टीरिया आपके मुंह में जन्म ले लेते हैं और दांतों पर प्लाक (plaque) जमना शुरू हो जाता है। इससे मसूड़ों में सूजन और मसूड़ों के रोगों (जैसे-पीरियोडोंटाइटिस, जिंजीवाइटिस) की संभावना बढ़ जाती है। ऐसे में, नियमित रूप से ब्रश और फ्लॉस करने से मुंह से हानिकारक बैक्टीरिया दूर रहते हैं। 

ओरल हाइजीन के फायदे: हार्ट अटैक का खतरा होता है कम

अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी के अनुसार, मसूड़ों के रोग (gum diseases) होने से दिल का दौरा (heart attack) पड़ने का खतरा लगभग 50% तक बढ़ सकता है। दरअसल, मसूड़ों से खून आने की वजह से बैक्टीरिया ब्लड स्ट्रीम में प्रवेश करके आपके पूरे शरीर में फैल सकते हैं। इससे हार्ट अटैक का जोखिम बढ़ सकता है। वहीं, ओरल हाइजीन को मेंटेन करने से दिल की बीमारियों (heart diseases) का खतरा कम किया जा सकता है। 

और पढ़ें: दांतों का पीलापन दूर करने वाली टीथ वाइटनिंग कितनी सुरक्षित है?

ओरल हाइजीन के फायदे: कैंसर रिस्क भी होता है कम 

मसूड़ों की बीमारी कुछ प्रकार के कैंसर में योगदान दे सकती है, खासतौर से अग्नाशय का कैंसर (pancreatic cancer)। हालांकि, शोधकर्ता इस कनेक्शन को पूरी तरह से नहीं समझते हैं। लेकिन, हो सकता है कि मुंह में बैक्टीरिया से निकलने वाले पदार्थ कैंसर कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देने में मदद करते हों। ऐसे में ओरल हाइजीन के फायदे ये होते हैं कि नियमित ब्रश और फ्लॉस से मसूड़े स्वस्थ रहते हैं और कैंसर जैसे रोग की संभावना कम हो जाती है।

और पढ़ें: दांतों की परेशानियों से बचना है तो बंद करें ये 7 चीजें खाना

ओरल हाइजीन के फायदे: फेफड़े रहते हैं हेल्दी 

मसूड़ों की बीमारी और संक्रमण का दूर रहना अच्छी डेंटल हाइजीन के फायदे हैं जो की हमारे लंग्स के स्वास्थ्य के लिए भी उपयोगी है। ओरल केयर न करने से मुंह में पनपने वाले बैक्टीरिया की वजह से मसूड़ों की बीमारी और संक्रमण हो सकता है। ये बैक्टीरिया सांस के द्वारा फेफड़ों में प्रवेश कर सकते हैं। इससे श्वसन संबंधी संक्रमण जैसे क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) और निमोनिया का खतरा बढ़ जाता है।

ओरल हेल्थ और प्रेग्नेंसी

ओरल हाइजीन के फायदे यहीं खत्म नहीं होते हैं। अच्छी डेंटल हाइजीन से हेल्दी प्रेग्नेंसी को भी बढ़ावा मिलता है। कुछ अध्ययनों में गम डिजीज और प्रेग्नेंसी कॉम्प्लीकेशन्स (प्री-मेच्योर/प्री-टर्म प्रेग्नंसी और लो-बर्थ वेट) के बीच संबंध पाया गया। गर्भावस्था के दौरान खराब मौखिक स्वच्छता से मां और शिशु के स्वास्थ्य पर असर पड़ता है।

और पढ़ें: इस तरह नवजात शिशु को बचा सकते हैं इंफेक्शन से, फॉलो करें ये टिप्स

हाइजीन का ध्यान नहीं रखा तो बीमारियों का बढ़ता है खतरा

अगर आप अपने मुंह को स्वच्छ नहीं रखेंगे तो दांतों व मसूड़ों से संबंधित कई संक्रमणों की आशंका बढ़ सकती है। जिन्जिवाइटिस, दांतों में सड़न, बैक्टीरियल संक्रमण, सांसों की बदबू जैसी परेशानियां तो होंगी ही, साथ ही इससे शरीर के दूसरे हिस्सों में भी समस्याएं हो सकती हैं।

बढ़ रहे हैं दांतों के मरीज 

दांतों की बीमारियां भारत में एक बहुत बड़ी समस्या बनती जा रहीं हैं। भारत में दांतो की खराबी से 60 से 65 प्रतिशत और पेरियोडोंटल बीमारियों (Periodontal diseases) से 50 से 90 प्रतिशत जनसंख्या प्रभावित है। ज्यादातर दांतों की समस्याएं इनेमल (enamel) पर एसिड के प्रभाव की वजह से होती हैं। जिसका मुख्य कारण आजकल का अनहेल्दी खानपान है। 

दांतों की देखभाल के आसान तरीके 

  • नियमित रूप से ब्रश करें। इससे प्लाक (plaque) और बैक्टीरिया के निर्माण को रोकने में मदद मिलती है। 
  • दिन में दो बार ब्रश करें।
  • हर दिन फ्लॉस करें। यह उन हिस्सों को साफ करने में भी मदद करता है, जहां ब्रश नहीं पहुंच पाता है।
  • स्टार्चयुक्त और शुगरी खाद्य पदार्थो से बचें। 
  • हर छह महीने में अपने दांतों की जांच करवाएं। 
  • जीभ पर भी बैक्टीरिया जमती है। इसलिए, ब्रश करने के बाद जीभ को भी साफ करना चाहिए। 

ब्रश करने के साथ इस बात का भी रखें ध्यान

सिर्फ सही तरीके से ब्रश करना ही ओरल हाइजीन के लिए काफी नहीं है। इसके साथ ही आपको कई छोटी-छोटी सावधानियां भी बरतने की जरूरत है जैसे दिन में दो बार ब्रश करें। खाने के बाद कुल्ले जरूर करें। अधिक चॉकलेट, कैफीन आदि के सेवन से बचें। जितना हो सके पान मसाला और धूम्रपान से दूर रहें। बच्चों के दूध वाले दांतों का भी उसी तरह खयाल रखें और कम उम्र से ही बच्चों को ब्रश करने के आदत डालें।

ब्रश करने का होता है एक तरीका

इसके साथ ही आपको ब्रश करने का तरीका कितना सही है। ब्रश करने का सही तरीका यह है कि ब्रश को दांतों के एनामेल यानी जोड़ पर ऊपर से नीचे और दाएं से बाएं की ओर करें। एक साथ तीन दांतों पर इसी विधि से ब्रश करें। ब्रश के दौरान जीभ की सफाई भी बेहद जरूरी है।

लोग ओरल हाइजीन के फायदे के बारे में अक्सर अंजान होते हैं। खराब डेंटल हेल्थ से दांत की सड़न (tooth decay) के साथ ही कई गंभीर बीमारियां उत्पन्न हो सकती हैं। इसलिए, डेंटल हाइजीन के फायदों को समझें और एक स्वस्थ्य शरीर के लिए दांतों की देखभाल जरूर करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

मसूड़े में खुजली से क्या आप भी परेशान हैं? जानें इलाज और रोकथाम

मसूड़े में खुजली इन हिंदी, मसूड़े में खुजली के कारण क्या हैं, मसूड़ों में थुजली क्यों होती है, itchy gums masude me sujan in Hindi.

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
ओरल हेल्थ, मसूड़ों की समस्या April 21, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

जानें मसूड़ों की सूजन के कारण, निदान और उपाय

मसूड़ों की सूजन बने रहना कोई मामूली बात नहीं है लेकिन लोग अक्सर इसे अनदेखा करते हैं। मसूड़ों की सूजन ओरल कैंसर का एक इशारा हो सकता है। gum swelling in hindi, oral cancer signs in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
ओरल हेल्थ, मसूड़ों की समस्या April 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Mouth Infection: जानिए मुंह में संक्रमण के घरेलू उपचार

मुंह में संक्रमण के लक्षण, कारण, मुंह में संक्रमण का उपचार, माउथ इंफेक्शन के घरेलू उपाय, mouth infection prevention tips in hindi, oral infection in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
अन्य ओरल समस्याएं, ओरल हेल्थ April 16, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Fissured Tongue: फिशर्ड टंग (जीभ में दरार) क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

जानिए फिशर्ड टंग क्या है in hindi, फिशर्ड टंग के कारण, जोखिम और उपचार क्या है, fussures tongue को ठीक करने के लिए क्या उपचार है?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
अन्य ओरल समस्याएं, ओरल हेल्थ February 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

bad breath in teenagers

मुंह की बदबू का आयुर्वेदिक इलाज क्या है? आयुर्वेद के अनुसार क्या करें और क्या न करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Shikha Patel
प्रकाशित हुआ June 22, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था में ओरल केयर

गर्भावस्था में ओरल केयर न की गई तो शिशु को हो सकता है नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दांतों से टार्टर की सफाई

दांतों से टार्टर की सफाई के आसान 6 घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
टॉवेल में कीटाणु

इन वजहों से आ जाते हैं टॉवेल में कीटाणु, शरीर में प्रवेश कर पहुंचा सकते हैं बड़ा नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ May 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें