आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

Popcorn in heart disease: दिल के समस्याओं से निजात पाने में क्या फायदेमंद है पॉपकॉर्न?

    Popcorn in heart disease: दिल के समस्याओं से निजात पाने में क्या फायदेमंद है पॉपकॉर्न?

    पॉपकॉर्न (Popcorn) को कॉर्न्स यानी भुट्टे से बनाया जाता है। जब कॉर्न्स को हीट किया जाता है, तो यह पॉप होते हैं और लाइट व फ्लफी हो जाते हैं। बिना पॉपकॉर्न के थिएटर हो या घर, मूवी देखना अधूरा सा लगता है। बच्चे भी इन्हें बहुत पसंद करते हैं। ऐसा माना जाता है कि इनमें बहुत से न्यूट्रिएंट्स और विटामिन्स होते हैं और यह सच भी है। लेकिन, इसे बनाने या पैक करने से तरीके से यह अनहेल्दी बन सकते हैं। आज हम आपको यह जानकारी देने वाले हैं कि हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) के बारे में? हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) से पहले जान लेते हैं कि क्या पॉपकॉर्न (Popcorn) हेल्दी होते हैं या नहीं?

    क्या पॉपकॉर्न (Popcorn) हेल्दी हैं?

    जैसा कि पहले ही बताया गया है कि पॉपकॉर्न हेल्दी होते हैं। जब मैन्युफैक्चरर और हम इसे बेहतरीन तरीके से प्रीपेयर करते हैं, तो इन्हें हेल्थफुल माना जाता है। अगर बात की जाए पॉपकॉर्न (Popcorn) की, तो यह एक होल ग्रेन है, जो हार्ट हेल्थ को बूस्ट करता है। यानी हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) का सेवन करना फायदेमंद है। इसके निम्नलिखित न्यूट्रिशन बेनिफिट्स हैं:

    और पढ़ें: स्मोकिंग और हार्ट डिजीज (Smoking and Heart disease) का कनेक्शन है बहुत पुराना, बचने के लिए इन उपायों को होगा अपनाना

    एयर-पोप्ड पॉपकॉर्न जिसमें तेल न हो, हेल्थ के लिए बेहतरीन हैं। पॉपकॉर्न (Popcorn) को पॉपकॉर्न मेकर या स्टोव पर पॉपकॉर्न कर्नल्स (Popcorn kernels) यानी मक्के के दानों को हीट करके एयर-पॉप किया जा सकता है। अधिकतर लोग सिनेमाघर में टॉपिंग या फ्लेवरिंग डाल कर पॉपकॉर्न्स का सेवन करते हैं। इन अतिरिक्त चीजों में कम न्यूट्रिशनल वैल्यू होती है। माइक्रोवेव में बने पॉपकॉर्न (Popcorn) में एडिटिव्स होते हैं और बैग में भी कंटामिनेंट्स हो सकते हैं। कुछ ब्रांड्स के पॉपकॉर्न्स में चीनी की मात्रा बहुत अधिक होती है। अधिक बटर, चीनी और नमक आदि से पॉपकॉर्न एक अनहेल्दी स्नेक बन जाता है। सुपरमार्केट और मूवी थिएटर में कई पॉपकॉर्न ब्रैंड्स बहुत अधिक बटर, शुगर और नमक मिलाते हैं, जिससे यह हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकते हैं। अब जान लेते हैं हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) का सेवन करने के बारे में।

    और पढ़ें: क्या हाय कोलेस्ट्रॉल के कारण बढ़ सकता है हार्ट डिजीज का रिस्क?

    हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease): क्या लाभदायक है पॉपकॉर्न का सेवन?

    ऐसा माना गया है कि पॉपकॉर्न (Popcorn) में पाए जाने वाले फाइबर के अधिक सेवन से हार्ट डिजीज के साथ-साथ कोरोनरी हार्ट डिजीज (Coronary heart disease) के जोखिम को भी कम किया जा सकता है। फाइबर एक बैलेंस्ड डायट का महत्वपूर्ण हिस्सा है। पॉपकॉर्न वो स्नैक है, जो आपकी डेली फाइबर इंटेक में कंट्रीब्यूट कर सकता है। यही नहीं, इससे डायबिटीज का रिस्क भी कम रहता है। इसके साथ ही डायबिटीज और हार्ट डिजीज के रिस्क को लो रखने के साथ ही अगर पॉपकॉर्न को अगर कम नमक या बटर के साथ बनाया जाए, तो इससे ब्लड प्रेशर लो रहने में मदद मिलती है। ब्लड प्रेशर के लो होने से हार्ट सम्बन्धी समस्याएं भी कम हो सकती हैं।

    जिन पॉपकॉर्न्स (Popcorns) को पहले से ही बना कर रखा जाता है, उनमें अधिक मात्रा में नमक होता है। बहुत अधिक मात्रा में नमक खाने से ब्लड प्रेशर हाय रहता है और इससे कई अन्य हेल्थ कॉम्प्लीकेशंस हो सकती हैं। हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) का सेवन करना फायदेमंद है। लेकिन, यह भी जरूरी है कि इसे बनाने के लिए सही तरीके को अपनाएं। अब जानते हैं इनमें मौजूद न्यूट्रिएंट्स और इसकी प्रॉपर्टीज के बारे में।

    हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न, Popcorn in heart disease.

    और पढ़ें: Heart disease and exercise: क्या एक्सरसाइज से हार्ट डिजीज को रोका या रिवर्स किया जा सकता है?

    हेल्दी पॉपकॉर्न (Popcorn) में कौन सी प्रॉपर्टीज होती हैं?

    पॉपकॉर्न (Popcorn) में बहुत से फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो कुछ गंभीर हेल्थ कंडिशंस से बचने में मदद कर सकते हैं। इसमें कुछ अन्य इंग्रेडिएंट्स भी हो सकते हैं, जो इस प्रकार हैं:

    • फोलेट (Folate)
    • विटामिन इ (Vitamin E)
    • नियासिन (Niacin)
    • विटामिन के (Vitamin K)
    • राइबोफ्लेविन (Riboflavin)
    • विटामिन ए (Vitamin A)
    • थायमिन (Thiamine)
    • पैंटोथैनिक एसिड (Pantothenic acid)
    • विटामिन बी6 (Vitamin B6)

    और पढ़ें: पॉपकॉर्न लंग क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और उपाय

    पॉपकॉर्न (Popcorn) की हेल्थफुल प्रॉपर्टीज अलग-अलग होती हैं, जो इसके प्रकार पर निर्भर करती हैं। हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) के फायदों के साथ ही यह जानकारी होना भी जरूरी है। एयर-पोप्ड, अनसाल्टेड और अनस्वीटनड पॉपकॉर्न के सबसे हेल्दी प्रकार हैं, इनमें 0.21 ग्राम चीनी और 1.09 ग्राम फैट होता है। होममेड एयर-पोप्ड, अनसाल्टेड और अन स्वीटनड पॉपकॉर्न में 0.13 ग्राम चीनी और 6.74 ग्राम फैट होता है। इसके विपरीत, कैरेमल-कोटेड पीनट पॉपकॉर्न में 10.89 ग्राम चीनी और 1.87 ग्राम फैट होता है।

    कैरेमल-कोटेड पीनट पॉपकॉर्न में फैट और शुगर बहुत अधिक मात्रा में होते हैं और यह ब्रैंड पर भी निर्भर करता है। माइक्रोवेव पॉपकॉर्न इसके प्रकार और ब्रांड के अनुसार भी भिन्न होते हैं। आप इसे हेल्दी चॉइस बनाने के लिए आवश्यक पोषण संबंधी जानकारी के लिए प्रोडक्ट के लेबल की जांच कर सकते हैं। यह तो आप समझ ही गए होंगे कि हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) खाना हेल्दी हो सकता है,लेकिन अगर इसे घर पर बनाया जाए तो। बाजार में मिलने वाले पॉपकॉर्न (Popcorn) स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। अब जानते हैं कि घर पर आप पॉपकॉर्न कैसे बना सकते हैं?

    और पढ़ें: हार्ट डिजीज के मरीजों के लिए एक्सरसाइज करना है बेहद जरूरी, ताकि हार्ट को मिल सके बेहतर प्रोटेक्शन!

    घर पर पॉपकॉर्न (Popcorn) कैसे बना सकते हैं?

    जब आप घर से बाहर नहीं हैं, तो आप घर पर आसानी से पॉपकॉर्न (Popcorn) बना और एन्जॉय कर सकते हैं। इसके लिए आपको आधा कप पॉपकॉर्न कर्नल्स यानी मक्के के दानों को लेना है। इसके साथ ही आपके पास एक बड़ा बर्तन होना भी जरूरी है, जिसके साथ लिड हो ताकि मक्के के दाने अच्छे से एक्सपेंट हो सकें। अब इस पॉट को मध्यम हीट पर हीट करें और इसमें मक्के के दाने ड़ाल दें। अगर आप चाहें तो आप इसमें थोड़ा सा तेल ड़ाल सकते हैं। अब लिड लगा दें। थोड़ी ही देर में आप इनके पॉप होने की आवाज सुनना शुरू कर देंगे। कुछ ही देर में लगातार यह आवाज आनी शुरू होगी।

    जब यह पॉप की आवाज लगातार आने की जगह कभी-कभी आनी शुरू हो जाए, तो समझ जाएं कि आपके पॉपकॉर्न तैयार हो गए हैं। अब स्टोव बर्नर को बंद कर दें और लिड को बंद ही रखें। इसके बाद लिड को हटा दें और आप इसमें थोड़ा सा तेल या नमक इच्छानुसार ड़ाल दें। सुनिश्चित करें कि आप पॉपकॉर्न (Popcorn) में तेल तभी मिलाएं जब यह गर्म हों। इसके साथ ही आप इनमें इन चीजों को भी ड़ाल सकते हैं:

    और पढ़ें: हाय ब्लड प्रेशर और हार्ट डिजीज में क्या डैश डायट दिखाती है कमाल?

    पॉपकॉर्न (Popcorn) में किसी भी चीज को संतुलित मात्रा में ही ऐड करें, ताकि आपको कोई नुकसान न हो। यह तो थी जानकारी हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) के बारे में। पॉपकॉर्न होल ग्रेन से बना एक स्नेक है। यह पूरी तरह से हेल्थ के लिए सुरक्षित है। लेकिन, इसे बनाने और स्टोर करने के तरीके पर निर्भर करता है कि यह हेल्दी है या अनहेल्दी। अगर पॉपकॉर्न एयर-पोप्ड, बिना चीनी या नमक हैं तो उनमें भरपूर फाइबर, विटामिन और मिनरल्स होते हैं। लेकिन, एक्स्ट्रा बटर, शुगर और चीनी से यह अनहेल्दी स्नेक बन सकता है।

    अगर आप बाहर से पॉपकॉर्न (Popcorn) खरीद रहे हैं, तो उन्हें खरीदने से पहले फूड्स के लेबल को अवश्य पढ़ें और घर पर ही इन्हें बनाएं। अगर हार्ट डिजीज में पॉपकॉर्न (Popcorn in heart disease) का सेवन कर रहे हैं तो ऊपर बताई चीजों का खास ध्यान रखना जरूरी है। अगर आपके मन में इस बारे में कोई भी सवाल है तो डॉक्टर से उस बारे में अवश्य जानें। आप हमारे फेसबुक पेज पर भी अपने सवालों को पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

    health-tool-icon

    टार्गेट हार्ट रेट कैल्क्यूलेटर

    जानें अपना साधारण और अधिकतम रेस्टिंग हार्ट रेट,आपकी उम्र और रोजाना एक्टिविटीज और अन्य एक्टिविटीज के दौरान प्राभावित होने वाली हार्ट रेट के बारे में।

    पुरुष

    महिला

    क्या आप खोज रहे हैं?

    आपकी रेस्टिंग हार्ट रेट क्या है? (बीपीएम)

    60

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    लेखक की तस्वीर badge
    AnuSharma द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 17/05/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड
    Next article: