Cardiovascular Exercise: कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज दिल ही नहीं, बल्कि पूरे हेल्थ के लिए है लाभकारी!

    Cardiovascular Exercise: कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज दिल ही नहीं, बल्कि पूरे हेल्थ के लिए है लाभकारी!

    हेल्दी रहने के लिए हेल्दी डायट के साथ-साथ एक्सरसाइज करना भी जरूरी है। एक्सरसाइज की लिस्ट में एक-दो नहीं, बल्कि कई तरह के एक्सरसाइज होते हैं। इसलिए आज इस आर्टिकल में कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise) के बारे में समझेंगे। कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज, कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के फायदे (Benefits of Cardiovascular Exercise) और इससे जुड़ी सभी बातों को समझेंगे।

    नोट: किसी भी एक्सरसाइज की शुरुआत सिर्फ कुछ दिनों के लिए ना करें और अगर आप अपने डेली रूटीन में एक्सरसाइज को फॉलो करना चाहते हैं, तो नियम से इसे अपने दिनचर्या में शामिल करें। एक्सरसाइज या योगासन का लाभ एक दिन में नहीं मिलता है, इसे अपने जीवन में रोजाना पालन करना चाहिए। Cardiovascular ExerciseCardiovascular Exercise

    • कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज क्या है?
    • कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के अंतर्गत आने वाले वर्कआउट कौन-कौन से हैं?
    • कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के फायदे क्या हैं?
    • कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज करने के साथ-साथ किन-किन बातों का रखें ख्याल?

    चलिए अब कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise) से जुड़े इन सवालों का जवाब जानते हैं।

    और पढ़ें : पैरों को मजबूती देने के लिए करें प्लियोमेट्रिक एक्सरसाइज, कुछ इस तरह

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise) क्या है?

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज को एरॉबिक एक्सरसाइज (Aerobic Exercise), कार्डियो एक्‍सरसाइज (Cardiac Exercise) या इंड्योरेंस एक्सरसाइज (Endurance exercise) भी कहा जाता है। कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज करने से हृदय गति बढ़ जाती है और एक्सरसाइज कर रहे व्यक्ति की सांस भी तेजी से चलने लगती है। कार्डियोवैस्कुलर वर्कआउट एक नहीं, बल्कि कई हैं।

    और पढ़ें : गॉल्स्टोन के लिए घरेलू नुस्खे में शामिल करें 5 🥣 चीजें और ये🧘🏻‍♀️ योगासन!

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के अंतर्गत आने वाले वर्कआउट कौन-कौन से हैं? (Cardiovascular Exercise)

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise)

    कार्डियो एक्‍सरसाइज की लिस्ट में निम्नलिखित वर्कऑउट्स शामिल हैं। जैसे:

    • ब्रिस्क वॉकिंग (Brisk walking)
    • दौड़ना (Running)
    • जॉगिंग (Jogging)
    • क्रॉल्स (Crawls)
    • तैरना (Swimming)
    • वॉटर एरॉबिक्स (Water aerobics)
    • साइक्लिंग (Cycling)
    • डांसिंग (Dancing)
    • रेस वॉकिंग (Race-walking)
    • बास्केट बॉल (Basketball)
    • हाई इंटेंसिटी इंटर्वल ट्रेनिंग (High Intensity Interval Training)
    • माउंटेन क्लाइम्बिंग (Mountain climbing)
    • जंपिंग जैक्स (Jumping jacks)
    • स्क्वाट जंप (Squat jumps)
    • स्प्लिट जंप (Split jumps)

    और पढ़ें : रेग्यूलर वर्कआउट से हो गए हैं बोर, तो वर्कआउट रूटीन में शामिल करें बोसु बॉल एक्सरसाइज

    इन ऊपर बताये कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के लिए किसी भी वर्कआउट करने वाले मशीन की जरूर नहीं पड़ती है, लेकिन कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज में कुछ ऐसे भी वर्कऑउट्स शामिल हैं, जिनके लिए वर्कआउट करने वाले मशीनों की जरूरत पड़ सकती है। इन वर्कऑउट्स में शामिल है-

    • ट्रेडमील (Treadmill)
    • स्टेपिंग मशीन (Stepping machine)
    • स्टेशनरी साइकल (Stationary cycles)
    • एसकेआई ट्रेनर (Ski trainer)
    • रोइंग मशीन (Rowing machine)

    अलग-अलग तरह से की जाने वाले कार्डियो एक्‍सरसाइज के फायदे भी कई हैं, जिनके बारे में आगे समझेंगे।

    और पढ़ें : हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग (HIIT Workout) क्या है?

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के फायदे क्या हैं? (Benefits of Cardiovascular Exercise)

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के फायदे इस प्रकार हैं। जैसे:

    1. बेहतर होता है कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ (Improves cardiovascular health)

    अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (American Heart Association) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार हार्ट से जुड़ी बीमारियों से बचने के लिए कार्डियोवैस्कुलर वर्कआउट अच्छा माना गया है। कार्डियो एक्सरसाइज से हार्ट मजबूत होता है और हार्ट को पूरे बॉडी में ब्लड पंप करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही ब्लड प्रेशर (Blood pressure) एवं कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) लेवल को भी बैलेंस बनाये रखने में मदद मिल सकती है।

    2. ब्लड शुगर रहता है कंट्रोल (Controls Blood Sugar)

    नियमित कार्डियो एक्सरसाइज करने से ब्लड शुगर लेवल (Blood Sugar Level) भी कंट्रोल रहता है। रिसर्च रिपोर्ट्स के अनुसार टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) के मरीजों के लिट् एरॉबिक एक्सरसाइज अत्यधिक लाभकारी मानी गई है।

    और पढ़ें : अगर रहना चाहते हैं फिट, तो आपके काम आएंगे यह एक्सरसाइज सेफ्टी टिप्स

    3. अस्थमा के मरीजों को भी मिलता है फायदा (Benefits for Asthmatic patients)

    अस्थमा की समस्या से परेशान लोगों के लिए एरॉबिक एक्सरसाइज लाभकारी बताई गई है। हालांकि अस्थमा के पेशेंट को किसी भी तरह के एक्सरसाइज को करने से पहले डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करना चाहिए।

    4. क्रोनिक बेक पेन से मिलता है राहत (Reduces chronic back pain)

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार अगर पीठ की दर्द की समस्या अगर बहुत ज्यादा रहती है, तो ऐसे में कार्डियो एक्सरसाइज से तकलीफ को दूर करने में मदद मिल सकती है। हालांकि दर्द के दौरान एक्सरसाइज ना करें।

    और पढ़ें : सीनियर्स के लिए ताई ची एक्सरसाइज क्यों है लाभकारी?

    5. बॉडी वेट रहता है कंट्रोल (Controls Body Weight)

    अगर आप बढ़ते वजन से परेशान हैं, तो एरॉबिक एक्सरसाइज आपके लिए लाभकारी हो सकता है। नियमित रूप से एरॉबिक एक्सरसाइज करने से बॉडी वेट मेंटेन रखने में मदद मिल सकती है।

    6. इम्यून सिस्टम होता है स्ट्रॉन्ग (Strengthens immune system)

    पेंसिल्वेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी (Pennsylvania State University) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार इम्यून सिस्टम को स्ट्रॉन्ग बनाने के लिए या कमजोर हुए इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने के लिए कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise) अत्यधिक मददगार है।

    और पढ़ें : फाइब्रोमायल्जिया के लिए वर्कआउट रूटीन आपको पहुंचा सकता है इतने सारे फायदे

    7. मूड होता है अच्छा (Improve mood)

    नैशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इन्फॉर्मेशन (National Center for Biotechnology Information) में पब्लिश्ड रिपोर्ट के अनुसार कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise) अगर रोजाना कम से कम आधे घंटे करने पर मूड अच्छा होता है। यहां तक कि डिप्रेशन (Depression) जैसी तकलीफों को भी दूर करने में मदद मिल सकती है।

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज के फायदे (Cardiovascular Exercise) कई हैं, लेकिन कार्डियो वर्कआउट शुरू करने से पहले फिटनेस एक्सपर्ट से इसे समझें और फिर अपने डेली रूटीन में इसे शामिल करें।

    और पढ़ें : वर्क फ्रॉम होम के लिए 7 आसान एक्सरसाइज, बढ़े हुए वजन को कम करने के साथ ही देगी स्ट्रेंथ भी!

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज करने के साथ-साथ किन-किन बातों का रखें ख्याल? (Tips to follow during Cardiovascular Exercise)

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise)

    कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज करने से निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना जरूरी है। जैसे:

    • एक्सरसाइज शुरू करने से पहले डॉक्टर एवं फिटनेस एक्सपर्ट से जरूर सलाह लें।
    • अगर आप किसी हेल्थ कंडिशन (Health condition) के शिकार हैं, तो अपने फिटनेस ट्रेनर को इसकी जानकारी जरूर दें।
    • एक्सरसाइज शुरू करने से एक से दो घंटे पहले हेवी फूड का सेवन ना करें।
    • एक्सरसाइज करने के दौरान बॉडी को डिहाइड्रेट (Dehydrate) ना होने दें।
    • एक्सरसाइज के साथ-साथ हेल्दी फूड हैबिट्स भी फॉलो करें।

    एक्सरसाइज का फायदा तभी मिलेगा जब आप अपने डायट पर ध्यान देंगे।

    और पढ़ें : 30 की उम्र के बाद वेट लाॅस थोड़ा मुश्किल हो जाता है, वजन कम करने में मदद करेंगे ये टिप्स

    अगर आप किसी बीमारी से पीड़ित हैं, तो ऐसे में किसी भी एक्सरसाइज की शुरुआत अपनी मर्जी से ना करें। बेहतर होगा कि आप सबसे पहले अपने हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लें और फिर उनके द्वारा दी गई सलाह का पालन करें। डॉक्टर पेशेंट की हेल्थ कंडिशन (Health Condition) को ध्यान में रखकर एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं। इस दौरान डॉक्टर आपके लिए कौन-कौन से एक्सरसाइज लाभकारी हो सकते हैं वह भी जानकारी देते हैं।

    हम आशा करते हैं आपको कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज (Cardiovascular Exercise) के फायदे संबंधित ये लेख आपको पसंद आया होगा। इस लेख में हमने आपको कार्डियो एक्सरसाइज से होने वाले फायदो के बारे में बताया है। यदि आप इससे जुड़ी अन्य जानकारी चाहते हैं तो आप हमसे कमेंट कर पूछ सकते हैं। आपको हमारा यह लेख कैसा लगा यह भी आप कमेंट सेक्शन में बता सकते हैं।

    स्वस्थ रहने के लिए अपने डेली रूटीन में योगासन को भी शामिल किया जा सकता है। यहां हम आपके साथ योग महत्वपूर्ण जानकारी शेयर कर रहें हैं, जिसकी मदद से आप अपने दिनचर्या में योग को शामिल कर सकते हैं। नीचे दिए इस वीडियो लिंक पर क्लिक कर योगासन से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी जानिए।

    हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

    सूत्र

    American Heart Association Recommendations for Physical Activity in Adults and Kids/
    https://www.heart.org/en/healthy-living/fitness/fitness-basics/aha-recs-for-physical-activity-in-adults?utm_source=redirect_heartorg&utm_medium=referral&utm_campaign=301#.Ww_HpWaZOi4/Accessed 21/04/2022

    How much physical activity do adults need?/https://www.cdc.gov/physicalactivity/basics/adults/index.htm/Accessed 21/04/2022

    Being active when you have heart disease/https://medlineplus.gov/ency/patientinstructions/000094.htm/Accessed 21/04/2022

    Cardiovascular Exercise/http://diet.mayoclinic.org/diet/move/cardio-101/Accessed 21/04/2022

    Cardiovascular Exercise/https://health.clevelandclinic.org/head-toe-benefits-cardio-workout-infographic/ Accessed 21/04/2022

    Cardiac Exercise/https://www.lifehack.org/389350/6-benefits-of-cardio-exercise /Accessed 21/04/2022

    Cardiovascular Exercise/https://www.nhlbi.nih.gov/health/educational/lose_wt/phy_act.htm /Accessed 21/04/2022

    लेखक की तस्वीर badge
    Nidhi Sinha द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 22/04/2022 को
    डॉ. प्रणाली पाटील के द्वारा मेडिकली रिव्यूड