home

आपकी क्या चिंताएं हैं?

close
गलत
समझना मुश्किल है
अन्य

लिंक कॉपी करें

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर : इसे अपने डायट में शामिल करने से पहले जान लें ये बातें

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर : इसे अपने डायट में शामिल करने से पहले जान लें ये बातें

हार्ट पेशेंट क्या खाते हैं और क्या नहीं, यह दोनों ही बातें उनकी हेल्थ के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। अच्छी हार्ट हेल्थ के लिए सही डायट का होना भी बहुत जरूरी है। आज इस आर्टिकल में हम बात करेंगे हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर (Sweetener and heart diseases ) की। स्वीटनर में नेचुरल शुगर और आर्टिफिशियल शुगर दोनों ही शामिल होते हैं। लेकिन हम लोग अधिकतर जो खाने और ड्रिंक्स में इस्तेमाल करते हैं, वो आर्टिफिशियल शुगर होता है। यह आर्टिफिशियल शुगर हार्ट हेल्थ के लिए बिल्कुल भी अच्छी नहीं मानी जाती है। केवल हार्ट के लिए ही नहीं, बल्कि डायबिटीज वालो के लिए भी यह खतरनाक होती है। आइए जानते हैं कि हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर (Sweetener and heart diseases) क्यों नुकसानदेह है। इससे पहले यह भी जान लेते हैं कि अर्टिफिशियल स्वीटनर क्या है?

और पढ़ें: हार्ट हेल्थ के लिए बीन्स और दालें हो सकती हैं बेहद फायदेमंद, जान लीजिए इनके नाम

आर्टिफिशियल स्वीटनर क्या हैं (What are artificial sweeteners)?

आर्टिफिशियल स्वीटनर का इस्तेमाल आजकल अधिक किया जा रहा है। इसका इस्तेमाल ड्रिंक्स और मीठे में चीनी के विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसे लो कैलोरी स्वीटनर के नाम से भी जाना जाता है। यह रोजाना खायी जाने वाली चीनी के मुकाबले 300 से 13000 गुना ज्यादा मीठा होता है। डायबिटीज पेशेंट अधिकतर इसका इस्तेमाल करते हैं। कई हार्ट पेशेंट भी लो कैलोरी डायट में आजकल आर्टिफिशियल स्वीटनर का इस्तेमाल कर रहे हैं। लोगों को भले ऐसा लगता है कि यह ज्यादा फायदेमंद है, पर इसके कई नुकसान भी है। अगर कैलोरी की बात करें, तो आर्टिफिशल स्वीटनर के इस्तेमाल से वजन घटता नहीं बल्कि बढ़ता है। साथ ही व्यक्ति में मोटापे, डायबीटीज, हाय बीपी और हृदय रोग का जोखिम भी बढ़ सकता है। इस बारे में कनाडा की यूनिवसर्टिी ऑफ मानिटोबा के शोधकर्ताओं की रिपोर्ट के अनुसार सीक्रलोज और स्टेविया जैसे आर्टिफिशल स्वीटनर का इस्तेमाल आजकल की तेजी से बढ़ गया है। लेकिन यह हमारे पाचन क्षमता, गट बैक्टीरिया और भूख पर नकारात्मक असर पड़ता है। आर्टिफिशियल स्वीटनर शरीर के लिए अच्छा नहीं माना गया है।

और पढ़ें : एक्सरसाइज के बारे में ये फैक्ट्स पढ़कर कल से ही शुरू कर देंगे कसरत

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर में आर्टिशियल शुगर (Artificial Sugar in Sweetener for Heart)

अगर हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर की बात करें, तो हमारे शरीर के वजन और हार्ट हेल्थ पर इन आर्टिफिशल स्वीटनर्स का बुरा असर भी पड़ सकता है। शोधों में भी यह पाया गया है कि आर्टिफिशल स्वीटनर के रोजाना इस्तेमाल से बढ़ने के खतरे और मोटापा, हाय ब्लड प्रेशर, हार्ट प्रॉब्लम और डायबीटीज का खतरा भी अधिक होता है। जो लोग इन आर्टिफिशियल स्वीटनर्स को अपने डायट ड्रिंक्स और अपनी लो कैलोरी डायट में लेते हैं, तो यह उनकी भूल है। बल्कि यह हार्ट डिजीज और अटैक के खतरे को बढ़ाता है। 45 साल से अधिक वालों के लिए इसके जाेखिम और भी अधिक होते हैं। लंबे समय तक इन आर्टिफिशल स्वीटनर के इस्तेमाल के हार्ट हेल्थ रिस्क में आ जाती है। यह कहा जा सकता है कि यह आर्टिफिशियल स्वीटनर हमारे हार्ट हेल्थ के लिए अच्छा नहीं होता है।

और पढ़ें : बच्चों के लिए पिलाटे एक्सरसाइज हो सकती है फायदेमंद, बढ़ाती है एकाग्रता

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर : आर्टिफिश्यल स्वीटनर से बनी ड्रिंक हो सकती है खतरनाक (Drinks made from artificial sweetener can be dangerous)

हार्ट के लिए स्वीटन में आर्टिफिश्यल स्वीटनर काफी नुकसानदेह है। एक्सपर्ट की मानें तो रोजाना यदि कोई दो से अधिक आर्टिफिशियल ड्रिंक्स का सेवन करता है, तो लेने वालों इस्केमिक स्ट्रोक का खतरा, सामान्य लोगों की तुलना में 31 फीसदी और अटैक का रिस्क 25 प्रतिशत तक अधिक होता है। इतना ही नहीं, कोरोनरी हार्ट डिजीज का खतरा की ऐसे लाेगों में अधिक देखा जाता है। यह उनमें ब्लड क्लॉट का कारण भी बन सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि आर्टिफिशियल स्वीनर में कई ऐसे केमिकल्स पाए जाते हैं, जो ड्रिंक्स को मीठा बनाने का काम करते हैं और यह स्ट्रोक का कारण बन सकता है। इसलिए डायट में सॉफ्ट ड्रिंक्स के लिए मना करते हैं, खासतौर पर डायबिटीज या हार्ट पेशेंट के लिए। अधिकतर ड्रिंक्स में आर्टिफिशियल स्वीटनर का ही प्रयोग अधिक किया जाता है, इस हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर का सेवन अच्छा नहीं माना गया है।

और पढ़ें: हार्ट पेशेंट्स के लिए योग है बेहतर उपाय लेकिन ये योग कहीं पैदा न कर दें खतरा!

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर :मिठास कैसी भी हो, हार्ट के लिए सुरक्षित नहीं है (Not safe for heart)

डायबिटीज रोगी चीनी से परहेज करने के लिए अक्सर इसलिए कहा जाता है, क्योंकि आर्टिफिशियल स्वीटनर, जिसमें शुगर फ्री भी शामिल है। कहने को इसमें लो शुगर होती है, पर यह हेल्थ के लिए काफी नुकसानदेह है। यह डायबिटीज के मरीजों में हार्ट डिजीज के खतरे को और भी बढ़ा देती है। मीठा जैसा चाहें कैसा भी हो, जो हार्ट और शरीर दोनों के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। इन ड्रिंक्स में एसपारटेम, सैकरीन, सुक्रालोज, ऐसेसल्फेम-के आदि जैसे तत्व पाए जाते हैं। जिसका रोजाना सेवन नुकसानदेह है हार्ट के लिए। इसके हार्ट अटैक का खतरा ओर भी अधिक बढ़ जाता है। आर्टिफिशियल स्वीटनर का अधिक इस्तेमाल याददाश्त पर भी प्रभाव डालता है। जिससे याद जाने आदि की शिकायत हो सकती है। इसका बुरा प्रभाव ब्रेन फंक्शन पर भी पड़ता है।

और पढ़ें: सनफ्लावर ऑयल और ग्राउंडनट ऑयल में से कौन सा तेल है हार्ट के लिए हेल्दी?

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर :गट की बैक्टीरियल फ्लोरा के लिए हानिकारक है (harmful to the bacterial flora of the gut)

आर्टिफिशियल स्वीटनर का लगातार सेवन पेट के गट बैक्टीरिया के लिए अच्छा नहीं है। यह पेट के अन्दर की नार्मल बैकटिरियल फ्लोरा पर हानिकारक प्रभाव डालता है। जिससे पेट की बीमारी और मोटापे जैसी समस्याएं बढ़ने लगती है। इनके सेवन से ब्रेन के उन सेन्टर्स को सिग्नल मिलने में दिक्कत होती है, जो हमारे शरीर को बताते हैं कि हमारा पेट अब भर गया है। जिसका असर कहीं न कहीं हार्ट हेल्थ पर भी पड़ता है। यह मोटापे को बढ़ाता है और बढ़ता मोटापा कई हार्ट डिजीज को जन्म देता है, जोकि सही नहीं है।

और पढ़ें: Arteriosclerosis: बचना है हार्ट की इस बीमारी से, तो आज से अपनाएं हेल्दी लाइफस्टाइल!

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर :बच्चों के लिए हानिकारक है (Harmful for children)

बच्चों को भी इससे बचाना चाहिए, बच्चे कोल्ड ड्रिंक, जैली, जेम्स, टॉफी, चॉकलेट, पेस्ट्री आदि खाना-पीना ज्यादा पसंद करते हैं, जोकि काफी नुकसानदेह है, क्योंकि यह आर्टिफिशियल शुगर से बना होता है। यह बच्चों में डायबिटीज और मोटापे का कारण बन सकता है। जों आगे जाकर बच्चे की हार्ट हेल्थ को भी प्रभावित कर सकता है।

और पढ़ें: जंपिंग जैक के 10 फायदे, जो हेल्दी हार्ट से लेकर वेट लॉस के लिए है बेहतरीन!

हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर बिल्कुल भी अच्छा नहीं माना जाता है, इससे केवल उनके हार्ट को ही नुकसान नहीं पहुंचता है, बल्कि डायबिटीज और इससे हाय ब्लड प्रेशर का भी रिस्क बढ़ता है। सामान्य लोगों को भी इन आर्टिफिशियल शुगर से बचना चाहिए, नहीं तो भविष्य में उनमें भी हार्ट डिजीज होने का खतरा और भी अधिक बढ़ जाता है। इतना ही नहीं, इससे स्ट्रोक और हार्ट अटैक का भी रिस्क बढ़ता है। इसलिए डायट में इन आर्टिफिशयल स्वीटनर से बचना चाहिए और बच्चों को भी बचाना चाहिए। हार्ट पेशेंट के लिए स्वीटनर के और क्या नुकसान हो सकते है, इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए आप डॉक्टर से संपर्क करें और उनकी सलाह के बिना हार्ट पेशेंट कोई भी डायट अपने मन से न लें।

health-tool-icon

बीएमआई कैलक्युलेटर

अपने बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) की जांच करने के लिए इस कैलक्युलेटर का उपयोग करें और पता करें कि क्या आपका वजन हेल्दी है। आप इस उपकरण का उपयोग अपने बच्चे के बीएमआई की जांच के लिए भी कर सकते हैं।

पुरुष

महिला

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

लेखक की तस्वीर badge
Niharika Jaiswal द्वारा लिखित आखिरी अपडेट 03/12/2021 को
Sayali Chaudhari के द्वारा मेडिकली रिव्यूड