कोरोना वायरस के मुश्किल समय में जीवन रक्षक बन रही है भारतीय डाक सेवा

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस का इंफेक्शन कोविड- 19 को फैलने से रोकने के लिए भारत सरकार ने देश में लॉकडाउन का ऐलान कर रखा है। इस बीच न किसी को एक जगह से दूसरी जगह जाने की अनुमति है और न ही अधिकतर परिवहन सेवा को जारी रखने की अनुमति है। ऐसे में सिर्फ आवश्यक सेवाओं के जारी रहने की अनुमति है। इस घोषणा की वजह से देश के अस्पताल, दवा कंपनी और लैब समेत कई इंडस्ट्री लड़खड़ा गई हैं। जिससे SARS-CoV-2 से लड़ने की शक्ति भी कम हो गई है। लेकिन, इस मुश्किल समय में दुनिया की सबसे बड़ी डाक सेवा यानी भारतीय डाक सेवा जीवन रक्षक बनकर उभरी है, आइए जानते हैं कैसे।

यह भी पढ़ें: गांजे से कोरोना वायरस: गांजा/बीड़ी/सिगरेट पीने वालों को कोरोना से ज्यादा खतरा

भारतीय डाक सेवा का काम क्या है?

भारतीय डाक सेवा दुनिया की सबसे बड़ी डाक सेवा है, जो कि रोजाना देश के अलग-अलग कोने में मौजूद डाकघरों के बीच संपर्क या आदान-प्रदान का माध्यम बनती है। भारतीय डाक के जरिए न सिर्फ लैटर्स और पैकेज की डिलीवरी होती है, बल्कि यह लाखों भारतीय नागरिकों के लिए एक बैंक, पेंशन फंड और बचत करने का मुख्य माध्यम है। लेकिन, लॉकडाउन शुरू होने से कुछ घंटे पहले हुई घोषणा के कारण अस्पताल, दवा कंपनी और लैब आदि का संपर्क टूट गया, जिससे कोविड- 19 इंफेक्शन के वर्तमान संकट का सामना करने में मुश्किलें आने लगी।

यह भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ भारत के एक्शन पर WHO ने की वाहवाही

अस्पताल, दवा कंपनियों और लैब को कैसी मुश्किलों का सामना करना पड़ा?

इंडियन ड्रग मैन्युफैक्चर एसोसिएशन (आईडीएमए) के एग्जीक्युटिव डायरेक्टर, अशोक कुमार मदन ने एक अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट को बताया कि, ‘आमतौर पर हम ग्राहकों को उत्पाद भेजने के लिए कुरियर सर्विस पर निर्भर करते हैं, लेकिन फिलहाल उनमें से कोई भी कंपनी जवाब नहीं दे रही थी, क्योंकि हो सकता है कि उनके पास शासन से अनुमति न हो या डिलीवरी करने के लिए कर्मचारी न हों। इन उत्पादों में अधिकतर दिल की बीमारी या कैंसर से जुड़ी दवाएं थी।’ उन्होंने आगे बताया कि, ‘इसके बाद मुझे भारतीय डाक की उत्तर प्रदेश इकाई के सीनियर सुप्रीटेंडेंट अशोक ओझा का फोन आया। जिसके बाद हमारी मुश्किलें कम हो गई।’

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के इलाज में प्रभावी हो सकती है रेमडेसिवीर दवा, जानें इसके बारे में

इंडियन पोस्टल सर्विस कैसे बनी जीवन रक्षक?

आपको बता दें कि इंडियन पोस्टल सर्विस उन कुछ आवश्यक सेवाओं में शामिल है, जिन्हें कोविड- 19 की वजह से होने वाले लॉकडाउन के दौरान देश में बिना रोक-टोक सामान्य रूप से आवाजाही करने की अनुमति प्रदान है। अशोक ओझा ने अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट को बताया कि, ‘हमें लगा हम उनकी मदद कर सकते हैं, क्योंकि इस दौरान भी हमारी सप्लाई चेन बरकरार है। इससे मार्केट में दवाई की सप्लाई बरकरार रहेगी और नागरिकों या अस्पतालों को इलाज करने में कोई मुश्किल नहीं आएगी।’ गौरतलब है कि, भारतीय डाक ने पहले ही गुजरात में आईडीएमए के साथ साझेदारी की हुई है, ताकि दवाइयां और जरूरी मेडिकल इक्विपमेंट को आसानी से एक जगह से दूसरी जगह तक पहुंचाया जा सके।

यह भी पढ़ें: कोविड-19: दिन रात इलाज में लगे एक तिहाई मेडिकल स्टाफ को हुई इंसोम्निया की बीमारी

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में भी साथ दे रहा है इंडियन पोस्ट

लखनऊ के संजय गांधी पोस्ट ग्रैजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज की माइक्रोबायोलॉजिस्ट, डॉ. उज्ज्ला घोषाल ने कहा कि, ‘जब लॉकडाउन की वजह से ट्रांसपोर्ट रुक जाने के कारण कोविड- 19 टेस्टिंग किट का एक बैच 550 किलोमीटर दूर दिल्ली में अटक गया था तो उन्होंने अशोक ओझा से संपर्क साधा। क्योंकि, इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल रिसर्च ने कहा कि, किट लेने के लिए हमें किसी को दिल्ली भेजना पड़ेगा, क्योंकि जिस कुरियर सर्विस को वह इस्तेमाल करते हैं वह लॉकडाउन की वजह से कार्य नहीं कर रही है।’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘इस मुश्किल समय में भारतीय डाक ने मदद करते हुए इंस्टीट्यूट जाकर किट उठाई और किसी पोस्ट ऑफिस छोड़ने की बजाय सीधा उनके पास पहुंचा दिया, वो भी रिक्वेस्ट करने के सिर्फ एक दिन बाद ही।’

यह भी पढ़ें: चेहरे के जरिए हो सकता है इंफेक्शन, कोरोना से बचने के लिए चेहरा न छूना

इसी तरह कई कंपनी या इंस्टीट्यूट ने भारतीय डाक से मदद मांगी, जिसे जीवन रक्षक भारतीय डाक सेवा ने पूरा भी किया। अशोक ओझा ने बताया कि, जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है, तब से डाक सेवा जीवन रक्षक दवाओं के साथ कोविड- 19 टेस्ट किट्स, एन-95 मास्क और वेंटिलेटर आदि की डिलीवरी कर रही है और बड़े शहर और राज्यों तक दवा और इक्विपमेंट्स पहुंचाने के लिए लाल पोस्टल वैन का इस्तेमाल किया जा रहा है।

कोविड-19 की ताजा जानकारी
देश: भारत
आंकड़े

1,435,453

कंफर्म केस

917,568

स्वस्थ हुए

32,771

मौत
मैप

कोरोना वायरस के भारत में मरीज (How many cases of coronavirus in India?)

भारत के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक 16 अप्रैल 2020 को सुबह 8 बजे तक देश में 10477 कोरोना वायरस इंफेक्शन से संक्रमित मरीजों की पहचान कर ली गई है। जिसमें से 1488 का इलाज करने के बाद छुट्टी दे दी गई है, वहीं 414 लोगों की जान जा चुकी है। मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक भारत में संक्रमित मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या महाराष्ट्र में हो गई है, जहां 2916 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इसके बाद दिल्ली 1578 मामले और तमिलनाडु 1242 केस का नंबर आता है।

यह भी पढ़ें: Lockdown 2.0- भारत में 3 मई तक बढ़ा लॉकडाउन, 20 अप्रैल के बाद सशर्त मिल सकती है छूट

कोरोना वायरस से सावधानी

भारतीय डाक सेवा की मदद के अलावा कोरोना वायरस इंफेक्शन से बचने के लिए भारत सरकार द्वारा लोगों के लिए दी गई कुछ सलाह के बारे में जानते हैं। सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के साथ इन एहतियात रूपी सलाह को फॉलो करने से आप कोरोना वायरस संक्रमण से काफी हद तक बच सकते हैं। कोरोन से बचाव के लिए ये करें..

  1. कोरोना से बचने के लिए हाथों की सफाई करना न भूलें।
  2. घर के बाहर बिना मतलब के न निकलें।
  3. मुंह में हाथ लगाने से बचें।
  4. मास्क का प्रयोग घर से बाहर निकलते समय जरूर करें।
  5. कोरोना के लक्षणों को नजरअंदाज न करें।
  6. कोरोना वायरस से अवेयरनेस के लिए सरकारी की ओर से जारी गाइडलाइन अवश्य देखें।
  7. कपड़े के मास्क को धुल कर ही दोबारा यूज करें।
  8. घर में सब्जियां लाएं तो बिना धुलें फ्रिज में न रखें।
  9. सैनिटाइजर का प्रयोग रोजाना करें।

हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

और पढ़ें :-

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोविड-19 वैक्सीन प्रोग्राम। गवर्मेंट ने दी ग्रीन सिग्नल। UK has become the first country in the world to approve the Pfizer/BioNTech coronavirus vaccine

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोविड 19 की रोकथाम, कोविड-19 दिसम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोरोना वायरस, कोविड-19 नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

इस दिवाली में अरोमा कैंडल से घर को करें रोशन करें। ऐसा करने से अच्छी खुशबू के साथ ही आपको रिलेक्स भी महसूस होगा। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए अरोमा कैंडल के फायदे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

जो लोग नियमित हाथों की सफाई रखते हैं उन्हें कोल्ड और फ्लू की समस्या कम होती है। जानिए हाथों की सफाई क्यों है जरूरी। HAND WASH

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोरोना वायरस वैक्सीनेशन गाइडलाइन्स

सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को अभी करना होगा इंतजार!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ जनवरी 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीनेशन

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ जनवरी 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
यूके में मिला कोरोना वायरस-Coronavirus new variant found in United Kingdom

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें