कोरोना वायरस से जुड़े सवाल और उनके जवाब, डायबिटीज और बीपी के रोगी जरूर पढ़ें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट जून 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

कोरोना वायरस के पिछले प्रकारों सार्स और मर्स से अलग नोवेल कोरोना वायरस (Novel Coronavirus) की बीमारी (COVID- 19) अलग और नया स्ट्रेन है। जो कि बिल्कुल नया और रहस्यमयी है। इसके बारे में लोगों और विशेषज्ञों को भी अभी तक कोई खास या पर्याप्त जानकारी नहीं पता है। इसके साथ ही लंबे समय से किसी बीमारी से परेशान चले आ रहे लोगों को कोविड -19 के होने का खतरा ज्यादा बताया गया है। ऐसे में हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure), मधुमेह (Diabetes) और हृदय रोग (Heart Disease) के मरीजों के मन में कई सवाल प्रमुख रूप से घर बनाए हुए हैं। जिनका जवाब इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने दिया है। आइए, जानते हैं कोरोना वायरस से जुड़े सवाल और उनके जवाब, जो इन बीमारियों के मरीजों द्वारा सबसे ज्यादा पूछे गए।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

कोरोना वायरस से जुड़े सवाल

क्या हृदय रोग, मधुमेह या उच्च रक्तचाप के रोगियों को कोरोना वायरस के संक्रमण का अधिक खतरा है?

नहीं, हृदय रोग, मधुमेह या उच्च रक्तचाप से ग्रस्त लोगों को अन्य लोगों की तुलना में संक्रमण होने का अधिक खतरा नहीं है।

उपरोक्त रोगों से पीड़ित लोगों में, संक्रमित होने पर गंभीर बीमारी या समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है?

इस कोरोना वायरस से जुड़े सवाल का जवाब है कि COVID -19 से पीड़ित अधिकांश (80%) लोगों में सांस संबंधी संक्रमण (बुखार, गले में खराश, खांसी) के हल्के लक्षण होते हैं और वे पूरी तरह से ठीक भी हो जाते हैं। लेकिन हमने कई प्रभावित देशों में देखा है कि वे लोग जिन्हें मधुमेह, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग, जिसमें हृदयघात (कमजोर हृदय) वाले लोग भी शामिल हैं, उन्हें गंभीर बीमारी होने का खतरा है, इसलिए इन रोगियों के लिए अतिरिक्त देखभाल की सलाह दी जाती है।

यह भी पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोरोना वायरस से जुड़े सवाल : क्या मधुमेह से पीड़ित लोगों को Covid-19 होने का अधिक खतरा है?

सामान्य तौर पर, आप जानते हैं कि अनियंत्रित मधुमेह से पीड़ित लोगों में सभी संक्रमणों का खतरा बढ़ जाता है। मधुमेह से पीड़ित लोग संक्रमित होने के अधिक जोखिम में नहीं हैं, लेकिन एक बार संक्रमित होने पर अधिक गंभीर बीमारी और खराब परिणामों का खतरा है। इसलिए, सही तरीके का आहार लें और नियमित रूप से (जहां तक संभव हो) व्यायाम करें, अपनी दवाओं का नियमित रूप से सेवन करें और अपने शुगर स्तर की बार-बार जांच करें, ताकि आपका मधुमेह नियंत्रण में रहे।

जब मधुमेह के रोगी बीमार हो जाते हैं, तो उन्हें, उनके रक्त में ग्लूकोज की मात्रा की लगातार निगरानी करनी पड़ती है। उन्हें अपनी दवाइयों (जिसमें इन्सुलिन भी शामिल है) में बदलाव करना पड़ सकता है। साथ ही उनको, छोटे मात्रा में बार-बार भोजन करना और पर्याप्त तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए।

मधुमेह, उच्च रक्तचाप और ह्रदय रोग से पीड़ित लोगों के लिए कुछ सुझाव:

अपनी दवाइयों का नियमित रूप से सेवन करें – यह बहुत जरूरी है

इस कोरोना वायरस से जुड़े सवाल का जवाब है कि अगर आपको सर्दी जुकाम के मामूली लक्षण हैं, तब भी सुनिश्चित करें कि आप चिकित्सक द्वारा निर्देशित सभी दवाओं का सेवन कर रहे हैं। जब तक आपके चिकित्सक द्वारा सलाह न दी जाए किसी भी दवा का सेवन बंद न करें। अगर आप अपने चिकित्सक से नहीं मिल पा रहे, तो मधुमेह, उच्च रक्तचाप और ह्रदय रोग दवाइयों का सेवन जारी रखें। कोलेस्ट्रॉल (स्टेटिन) को नियंत्रित रखने और मधुमेह के इलाज वाली दवाओ का सेवन जारी रखा जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: अगर आपके आसपास मिला है कोरोना वायरस का संक्रमित मरीज, तो तुरंत करें ये काम

ये रिपोर्ट कितनी सही है कि BP की कुछ दवाइयों का सेवन COVID-19 की तीव्रता को बढ़ा रहा है?

इस कोरोना वायरस से जुड़े सवाल का जवाब है कि उपलब्ध जानकार की समीक्षा के बाद विभिन्न वैज्ञानिकों और हृदयरोग विशेषज्ञों का कहना है कि कोई प्रमाण नहीं है कि दवाओं के दो प्रकार यानि (ACE इनहिबिटर (ACE inhibitors)- रैमिप्रिल (Ramipril), एनलाप्रिल (Enalapril) आदि) और एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स (angiotensin receptor blockers) (ARB – लोसार्टन (Losartan), टेल्मीसार्टन (Telmisartan)) आदि, COVID-19 के होने की संभावना या उसकी तीव्रता को बढ़ाते हैं।

ये दवाएं, आपके ह्रदय की गतिविधि में सहायक होकर, हृदयघात तथा उच्च रक्तचाप के नियंत्रण में बहुत प्रभावी हैं। यदि आप अपने आप से इन दवाओं का सेवन बंद करते हैं तो यह हानिकारक हो सकता है। इससे आपकी हृदय की स्थिति खराब हो सकती है।

कोरोना वायरस से जुड़े सवाल : क्या मैं दर्द/बुखार निवारक दवाएं ले सकता/सकती हूं?

यह पाया गया है कि कुछ प्रकार की दर्द निवारक दवाएं जैसे कि आइबोप्रोफेन (Ibuprofen), COVID-19 बीमारी की तीव्रता को बढ़ाती हैं। ऐसी दवाओं को हृदयघात के रोगियों के लिए हानिकारक माना जाता है और इससे आपकी किडनी के खराब होने का खतरा बढ़ सकता है। NSAID से परहेज करें या अपने चिकित्सक द्वारा निर्देशत होने पर ही उनका सेवन करें। यदि आवश्यक हो तो उपयोग करने के लिए पेरासिटामोल (Paracetamol) सबसे सुरक्षित दर्द निवारक दवाइयों में से एक है।

यह भी पढ़ें: शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाकर कोरोना वायरस से करनी होगी लड़ाई, लेकिन नींद का रखना होगा खास ध्यान

कोरोना वायरस से जुड़े सवाल : रक्तचाप (BP), ब्लड शुगर को नियंत्रित करें और नियमित शारीरिक गतिविधि करें

इस कोरोना वायरस से जुड़े सवाल का जवाब है कि अपनी जीवनशैली को सेहतमंद रखें – धूम्रपान और शराब के सेवन से दूर रहें, अपने BP और ब्लड शुगर के स्तर को नियंत्रण में रखें और किसी न किसी रूप में नियमित शारीरिक गतिविधि करते रहें (हालांक, कृपया सामाजिक-दूरी के मानदंडों के अनुसार अपनी आउट-डोर गतिविधियों में बदलाव करें)। सलाह के अनुसार ही आहार का पालन करें और नमक के अधिक सेवन से परहेज करें। यदि आप मांसाहारी हैं, तो आप मांस का सेवन जारी रख सकते हैं। आहार में अधिक फाइबर और प्रोटीन सामग्री और फल और सब्जियों का सेवन करें।

कोविड संबंधित प्रश्न:  यदि मुझे COVID-19 के लक्षण हों तो मुझे क्या करना चाहिए?

यदि आपको कोरोना वायरस के लक्षण जैसे सांस की तकलीफ के बिना बुखार, खांसी, मांसपेशियों में दर्द हो, तो अपने डॉक्टर को फोन करें और फोन पर सलाह लें। आपको घर पर रहने की जरूरत है (कम से कम 14 दिनों के लिए) और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ निकट संपर्क से बचें और हाथ की स्वच्छता बनाए रखें और सही ढंग से एक चिकित्सा मास्क पहनें। यदि सांस की तकलीफ हो या बिगड़ते लक्षण जैसे अत्यधिक थकान तो चिकित्सक की सलाह लें (आगे की सलाह आफके चिकित्सक की सलाह पर निर्भर करेगी)

कोरोना वायरस से जुड़े सवाल- COVID-19 की रोकथाम करने के लिए आपको क्या करना चाहिए?

Covid-19 खांसी और छींक द्वारा, ड्रॉप्लेट (छोटी मात्रा में लार या अन्य स्राव जो खांसी / छींक के माध्यम से या जोर से हंसने पर भी निकलता है) और छूने से फैलता है। जब आप किसी ऐसी वस्तु को छूते हैं, जिस पर वायरस के कण हैं, तो यह वायरस आपके हाथों पर भी पहुंच जाता है और जब आप उन्हीं हाथों से अपना चेहरा छूते हैं, तो आप संक्रमित हो सकते हैं। वायरस के कण 3 दिन तक भी बने रह सकते हैं और इसलिए अपने आस-पास की स्वच्छता बनाए रखना बहुत महत्वपूर्ण है। फ्लोर क्लीनर या यहां तक कि साबुन के साधारण घोल द्वारा कमरे, टेबल और अन्य सतहों को धोएं और जब आप अनजान या संदिग्ध सतहों को छूते हैं तो हैंड-सैनिटाइजर से या साबुन से अपने हाथ अच्छी तरह साफ करें।

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस वैक्सीन को विकसित होने में इतना समय क्यों लग रहा है? कैसे बनती है कोई वैक्सीन

कोविड संबंधित प्रश्न – संक्रमण से बचने या उसे फैलने से रोकने के लिए आप क्या महत्वपूर्ण कदम उठा सकते हैं

  1. इस कोरोना वायरस से जुड़े सवाल का जवाब है कि उन लोगों के संपर्क में आने से बचें, जिनमें संभावित COVID-19 के लक्षण दिख रहें हों – कोई भी व्यक्ति जिसे जुकाम, खांसी या बुखार हो।
  2. गैर-जरूरी यात्रा करने से और सार्वजनिक यातायात के उपयोग से बचें।
  3. सार्वजनिक जगह, भीड़ और बड़ी संख्या में मेलजोल से बचें। परिवार के लोगों और दोस्तों से, फोन, इंटरनेट और सोशल मीडिया द्वारा संपर्क में रहें।
  4. अस्पतालों/लैब की नियमित विजिट से बचें। छोटी समस्याओं के लिए, यदि संभव हो तो फोन या हेल्पलाइन नंबर पर अस्पताल या HF क्लिनिक से संपर्क करें। यदि आप नियमित रूप से INR की जांच कर रहे हैं और रक्त पतला करने वाली दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो कृपया कोशिश करें कि डॉक्टर से फोन पर संपर्क करें और जितना संभव हो अस्पताल जाने से परहेज करें।
  5. हाथ मिलाने और हाथों से चेहरा छूने से परहेज करें।
  6. अपने हाथों को साबुन और पानी से बार-बार धोएं – कम से कम 20-30 सेकेंड के लिए ऐसा करें और सही तरीके से हाथ के सभी हिस्सों को साफ करें।
  7. एल्कोहॉल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर भी उपयोगी है।
  8. जहां तक संभव हो सके दूषित जगहों / चीजों को छूने से बचें – सार्वजनिक शौचालय के दरवाजे, दरवाजों के हैंडल आदि।
  9. कोरोना वायरस से जुड़ी अफवाह पर यकीन न करें और साथ ही ऑथेंटिक सोर्स से जानकारी लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार मुहैया नहीं कराता।

और पढ़ें :-

कोरोना के दौरान सोशल डिस्टेंस ही सबसे पहला बचाव का तरीका

कोविड-19 है जानलेवा बीमारी लेकिन मरीज के रहते हैं बचने के चांसेज, खेलें क्विज

ताली, थाली, घंटी, शंख की ध्वनि और कोरोना वायरस का क्या कनेक्शन? जानें वाइब्रेशन के फायदे

कोराना के संक्रमण से बचाव के लिए बार-बार हाथ धोना है जरूरी, लेकिन स्किन की करें देखभाल

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

क्या यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद था?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोविड-19, कोरोना वायरस नवम्बर 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

इस दिवाली घर में जलाएं अरोमा कैंडल्स, जगमगाहट के साथ आपको मिलेंगे इसके हेल्थ बेनिफिट्स भी

इस दिवाली में अरोमा कैंडल से घर को करें रोशन करें। ऐसा करने से अच्छी खुशबू के साथ ही आपको रिलेक्स भी महसूस होगा। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए अरोमा कैंडल के फायदे।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन नवम्बर 3, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

हाथों की स्वच्छता क्यों है जरूरी, जानिए एक्सपर्ट की राय

जो लोग नियमित हाथों की सफाई रखते हैं उन्हें कोल्ड और फ्लू की समस्या कम होती है। जानिए हाथों की सफाई क्यों है जरूरी। HAND WASH

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
हेल्थ टिप्स, स्वस्थ जीवन अक्टूबर 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 रिकवरी और हार्ट डिजीज का क्या है संबंध, जानिए एक्सपर्ट की राय

हार्ट पर कोविड-19 का प्रभाव भी होता है। कोरोना संक्रमण से रिकवर हो चुके कुछ पेशेंट में हार्ट डिजीज के लक्षण देखने को मिले। आप भी जानिए कोरोना और हार्ट डिजीज के संबंध के बारे में। Heart issues after recovery from coronavirus

के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोविड-19, कोरोना वायरस सितम्बर 24, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ जनवरी 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीनेशन

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ जनवरी 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
यूके में मिला कोरोना वायरस-Coronavirus new variant found in United Kingdom

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
कोविड-19 वैक्सीन-COVID-19 vaccine

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ दिसम्बर 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें