टीथ ब्रेसेस (दांतों में तार) लगवाने के बाद क्या करें और क्या ना करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट September 2, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

टीथ ब्रेसेस दातों को उनकी सही जगह पर सेट करने में मदद करते हैं। टीथ ब्रेसस आपके दांतों और जबड़ों को ठीक करते हैं, बल्कि आपके मुंह के स्वास्थ्य को सही रखने के साथ काटने, चबाने और बोलने के तरीके में सुधार कर सकते हैं। दांतों में तार लगवाने लगवाने के बाद हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं आज हमारा लेख इसी पर आधारित है। जब आप अपने ब्रेसेस लगवाते हैं, तो आपको दांतों से काटने या चबाने में दिक्कत हो सकती है। जिसके कारण सामान्य रूप से सिरदर्द या बेचैनी हो सकती हैं। होंठ, गाल और जीभ भी सख्त हो जाते हैं। ढ़ीले और टूटे हुए डेंटल ब्रेसेस खराब परिणाम पैदा कर सकते हैं और आपको लंबे समय तक इलाज कराना पड़ सकता है।

और पढ़ें- पूरी जिंदगी में आप इतना समय ब्रश करने में गुजारते हैं, जानिए दांतों से जुड़े ऐसे ही रोचक तथ्य

टीथ ब्रेसेस से जुड़ी कुछ और बातें

“कॉपिंग विद ब्रेसेस की लेखक जीन ली के अनुसार जैसा की उन्होंने अपनी किताब में लिखा है कि, ”टीथ ब्रेसेस लगने के बाद आप में से कुछ लोग खाने में दिलचस्पी नहीं ले सकते हैं क्योंकि दांत शुरुआत में दर्द करते हैं, भूख नहीं लगती है। यदि आपके दांतों को ब्रेसेस से दिक्कत हो रही है तो, तो सबसे पहले सूप, जेली और पुडिंग खाने की कोशिश करें। (मेरी मां का पसंदीदा इलाज एक कॉफी मिल्कशेक था।)”

टीथ ब्रेसेस क्या है?

टीथ ब्रेसेस एक तरह का तार है जिसका उपयोग ऑर्थोडॉन्टिस्ट टेढ़े मेढ़े दांत, बाहर निकले दांतों को अंदर करने या जबड़े ठीक करने में करते हैं। इसीलिए, इस प्रक्रिया को हिंदी में दांतों में तार लगवाना भी कहा जाता है। कई लोग जिनको डेंटल ब्रेसेस की आवश्यकता होती हैं उनको ये किशोर अवस्था की शुरूआत में ही लगा दिए जाते हैं। हालांकि, वयस्क लोग भी ब्रेसेस लगवा सकते हैं। टीथ ब्रेसेस का मकसद आपको भोजन सही से चबाने में सक्षम बनाना और एक खूबसूरत मुस्कान देना है।

और पढ़ें – सिर्फ दिल और दिमाग की नहीं, दांतों की भी सोचें हुजूर

टीथ ब्रेसेस (डेंटल ब्रेसेस) के नुकसान 

दांतों में तार लगवाना आमतौर पर एक सुरक्षित प्रक्रिया है, लेकिन कुछ जोखिम हो सकते है जो निम्नलिखित हैं-

  • टीथ ब्रेसेस से दांतों के ऊपर छोटी जगह बन जाती है जहां भोजन के टुकड़े ठहर जाते हैं और अगर उन्हें सही से साफ नहीं किया गया तो आपके दांतों की ऊपरी सतह के मिनरल कम हो जाते हैं। इससे दांतों पर हमेशा के लिए सफेद रंग के दाग बन सकते हैं। साथ ही दांतों में सड़न या मसूड़ों की बीमारी भी हो सकती है
  • अगर आप अपने ऑर्थोडॉन्टिस्ट के निर्देशों को ठीक से नहीं मानते हैं तो आपके ब्रेसेस निकलने के बाद, विशेष रूप से जब आप रिटेनर पहनते हैं तब आपके जो दांत सही हुए तो वो वापस पहले जैसे हो सकते हैं। इसलिए अपने ऑर्थोडॉन्टिस्ट के निर्देशों को ध्यान से सुनें।
  • दांत जब अपनी जगह से हटते हैं तो उस दौरान दांतों के रास्ते की कुछ हड्डियां घुल जाती हैं और इसके पीछे नई हड्डियां बन जाती हैं। इस प्रक्रिया में दांतों की जड़ों की लंबाई कम हो सकती हैं जिससे दांत कमजोर भी हो सकते हैं। हालांकि, ऐसा बहुत ही दुर्लभ होता है।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

जोखिम को कम करें

टीथ ब्रेसेस के नुकसान पहुंचाने के जोखिम को कम करने के लिए शक्कर और स्टार्च वाले खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों में कटौती करें

  • चबाने वाले  खाद्य पदार्थ: बैगल्स, हार्ड रोल
  • कुरकुरे खाद्य पदार्थ: पॉपकॉर्न
  • चिपचिपा खाद्य पदार्थ: केरामल, च्यूइंगम
  • हार्ड फूड्स: नट्स, हार्ड प्रेट्जल
  • सुगंधित और हार्ड पदार्थ: कैंडी
  • खाद्य पदार्थ जो आपको काटने पड़ते हैं: कॉब पर मकई, सेब, गाजर

और पढ़ें: दांतों की सफाई करते हैं न सही से? क्विज से जानें कितना सही है आपका तरीका

क्या करें और क्या ना करें?

  • फ्लोराइड टूथपेस्ट और सॉफ्ट-ब्रिसल युक्त ब्रश के साथ, भोजन के बाद सावधानी से ब्रश करें। यदि आप अपने भोजन के बाद अपने दांत ब्रश नहीं कर सकते हैं, तो कुल्ला जरूर करें।
  • पहली चीज जो आपको सीखनी चाहिए वह यह है कि अपने भोजन को छोटे टुकड़ों में काट लें और चबाने के लिए अपने पीछे के दांतों का उपयोग करें।
  • अपने टीथ ब्रेसेस से सभी कणों को बाहर निकालने के लिए अच्छी तरह से कुल्ला करें। दांत साफ हैं यह सुनिश्चित करने के लिए दर्पण में जांचें।
  • दंत चिकित्सक या ऑर्थोडॉन्टिस्ट के निर्देश पर फ्लोराइड माउथवाश पर का उपयोग करें।
  • फ्लॉस थ्रेडर की मदद से टीथ ब्रेसेस और अंडर वायर के बीच फ्लॉस करें। आपके ऑर्थोडॉन्टिस्ट भी टीथ ब्रेसेस और तारों के बीच सफाई करने के लिए एक छोटे लचीले टूथब्रश की सलाह दे सकते हैं।

और पढ़ें- यह भी पढ़ें रूट कैनाल उपचार के बाद न खाएं ये 10 चीजें

दांतों में तार लगाने का खर्च

मार्केट में मुख्य रूप से तीन तरह के डेंटल ब्रेसेस ज्यादा प्रचलित हैं-

  • मेटल ब्रेसेस – इनकी कीमत लगभग 18,000 से 50,000 तक हो सकती है।
  • सिरेमिक ब्रेसेस – इनकी कीमत लगभग 30,000 से 80,000 तक हो सकती है।
  • अलाइनर या इनविसलाइन – इनकी कीमत लगभग 60,000 से शुरू होती है और चार लाख तक हो सकती है।

यहां डेंटल ब्रेसेस की लागत जो दी गई है वह केवल सांकेतिक कीमत है और वास्तिविक कीमत इससे अलग हो सकती है। दांतों में ब्रेसेस लगाने का खर्च आपके शहर, डेंटिस्ट या क्लिनिक की ब्रांड वेल्यू और किस कंपनी के टीथ ब्रेसेस हैं। इन सभी बातों पर निर्भर करता है।

अपने दांतों और मसूड़ों को स्वस्थ रखने के लिए अपने डेंटिस्ट से चेकअप और सफाई के लिए पूछें। उनकी बातों का गंभीरता से पालन करे। दांतों का स्वस्थ रहना एक स्वस्थ जीवन की निशानी है। चमकदार मुस्कान जो सबका दिल जीत ले इसके लिए भी दांतों की उचित देखभाल करना बेहद जरूरी है।

टेढ़े मेढ़े दांत यदि आपकी पर्सनैलिटी को भी प्रभावित कर रहे हैं तो टीथ ब्रेसेस की मदद से आप इन्हें दुरुस्त कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले अपने डेंटिस्ट से जानकारी हासिल करें कि डेंटल ब्रेसेस के नफे-नुकसान क्या हैं? और इस इलाज में आपको कितनी जेब ढीली करनी पड़ेगी?

टीथ ब्रेसेस लगाने के बाद क्या करना चाहिए और क्या नहीं ये आप समझ गए होंगे। हमें उम्मीद है कि यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। यह लेख सिर्फ एक सूचना मात्र है। टीथ ब्रेसेस से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

powered by Typeform

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

Dental Bonding: डेंटल बॉडिंग क्या है?

डेंटल बॉडिंग कैसे होती है? Dental bonding in hindi डेंटल बॉडिंग के ज्यादा खतरे नहीं होते हैं, लेकिन यह बहुत लंबे समय तक के लिए टिकाउ नहीं होता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया shalu

डेंटिस्ट ने बताया कि कैसे कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत का रखें ख्याल, आप भी जानिए

कोरोना लॉकडाउन में दांतों की सेहत को इग्नोर करना खतरनाक साबित हो सकता है, बेहतर है कि गंभीर समस्या होने पर तुरंत डेंटिस्ट से संपर्क करें। Dental care during lockdown

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
इंफेक्शस डिजीज, कोरोना वायरस April 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Oral Cancer: मुंह के कैंसर से बचाव के लिए जाननी जरूरी हैं ये 6 बातें

मुंह के कैंसर से बचाव, मुंह के कैंसर के लक्षण, oral cancer treatment in hindi, mouth cancer prevention in hindi, ओरल कैंसर से बचने के लिए क्या करें?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
अन्य कैंसर, कैंसर April 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

जानें मसूड़ों की सूजन के कारण, निदान और उपाय

मसूड़ों की सूजन बने रहना कोई मामूली बात नहीं है लेकिन लोग अक्सर इसे अनदेखा करते हैं। मसूड़ों की सूजन ओरल कैंसर का एक इशारा हो सकता है। gum swelling in hindi, oral cancer signs in hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
ओरल हेल्थ, मसूड़ों की समस्या April 20, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

दांत-दर्द के घरेलू उपाय

दांत दर्द में तुरंत आराम पहुंचाएंगे ये 10 घरेलू उपचार

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
गर्भावस्था में ओरल केयर

गर्भावस्था में ओरल केयर न की गई तो शिशु को हो सकता है नुकसान

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
दांतों से टार्टर की सफाई

दांतों से टार्टर की सफाई के आसान 6 घरेलू उपाय

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Hemakshi J
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 8, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
मुंह में कैंसर

ये 5 संकेत इशारा करते हैं कि हो सकता है मुंह में कैंसर, अनदेखा न करें

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Smrit Singh
प्रकाशित हुआ May 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें