home

हम इसे कैसे बेहतर बना सकते हैं?

close
chevron
इस आर्टिकल में गलत जानकारी दी हुई है.
chevron

हमें बताएं, क्या गलती थी.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
इस आर्टिकल में जरूरी जानकारी नहीं है.
chevron

हमें बताएं, क्या उपलब्ध नहीं है.

wanring-icon
ध्यान रखें कि यदि ये आपके लिए असुविधाजनक है, तो आपको ये जानकारी देने की जरूरत नहीं। माय ओपिनियन पर क्लिक करें और वेबसाइट पर पढ़ना जारी रखें।
chevron
हम्म्म... मेरा एक सवाल है
chevron

हम निजी हेल्थ सलाह, निदान और इलाज नहीं दे सकते, पर हम आपकी सलाह जरूर जानना चाहेंगे। कृपया बॉक्स में लिखें।

wanring-icon
यदि आप कोई मेडिकल एमरजेंसी से जूझ रहे हैं, तो तुरंत लोकल एमरजेंसी सर्विस को कॉल करें या पास के एमरजेंसी रूम और केयर सेंटर जाएं।

लिंक कॉपी करें

इन आसान तरीकों से करें बेबीसिटर का चुनाव

इन आसान तरीकों से करें बेबीसिटर का चुनाव

बेबीसिटर का चुनाव करना एक कठिन काम है। ढूंढने के बाद बेबीसिटर का चुनाव भी इससे बड़ी चुनौती होता है। आप ऐसे ही अपने शिशु या बच्चे की जिम्मेदारी किसी अनजान के हांथ में नहीं सौंप सकते। आजकल के कपल जो न्यूकिलर फैमिलीज में रहते हैं उनके लिए बेबीसिटर की आवश्यकता और भी बढ़ जाती है।

नवजात और छह महीने के शिशु को देखरेख की ज्यादा जरूरत होती है। कुछ ऐसे बच्चे भी होते हैं जो आसानी से डर जाते हैं या शरारत करते हैं। आपकी अनुपस्थिति में ऐसे बच्चों की देखभाल के लिए बेबीसिटर का होना जरूरी है।

कभी-कभी पेरेंट्स को अचानक किसी काम से बाहर जाना पड़ सकता है। इस स्थिति में एक ऐसी विश्वसनीय बेबीसिटर की जरूरत पड़ जाती है, जो शिशु का उचित तरीके से ध्यान रख सके। कुछ मामलों में महिलाएं घर से बाहर तो नहीं जातीं लेकिन, अन्य कारणों से शिशु की देखभाल करने में असफल रहती हैं। आज हम आपको बेबीसिटर चुनने और ढूंढने के तरीके के बारे में बताएंगे।

यह भी पढ़ें: पीएमएस और प्रेग्नेंसी के लक्षण में क्या अंतर है?

बेबीसिटर का चुनाव कैसे करें?

बेबीसिटर का चुनाव निम्नलिखित तरीके से किया जा सकता है। जैसे-

  • एक अच्छे बेबीसिटर का चुनाव करने से पहले उन लोगों से बात करें जिन्होंने अपने शिशु के लिए बेबीसिटर रखा हो। अपने संपर्क के सभी लोगों को बताएं कि आपको बेबीसिटर की जरूरत है। यहां तक कि आप अपनी पीडियट्रीशियन से भी इस संबंध में बात कर सकती हैं।
  • स्थानीय हाई स्कूल्स, नर्सिंग स्कूल्स और सीनियर सिटिजन सेंटर्स से संपर्क करें। यहां से विश्वसनीय लोगों के मिलने की संभावना बढ़ जाती है।
  • बाजार और सुप्रसिद्ध जगहों पर लगे पोस्टर और बैनर को हमेशा पढ़ें। इसके अलावा, आप इन स्थानों पर अपना एक पोस्टर खुद लगा सकती हैं।
  • यदि आपका बच्चा डे केयर में है तो अपने किसी जूनियर स्टाफ से इस संबंध में बात करें। संभवतः उसे दिन में अतिरिक्त पार्ट टाइम कार्य की जरूरत हो। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि वह पहले से ही आपके शिशु से मिलनसार होगा।

यह भी पढ़ें: ड्राई ड्राउनिंग क्या होता है? इससे बच्चों को कैसे संभालें

बेबीसिटर का इंटरव्यू

  • जिस बेबीसिटर का चुनाव आप करने जा रही हैं उसे इंटरव्यू के लिए घर बुलाएं। इससे आप सीधे ही उसे फेस-टु-फेस देख सकती हैं। वह आपके बच्चे से इंटरएक्ट कर सकती है।
  • उस कैंडिडेट ने पहले बेबीसिटिंग संभाली है या नहीं इसका पता जरूर लगाएं। बच्चे के रोने या बिस्तर पर जाने के लिए मना करने पर उसकी क्या प्रतिक्रिया होती है? इस पर आपको ध्यान देना है।
  • कैंडिडेट से फर्स्ट एड, सीपीआर के बारे में जरूर पूछें कि वह इनके बारे में जानती है या नहीं। आपात स्थिति में इनकी जरूरत पड़ती है। इसके साथ ही आप उससे कुछ रेफरेंस के बारे में पूछ सकते हैं। रेफरेंस मिलने पर आप उन्हें क्रॉस चेक जरूर करें।
  • आखिरी स्टेज में उससे बेबीसिटिंग की फीस के बारे में जरूर पूछें। यह दिनभर या घंटों के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है।

यह भी पढ़ें: Say Cheese! बच्चे की फोटोग्राफी करते समय ध्यान रखें ये बातें

बेबीसिटर का चुनाव कर डील क्लोज करें

बेबीसिटर के रेफरेंस चेक करने के बाद आप उसे काम पर रख लेती हैं। इसमें सबसे अहम बात यह है कि आप उसका पुलिस वेरिफिकेशन जरूर करा लें। उसे घर के नियमों के बारे में बताएं।

  • उसे घर में मोबाइल फोन के कम से कम इस्तेमाल के बारे में जरूर बताएं।
  • डील क्लोज करते वक्त उसे बताएं कि वह अपने किसी मित्र को घर में नहीं ला सकती है।
  • घर से बाहर निकलने से पहले आपको अपने बच्चे के डेली रुटीन को जरूर चेक करना है। घर में मौजूद फर्स्ट एड किट, फ्लैशलाइट और अग्निशमन यंत्र के बारे में जरूर बताएं कि उन्हें कहां रखा गया है।
  • यदि आपका शिशु छह महीने से छोटा है तो बेबीसिटर को बताएं कि उसे पीठ के बल ही सुलाए।

बेबीसिटर का चुनाव कर रहें हैं, तो कुछ जरूरी टिप्स अवश्य फॉलो करें। जैसे-

पेरेंट्स को अपने ऊपर भरोसा करना चाहिए

आप जबभी किसी महिला (बेबीसिटर) से बात करती हैं, तो उनसे पूछे जाने वाले सवालों की लिस्ट तैयार कर लें। अपने उनसभी सवालों को बेबीसिटर से पूछें। अगर वह आपके द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब दे देती हैं, तो यह आपके लिए अच्छी बात है। हालांकि कई बार महिलाएं परेशान रहती हैं और उनका परेशान रहना भी स्वाभाविक है लेकिन, इस दौरान नवजात के माता-पिता दोनों को अपने ऊपर भरोषा रखना चाहिए। बेबीसिटर से आप दोनों का व्यवहार अच्छा होना चाहिए। क्योंकि वो आपके बच्चे का ध्यान रखेगी। इस दौरान नय बने माता-पिता को बच्चे से जुड़ी जानकारी भी अवश्य देनी चाहिए। जिससे वो बच्चे का सही तरह से ख्याल रख सकें।

ये भी पढ़ें: बच्चों के लिए सिंपल बेबी फूड रेसिपी, जिन्हें सरपट खाते हैं टॉडलर्स

बेबीसिटर से बच्चों से जुड़े टेस्ट लें

जबभी आप बेबीसिटर की टेस्ट लें यह हमेशा ध्यान रखें की वो बच्चे से किस तरह बात करती हैं। उन्हें अपने बच्चे से इंट्रोड्यूस करवाएं और देखें की वो आपके शिशु से किस तरह से बात करती हैं। बेबीसिटर से बात करने के तरीके से आप आसानी से उनकी बोलचाल समझ सकती हैं। यह भी अवश्य उनसे पूछें की उनहोंने कितनी पढ़ाई की है। वैसे बेबीसिटर का चुनाव करें जिन्हें पढ़ना लिखना आता हो। क्योंकि वो शिशु की देखभाल करने वाली हैं और इस दौरान बच्चे से बात भी करेंगी।

बेबीसिटर का चुनाव

जिस बेबीसिटर का चुनाव आप करने जा रहीं हैं उनके पेशेंस की जांच अवश्य लें। क्योंकि किसी भी बच्चे की देखरेख किसी चुनौतीपूर्ण काम से कम नहीं है। यह ध्यान रखें की बच्चे के परेशान करने पर बेबीसिटर किस तरह से रिएक्ट करती हैं। अगर वह परेशान हो जाती हैं और चिड़चिड़ापन दिखाती हैं, तो यह बर्ताव शिशु के लिए ठीक नहीं होता है। इसका शिशु के स्वभाव पर नकारात्मक प्रभाव भी पड़ सकता है। इसलिए बेबीसिटर के घर पर आने पर बच्चे को तुरंत अकेला न छोड़ें। कुछ दिनों तक उनके स्वभाव को समझें और फिर बच्चे की देखभाल उनके ऊपर छोड़ें। वैसे आजकल के बदलते वक्त के साथ-साथ नई-नई तकनीक भी आ चुकी है। आप चाहें तो घर में सीसीटीवी कैमरा भी लगवा सकती हैं और आप जब बाहर हों और आपका शिशु और बेबीसिटर घर पर हो तो आप अपने मोबाइल फोन में देख सकती हैं की क्या बेबीसिटर बच्चे के साथ सही बर्ताव करती हैं या नहीं।

बेबीसिटर का चुनाव करने से पहले आपका तसल्लीपूर्वक अपने सारे डाउट क्लियर कर लेने चाहिए। किसी अनुभवहीन को अपने शिशु या बच्चे की जिम्मेदारी देना आपके लिए मुश्किलें खड़ा कर सकता है। बेहतर होगा कि अपने किसी परिचित से इस बारे में संपर्क करें।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

और पढ़ें:-

जानें प्री-टीन्स में होने वाले मूड स्विंग्स को कैसे हैंडल करें

बच्चे की मिट्टी खाने की आदत छुड़ाने के उपाय

ऐसे जानें आपका नवजात शिशु स्वस्थ्य है या नहीं? जरूरी टिप्स

नवजात शिशु का मल उसके स्वास्थ्य के बारे में क्या बताता है?

हैलो हेल्थ ग्रुप हेल्थ सलाह, निदान और इलाज इत्यादि सेवाएं नहीं देता।

सूत्र

Choosing a babysitter/https://www.pregnancybirthbaby.org.au/choosing-a-babysitter/Accessed on 11/12/2019

How to Be a Good Babysitter: 11 Tips/https://www.healthline.com/health/parenting/how-to-be-a-good-babysitter#2.-Keep-an-open-line-of-communication/Accessed on 11/12/2019

Choosing and Instructing a Babysitter/https://kidshealth.org/en/parents/babysitter.html/Accessed on 11/12/2019

100 OF THE BEST BABYSITTING TIPS EVER/https://www.findababysitter.org/blog/100-of-the-best-babysitting-tips-ever/Accessed on 11/12/2019

Top Tips for Parents from a Former Babysitter/https://redcrosschat.org/2016/12/19/top-tips-parents-former-babysitter/Accessed on 11/12/2019

लेखक की तस्वीर
Mayank Khandelwal के द्वारा मेडिकल समीक्षा
Sunil Kumar द्वारा लिखित
अपडेटेड 06/09/2019
x