WHO के अनुसार, लॉकडाउन में ये पेरेंटिंग टिप्स अपनाने हैं बेहद जरूरी, रिश्ता होगा मजबूत

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट September 7, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

प्रधानमंत्री ने पहले लॉकडाउन 2.0 का ऐलान किया था। फिर अनलॉक का ऐलान किया गया। लेकिन लॉकडाउन और अनलॉक के इस फेज में बच्चों को घर के अंदर संभालना काफी चुनौतीपूर्ण हो चुका है। ऐसे में अभिभावकों के लिए ये बेहद जरूरी है ऐसे समय में बच्चों पर पूरा ध्यान दें और उन्हें एहसास कराएं कि वो आपके साथ घर के अंदर पूरी तरह से सुरक्षित हैं। कोरोना महामारी के दौरान पेरेंटिंग आपको रिश्ते में नयापन लाने का मौका दे रहा है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन ने लॉकडाउन में पेरेंटिंग के लिए कुछ टिप्स दिए हैं। आप भी इन टिप्स को पढ़ें। लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स इसलिए भी जरूरी हो जाता है क्योंकि बच्चे कई महीनों से घरों में हैं।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

और पढ़ें: सोशल डिस्टेंसिंग को नजरअंदाज करने से भुगतना पड़ेगा खतरनाक अंजाम

लॉकडाउन में पेरेंटिंग : तय करें एक फिक्स टाइम

ये तो सच है कि लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स के लिए जरूरी है कि अभिभावक अपने ऑफिस के काम या फिर अन्य कामों की वजह से पूरा दिन बिजी होंगे। ऐसे में आपको दिन में एक समय तय करना होगा जब आप बच्चे के साथ कुछ खेल सके या फिर उसके साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड कर सके। आप बच्चे के साथ कुछ समय के लिए उसका पसंदीदा गाना या कविता गा कर उसे खुश कर सकते हैं। बच्चे स्कूल में पोयम एक साथ गाते हैं और एंजॉय भी करते हैं। आप घर में भी ऐसा कर सकते हैं।

अगर बच्चों को म्यूजिक पसंद है तो आप बच्चों को खिलौने दें और उनके साथ खेलें। ऐसा करने से बच्चे को ये एहसास नहीं होगा कि वो अकेला है। बच्चों को कलर करना भी पसंद होता है। आप उनका बैग खोलें और बुक निकाल कर उनके फेवरेट कलर से कलर करवाना शुरू कर दें। ब्लॉक, कप और घर के अन्य सामान के साथ भी बच्चों को खेलना अच्छा लगता है। आप घर के सामान को पहले चेक कर लें कहीं वो उन्हें चोट न पहुंचाएं। फिर आप उनके साथ खेल सकते हैं। बच्चों को स्टोरी सुनना भी बहुत पसंद होता है। आप रोज एक स्टोरी सर्च कर लें और बच्चों को सुनाएं। ऐसा करने से बच्चे घर में बोरियत महसूस नहीं करेंगे। घर में टीवी और फोन से बच्चों को दूर ही रखें तो बेहतर रहेगा। लॉकडाउन में पेरेंटिंग के इन टिप्स को अपनाकर आप कमियों को दूर कर सकते हैं।

और पढ़ें: कोरोना वायरस के 80 प्रतिशत मरीजों को पता भी नहीं चलता, वो कब संक्रमित हुए और कब ठीक हो गए

लॉकडाउन में पेरेंटिंग : सकारात्मकता है जरूरी

जब आप बच्चों की शरारत से परेशान हो जाते हैं तो उन्हें डांट कर बोलते हैं कि ‘बस करो’। बच्चों पर गुस्सा करने से उनका व्यवहार नकारात्मक हो सकता है। बेहतर है कि लॉकडाउन के समय में संयम रख आप बच्चों के साथ सकारात्मक रवैया अपनाएं। आप बच्चों को डांट कर बातें न करें। किसी भी काम के लिए उनसे रिक्वेस्ट करना बेहतर रहेगा। बच्चों से चिल्लाकर बात करने से वो भी गुस्सा हो सकते हैं। अगर बच्चा ज्यादा परेशान कर रहा है तो भी आप उसे शांती से समझाएं। जब भी बच्चा अच्छा व्यवहार करें, उसकी तुरंत प्रशंता करें। ऐसा करने से बच्चे को समझ आ जाएगा कि उसे किस तरह का व्यवहार करना चाहिए। लॉकडाउन में पेरेंटिंग के दौरान आपका बिहेवियर बहुत महत्वपूर्ण है।

अगर आप टीनएजर्स के पेरेंट्स हैं तो आप ऐसे समय में बच्चों को एक तय समय पर उनके फ्रेंड्स से सोशल मीडिया या फिर फोन की हेल्प से बात करने की सलाह दें। ऐसा करने से टीनएजर्स को अकेलापन महसूस नहीं होगा। आप अपने टीनएजर्स के साथ इनडोर गेस्म एंजॉय कर सकती हैं। ऐसा करने से किसी को भी बोरियत महसूस नहीं होगी।

कोरोनाकाल में डायबिटीज के मरीजों के साथ आम लोग कैसे बढ़ाएं इम्यूनिटी जानने के लिए वीडियो देख लें एक्सपर्ट की राय

और पढ़ें: अगर जल्दी नहीं रुका कोरोना वायरस, तो ये होगा दुनिया का हाल

कोरोना महामारी के दौरान पेरेंटिंग है चैलेंजिंग, ये काम जरूर करें

  • छुट्टी है तो क्या हुआ, दिनभर का रूटीन तय करें।
  • बच्चों को सेफ डिस्टेंसिंग के बारे में जानकारी दें।
  • बच्चों के साथ हैंडवॉशिंग और हाइजीन फन गेम खेलें।
  • बच्चों के अच्छे बिहेवियर के लिए आप जिम्मेदार हैं, उनके साथ नरमी से पेश आएं।
  • दिन भर जो भी किया है, उसके बारे में रात को चर्चा जरूर करें।
  • दिनभर की अच्छी एक्टीविटी के बारे में बच्चों को बताएं और अगले दिन कि एक्टीविटी प्लान करें।
  • बच्चों पर हर वक्त न चिल्लाएं। उन्हें कुछ समय दें।
  • बच्चों की अच्छी आदतों के लिए उनकी तारीफ जरूर करें।
  • बच्चों को कुछ काम की जिम्मेदारी भी दें, जैसे कि खुद के कपड़े सही से रखना आदि।
  • फोन का तभी यूज करें जब बहुत जरूरी हो।

और पढ़ें: कोरोना वायरस से जंग के लिए भारतीय सेना का ‘ऑपरेशन नमस्ते’, तैनात हो सकती है आर्मी

COVID-19 Outbreak updates
Country: India
Data

1,435,453

Confirmed

917,568

Recovered

32,771

Death
Distribution Map

जानें कैसे करें समस्याओं को कम

लॉकडाउन में पेरेंटिंग टिप्स की बात करें तो अपने गुस्से और उससे जुड़ी हार्ड फिलिंग्स पर काबू पाने के साथ बीमारी के बारे में जितना संभव हो उसके बारे में जानकारी हासिल करें। परिवार के सदस्यों के साथ खासतौर पर बच्चों के साथ बातचीत करें। वहीं बच्चों के साथ खेलने-कूदने के लिए समय निकालें, जिससे वो तरोजाता महसूस करेंगे।

  • कम्युनिकेशन पर दें ध्यान : कोरोनाकाल में परिवार के साथ बातचीत जरूरी होता है। ऐसे में तीन सी पर ध्यान देना चाहिए, जिसमें चेक इन (Check-In) सबसे पहले आता है। इसके तहत बच्चों से पूछे कि वो कैसा महसूस कर रहे हैं। दूसरा क्रिएट (Create), इसके तहत अच्छे से जीवन यापन करने के लिए नए व क्रिएटिव आइडिया को अपनाए। तीसरा होता है कंफर्म (Confirm) यानी आपने जो भी निर्णय लिए हैं उसे लागू करें।
  • बच्चों के साथ खेलना : कोरोना काल में बच्चों को खेलने का उतना समय नहीं मिल पाता है, क्योंकि सामान्य दिनों में बच्चे स्कूल में आसानी से खेल लेते थे, लेकिन कोरोनाकाल में वो खेल नहीं पा रहे हैं, ऐसे में पेरेंट्स की जिम्मेदारी है कि, बच्चों के साथ खेलने का समय निकालें। इससे शारिरिक व मानसिक स्वास्थ्य को फायदा होता है।

बच्चों से पूछे कोरोना महामारी के बारे में

लॉकडाउन के बाद आपके बच्चे को भी समझ आ गया होगा कि आखिर चल क्या रहा है बाहर ? बच्चों को कोरोना वायरस महामारी के बारे में जानकारी देना बहुत जरूरी है। आप पहले बच्चे से कोरोना वायरस के बारे में पूछें। अगर बच्चा थोड़ा-बहुत जानता होगा तो आपको जरूर बताएगा। फिर उसे बीमारी के लक्षण और बचाव के बारे में भी बताएं। ऐसा करने से बच्चे खांसी या छींक दौरान हाथ लगाना और रुमाल का यूज करना सीख जाएंगे। अगर बच्चा कोई कठिन सवाल पूछे तो उसका गलत जवाब न दें। बच्चों को बताएं कि कोविड-19 की बीमारी से बचने का तरीका बचाव ही है। यानी साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए। आप चाहे तो कोविड-19 के बचाव के तरीकों को एक स्टोरी के रूप में भी बच्चों के साथ शेयर कर सकती हैं। बच्चे स्टोरी ज्यादा पसंद करते हैं। इस तरह से आप बच्चों को सोशल डिस्टेंसिंग के बारे में भी बताएं। कोरोना के लक्षण दिखने पर लापरवाही बिल्कुल न बरतें। कोरोना से सावधानी ही आपका महामारी से बचाव कर सकती है।

लॉकडाउन में पेरेंटिंग करना थोड़ा मुश्किल जरूर है, अगर आप कुछ बातों का ध्यान रखें तो बच्चे भी बोर नहीं होंगे और आप भी बच्चों को रोजाना नई अच्छी आदतों सीखा सकेंगी। हैलो स्वास्थ्य किसी भी तरह की मेडिकल सलाह नहीं दे रहा है। अगर आपको किसी भी तरह की समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर पूछ लें।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

अधिकतर भारतीय कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए हैं तैयार, लेकिन कुछ लोग अभी भी करना चाहते हैं इंतजार

कोविड-19 वैक्सीनेशन को लेकर लोगों की क्या राय है, कितने लोग कोविड-19 वैक्सीनेशन कराना चाहते हैं, जानिए और अधिक, Covid-19 vaccination in Hindi

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
कोरोना वायरस, कोविड-19 January 8, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें

यूके में मिला कोरोना वायरस का नया वेरिएंट, जो है और भी खतरनाक! 

यूके में कोरोना वायरस पर ब्रेक लगा नहीं कि अब कोरोना वायरस के नय प्रकार ने लोगों को शिकार बनाना शुरू कर दिया है। कैसे खुद को बचाएं संक्रमण? Coronavirus new variant found in United Kingdom details in Hindi.

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
कोविड 19 और शासन खबरें, कोरोना वायरस December 21, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोरोना का वैक्‍सीनेशन (COVID-19 vaccine), सरकार ने दिया ग्रीन सिग्नल

ब्रिटेन में जल्‍द शुरू होगा कोविड-19 वैक्सीन प्रोग्राम। गवर्मेंट ने दी ग्रीन सिग्नल। UK has become the first country in the world to approve the Pfizer/BioNTech coronavirus vaccine

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोविड 19 की रोकथाम, कोविड-19 December 3, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें

कोविड-19 और सीजर्स या दौरे पड़ने का क्या है संबंध, जानिए यहां

कोविड-19 और सीजर्स का संबंध: कोविड-19 के पेशेंट में दौरे के लक्षण देखने को मिले हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस दिमाग पर अटैक कर रहा है, जिस कारण सीजर्स के लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Bhawana Awasthi
कोरोना वायरस, कोविड-19 November 5, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

कोरोना की दवाएं

कोराेना वायरस (Corona Virus) की दवाओं से लेकर वैक्सीन तक जानिए कैसा रहा अब तक का सफर

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Manjari Khare
प्रकाशित हुआ February 2, 2021 . 6 मिनट में पढ़ें
covid 19 vaccine - कोविड 19 वैक्सीन

जल्द से जल्द लोगों तक कोविड 19 वैक्सीन पहुंचाने की पहल, जाग रही है एक नयी उम्मीद

के द्वारा लिखा गया Toshini Rathod
प्रकाशित हुआ January 25, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन गाइडलाइन्स

सरकार के दिशा-निर्देश के अनुसार कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को अभी करना होगा इंतजार!

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया AnuSharma
प्रकाशित हुआ January 18, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें
कोरोना वायरस वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination)

क्यों कोरोना वायरस वैक्सीनेशन हर एक व्यक्ति के लिए है जरूरी और कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
प्रकाशित हुआ January 11, 2021 . 5 मिनट में पढ़ें