क्या आप जानते हैं बच्चों को खुश रखने के टिप्स?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित | द्वारा

अपडेट डेट May 22, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
अब शेयर करें

मुंबई की डॉक्टर श्रुति के साथ हैलो स्वास्थ्य की टीम ने 3 से 9 साल की उम्र के कुछ बच्चों से उनकी दिनचर्या के बारे में बात की। डॉक्टर श्रुति ने बच्चों से यह भी पूछा कि क्या चीज है जो उन्हें खुशी देती है और किस चीज से वे सबसे ज्यादा मायूस हो जाते हैं? बच्चों ने तुरंत जवाब दिया कि हम मम्मा और पापा के साथ समय बिताना चाहते हैं और उनका पूरा अटेंशन पाना चाहते हैं। जब वह हमारे साथ बात नहीं करते और न ही खेलते हैं तो हमें दुख होता है। वह कोई असंभव चीज नहीं मांग रहे हैं, उन्हें बस आपका प्यार, देखभाल और अटेंशन चाहिए। यहां उन चीजों की लिस्ट दी जा रही है, जिससे आप अपने बच्चे को खुश रखने के साथ ही उसे यह भी एहसास दिला सकते हैं कि आप उन्हें कितना प्यार करते या करती हैं और उनकी देखभाल करती हैं।

और पढ़ेंः शिशु को तैरना सिखाने के होते हैं कई फायदे, जानें किस उम्र से सिखाएं और क्यों

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 1: अपना फोन दूर रखें

आजकल हर किसी के लिए फोन से दूर रहना बहुत मुश्किल है। आजकल लोग टेक्नोलॉजी से इतना चिपके रहते हैं कि फोन और लैपटॉप से एक घंटे भी दूर नहीं रह सकते। आपके लिए जरूरी है कि दिन में कम से कम 10-15 मिनट का समय सिर्फ बच्चे के लिए निकालें और उस दौरान फोन से पूरी तरह दूर रहें। यदि फोन बज भी रहा हो तो बजने दें, क्योंकि फोन इंतजार कर सकता है, फिलहाल आपका समय बच्चे के लिए ज्यादा महत्वपूर्ण है।

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 2: अपने शब्दों पर ध्यान दें

आप जो भी बोलते हैं बच्चे उसे ध्यान से सुनते हैं और उन शब्दों को दिमाग में बिठा लेते हैं। इसलिए अपने शब्दों और बच्चों के आसपास क्या बोलते हैं इस बात का ध्यान रखें। बच्चों के आसपास रहने पर आप यदि अपने मी टाइम के बारे में कहती हैं, शुक्र है आज बच्चे घर पर नहीं है, मैं आराम करूंगी। इसका मुझे कबसे इंतजार था। ऐसी बातें सुनकर बच्चों का दिल टूट सकता है, उन्हें लगेगा कि आपको उनकी कोई परवाह नहीं है।

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 3: संवाद

जब कभी आप बच्चे को समय न दे पाएं, तो उन्हें समझाएं कि क्यों आपका काम महत्वूपर्ण था और इस बात का आश्वासन दें कि काम से लौटने के बाद आप उसके साथ जरूर समय बिताएंगी। बच्चे को किसी भी कारण समय न देने की स्थिति में उनसे सॉरी भी बोलें। बच्चे को समझाएं अगर आप उन्हें कम वक्त दे पाती हैं तो। 

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 4: प्यार जताएं

बच्चों को सिर्फ बातों से ही नहीं, बल्कि शारीरिक स्पर्श से भी प्यार जताना जरूरी होता है। प्यार से गले लगाने और किस करने से बच्चों को अच्छा महसूस होता है और उन्हें लगता है कि पैरेंट्स उनसे बहुत प्यार करते हैं, उनमें सुरक्षा की भावना आती है।

और पढ़ेंः बच्चों की हैंड राइटिंग कैसे सुधारें?

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 5: रूटीन तय करें

हर शाम एक कनेक्शन पॉइंट बनाएं और आप दोनों ने पूरे दिन में जो किया उस पर बात करें। किसी कॉमन सब्जेक्ट पर बात करें, जिससे बच्चा खुश हो जाए। उससे होमवर्क और स्कूल के बारे में न पूछें। बल्कि ऐसी चीजों पर बात करने की कोशिश करें जिससे वह खुश हो जाए और अपनी खुशी आपके साथ शेयर करे।

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 6: परिणाम की चिंता न करें

कोई भी काम या स्कूल में अच्छा परफॉर्मेंस करने पर बच्चे से यह न कहें, तुमने शानदार काम किया, बल्कि कहें, मुझे तुम्हारा ये परफॉर्मेंस बहुत पसंद आया या मुझे तुम्हारा गाना या डांस या गिटार बजाना बहुत अच्छा लगा। आप जब उन्हें परफॉर्म करता देखती हैं तो उनकी भावनाओं पर ध्यान केंद्रित करें न कि वह कैसा परफॉर्म कर रहे हैं उस पर।

और पढ़ेंः बच्चों के लिए टिकटॉक कितना सुरक्षित है? पेरेंट्स जान लें ये बातें

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 7: अपने शेड्यूल को नजरअंदाज करें

हर काम अच्छी तरह से हो इसके लिए आप भी शेड्यूल बनाती होंगी, लेकिन कई बार हो सकता है कि आपका शेड्यूल बच्चे के लिए सही न हो या उसे पसंद न आए। तो कभी-कभार उनके हिसाब से अपने शेड्यूल बदलने में कोई बुराई नहीं है। आपने आज डिनर का मेन्यू पहले ही तय कर रखा है, लेकिन बच्चे को वह पसंद नहीं आया तो आज उसकी हिसाब से अपना मेन्यू बदल लें। बच्चे को मेन्यू प्लान करने और शॉपिंग में भी शामिल करें।

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 8: बच्चे को निर्णय लेने दें

हफ्ते में एक बार बच्चे को प्लानिंग करने दें कि वह क्या करना चाहते हैं। हो सकता है बच्चे को जिस चीज में मजा आए वह आपको बिल्कुल पसंद न हो, मगर उसकी खुशी के लिए उसके फैसले के साथ चलें।

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 9: बच्चे को सबसे ज्यादा महत्व दें

आपका बच्चा जब स्कूल से घर आए, तो अपना सारा काम छोड़कर वह क्या कहना चाहता है या उसे क्या चाहिए इस पर ध्यान दें। आप भले ही कितनी भी बिजी क्यों न हो, कुछ देर के लिए काम छोड़कर मुस्कुराहट के साथ बच्चे को गले लगाकर उसका घर में स्वागत करें।

और पढ़ेंः बच्चों की नींद के घरेलू नुस्खे: जानें क्या करें क्या न करें

बच्चों को खुश रखने के टिप्स 10: अटैचमेंट ब्रिज बनाएं

अटैचमेंट ब्रिज एक ऐसी चीज है जिसके जरिए साथ न रहने पर भी बच्चे को एहसास होगा कि आप उसके बारे में सोच रही हैं। यह कोई नोट हो सकता है या लंच में उसकी फेवरेट डिश। ये छोटी-छोटी बातें उसे एहसास दिलाती है कि आप उसकी कितनी परवाह करती हैं और उसे पूरे दिन कितना याद करती हैं।

तो हैं न ये आसान तरीके बच्चे को प्यार जताने के। तो अपने बच्चे को गले लगाएं और कहें कि आप उससे कितना प्यार करती हैं और उसके साथ कोई मजेदार एक्टिविटी करें और इन टिप्स को जरूर अपनाएं। हर पेरेंट्स को अपने बच्चों के साथ कुछ वक्त जरूर बिताना चाहिए। ऐसा करना बच्चों के ब्रेन को बूस्ट करने में मददगार होगा। बच्चे और पेरेंट्स के बीच बॉन्डिंग भी बढ़ेगी जो एक बच्चे की बेहतर परवरिश के लिए बेहद जरूरी है। 

अगर आप बच्चों को खुश रखने के टिप्स अपनाने के बावजूद भी खुश नहीं रख पाते हैं, तो इससे जुड़े किसी तरह के कोई सवाल का जवाब जानना चाहते हैं तो विशेषज्ञों से समझना बेहतर होगा।

हैलो स्वास्थ्य का न्यूजलेटर प्राप्त करें

मधुमेह, हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, मोटापा, कैंसर और भी बहुत कुछ...
सब्सक्राइब' पर क्लिक करके मैं सभी नियमों व शर्तों तथा गोपनीयता नीति को स्वीकार करता/करती हूं। मैं हैलो स्वास्थ्य से भविष्य में मिलने वाले ईमेल को भी स्वीकार करता/करती हूं और जानता/जानती हूं कि मैं हैलो स्वास्थ्य के सब्सक्रिप्शन को किसी भी समय बंद कर सकता/सकती हूं।

हैलो हेल्थ ग्रुप किसी भी तरह की मेडिकल एडवाइस, इलाज और जांच की सलाह नहीं देता है।

हैलो हेल्थ ग्रुप चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार प्रदान नहीं करता है

Was this article helpful for you ?
happy unhappy
सूत्र

शायद आपको यह भी अच्छा लगे

जानें बच्चों में अंधापन क्यों होता है?

जानिए बच्चों में अंधापन के क्या हैं कारण? Kids Blindness की समस्या को कैसे दूर करें? पेरेंट्स को ऐसे में क्या करना चाहिए?

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pooja Daphal
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha

जानें स्पेशल चाइल्ड को होम स्कूलिंग देना कैसे है मददगार

जानिए स्पेशल चाइल्ड को होम स्कूलिंग के फायदे in Hindi, स्पेशल चाइल्ड को होम स्कूलिंग कैसे दें, Special child ko Home schooling के नुकसान।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Ankita mishra

मानिए डॉक्टर्स की इन बातों को ताकि बच्चे में कोरोना वायरस का डर न करे घर  

बच्चे में कोरोना वायरस के कुछ केस सामनें हैं। ऐसे में जानते हैं इससे बचने के उपाय, bachcho mein corona virus in hindi. क्या बच्चे में कोरोना वायरस लक्षण होते हैं बड़ों से अलग? children exposed to the coronavirus

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Nidhi Sinha
कोरोना वायरस, इंफेक्शस डिजीज March 19, 2020 . 12 मिनट में पढ़ें

क्या ब्रेस्टफीडिंग से बच्चे को सीलिएक बीमारी से बचाया जा सकता है?

सीलिएक पेट से जुड़ी बीमारी है जिसका असर बच्चे के पाचन और विकास दोनों पर होता है। पर्याप्त और सही ब्रेस्टफीडिंग से बच्चों को इस बीमारी से बचाया जा सकता है।

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
बेबी, स्तनपान, पेरेंटिंग December 18, 2019 . 4 मिनट में पढ़ें

Recommended for you

मानसिक मंदता

क्या मानसिक मंदता आनुवंशिक होती है? जानें इस बारे में सबकुछ

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shayali Rekha
प्रकाशित हुआ August 7, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें
बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास

बच्चों के नैतिक मूल्यों के विकास के लिए बचपन से ही दें अच्छी सीख

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Satish singh
प्रकाशित हुआ July 23, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चे को बीजी रखने के टिप्स-how to keep kids busy

जानें बच्चे को बिजी रखने के टिप्स, आसानी से निपटा सकेंगी अपना काम

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Shruthi Shridhar
के द्वारा लिखा गया Kanchan Singh
प्रकाशित हुआ May 15, 2020 . 4 मिनट में पढ़ें
बच्चों-में-ब्रोंकाइटिस-के-कारण-घरेलू-उपचार

बच्चों में ब्रोंकाइटिस की परेशानी क्यों होती है? जानें इसका इलाज

चिकित्सक द्वारा समीक्षित Dr. Pranali Patil
के द्वारा लिखा गया Shivam Rohatgi
प्रकाशित हुआ April 27, 2020 . 5 मिनट में पढ़ें